मूंग दाल हलवा रेसिपी | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा - Moong Dal Halwa
द्वारा

मूंग दाल हलवा रेसिपी | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा  in Hindi

This recipe has been viewed 75347 times
5/5 stars  100% LIKED IT   
2 REVIEWS ALL GOOD

Moong Dal Halwa - Read in English 



मूंग दाल हलवा रेसिपी | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा | moong dal halwa recipe in hindi language | with 21 amazing images.

एक शानदार मूंग दाल हलवा जिसे ठंड के दिनों में संपूर्ण राजस्थान में पसंद किया जाता है, क्योंकि यह शरीर को गरम रखने में और ठंड से बचाने के लिए माना जाता है। राजस्थानी मूंग दाल का हलवा रिवाज़ माना जाता है, और अकसर होली, दिवाली और शादियों से भी इसे बनाया जाता है। मूंग दाल हलवा बनाने में काढी समय और धैर्य चाहिए, क्योंकि दाल भुनकर हलवा बनाने में काफी समय लगता है और शायद इसमें घी की मात्रा भी ज़्यादा लग सकती है! फिर भी, व्यंजन बनने के बाद आपकी प्रत्येक मिनट की मेहनट व्यर्थ नही जाएगी। आप इस व्यंजन को ज़्यादा मात्रा में बनाकर फ्रिज में कई हफ्तों के लिए रख सकते हैं। बस मूंग दाल हलवा को गरम करते समय, थोड़ा दूध मिलाऐं।

मूंग दाल हलवा रेसिपी पर नोट्स और टिप्स।1. मूंग दाल का हलवा बनाने के लिए, पीली मूंग दाल को साफ करें। उन्हें एक कटोरे में पर्याप्त पानी के साथ ३ घंटे के लिए भिगोएं।अगर आप जल्दी में हैं तो मूंग दाल को गरम पानी में भिगो दें। मूंग दाल को भिगोना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह उसे आकार थोड़ा बडा, दोगुना और नरम करता हैं। 2. ३ घंटे के बाद, मूंग दाल को अच्छी तरह से छान लें। यदि बहुत पानी है, तो मूंग दाल शीरा को पकाने में अधिक समय लगेगा इसलिए सुनिश्चित करें की मूंग दाल से सारा पानी निकल जाए। 3. दरदरा पेस्ट तैयार करके, एक तरफ रख दें। मिक्सर में पीसते समय जाँचते रहें की मूंग की दाल की पेस्ट दरदरी हो मुलायम नहीं। 4. लगातार हीलाते हुए २३ से २५ मिनट तक मध्यम आंच पर पकाएं। खाना पकाने के लिए और दाल को कड़ाही से जलने से रोकने के लिए लगातार हीलाते रहना महत्वपूर्ण है। जब आप मूंग की दाल को भून रहे हों तो उसे अच्छे से पकाने के लिए अपने चम्मच से दबाकर हीलाते रहैं।

नीचे दिया गया है मूंग दाल हलवा रेसिपी | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा | moong dal halwa recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।

Moong Dal Halwa recipe - How to make Moong Dal Halwa in hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    भिगोने का समय:  ३ घंटे   कुल समय :     ३ कप के लिये
मुझे दिखाओ कप

सामग्री

मूंग दाल हलवा बनाने के लिए
१ कप पीली मूंग दाल
थोड़ा केसर
१ टेबल-स्पून गुनगुना दूध
१/२ कप घी
१ कप गुनगुना दूध
१ कप शक्कर
१/२ टी-स्पून इलायची पाउडर

मूंग दाल हलवा सजाने के लिए
२ टेबल-स्पून बादाम की कतरन
विधि
मूंग दाल हलवा बनाने के लिए

    मूंग दाल हलवा बनाने के लिए
  1. मूंग दाल का हलवा बनाने के लिए , मूंग दाल को पर्याप्त मात्रा के पानी में ३ घंटे के लिए भिगो दें। अच्छी तरह छान लें।
  2. १ टेबलस्पून पानी की मदद से मिक्सर में पीसकर दरदरा मिश्रण बना लें।। एक तरफ रख दें।
  3. केसर को १ टेबल-स्पून गुनगुने दूध मे घोलकर एक तरफ रख दें।
  4. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें, मूंग दाल का पेस्ट डालकर, मध्यम आँच पर २३ से २५ मिनट के लिए, लगातार हिलाते हुए पका लें।
  5. दूध और १ कप गुनगुना पानी डालकर अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आँच पर, लगातार हिलाते हुए, ५ से ७ मिनट तक पका लें।
  6. शक्कर डालकर अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आँच पर, लगातार हिलाते हुए ५ से ७ मिनट तक पका लें।
  7. केसर-दूध का मिश्रण, इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला ले और मध्यम आँच पर, लगातार हिलाते हुए ४ मिनट तक पका लें।
  8. मूंग दाल का हलवा गुनगुने तापमान पर बादाम की कतरन से सजा कर परोसें या किसी एयर-टाइट कंटेनर में भरकर फ्रिज में स्टोर करें।
विस्तृत फोटो के साथ मूंग दाल हलवा रेसिपी | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा

मूंग दाल को भिगोने के लिए

  1. मूंग दाल का हलवा बनाने के लिए, पीली मूंग दाल को साफ करें। फिर उसे एक कटोरे में पर्याप्त पानी के साथ ३ घंटे के लिए भिगोएं।अगर आप जल्दी में हैं तो मूंग दाल को गरम पानी में भिगो दें। मूंग दाल को भिगोना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह उसे आकार थोड़ा बडा, दोगुना और नरम करता हैं। 
  2. ३ घंटे के बाद, मूंग दाल को अच्छी तरह से छान लें। यदि बहुत पानी है, तो मूंग दाल शीरा को पकाने में अधिक समय लगेगा इसलिए सुनिश्चित करें की मूंग दाल से सारा पानी निकल जाए।
  3. उन्हें मिक्सर जार में डालें और पीस लें। अगर आपको पीसते समय बहुत परेशानी हो रही है, तो लगभग १ टेबल-स्पून पानी डालें।
  4. दरदरा पेस्ट तैयार करके, एक तरफ रख दें। मिक्सर में पीसते समय  जाँचते रहें की मूंग की दाल की पेस्ट दरदरी हो मुलायम नहीं।
  5. एक छोटे कटोरे में केसर लें।
  6. १ टेबल-स्पून गुनगुना दूध डालें। अच्छी तरह मिलाएं और एक तरफ रख दें।

मूंग दाल का हलवा बनाने के लिए

  1. मूंग दाल हलवा बनाने के लिए | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा | moong dal halwa recipe in hindi। एक गहरे नॉन-स्टिक कढाई में घी गरम करें। विशेष रूप से, मूंग दाल का हलवा बनाने के मामले में अगर आप नॉन-स्टिक कढाई का इस्तमाल ना करके नियमित पैन का उपयोग करेगे, तो आपको दाल को पकाने के लिए और उसे जलने से रोकने के लिए अधिक घी की आवश्यकता होगी।
  2. जब घी पिघल जाए तो उसमें पीली मूंग दाल का पेस्ट डालें।

  3. १० मिनट के बाद मिश्रण इस तरह से दिखेगा।
  4. लगातार हीलाते हुए २३ से २५ मिनट तक मध्यम आंच पर पकाएं। खाना पकाने के लिए और दाल को कड़ाही से जलने से रोकने के लिए लगातार हीलाते रहना महत्वपूर्ण है। जब आप मूंग की दाल को भून रहे हों तो उसे अच्छे से पकाने के लिए अपने चम्मच से दबाकर हीलाते रहैं।
  5. पहले ३ से ४ मिनट के बाद, मूंग दाल मिश्रण थोड़ा रंग में बदल जाएगा और लगातार हिलाते रेहने की वजह से मिश्रण थोड़ा क्रम्बली भी हो जाएगा।
  6. क्रम्बलड मूंग दाल को तोड़ें और खुशबूदार और सुनहरा भूरा होने तक भूनें।
  7. दूध डालें। दूध डालते समय बहुत सावधानी बरतें क्योंकि गरम छींटे उड सकते हैं। एक अनोखी बनावट के लिए मूंग दाल के हलवे में खोआ मिलाएं।
  8. १ कप गरम पानी डालें।
  9. अच्छी तरह से मिलाएं और लगातार हीलाते हुए मध्यम आंच पर ५ से ७ मिनट के लिए या जब तक की दाल का पानी सुख न जाए तब तक पकाएं।
  10. शक्कर डालें। शक्कर के बजाय, आप एक स्वस्थ विकल्प के लिए भी गुड़ का उपयोग कर सकते हैं। 
  11. अच्छी तरह से मिलाएं और ५ से ७ मिनट के लिए मध्यम आंच पर पकाएं, लगातार हिलाते रहें, जब तक कि शक्कर अच्छी तरह से पीगल न जाए और मिश्रण पैन से छुट जाए।
  12. केसर-दूध का मिश्रण डालें।
  13. इलायची पाउडर डालें। मूंग दाल के हलवे को अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए, कुछ कटे हुए मेवे डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।
  14. मूंग दाल हलवा | राजस्थानी मूंग दाल का हलवा | पारंपरिक मूंग की दाल का हलवा | moong dal halwa recipe in hindiअच्छी तरह से मिलाएं और मध्यम आंच पर ४ मिनट के लिए या  जब तक कि घी पैन के किनारे छोड़ न दे तब तक पकाएं।
  15. मूंग दाल का हलवा गुनगुने तापमान पर बादाम की कतरन से सजा कर परोसें या किसी एयर-टाइट कंटेनर में भरकर फ्रिज में स्टोर करें। मूंग दाल का हलवा या कोई भी दानेदार  हलवे जैसी भारतीय मिठाई ठंडी के मौसम में सेवन करने के लिए एकदम सही है क्योंकि वे अधिक घी की मात्रा के साथ तैयार की जाती हैं जो शरीर को बहुत अधिक गरमी प्रदान करती है।


Reviews