छाछ ( Buttermilk, chaas )

छाछ, मोरु क्या है ? ग्लॉसरी, इसका उपयोग,स्वास्थ्य के लिए लाभ, रेसिपी Viewed 13847 times

अन्य नाम
छास, मोरु

छास, मोरु क्या है?


छाछ भारत के गरम मौसम के लिये एक ठंडा और ताज़ा पेय है। यह शरीर के तापमान को ठंडा रख गरमी से बचाता है। दूध के मुकाबले पतला, सादा और तीक्ष, इस पेय को जो सबका पसंदिदा बनाता है, वो है, काला नमक, मसाले और अदरक का अनोखा मेल। इसमे खट्टापन दूध मे प्रस्तुत लैक्टिक एॅसिड कि वजह से आता है। जब क्रीम को मथ कार मक्खन बनता है और जो तरल बचता है, उसे छाछ करते है।

दही को पतला कर, नमक और ज़ीरा पाउडर मिलाकर, कड़ी पत्ता और राई का छौंक लगाकर इस पेय को बनाना बहुत आसान है। बाज़ार मे छाछ टैट्रा पैक में, सादि या मसाला छाछ के नाम से भी मिलति है जिसमे उपर दिये गये मसाले पहले से ही मिले रहते है।

चुनने के सुझाव
• अगर टैट्रा पैक फूला हुआ है, तो हो सकता है कि छाछ खराब हो गयी है।
• पैकेट के पीछे के लेबल को पड़ना बेहद ज़रूरी है क्योंकि यह पेय पदार्थ जल्दि खराब होने वालो मे से है।
• अगर घर पर ताज़ी छाछ बना रहे है तो इस बात का ध्यान रखें कि दही खट्टा ना हो।

छाछ के उपयोग रसोई में (uses of chaas in cooking )

विभिन्न प्रकार के छाछ व्यंजनों | different types of chaas recipes in hindi |

ज्यादातर यह लंच या डिनर के दौरान संगत के रूप में पिया जाता है या नाश्ते के रूप में भी लिया जा सकता है। अब, हम बहुत से लोगों को एक थर्मस में काम करने के लिए छाछ ले जाते हैं और दिन में काम पर एक स्वस्थ नाश्ते के रूप में रखते हैं।

फिर पंजाबी पुदीना छाछ रेसिपी है जिसमें बहुत सारी पुदीना मिलाई जाती है।

इसे स्पाइसीयर चाहिए, मसाला छाछ रेसिपी ट्राई करें।

दही, छाछ दक्षिण भारतीय खाना पकाने में उपयोग किया जाता है |  Curds, Buttermilk used in South Indian cooking in hindi |

हां, हम दक्षिण भारतीय व्यंजनों में दही का उपयोग करते हैं। मशहूर क्विक रवा इडली रेसिपीछाछ का उपयोग इडली के लिए उस प्यारे खट्टे स्वाद को पाने के लिए करती है। आपको इडली पसंद है लेकिन आप तब क्या करेंगे जब आपके पास घोल तैयार नहीं है? पेश है इडली का एक झटपट और स्वादिष्ट विकल्प, क्विक रवा इडली रेसिपी। चूंकि क्विक रवा इडली स्टीम्ड होती है, इसलिए इसे उपमा की तुलना में पचाना आसान होता है | टिफिन बॉक्स के लिए सूजी इडली अधिक समय तक नम रहती है।

2. समा और राजगिरा के आटे का संयोजन एक शानदार फ़राली डोसा रेसिपी को जन्म देता है, जो एक व्रत के दिन आपके तालू को खुश करने के लिए निश्चित है। खट्टा छाछ किण्वन में मदद करने के लिए बल्लेबाज में जोड़ा जाता है।


• छाछ को पॅनकेक, ढ़ोकला, केक और डोसा के घोल मे डालने से खमीर अच्छा उठता है क्योंकि छाछ कि खार कि मात्रा ज्यादा होती है।
• बेसन को छाछ और मसालो के साथ मिलाकर चावल के साथ परोसा जाता है, जिसे कड़ी कहते है।
• उपमा मे छाछ डालकर, उपमा पौष्टिक और स्वादिष्ट बनता है।

संग्रह करने के तरीके
• छाछ गरम तापमान मे खट्टी हो जाती है।
• छाछ फ्रिज मे रखनी चाहिए।

स्वास्थ्य विषयक
• छाछ पाचन के लिये अच्छी होती है।
• छाछ मे दूध के मुकाबले वसा और ऊर्जा कि मात्रा कम होती है क्योंकि छाछ से सारा वसा निकालकर उसका मक्खन बनाया जाता है।
• दूध के मुकाबले यह पचाने मे आसान होता है और वसा मुक्त दूध से छाछ मे लैक्टिक एसिड कि मात्रा भी ज्यादा होती है। इसलिये जिन्हे़ पाचन कि तकलीफ होती है, उन्हे छाछ पीने कि सलाह दी जाती है।
• यह प्रोटीन, राइबोफ्लेविन, पौटेशियम, विटामीन बी12 और कॅल्शियम से भरपूर होता है।
• छाछ पचाने मे आसान होने कि वजह से आपके शरीर के लिये लाभदायक होती है।
• यह शरीर का विषकरण करने मे और आँतो को साफ करता हे।
• कब्ज़ से परेशानी पर आराम प्रदान करता है।
• बवासीर और मोटापे से पीड़ित व्यक्तियों के लिये यह एक पौष्टिक पेय है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन