छोले मसाला ( Chole masala )

छोले मसाला ( Chole Masala ) Glossary |स्वास्थ्य के लिए लाभ, पोषण संबंधी जानकारी + छोले मसाला रेसिपी ( Chole Masala ) | Tarladalal.com Viewed 5602 times

अन्य नाम
चना मसाला

वर्णन
छोले मसाला चुने हुए मसालों का मेल है जिसका प्रयोग काबुली चने से व्यंजन में किया जाता है। छोले मसाला में डाले गये मसाले परिवार से परिवार या ब्रेंड से ब्रेंड पर निर्भर करते हैं, लेकिन इनमें विशिष्ट रुप से तमालपत्र, सरसों, ज़ीराम खड़ा धनिया, लाल मिर्च, लौंग, कालीमिर्च और अनारदाना होते हैं।

बाज़ार में मिलने वाले मिश्रण में सूखी लाल मिर्च, सूखा लहसुन, अधरक का पाउडर, तिल, हल्दी, धनिया, तमालपत्र, चक्रफूल और सौंफ होते हैं। इसमें अधिकतर मात्रा में कम दाम वाले मसाले होते हैं।

चुनने का सुझाव
• इसे घर पर बनाया जा सकता है या बाज़ार से खरीदा जा सकता है। यह बाज़ार में आसानी से मिलता है।
• खरीदने से पहले, पैकेट के सील और समापन के दिनांक की जांच कर लें। अपनी ज़रुरत अनुसार पैकेट का आकार चुनें।
• घर पर छोले मसाला बनाते समय, सभी मसाले को धिमी आँच पर उनमें से खुशबु आने तक सूखा भुन लें और पीस लें।

रसोई में उपयोग
• जैसा इसका नाम है, छोले मसाला का प्रयोग काबुली चना बनाने के लिए किया जाता है, खसतौर पर पंजाबी चोले से बने व्यंजन में, जिसे रोटी, नान, चपाती, बास्मति चावल या अपनी पसंद के किसी भी व्यंजन के साथ परोसा जा सकता है।

संग्रह करने के तरीके
• छोले मसाले को हवा बंद डब्बे में रखकर ठंडी और सूखी जगह पर रखें ।
• हालंकी इसे महीनों या साल भर तक रखा जा सकता है, कुछ समय बाद यह अपनी खुशबु और अपना स्वाद खो देता है। इसलिए बहुत सारा ना रखें।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन