ताजी पिसी काली मिर्च ( Freshly ground black pepper )

ताजी पिसी काली मिर्च ( Freshly Ground Black Pepper ) Glossary |स्वास्थ्य के लिए लाभ, पोषण संबंधी जानकारी + ताजी पिसी काली मिर्च रेसिपी ( Freshly Ground Black Pepper ) | Tarladalal.com Viewed 7612 times

अन्य नाम
काली मिर्च का पाउडर, काली मिरी पाउडर

वर्णन
काली मिर्च एक प्रकार के मिर्च के पेड़ से उत्पन्न होता है, जो एक मुलायम, लकड़ी जैसा बेल है जो गरम मौसम वाले गजह पर लगभग 33 फीट तक बड़ा हो सकता है। शुरुआत में इनमें 3-4 साल के बाद छोटे सफेद रंग के फूल होते हैं और बाद में यह बेरीस् बन जाते हैं जिन्हें पैपरकॉर्न कहते हैं। पीसे हुए पैपरकॉर्न को हम काली मिर्च कहते हैं।देखा गया तो, काली मिर्च, हरी काली मिर्च और सफेद काली मिर्च एक ही फल है (पाईपर निगरुम); इनके रंग में बदलाव इनके उत्पन्न होने के स्तर और प्रक्रीया पर निर्भर करता है।

लाल रंग के मिर्च के आधे पके फल को तोड़ने से काली मिर्च मिलती है। इन्हें बाद में सुखाया जाता है, जिससे यह सिकुड़ कर काले रंग के हो जाते हैं। काली मिर्च सबसे तेज़ होती है और सभी प्रकार के मिर्च से इसका स्वाद सबसे तेज़ होता है और यह साबूत, टुकड़ा या पाउडर रुप में भी मिलते हैं।

खाने के लिए काली मिर्च का प्रकार सबसे ज़्यादा मशहुर है और यह अकसर देखा गया है कि बहुत से खाने के टेबल में काली मिर्च पीसने वाली मिल रखी जाती है। तैयार काली मिर्च पाउडर की तुलना में इसका स्वाद ज़्यादा बेहतर होता है। क्रश की हुई काली मिर्च सलाद, सूप, सेन्डविच या चाय के कप के साथ के लिए पर्याप्त है। यह ना केवल स्वाद प्रदान करता है, लेकिन सात ही भूख बढ़ाने में भी मदद करता है और फेफड़ो के लिए भी लाभदायक होता है।

चुनने का सुझाव
• ताज़ी पीसी काली मिर्च के लिए, भारी, साबूत और बिना किसी दाग वाली काली मिर्च चुनें।
• काली मिर्च को मिल में भरने से पहले, इनमें से किसी भी प्रकार के पत्थर या कंकड़ निकाल लें।
• अन्य सूखे मसालों की तरह, काली मिर्च खरीदते समय, कोशिश कर जैविक काली मिर्च चुनें क्योंकि इनमें मिलावट की आशंका कम होती है (काली मिर्च में मिलावट से इसके विटामीन सी की मात्रा कम हो सकती है।

रसोई में उपयोग
• टेबल पर काली मिर्च का मिल तैयार रखें, जिससे आप सूप, सलाद और सेन्डविच जैसे व्यंजन में ज़रुरत अनुसार काली मिर्च मिला सकते हैं।
• ताज़ी पिसी काली मिर्च को हमेशा खाना बनाने के अंत में डालें क्योंकि इसे लबे समय तक पकाने से इसका स्वाद फीका पड़ जाता है।
• खास काली मिर्च वाले स्वाद के लिए, पनीर के टिक्के पर काली मिर्च छिड़कें।
• जैतून के तेल, नींबू के रस, नमक और काली मिर्च पाउडर को मिलाकर स्वादिष्ट सलाद ड्रेसिंग बनाऐं।

संग्रह करने के तरीके
• काली मिर्च को हवा बद काँच के बर्तन में रखकर ठंडी, गहरे रग की और सूखी जगह पर रखें।
• साबूत काली मिर्च को लंबे समय तक रखा जा सकता हैम वहीं पिसी हुई काली मिर्च को लगभग 3 महीने के लिए रखा जा सकता है।
• काली मिर्च को फ्रीज़र में भी रखा जा सकता है, लेकिन ऐसा करने से इसका स्वाद और भी तेज़ हो जाएगा।

स्वास्थ्य विषयक
• काली मिर्च इस तरह से अअपके ज़ूबान को उत्तेजित करता है कि पेट में हाइड्रोक्लिरोक एसिड के स्त्रावण के बढ़ने का संदेश मिलता है, जिससे पाचन बेहतर होता है। इसलिए, अपने खाने में ताज़ी पिसी हुई काली मिर्च छिड़कने से ना केवल उसका स्वाद अच्छा हो जाता है, साथ ही पाचन भी स्वस्थ रहता है।
• काली मिर्च को लंबे समय से बातहर माना जा रहा है (ऐसा पदार्थ जो पेट में गैस बनने से रोकता है), इसका यह गुण हाइड्रोक्लिरोक एसिड के स्त्रावण के बढ़ाने के लाभ के कारण होता है। साथ ही, काली मिर्च में प्रस्वेदक (जो पसीना आने में मदद करते हैं) और मूत्रवर्धक (जो मूत्रण बढ़ाने में मदद करते हैं) गुण होते हैं।
• इसके साथ काली मिर्च में ऑक्सीकरण गुण भी होते हैं।
• यह मैन्गनीस का भी बेहतरीन स्रोत है, लौह और विटामीन के का अच्छा स्रोत है और खाद्य रेशांक का अच्छा स्रोत है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन