लो फॅट पनीर ( Low fat paneer )

लो फॅट पनीर क्या है? ग्लॉसरी | लाभ | का उपयोग करता है | रेसिपी | Viewed 9484 times

लो-फॅट पनीर क्या है?


लो फॅट पनीर वजन के प्रति सहज व्यक्तियों के लिये एक बेहतरीन व्यंजन जिसका सब्ज़ीयाँ या नाश्ते में आसानी से प्रयोग किया जा सकता है। यह पनीर स्कीम दूध से बनता है जिसमे वसा भरपुर पनीर कि तुलना में, जिसमे २३ ग्राम वसा होता है, इस पनीर में दुध के साभी पौष्टिक तत्वों के साथ साथ केवल ०.१% वसा होता है। जिन्हें दूध पसंद नही होता उनके लिये यह अपने आहार में प्रोटीन ( जो हमारे शरीर के कोशाणु को रख रखाव के लिये ज़रुरी है) और कॅलशियम (मज़बूत हड्डीयों के लिये) कि मात्रा बढ़ाने में मदद करता है।

कटा हुआ लो फॅट पनीर (chopped low fat paneer)
पनीर के बड़े टुकड़े को चॉपिंग बोर्ड पर रखकर छोटे टुकड़ों मे काट लें। इन्हें बारीक, छोटे-मोटे या बड़े टुकड़े में, व्यंजन अनुसार काटा जा सकता है।
चूरा किया हुआ लो फॅट पनीर (crumbled low fat paneer)
लो फॅट पनीर का चूरा करने के लिये, पनीर के एक छोटे टुकड़े को अपनी ऊँगलीयों के बीच मसलकर बारीक चूरा बना लें।
कसा हुआ लो फॅट पनीर (grated low fat paneer)
इसके लिये, हाथ किसनी से पनीर को कसा जाता है। कसा हुआ पनीर बारीक होता है और इसका बेक्ड व्यंजन जैसे ऑ ग्रेटिन या कैसेरोल बनाने में प्रयोग होता है।
लो फॅट पनीर के टुकड़े (low fat paneer cubes)
पनीर के बड़े टुकड़े को तिरछा रखकर चौड़ी और चपटौ पट्टीयों मे काट लें। इन पट्टीयों को एक के उपर एक रखकर लंबा काट लें, (१/२" स्लाईस छोटे टुकड़ो के लिये, १" स्लाईस बड़े टुकड़ो के लिये)। इन कटे हुए स्लाईस को १/२ या १" के आकार में तिरछा काटने से पनीर के टुकड़े प्राप्त होंगे।
लो फॅट पनीर कि पट्टियाँ (low fat paneer strips)
व्यंजन अनुसार पनीर के मोटे या पतले पट्टी काट लें।
मसला हुआ लो फॅट पनीर (mashed low fat paneer)
अपनी हथेली से पनीर को आटा गूँथने के समान मसल लें।
स्लाईस्ड लो फॅट पनीर (sliced low fat paneer)
आप पनीर स्लाईसर का प्रयोग कर सकते हैं या तेज़ धार वाले चाकू का प्रयोग कर पनीर के व्यंजन अनुसार, मोटे या पतले स्लाईस काट सकते है।

रसोई मे उपयोग
• पनीर का प्रयोग कर कुछ आम व्यंजन बकते है, वह है, पालक पनीर (पनीर और पालक के पत्तों का मिश्रण), शाही पनीर (मुघलाई मसालों के साथ पका हुआ पनीर), पनीर मसाला और मटर पनीर (पनीर के साथ हरे मटर)।
• लो फॅट पनीर को खीर में मिलकार पौष्टिक मीठा बनाया जा सकता है।

संग्रह करने के तरीके
• लो फॅट पनीर को एक गहरे बाउल में पानी में डुबोकर रखें। हर दुसरे पानी बदलकर फ्रिज में रखें।
• इस तरह रखने से यह एक हफते तक ताज़ा रह सकता है।
• अगर वह खट्टा हो जाये या वह कड़ा हो जाये तो उसका प्रयोग करने से पहले लगभग ५ मिनट गुनगुने पानी में रखें।

लो फॅट पनीर के फायदे  पनीर + कम वसा वाले पनीर (paneer, low fat paneer, benefits in hindi) : पनीर में उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन और कैल्शियम होता है जो वजन घटाने में सहायक होता है। चूंकि पनीर कार्ब्स में कम है और प्रोटीन में उच्च है, यह धीरे-धीरे पचता है और इसलिए मधुमेह के लिए अच्छा है। पनीर में पोटेशियम उच्च मात्रा में होता है जो सोडियम के प्रभाव को कम करने में मदद करता है, जिससे रक्तचाप कम होता है और रक्त वाहिकाओं का संकुचन होता है, जिससे हृदय स्वास्थ्य में सुधार होता है और दिल के दौरे का खतरा कम होता है। वजन कम करने के लिए बढ़िया और दिलचस्प लेख पढ़ें क्या पनीर आपके लिए अच्छा है? कम वसा वाले पनीर में पूर्ण-वसा वाले पनीर के समान सभी पोषक तत्व होते हैं, बस वसा की कमी होती है।

Try Recipes using लो फॅट पनीर ( Low Fat Paneer )


More recipes with this ingredient....

लो फॅट पनीर (66 recipes), लो फॅट पनीर के टुकड़े (17 recipes), चूरा किया हुआ लो फॅट पनीर (17 recipes), कसा हुआ लो फॅट पनीर (22 recipes), लो फॅट पनीर कि पट्टियाँ (1 recipes), मसला हुआ लो फॅट पनीर (1 recipes), कटा हुआ लो फॅट पनीर (2 recipes), स्लाईस्ड लो फॅट पनीर (0 recipes)

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन