चावल ( Rice )

चावल ग्लॉसरी | चावल की रेसिपी( Glossary & Recipes with Rice, Chawal in Hindi) Tarladalal.com Viewed 9879 times

वर्णन
प्राचीन समय से, चावल विश्व भर में सबसे ज़्यादा प्रयोग होने वाला अनाज है। संपूर्ण एतिहास में, चावल मनूष्य का सबसे मुख्य खाना रहा है। आजकल, यह अनाज देश भर के दो तीहाई आबादी का पेट भरने में मदद करता है और समुदाय के सासकृति का एक मुख्य भाग है।

चावल का घांस जैसा रुप होता है, लंबे शाख के उपर दानों का छोटा समूह। चावल के सुनहरे होने पर इसकी छटाई की जाती है और धान को छिलके से निकाल दिया जाता है। चावल अपने प्राकृति रुप में छिलके के साथ खाया नहीं जा सकता और इसे बिना पॉलिश किया हुआ या ब्राउन राइस कहा जाता है। दुसरी तफ छाने हुए सफेद चावल में ब्रेन होता है और इसका अंकुर निकला हुआ होता है और पॉलिस कर चमकीला बनाया गया होता है। चावल शरीर को ठंडा रखता है और गर्मीयों के मौसम में इसे दोनो दोपहर के खाने और रात के खाने में खाया जा सकता है। ठंड कैमौसम में, गरमी प्रदान करने वाले मसालों को चावल में मिलाया जाता है।

भिगोए और पकाऐ हुए चावल (soaked and cooked rice)
चावल को धोकर पानी में 20-30 मिनट के लिए भिगो दें। सारा पानी छान लें। प्रति 1 कप पानी में 2 कप पानी डालें और प्रैशर कुकर या पॅन में पका लें। चावल को 3 से 4 गुना पानी डालकर पॅन में भी पकाया जा सकता है और चावल के पकने के बाद, सारे स्टार्च वाले पानी को निकाल दिया जाता है।

पके हुए दाने को अंगुठे और ऊँगली के बीच में रखकर दबायें। अगर वह टुट जाए और कड़ा दाना ना रखे, तो वह पका गए हैं। यह सुझाव दिया जाता है कि चावल को थोड़ा कम ही पकाऐं जिससे उसका एक-एक दाना अलग रहे।
भिगोए हुए चावल (soaked rice)
चावल को पहले से भिगोने से यह पके हुए चावल को एक मुलायम रुप प्रदान करता है और साथ ही पकाने का समय बचाता है। भिगोने से पहले, चावल को पानी से 3-4 बार धो लें या जब तक साफ पानी ना निकले। उसके बाद दो गुने पानी में 20-30 मिनट के लिए भिगो दें। छानकर ज़रुरत अनुसार प्रयोग करें।

चुनने का सूझाव
• चावल किरानें की दुकानों में पैकेट या थोक में आसानी से मिलता है।
• पैकेट में चावल खरीदने पर, समापन के दिनांक से पहले इसे प्रयोग कर लें क्योंकि चावल में प्राकृतिक बसा होने के कारण यह आसानी से खराब हो सकता है।
• थोक में किसी भी अन्य खाद्य सामग्री खरीदते समय, इस बता का ध्यान रखें कि जिस बर्तन में चावल रखें हो, वह साफ और ढ़का हुआ हो और दुकान की बिकरी भी ज़्यादा हो जिससे ताज़े चावल मिलने की संभावना हो।
• चाहे थोक में खरीदें या पैकेट में, इस बात का ध्यान रखें कि चावल नमी और कंकड़ से मुक्त हो

रसोई में उपयोग
• चावल एक बहुउपयोगी सामग्री है जिसका प्रयोग आपके स्वाद अनुसार बहुत से व्यंजन में किया जाता है-मीठे से लेकर नमकीन तक, तीखे से लेकर सीम्य तक।
• इसका प्रयोग मशहुर खिचड़ी बनाने के लिए, एक गरमा गरम व्यंजन जिसमें, चावल, दाल और मसालों को मिलाकर प्रैशर कुकर या पौट में प्रत्येक सामग्री के पकने या मिलने तक पकाया जाता है।
• इसका प्रयोग पुलाव और अन्य चावल आधारित व्यंजन जैसे नारीयल चावल या नींबू राइस बनान के लिए किया जाता है। विश्व भर में, इसका प्रयोग स्वादिष्ट व्यंजन जैसे रीसोटो. नासी गोरेन्ग, फ्राइड राइस, बिरयानी आदि बनाने के लिए किया जाता है।
• चावल का प्रयोग चावल का आटा बनाने के लिए किया जाता है, जो ग्लुटेन मुक्त होने के कारण ग्लुटेन के प्रतो संवेदशील के लिए उपयुक्त होता है।
• विभिन्न प्रकार के दाल के साथ चावल को मिलाकर, दक्षिणी भारतीय व्यंजन जैसे इडली, डोसा, उत्तपम्म के घोल बनाने के लिए किया जाता है।
• और क्या चाहिए, चावल किसी भी खट्टे खाने के साथ खूब जजता है।

संग्रह करने के तरीके
• चावल को अच्छी तरह से रखा जा सकता है, लेकिन यह पुराने से ज़्यादा नये चावल को अच्छी तरह से रखा जा सकता है, इसलिए एक साथ इतना ना खरीदें कि आपको इसे साल भर तक रखना पड़ सके।
• किसी भी तरह रखने पर, इसे सूखा रखें।
• क्योंकि चावल में थोड़ी बहुत वस की मात्रा होती है, इसलिए यह जल्दी खराब हो सकता है।
• सफेद चावल को हवा बंद डब्बे में सूखी जगह पर लंबे समय तक रखा जा सकता है।
• पके हुए चावल को फ्रिज में रखकर 3 से 4 दिनों तक रखा जा सकता है।

स्वास्थ्य विषयक
• चावल कार्बोहाईड्रेट का अच्छा स्रोत होता है, जो हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए ज़रुरी होता है। कार्बोहाईड्रेट ग्लुकोस में बदलता है जो व्यायाम करते समय ऊर्जा प्रदान करता है, साथ ही मस्तिष्क के लिए ज़रुरी होता है।
• कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट धिरे पचते हैं, जो शरीर को ऊर्जा धिरे-धिरे ऊर्जा का प्रयोग करने देते हैं, जो पौष्टिक रुप से ज़रुरी होता है।
• यह विटामीन और मिनरल का अच्छा स्रोत है, जैसे थायामीन, नायासिन, लौह, रायबोफ्लेविन, विटामीन डी, कॅलशियम।
• इसमें ग्लुटेन नहीं होता, इसलिए ग्लुटेन के प्रति संवेदशील के लिए लाभदायक होता है।
• चावल में रेसिसटेन्ट स्टार्च भी होता है, जो आंतो में बिना पचे पहुँचता है। इससे लाभदायक कीटाणू बढ़ने में मदद मिलती है, जो आंत को स्वस्थ रखता है।
• यह 8 अमिनो एसिड वाले प्रोटीन का अच्छा स्रोत है।
• चावल बच्चों में दस्त ठीक करने के लिए अच्छा उपाय है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन