गेहूं ( Wheat )

गेहूं ग्लॉसरी | गेहूं की रेसिपी( Glossary & Recipes with Wheat in Hindi) Tarladalal.com Viewed 5512 times

वर्णन
गेहूँ विश्वभर में सबसे सामान्य उपयोग होने वाला अनाज है। साथ ही यह एक मुख्य अनाज है और ऊर्जा का एक बेहतर स्रोत है। अपने प्राकृतिक बिना छने हुए रुप में, इसमें बहुत से पौषण तत्व होते हैं। इसलिए, गेहूँ की संपूर्ण पौष्टिक्ता पाने के लिए, यह ज़रुरी है कि आप संपूर्ण गेहूँ के आटे से बने पदार्थ चुनें और ना ही चने हुए विकल्प से बने पदार्थ।

भिगोए हुए गेहूँ (soaked wheat)
गेहूँ को साफ कर किसी भी प्रकार के पत्थर या कंकड़ निकाल लें। दो या तीन बार पानी से धो लें और गुनगुने पानी में भिगो दें। भिगोने से पकाने का समय कम हो जाता है-जिससे दोनो समय और ऊर्जा की बचत होती है। इसके बाद आप इसे व्यंजन अनुसार प्रयोग कर सकते हैं।

चुनने का सुझाव
• गेहूँ किराने की दुकानों में, थोक और पैकेट में आसानी से मिलते हैं।
• पेकेट वाले गेहूँ खरीदने पर, समापन के दिनांक की जांच कर लें।
• अन्य किसी भी थोक में खरीदने वाले खाद्य पदार्थ की तरह, इस बात का ध्यान रखें कि जिस बर्तन में गेहूँ रखा है, वह ढ़का हुआ हो और दुकान में ताज़ा सामान मिलता हो।
• चाहे थोक में खरीदें या पेकेट में, इस बात का ध्यान रखें कि गेहूँ नमी से मुक्त है।

रसोई में उपयोग
• आप गेहूँ को तीन तरीके से खा सकते हैः संपूर्ण, टुकड़ा या आटे में पीसकर या अंकुरित भी।
• गेहूँ को पकाने का सबसे आसान तरीका इसे चावल की तरह पकाना है। बस भिगोयए हुए गेहूँ को पानी के सा र् कुकर या प्रैशर कुकर मे डालें और पका लें। पके हुए गेहूँ, चावल की तुलना में चिकने होते हैं, लेकिन इसे दुध या दही के साथ और अपनी पसंद की कसी हुई सब्ज़ीयों के साथ, कटे हुए फलों के साथ या सूखे मेवे के साथ खाया जा सकता है।
• गेहूँ को पकाने से पहले, सूखे पॅन में या अवन में भुनकर देखें। ऐसा करने से इसकी खुशबु तेज़ हो जाती है।
• गेहूँ के दरदरे टुकड़े बनाकर इससे उपमा या पौष्टिक पुलाव बनाया जा सकता है।
• गेहूँ के आटे का विभिन्न प्रकार के व्यंजन में प्रयोग किया जा सकता है जैसे रोटी, ब्रेड, पराठा, शीरा, पास्ता और नूडल्स्।
• अंकुरित गेहूँ को उसनाकर या उबालकर, इसका विभिन्न व्यंजन में प्रयोग किया जा सकता है जैसे अंकुरित गेहूँ के पॅनकेक, अंकुरित गेहूँ का सलाद, क्रीम्ड स्प्राउटस्, गरम पके हुए अंकुरित सिरीयल आदि।
• गेहूँ के फ्लेक्स् रोल्ड ओट्स् की तरह दिखते हैं और इन्हें गरमा गरमा सिरियल की तरह परोसा जा सकता है।
• गेहूँ से बने पास्ता काफी मशहुर हो चुके हैं और यह विभिन्न प्रकार में मिलते हैं (जैसे स्पैघटी, स्पाईरलस्, पैने आदि)।
• गेहूँ के आटे से पौष्टिक पिज्ज़ा बेस बनाया जा सकता है।

संग्रह करने के तरीके
• गेहूँ को हवा बंद डब्बे में रखकर ठंडी, सूखी और गहरे रंग की जगह पर रखें।
• संग्रह करने से पहले, गेहूँ से छाँटकर पत्थर या कंकड़ निकाल लें, जिससे गेहूँ खराब हो सकते हैं।
• अकसर इसे लंबे समय तक संग्रह करने के लिए, इनपर तेल लगाया जाता है। लेकिन तेल लगे गेहूँ को अच्छी तरह धोना ज़रुरी होता है।

स्वास्थ्य विषयक
• गेहूँ के सबसे अधिक पौषण तत्व, गेहूँ को संपूर्ण या बिना छने रुप में खाने से ही मिलते हैं।
• गेहूँ मैगनिशियम का अच्छा स्रोत है, एक मिनरल को 300 से ज़्यादा एन्ज़ाईम के लिए को-फेक्टर के रुप में काम करता है, जो शरीर के ग्लुकोस और इन्सुलीन के स्रवण में मदद करते हैं। यह मधुमेह से पीड़ीत को शक्कर की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करता है।
• यह पाचन शक्ति बढ़ाने में मदद करता है और रेचक औषधी के रुप में काम करता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन