This category has been viewed 11808 times
 Last Updated : Sep 27,2019


 कुकिंग बेसिक > उबालकर कर पकाया हुई



Boiled - Read In English
બાફીને બનતી રેસિપિ - ગુજરાતી માં વાંચો (Boiled recipes in Gujarati)

उबालकर कर पकाया हुई रेसिपी,  Boiled Indian recipes in hindi

 

उबालकर कर पकाया हुई रेसिपी,  Boiled Indian recipes in hindi


Top Recipes

एक बेहतरीन तीखा भारतीय सूप हिसके लिये कहा जाता है कि स्वतंत्रता के पहले यह सूप फिरंगी ऑफिसर का मनपसंद हुआ करता था। मल्टीगटवैनी सूप मे बहुत से समग्री का प्रयोग किया गया है जैसे नारीयल का दुध, प्याज़, गाजर, टमाटर, चावल औेर दाल और विभिन्न प्रकार के मसालों के साथ अदरक, लहसुन और नींबू के रस का स्वाद। आप इसे ब्रन्च या रात के खाने में परोस सकते है।
कुछ घरेलु उपाय बेहतरीन स्वाद के साथ आते हैं, जो गला खराब होने के लिए पर्याप्त है! गले में खराश के लिए यह पुराना घरेलु उपाय इस बात का पर्याप्त उदाहरण है। अपने हल्दी और अजवायन के चितिक्सक गुण सौम्य तीखे स्वाद से भरपुर है जो आपके गले को बेहतरीन तरह से आराम प्रदान करते हैँ। 2-3 दिनों तक इस अजवायन एण्ड टर्मरिक मिल्क के 2 ग्लास आपको गले में खराश से आराम दिलाने में मदद करेंगे। इसे जितना हो सके गरम तापमान पर ग्रहण करें।
हालांकि चावल संपूर्ण एशिया में मशहुर है, लेकिन यह दक्षिण भारत का कभी ना अलग होने वाला भाग है और वहाँ के भोजन का आधार है, खासतौर पर दोपहर के भोजन का। दक्षिण भारतीय घरों में दोपहर के भोजन में पके हुए चावल मुख्य होते हैं, जिसे घी और विभिन्न प्रकार कि सब्ज़ीयों के साथ और साम्भर, रसम और दही जैसे व्यंजन के साथ परोसा जाता है। साथ ही पके हुए चावल का प्रयोग अन्य व्यंजन बनाने मे किया जाता है जैसे आम भाषा में मिक्स्ड राईस या अन्य चावल से बने व्यंजन कहा जाता है- जहाँ चावल को पारंपरिक तड़के और नींबू, भुना हुआ नारियल, भूनी हुई सब्ज़ीयाँ, ताज़े पीसे हुए मसाले आदि के साथ मज़ेदार बनाया जाता है। यहाँ हमने चावल को , उबालक और छानकर, पारंपरिक रुप से पकाने कि विधी बताई है, जिससे आपको पर्याप्त रुप वाले, दाने-दाने अलग चावल प्राप्त होंगे। इसके अलावा, आप चावल को प्रैशर कुकर में भी पका सकते हैं।
यह व्यंजन सभी चीज़ पसंद करने वालों को समर्पित है। यह क्रीम चीज़ का लो-फॅट विकल्प है, जिसे 99. 7% वसा मुक्त दूध से बनाया गया है। उच्च कलेस्ट्रॉल से पीड़ित भी इसका मज़ा बिना किसी झिझक के ले सकते हैं! इस क्रीम चीज़ का प्रयोग पार्टी में परोसने के लिए स्वादिष्ट डिप बनाने के लिए करें, जैसा क्रिमी सन-ड्राईड टमॅटो एण्ड हर्ब डिप विद वेजिटेबल स्ट्रिप्स् में किया गया है और आप न्यूट्रिशियस मिनी पिज़्ज़ा में चीज़ को भी इससे बदल सकते हैं।
सौम्य कढ़ी में अंकुरित दानें मिलाकर इसे और भी पौष्टिक बनाया गया है! केवल रोज़ के मसालों से ही, इस अंकुरित कढ़ी को मज़ेदार खुशबु और स्वाद प्रदान किया गया है। इस पौष्टिक और रेशांक भरपुर कढ़ी के कॅलरी की मात्रा को और भी कम करने के लिए लो-फॅट दही का प्रयोग करें। एक यादगार व्यंजन के लिए, इसे ओट्स खिचड़ी के साथ गरमा गरम परोसें।
कभी-कभी कुछ सूप इतने बेहतरीन लगते हैं, आपको यकीन ही नहीं होता है कि इन सूप में मक्ख़न या क्रीम नहीं है! पनीर, बीन स्प्राउट्स् एण्ड स्प्रिंग अनियन सूप एक ऐसा ही सौम्य लेकिन स्वादिष्ट सूप है जिसे बिना अत्यधिक वसा के बनाया गया है। यह पनीर और बीन सप्राउट्स् से भरपुर है, जो इसे प्रोटीन से भरपुर बनाता है। लो-फॅट पनीर का प्रयोग इस व्यंजन के वसा की मात्रा को कम कर देता है।
तैयार टमाटर की पयुरी में आटा मिला हो सकता है, जिसका प्रयोग इसे गाढ़ा बनाने के लिए किया जाता है। इस मिलावट से बचने के लिए टमाटर के पल्प को घर पर बनाऐं, जिसके लिए आपको केवल ढ़ेर सारे टमाटर की आवश्यक्ता होगी!
यह एक ऐसा दक्षिण भारतीय व्यंजन है जिसे किसी परिचय की आवशआयक्ता नहीं है, और यह सभी में से सबसे ज़्यादा बहुउपयोगी है। हर परिवार अलग-अलग माप में सामग्री का प्रयोग करता है। आप अपनी पसंद अनुसार भी सामग्री के माप को बदल सकते हैं। साम्भर में (या किसी भी कूज़ाम्बू में) मिलाई गई सब्ज़ीयों को थान कहते हैं। विभिन्न थान इस प्रकार हैं- सहजन फल्ली, आलू, अरबी, गाजर, कद्दू, बैंगन, भिंडी आदि।
गर्मी में ठंडक प्रदान करने के लिए एक बेहतरीन पेय । भारत के अन्य श्रेत्रों में इसे पन्हा भी कहा जाता है। उबली हुई कच्ची कैरी से बना एक स्वादिष्ट पेय जिसमें काला नमक, ज़ीरा और सौंठ का मज़ेदार स्वाद भी है। यह कैरी का पानी ठंडक प्रदान करने वाला पेय है जो मानव शरीर को गर्मी के मौसम में गर्म हवा से होने वाले हानी से बचाने में मदद करता है।
पुरी तरह से कैफेन मुक्त, यह तुलसी आधारित हर्बल चाय एक निष्कपट कप है जिसे आप दिन में थकान लगने पर कभी भी पी सकते हैं। तुलसी, जिसे भारतीय बेसिल या होली बेसिल भी कहते हैंइसमें बहुत से चिकित्सक गुण होते हैं। यह तनाव कम करने में मदद करता है और सर्दी-ज़ूखाम के लिए एक अच्छा उपाय है। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि, शक्कर की कगह इसमें लौह भरपुर गुड़ का प्रयोग किया गया है। आप चाहें तो इस हर्बल कैफेन-फ्री टि में आप शहद भी मिला सकते हैं।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन