This category has been viewed 3721 times
 Last Updated : Nov 05,2019


 भारतीय स्वस्थ > डायबिटिक रेसिपी, डायबिटिक भारतीय फूड > डायबिटिक रोटी और पराठे

13 recipes

Diabetic Rotis and Parathas - Read In English
ડાયાબિટીસવાળાં રોટી અને પરોઠા - ગુજરાતી માં વાંચો (Diabetic Rotis and Parathas recipes in Gujarati)

डायबिटिक रोटी और पराठे रेसिपी, Diabetic Rotis Parathas Recipes in Hindi

 

यह भाग उनके लिउ बेहद मज़ेदार होगा जो रोटी और पराठों को हमेशा बोरिंग और मधुमेह से पीड़ीत के लिए पर्याप्त नही मानते। यह रोटी और पराठे बहुत ही अनोखे हैं। इन्हें मधुमेह के लिए पर्याप्त सामग्री से बनाया गया है, जो रक्त में शक्कर की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करते हैं। इस भाग में स्टाफ्ड पराठे, सादे पराठे, संपूर्ण रोटी और थेपले जैसे स्वादिष्ट और संपूर्ण व्यंजन में कॅलरी की मात्रा बहुत कम है और साथ ही यह शरीर में मधुमेह से संबंधित अन्य बिमारीयों को दुर रखने में मदद करते हैं। इन स्वादिष्ट व्यंजन का दिल खोलकर मज़ा लें। मल्टीग्रेन रोटी, करेला थेपला जैसे व्यंजन बनाकर देखें।


यह बेहद स्वादिष्ट गेहूं से बने रैप्स् ब्रन्च के लिए पर्याप्त है या चलते फिरते खाने के लिए भी। मेथी और मूँग जैसी रेशांक भरपुर सामग्री इसे मधुमेह पीड़ीत के लिए पर्याप्त बनाते हैं। आमतौर पर बहुत से रेशांक भरपुर खाद्य पदार्थ रक्त में शक्करा की मात्रा को कम करने में मदद करते हैं, लेकिन मेथी सबसे ज़्यादा ....
रोटला बाजरा, ज्वार या नाचनी के आटे से बनाए जाते हैं और यह घी और गुड़ के साथ बेहद अच्छे लगते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि रोटलों को आटा गूँथने के तुरंत बाद बना लें, क्योंकि यह आटा जल्दी सख्त हो जाता है जिसकी वजह से इन्हें बेलना मुश्किल हो जाता है। धैर्य से और बार-बार बनाने से आप इन रोटला को बहुत ....
हर रसोईघर में पाए जानेवाले आटे से बनी इन रोटियों में उर्जा, लोहतत्व, प्रोटीन, फाइबर और विटामिन बी3 है। नाश्ते या भोजन कर लिए कटोराभर दही के साथ यह रोटियाँ एक पौष्टिक आहार बनाती हैं। सुबह के नाश्ते के लिए अन्य रोटी को भी आजमाईए जैसे ओटस् एण्ड कैबेज रोट ....
मैदा से बने नान को चबाना थका सकता है! मेथी और सोया के आटे से बने यह स्वादिष्ट सोया मेथी गार्लिक नान ना केवल लौहतत्व से भरपुर हैं, साथ ही इनमें कॅलरी की मात्रा कम होती है, और साथ ही भरपुर मात्रा में लहसुन के साथ इन्हें खाने में मज़ा आता है, जो ना केवल इन्हें स्वाद प्रदान करता है, साथ ही रक्तचाप कम कर ....
नाम से पता चल जाता है कि इस रोटी की मूख्य सामग्री है बाजरा। और इसी के साथ मिलाए गए हैं उबले और मसले हुए हरे मटर, जिससे रोटी को मिलता है उसका अनोखा स्वाद। इस रोटी को मज़ेदार ....
करेले के बारे में सोचते ही सबसे पहले हमारे मन मे आता है उसका कड़वापन। लेकिन करेला मधुमेह से पीड़ीत के लिए बहुत ही लाभदायक होता है और आगर आपको इसका स्वाद पसंद आ जाए तो आप इसका भरपुर मज़ा ले सकते हैं। इस अनोखे करेले के थेपले में करेले के छिलके का प्रयोग किया गया है जिसे हम अकसर फेक देते हैं। छिलको को ....
इन मिन्टी सोया रोटी को चटकीले पुदिना और सुआ भाजी ना केवल रंग प्रदान करते हैं, लेकिन साथ ही भरपुर मात्रा में पौषण भी प्रदान करते हैं। इन सामग्रीयों में लौहतत्व और फोलिक एसिड साथ मिलकर हिमोग्लोबिन बढ़ाने में मदद करते हैं। इस स्वादिष्ट और खुशबुदार रोटी के आटे में सोया का आटा मिलाया गया है, जो अधिक मात् ....
इन आसान से बनने वाली लेकिन संपूर्ण रोटी में, फीका ज्वार का आटा मूली के तेज़ स्वाद के साथ अच्छी तरह जजता है। इन रोटी को दही के साथ परोसकर, संपूर्ण भोजन के रुप में इनका मज़ा लें।
जब इन सौम्य रोटी को बनाने की चारी आती है, हर कोई बेहतरीन खाना बनाने वाला होता है। भारतीय मसालों के स्वाद से भरी गेहूं के आटे से बनी, इन प्रत्येक रोटी को केवल 1/4 टी-स्पून तेल का प्रयोग कर पकाया गया है जिससे यह मधुमेह पीड़ीत के लिए पर्याप्त होते हैं जिन्हें अपने पसंदिदा रेस्ट्रान्ट में इन स्वादिष्ट ....
क्या आप किसी भी प्रकार के त्यौहार या शादी में पुरनपोली ना हो, ऐसा सोच सकते हैं? यह शानदार मिठाई सारे प्रदेश में मशहुर है, जिसे अलग-अलग नाम से संबोधित किया जाता है और विभिन्न तरह से बनाया जाता है। अगर किसी महीने कोई भी त्यौहार ना हो, तो लोग इसे बिना किसी कारण के रविवार के दिन खास व्यंजन के रुप में भी ....
एक अनोखी लेकिन बेहद पौष्टिक रोटी, जिसे रागी और गेहूं के आटे के मेल से बनाकर, कम कार्बोहाईड्रेट वाली मूली और उसके पत्तों से बनाया गया है। मूली के पत्तों का तेज़ और हल्का कड़वा स्वाद इन रॅडिश नाचनी रोटी को मज़ेदार बनाते हैं, जिनमें तिल और भुना हुआ ज़ीर डाला गया है, जिन्हें हालांकि बहुत कम मात्रा में म ....
बाजरा के आटे के साथ, विटामीन ए भरपुर पालक और गाजर मिलकर इन संपूर्ण पराठों को बनाते हैं। लहसुन का पेस्ट इन्हें और भी स्वादिष्ट बनाता है। विकल्प के लिए, गाजर को पत्तागोभी से और पालक को अन्य पत्तेदार सब्ज़ी से बदल सकते हैं।
सोया का आटा, ज्वार का आटा और रागी का आटा साथ मिलकर इन सौम्य मसालेदार पराठों को बनाते हैं। यह आटे ना केवल ग्लुटेन से मुक्त हैं, लेकिन साथ ही लौहतत्व, कॅल्शियम, रेशांक और प्रोटीन के अच्छे स्रोत भी।

Top Recipes

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन