This category has been viewed 36788 times
 Last Updated : Sep 01,2020


 भारतीय स्वस्थ व्यंजनों > बिना तेल रेसिपी, हेल्दी जीरो ऑयल के व्यंजन



Zero Oil - Read In English
તેલ વગરના વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Zero Oil recipes in Gujarati)

बिना तेल रेसिपी | हेल्दी  बिना तेल के व्यंजन | zero oil recipes in hindi |

 

बिना तेल रेसिपी | हेल्दी  जीरो ऑयल के व्यंजन | zero oil recipes in hindi |

क्या आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं? क्या आपने कभी सोचा था कि आप अपने पसंदीदा व्यंजनों को तेल के बिना बना सकते हैं? खैर, यहाँ आपके लिए एक अच्छी खबर है। हमारे पास बहुत सारे खंड हैं जिनमें ऐसे व्यंजन शामिल हैं जो तेल मुक्त हैं।

हमारे "नो ऑयल रेसिपीज़" उन लोगों के लिए आदर्श हैं जो वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं या उन लोगों के लिए जो विभिन्न स्वास्थ्य कारणों से कम वसा वाले आहार पर हैं।
 
इसके अलावा हमने केवल व्यंजनों से तेल को खत्म नहीं किया है, बल्कि उन्हें सफेद चावल के बजाय भूरे रंग के चावल, मैदा के बजाय पूरे गेहूं के आटे जैसी चीजों को जोड़कर एक स्वस्थ स्पर्श दिया है।
 
जीरो ऑयल रेसिपी श्रेणियां | Zero oil recipe categories in hindi |
 
 
2. बिना तेल रोटी , जीरो ऑयल पराठे रेसिपी : आप अन्य आटे का भी पता लगा सकते हैं। रागी रोटी नचनी के आटे (लाल बाजरे का आटा) के साथ बनाया जाता है। यह एक अनाज है जो आपके कैल्शियम स्टोर बनाने और मजबूत हड्डियों का निर्माण करने में मदद करता है। आप रागी रोटी के साथ अपने दैनिक कैल्शियम सेवन का 13% प्राप्त कर सकते हैं।
 
3. बिना तेल सब्जी रेसिपी, जीरो ऑयल सब्जी : कद्दू की सूखी सब्जी | कद्दू एक आरोग्यदायक सब्ज़ी है, परंतु दुर्भाग्यवश इसके स्वास्थ्य लाभ कई लोग जानते नहीं है। कद्दू में फाइबर, फोलिक एसिड और विटामिन 'ए' जैसे बहुमूल्य पोषकतत्व हैं और साथ ही कैलरी की मात्रा भी कम होती है।
 
4. बिना तेल नाश्ता रेसिपी, हेल्दी जीरो ऑयल स्नैक्स : वैसे यह बहुत आम धारणा है कि स्टीम्ड स्नैक्स के लिए भी थोड़े से तेल की जरूरत होती है। प्रसिद्ध महाराष्ट्रीयन कोथिंबीर वडी भोजन के लिए एक सामान्य जोड़ है। तले हुए संस्करण का विकल्प क्यों चुनें, जब आप आसानी से स्टीम्ड कोथिंबीर वडी बना सकते हैं। यह नॉन-फ्राइड स्नैक केवल 0.7 ग्राम फैट और 1.9 ग्राम फाइबर प्रदान करता है। कोशिश करके देखो!
 
 
 
 

 


Top Recipes

पनीर मटर बिरयानी रेसिपी | जीरो ऑयल होटल जैसा पनीर मटर बिरयानी | ब्राउन राइस वेज बिरयानी | मटर ब्राउन राइस बिरयानी | paneer matar biryani in hindi | with 34 amazing images.
प्रेशर कुकर में ब्राउन राइस रेसिपी | ब्राउन राइस इन प्रेशर कुकर | प्रेशर कुकर ब्राउन चावल | how to cook brown rice in pressure cooker in hindi | with 5 amazing images.
जैसे कि नाम से पता चलता है, यह पकवान सब्ज़ी और उन्में रहे पोषकतत्वों से लदा है। इसके अलावा, मूंग दाल, इसमें प्रोटिन, फोलिक एसिड और झींक जोड़ती है। यह स्वास्थ्य और स्वाद का एक दिलचस्प संयोजन है, जो निश्चय ही आज़माने जैसा है। ओट्स खिचड़ी और बाजरा, होल मूंग एण्ड ग्रीन पी खिचड़ी जैसे अन्य खिचड़ी जैसे रेसिपी जरूर आज़माइए।
भूने हुए बेसन की समृद्ध और स्वादिष्ट सुगंध होती है, जिसका अक्सर मिठाई बनाने में उपयोग किया जाता है। परंतु हमने इस बेसन में अद्रक-हरी मिर्च की पेस्ट डालकर गेंहू के पराठों के लिए एक मजेदार भरवां मिश्रण तैयार किया है। यह आसानी से बनने वाले और स्वादिष्ट पराठे फाईबर, लौह और विटामिन बी काम्प्लेक्स् से लदे हुए हैं। आपको बस यह सुनिश्चित करना है कि इन तेल-रहित बेसन पराठों को सेकने के बाद वे नरम हों तब तक तुरंत ही परोसने हैं, क्योंकि ठंडे होने पर ये सूखे लगते हैं। इन्हें रिंगणा वटाना और कुकुम्बर एण्ड मिक्स्ड स्प्राउट्स सब्ज़ी जैसी पौष्टिक सब्ज़ी या फिर लो फॅट दही के साथ परोसें।
स्वाद भी! स्वास्थ भी! कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर, रागी की रोटी पौष्टिक हेने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी है। दही की हल्कि खट्टास, मिर्च के तीखापन, कद्दूकस किया हुआ गाजर और हरा प्याज़ रोटी के स्वाद को बढाते है। थोडा सा परथन लगाकर रोटी बेलने में मुश्किल नही होनी चाहिए। लेकिन अगर आप नहीं बेल पा रहे हों तो आटे के पेडे को सूखा आटा लगाकर दो प्लास्टिक की पन्नियो कए बीच रखकर आसानी से बेल सकते है। रोटी को टूटने से बचाने के लिए पलटते तथा तवे से उठाते समय चिमटे का इस्तेमाल करें क्योंकि रागी की रोटी बहुत नाजुक होती है। उत्तम आंनद लेने के लिए रोटी गरम ही परोसें।
दाल के बारे सोचते ही हमें माँ के हाथों का खाना याद आता हे। जहाँ माँ को अपने बच्चों को भरपुर मात्रा में घी और मक्ख़न के साथ दाल खिलाना पसंद आता है, बड़े होने के बाद इनका सेवन कम कर देना चाहिए! इसलिए, यह माँ की दाल का यह वसा मुक्त विकल्प, जिसमें ना केवल उनका प्यार झलकता है, लेकिन साथ ही पारंपरिक स्वाद भी! यह व्यंजन उच्च वसा वाले मक्ख़न और क्रीम से मुक्त है और उसी गाढ़े रुप के लिए यहाँ लो फॅट दही का प्रयोग किया गया है। इस पौटॅशियम भरपुर फॅटलैस माँ की दाल को गेहूं से बने फूल्कों के साथ गरमा गरम परोसें।
एक महाराष्ट्रीयन व्यंजन जिसमें हल्का सा बदलाव लाया गया है ताकि उसकी पौष्टिकता बढाई जा सके। जहाँ पालक इस दाल में विटामिन `ए` की मात्रा बढा़ती है, वहाँ चना दाल इसमें कैल्शियम, फोलिक एसिड और फाइबर जैसे पोषकतत्वों की मात्रा बढा़ने में मदद रूप होता है। यह सुनिश्चित करें कि आप चना दाल को अधिक न पका लें, क्योंकि दाल पकने के बाद अलग-अलग दिखनी चाहिए ना की मसली हुई। इसे गरमा-गरम भाखरी या मकई की रोटी के साथ परोसकर एक मज़ेदार भोजन का आनंद लीजिए।
खट्टी उड़द दाल की रेसिपी | खट्टा उड़द दाल | उड़द की दाल | खट्टा उड़द दाल बनाने की विधि | khatta urad dal in hindi.
सुवा मसूर दाल की रेसिपी | मसूर सुवा दाल | suva masoor dal in hindi.
सामान्य रूप से उपयोग होने वाली दाल को जब सही सामग्री के साथ मिलाया जाए तब एक शानदार व्यंजन बन सकता है। लहसुन और टमाटर इस बहूमुखी दाल को तेज़ स्वाद प्रदान करते हैं जो चावल और फुल्कों के साथ एक अच्छा संयोजन बनता है। मूँग दाल से मिलता फॉलिक एसिड़ इस दाल के लिए अधिक रूप से लाभदायक है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन