This category has been viewed 4704 times
 Last Updated : Jan 29,2019


 कुकिंग बेसिक > प्रेशर कुक



Pressure Cooker - Read In English
પ્રેશર કૂકરમાં બનતિ રેસિપિ - ગુજરાતી માં વાંચો (Pressure Cooker recipes in Gujarati)

Top Recipes

क्या आप दाल और सब्ज़ीयों से आम तरीके से सूप बनाकर थक गये हैं? पेश है लौह से भरपुर साबूत मसूर और चवली से बना एक अनोखा सूप। चवली बेहद पौष्टिक होती है और हरी सब्ज़ीयाँ लौह से भरपुर होती है, लेकिन आप सोचते होंगे कि आप इसे किस तरह बनाये कि यह आपके सारे पारिवार को लुभाये। यह एक अच्छा तरीका है। होल मसूर एण्ड चवली सूप बनाते समय, मिश्रण को ज़रा भी ना छानें, जिससे हमें क्रीमी, पौष्टिक और रेशांक से भरपुर सूप मिलेगा। लौह से भरपुर, यह सूप हीमोग्लोबिन बढ़ाने का अच्छा तरीका है और अनिमीया से पीड़ीत के लिए भी लाभदायक है
राजस्थान में चावल का प्रयोग बहुत ज़्यादा नही किया जाता है और वहाँ के लोग गेहूं, बाजरा और ज्वार जैसे अनाज का प्रयोग करना चुनते हैं और खिचड़ी और राब जैसे पारंपरिक व्यंजन बनाने के लिए प्रयोग करते हैं। यह एक ऐसी ही अनोखी खिचड़ी है जिसे गेहूं का प्रयोग करने के लिए बिकानेर श्रेत्र से मूल किया गया था, जैसा इस व्यंजन का नाम है, गेहूं की बिकानेरी खिचड़ी, गेहूं और मूंग दाल का संपूर्ण और पौष्टिक मेल है जिसे कम से कम मसालों का प्रयोग कर स्वादिष्ट बनाया गया है! इस स्वादिष्ट खिचड़ी को दही, घी और तीखे आम के अचार के साथ परोसकर मज़ा लें।
आराम प्रदान करने वाली खिचड़ी के बिना जीवन अधुरा सा लगता है! एक सबसे ज़्यादा आराम करने वाला आहार खिचड़ी पौषण के साथ-साथ पेट भरा रखने में भी मदद करती है। यहाँ इसे एक अनिखा रुप प्रदान किया गया है, हमने इस खिचड़ी को बनाने के लिए रेशांक भरपुर जौ का प्रयोग किया है। चावल का एक अच्छा विकल्प, जौ मूंग दाल और मसालों के साथ मिलकर एक आराम प्रदान करने वाला आहार बनाता है और इसमें उच्च मात्रा में रेशांक होने के कारण यह आपका पेट लंबे समय तक भरा रखता है। कलेस्ट्रॉल कम करने के साथ-साथ, जौ वजन को कम रखने में भी मदद करता है। हमनें यहाँ घी की जगह हृदय संबंधित जैतून के तेल का प्रयोग किया है। इस आसानी से बनने वाली बार्ली एण्ड मूंग दाल खिचड़ी को एक संपूर्ण आहार बनाने के लिए, बाउल भर लो-फॅट दही के साथ परोसें।
सम्भारीयु शाक एक पारंपरिक गुजराती भरवां सब्ज़ी है। इस व्यंजन को आप अपनी और अपने परिवार के पसंद अनुसार किसी भी सब्ज़ी का प्रयोग कर बना सकते हैं। फिर भी, यहाँ सब्ज़ीयों को ध्यान से चुना गया है, जिससे यह दिखने में अच्छी लगे और पुरी तरह से पक जाए। इस व्यंजन को बनाने का सबसे आसान तरीका प्रैशर कुक करना है, क्योंकि इसमें कम मात्रा में तेल का प्रयोग होता है और यह कम समय से पुरी तरह से पक जाती है। इस बात का ध्यान रखें कि सब्ज़ीयों को सूखा रखने के लिए भरवां मिश्रण में बेसन ज़रुर मिलाऐं।
जैसा इसका नाम है, पंचकुटी दाल पँच दालों का सवादिष्ट मेल है। अगर आपने याद से पहले से ही दाल भिगोकर रखि है तो इस व्यंजन को आसनी से बनाया जा सकता है, क्योंकि इसमें केवल आम मसाले और आसान तरीके अपनाये गए हैं। दालों का यह मेल ही इस व्यंजन को इतना खास बनाता है कि इसे आप रोटी या चावल के साथ बिना सब्ज़ी के परोसकर शानदार आहार बना सकते हैं।
चावल से बने व्यंजन में से खिचड़ी सबसे मशहुर, सौम्य व्यंजन है, जिसे विश्व-भर के भारतीय पसंद करते हैं। जहाँ अलग-अलग नाम के विभिन्न प्रकार के खिचड़ी मिलते हैं, इस चावल और मूंग दाल के मले को बनाने का हर समुदाय का अपना अलग तरीका होता है, जो बनाने मे आसान, पौष्टिक और सभी उम्र के लोगों के लिए पर्याप्त होता है। देखा गया तो खिचड़ी इतनी बहुउपयोगी व्यंजन है, जिसे दिन में कभी भी बनाया जा सकता है, चाहे वह दोपहर का खाना हो या रात का खाना, इसके साथ परोसने पर खिचड़ी अलग-अलग रुप अपना लेता है। यह होलसम खिचड़ी एक खुशबुसार और पेट भरने वाला व्यंजन है, जिसमें मिली-जुली सब्ज़ीयाँ और मसाले मिलाये गए हैं।
यह एक ऐसा दक्षिण भारतीय व्यंजन है जिसे किसी परिचय की आवशआयक्ता नहीं है, और यह सभी में से सबसे ज़्यादा बहुउपयोगी है। हर परिवार अलग-अलग माप में सामग्री का प्रयोग करता है। आप अपनी पसंद अनुसार भी सामग्री के माप को बदल सकते हैं। साम्भर में (या किसी भी कूज़ाम्बू में) मिलाई गई सब्ज़ीयों को थान कहते हैं। विभिन्न थान इस प्रकार हैं- सहजन फल्ली, आलू, अरबी, गाजर, कद्दू, बैंगन, भिंडी आदि।
डबल बीन्स् का प्रयोग गुजराती पाकशैली मे व्यंजन के मुख्य रुप में या सब्ज़ीयों के साथ अक्सर किया जाता है। लेकिन डबल बीन्स् करी के इस विकल्प में नयापन है क्योंकि मैने इसमे पारंपरिक सादे गुजराती मसालों कि जगह पंजाबी मसालों के पेस्ट को मिलाया है।
जैसे कि नाम से पता चलता है, यह पकवान सब्ज़ी और उन्में रहे पोषकतत्वों से लदा है। इसके अलावा, मूंग दाल, इसमें प्रोटिन, फोलिक एसिड और झींक जोड़ती है। यह स्वास्थ्य और स्वाद का एक दिलचस्प संयोजन है, जो निश्चय ही आज़माने जैसा है। ओट्स खिचड़ी और बाजरा, होल मूंग एण्ड ग्रीन पी खिचड़ी जैसे अन्य खिचड़ी जैसे रेसिपी जरूर आज़माइए।
जहाँ खिचड़ी का नाम सुनते ही हमें घर पर बने सादे खाने की याद आती है, यह सादी खिचड़ी का एक शानदार रुप है।रोज़ प्रयोग होने वाले मसालों से बने दाल-चावल के मेल के उपर आलू की स्वादिष्ट सब्ज़ी की परत और तड़के लगे दही को डालकर इसे बनाया गया है। गरमा गरम परोसने पर, यह बादशाही खिचड़ी एक ऐसा खाना बनाती है को राजा को परोसने के लिए पर्याप्त हो। हाँ, यह देखना मज़ेदार है कि इस व्यंजन में आसानी से मिलने वाली सामग्री का प्रयोग किया गया है और इसे बनाना भी बेहद आसान है!

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन