This category has been viewed 100886 times
 Last Updated : Sep 19,2019


 विभिन्न व्यंजन > भारतीय व्यंजन > दक्षिण भारतीय व्यंजन



South Indian - Read In English
દક્ષિણ ભારતીય વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (South Indian recipes in Gujarati)

दक्षिण भारतीय व्यंजनों, 116 दक्षिण भारतीय रेसिपी, South Indian Recipes in Hindi

दक्षिण भारतीय व्यंजन, South Indian Recipes in Hindi : एक परिचित व्यक्ति को सभी दक्षिण भारतीयों को  मद्रासी के नाम से उल्लेख करने की अजीब आदत थी। एक दिन उन्होने ऐसा कहना बंद कर दिया। मेरी जिज्ञासा को रद्द करने के प्रयास में मैंने पूछा - और यह पता चला कि दक्षिण भारत के दौरे के बाद उन्हें एहसास हुआ कि दक्षिण में इतनी विविधता है कि सामान्यीकृत करना उचित नहीं है - दक्षिण भारतीय व्यंजन सबसे अच्छा उदाहरण है।

अनियन टमॅटो उपत्तपम, टमॅटो अनियन उत्तपा - Onion Tomato Uttapam, Tomato Onion Uttapaअनियन टमॅटो उपत्तपम, टमॅटो अनियन उत्तपा - Onion Tomato Uttapam, Tomato Onion Uttapa

दक्षिण भारतीय व्यंजन और भोजन की आदतें इतनी विविध हैं कि एक व्यक्ति को पड़ोसी राज्य के मेनू में खो जाना एक आम बात है। जब तमिलनाडु के एक व्यक्ति आंध्र प्रदेश के शादी में उपस्थित होते हैं, तो यह पता लगाने के लिए कि कौन सा भोजन और किसके संयोजन के साथ में भोजन का उपभोग किया जाए यह अगले व्यक्ति की प्लेट या केले के पत्ते पर परोसने के बाद ही पता चलता है।

टिफिन – इडली और डोसा से अधिक, South Indian Recipes for Tiffin in Hindi

पोहा इडली
पोहा इडली

जब कोई दक्षिण भारतीय भोजन का उल्लेख करता है, इडली, डोसा और वडा पहले व्यंजन हैं जो किसी के दिमाग में आते हैं - और यह काफी उचित है क्योंकि ये व्यंजन सभी दक्षिण भारतीय राज्यों में लोकप्रिय हैं। यह तथ्य सच है कि यह पूरे दक्षिण भारत में सबसे ज्यादा पसंद करने वाले खाद्य पदार्थ हैं। सांस्कृतिक सम्भर और चटनी के साथ परोसा जाता है। यह "टिफिन" प्लेटर दिन के किसी भी समय जैसे कि नाश्ते, शाम के स्नैक्स या रात के खाने के लिए पसंद किया जाता है। एक शब्द जिसे अंग्रेजों ने हमें पेश किया टिफिन स्नैक्स को संदर्भित करता है जो न तो बहुत हल्के हैं और न ही बहुत भारी हैं, और दिन के किसी भी समय इसका सेवन कर सकते हैं! जब टिफिन की बात आती है, तो दक्षिण भारतीय राज्यों में बहुत समानता होती है, और हमें इडली, डोसा, वडा, उत्तपम, उपमा और पोंगल जैसे कई सामान्य पसंदीदा मिलते हैं।

उन्नी अप्पम - Unni Appam, Mini Sweet Appam
उन्नी अप्पम - Unni Appam, Mini Sweet Appam

प्रत्येक राज्य में भी इसकी अनूठी पेशकश है जैसे की तमिलनाडु में पनीयारम और अडाई, केरला में अप्पम, पुट्टू, अवियल और कड़ाला करी और कर्नाटक में नीर डोसा, कडुबू, बेन्ने डोसा और रवा इडली, आंध्र प्रदेश में पेसरअट्टू। आमतौर पर संभार के अलावा टिफिन में नारियल चटनी, धनिया चटनी, टमाटर चटनी जैसे इत्यादि के साथ परोसा जाता है या सूखी चटनी पाउडर जैसे इडली मिलागई पोडी या करीवेपिल्लई पोड़ी

टमॅटो चटनी - Tomato Chutney, South Indian Tomato Onion Chutney Recipe
टमॅटो चटनी - Tomato Chutney, South Indian Tomato Onion Chutney Recipe

दोपहर का खाना- चावल दक्षिण भारतीयों के लिए विशिष्ट हैं, South Indian Chawal Recipes for Lunch in Hindi 

चावल दक्षिण भारतीय रसोईघर में एक विशेष महत्व रखते है। चावल या अन्नम को दिव्य अर्थ दिया जाता है और इसको बहुत ही सम्मान के साथ परोसा जाता है। दक्षिण भारत के सभी राज्यों में दोपहर के भोजन में चावल का उपयोग मुख्य रूप से किया जाता है। कुछ कच्चे चावल का उपयोग करना पसंद करते हैं, जबकि अन्य आधे उबाले या उबले हुए किस्मों का चयन करते हैं। कुछ दक्षिण भारतीय विभिन्न क्षेत्रों और नदीयों में उगाए जाने वाले चावल के बीच अंतर बता सकते हैं। दोपहर के भोजन के समय ताजे उबले हुए चावल के साथ दाल आधारित करी और सब्जियों के साथ गरमा-गरम परोसे जाते है।

चितराना राईस - Chitranna Riceचितराना राईस - Chitranna Rice

आंध्र प्रदेश और तेलंगाना, South Indian Recipes: Andra Pradesh and Telangana Recipes in Hindi

दोपहर के खाने में चावल का उपयोग प्रमुख रूप से होता है। जिसमें घी, करी और दाल की एक श्रृंखला के साथ परोसा जाता है। इस पर निर्भर करता है कि सामान्य दिन है या एक विशेष अवसर परोसने वाली वस्तुओं की संख्या भिन्न हो सकती है। जब आप एक पकवान के नाम में 'पप्पू' शब्द देखते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि इसमें दाल शामिल है। यह सादे या सब्जियों के साथ संयुक्त हो सकता है।
आम तौर चावल में पप्पू मिलाकर मसालेदार ओर्गया (अचार) के साथ इसका आनंद ले सकते है। यह कुरा (सूखी या थोडी ग्रेवीवाली सब्ज़ी), पुलुसु (इमली, टमाटर, खट्टे दही या कच्चे आमों से बनी खट्टी और चटाकेदार ग्रेवी), पचाडी (चटाकेदार संगत), चारू या रसम (चावल के साथ मिश्रित पकवान), दही इत्यादी। फुल्लोरा इमली और मसालों के साथ बनाई गई एक चटकारेदार चावल की तैयारी, तेलुगू लोग और जो सभी इसे स्वाद करते है उनको बहुत पसंद आता है!

लेमन राईस - Lemon Rice
लेमन राईस - Lemon Rice

कर्नाटक, South Indian Recipes : Karnataka Recipes in Hindi

एक नियमित भोजन, सब्जी के साथ में दाल जैसे सांभर और सारू या रसम, और अतं में माजिगे (छास) के साथ समाप्त होता है। कन्नाडियन लोगों को गोजजू बहुत पसंद है। यह एक मसालेदार टमाटर करी है जिसका स्वाद खट्टा और मिठा होता है। बीसी बेले भात जैसे वन-डिश मील भी हैं जो गर्म और विशेष मसालेदार चावल की तैयारी है जिसमें दाल, सब्जियां और इमली के पल्प डालकर बनाया जाता है। कर्नाटक के भीतर उडुपी, मैंगलोर और मैसूर जैसे कई उप-व्यंजन हैं, और यह एक दूसरे से विभन्न होते है इसका अंतर आप आसानी से लगा सकते है। 

बटर मिल्क रसम
बटर मिल्क रसम

दक्षिण भारतीय व्यंजनों : केरला के व्यंजन, South Indian Recipes: Kerala Recipes in Hindi

केरल के सामान्य भोजन से मूर्ख मत बनो - राज्य के व्यंजनों के मनपसंद विविधता का अनुभव आप उनके उत्सव के अवसर पर कर सकते है। केरल का भोजन सभी चीजों में समृद्ध है! नारियल का दूध, कसा हुआ नारियल और नारियल आधारित मसाले के पेस्ट से, यह सब्जी और दही आधारित करी बनाने के लिए हर संभव रूप में प्रयोग किया जाता है। कुरकुरा, करी और मिठाई बनाने के लिए इस क्षेत्र में पीला केला और जैकफ्रूट का भी प्रचुर मात्रा में उपयोग किया जाता है।

भिंडी मप्पास् - Bhindi Mappas, Bhindi in Coconut Gravy, Kerala Vendakka Recipe
भिंडी मप्पास् - Bhindi Mappas, Bhindi in Coconut Gravy, Kerala Vendakka Recipe

दक्षिण भारतीय व्यंजनों : तमिलनाडू के व्यंजन, South Indian Recipes: Tamil Naidu Recipes in Hindi

तमिलनाडु के विभिन्न क्षेत्रों में खाना पकाने की विभिन्न शैलियों हैं, लोकप्रिय तनाव तंजौर, तिरुनेलवेली, नार्थ आर्कोट और चेट्टीनाड करी हैं। हालांकि, तीन-कोर्स के दोपहर के भोजन में व्यापक रूप से चावल होते हैं जिसमें सांभर और / या मोर कुज़ाम्बू, फिर रसम और अंत में दही होती है, जिसमें सब्जियों के रेसिपी की एक श्रृंखला होती है। यदि दोपहर का भोजन का डब्बा नही हो तो लोग प्रायः 'मिश्रित चावल' या 'विभिन्न प्रकार के चावल' के रूप में खाना पसंद करते हैं। टमॅटो राईस, इमली चावल, सांभर चावल, दही चावल और मूंगफली चावल आम विकल्प हैं। विशेष दिनों में, वडा, खीर और पचाडी (रायता) को दोपहर के भोजन के साथ भी परोसा जाता है।

मोर कुज़ाम्बू - More Kuzhambu, South Indian Doodhi Buttermilk Curry
मोर कुज़ाम्बू - More Kuzhambu, South Indian Doodhi Buttermilk Curry

दक्षिण भारतीयों के लिए मिठाई और नमकीन, South Indian Mithai and Snacks Recipes in Hindi

देश के बाकी हिस्सों की तरह, दक्षिण भारत भी मिठाई और नाश्ता पसंद करता है! केरल के ऐलाअडा और उन्नी अप्पम से आंध्र प्रदेश के काज्जीकेलू, तमिलनाडु के जंगीरी और चक्रा पोन्गल, और कर्नाटक के ओबत्तु और मैसूर पाक, प्रत्येक मधुर प्रसन्नता में विशिष्ट स्वाद, मूल सामग्री और अनन्य के साथ बताने के लिए एक पाक उपेक्षा होती है।

चक्रा पोन्गल
चक्रा पोन्गल

स्नैक्स भी दक्षिण भारतीय खाद्य प्रदार्थो का एक अभिन्न हिस्सा हैं। वे दिन के किसी भी समय इसका आनंद लेते हैं, लेकिन ज्यादातर शाम को गर्म कॉफी या चाय के साथ। यह आश्चर्यजनक है कि कैसे वे कभी भी गर्म कपपा को पीने के लिए तैयार रहते हैं, चाहे कैसा भी मौसम हो लेकिन फिर, मसाला वडा, मैसूर बोंडा या प्लांटन भाजी के साथ-साथ दक्षिण भारतीय फ़िल्टर कॉफी या चुक्कू कापी (सूखे अदरक और मसालों की एक चाय) का एक कप के बिना भी पूरक नहीं हो सकता है। केरलवासि उबले हुए पीले केले और कटन चाई (काली चाय) का आनंद स्नैक्स के समय लेते है।

दाल वड़ा - Dal Vada, South Indian Chana Dal Vada, Masala Vada
दाल वड़ा - Dal Vada, South Indian Chana Dal Vada, Masala Vada

दक्षिण भारत में प्रत्येक रसोई में अचार, सूखी चटनी पाउडर, वाडम्स और पापड (जिसे भुना हुआ या तला हुआ) के साथ अच्छी तरह से संग्रित किया जाता है, जो एक साधारण भोजन बनाने के लिए सही संयोजन में परोसा जाता है।

फ्राईड कोकोनट चटनी - Fried Coconut Chutney, South Indian Recipeफ्राईड कोकोनट चटनी - Fried Coconut Chutney, South Indian Recipe

यदि आप दक्षिण भारतीय खाना पकाने के साथ परीक्षण करने जा रहे हैं, तो आपके रसोईघर को चावल, इमली या कोकम, सांभर पाउडर और रसम पाउडर, घी और मूंगफली, नारियल या तिल के तेल जैसे खाना पकाने के तेलों के साथ भंडारित करने की आवश्यकता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अपने मसाला बॉक्स या 'अंजराई पेटी' (शाब्दिक रूप से पांच डिब्बे वाले बॉक्स, हालांकि आधुनिक लोगों में सात) सरसों, मेथी, जीरा, धनिया, तिल, लाल मिर्च, टूटी हुई उरद दाल और चना दाल, क्योंकि इन्हें अक्सर दक्षिण भारतीय खाना पकाने में उपयोग करते है। विभिन्न संयोजनों में इन अवयवों का उपयोग दक्षिण भारतीय करी के लिए मसालों को बनाने के लिए किया जाता है। कभी-कभी वे भूने और पीसे हुए होते हैं। विधि और अनुपात प्रत्येक पकवान को एक ही अलग स्वाद का उपयोग करते हैं, भले ही एक ही सामग्री का उपयोग किया जाता है। इसीलिए कहते है कि  अधिकांश दक्षिण भारतीय व्यंजनों में अंतिम मास्टर स्ट्रोक सरसों, हींग और कडी पत्तियों का तडका है, जो भोजन को एक ट्रेडमार्क दक्षिण भारतीय मुहर देता है।

मिक्स्ड वेजिटेबल सागु - Sagu Recipe, Mixed Vegetable Saguमिक्स्ड वेजिटेबल सागु - Sagu Recipe, Mixed Vegetable Sagu

प्रत्येक नुक्कड़ और कोने से बताने के लिए अधिक खाद्य कहानियां, South Indian Street Corner Food Recipes in Hindi

कड़ाला करीकड़ाला करी

तमिलनाडु के प्रत्येक नुक्कड़ और कोने में बताने के लिए एक अलग भोजन की कहानी है, और अब हम महसूस करते हैं कि यह एक लेख में सभी को आजमाने और कवर करने की गलती है, इसलिए हम आपको इन सभी व्यंजनों (आंध्र,  तेलंगाना, केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक) और हमारे प्रामाणिक व्यंजनों का उपयोग करके अपने स्वयं के रसोईघर में जादू करे। भारत में प्रत्येक व्यंजन में इतनी विविधता है कि किसी व्यक्ति के लिए पूरी तरह से अपने स्वयं के व्यंजनों को निपुण करना मुश्किल होता है।

बोन्डा, उड़द दाल बोन्डा - Bonda, Urad Dal Bondaबोन्डा, उड़द दाल बोन्डा - Bonda, Urad Dal Bonda

बस जब आपको लगता है कि आप अपने सभी मूल खाद्य पदार्थों को जानते हैं, तो कोई भी गलत धारणा को रोकता है और एक और खजाना साझा करके अपने क्षितिज को चौड़ा करता है! जबकि हम अपने स्वयं के व्यंजनों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, हमें अन्य भारतीय क्षेत्रों से पाक रत्नों को आजमाने के लिए हर हफ्ते कम से कम एक दिन कोशिश करनी चाहिए ताकि हम विविधता में एकता की सराहना कर सकें।

Enjoy our below दक्षिण भारतीय व्यंजनों | दक्षिण भारतीय रेसिपी, South Indian Recipes in Hindi :

दक्षिण भारतीय इडली
दक्षिण भारतीय डोसा
दक्षिण भारतीय अप्पे
दक्षिण भारतीय चटनी
दक्षिण भारतीय करी / सब्जी़
दक्षिण भारतीय नाश्ता 
दक्षिण भारतीय चावल
दक्षिण भारतीय मिठाई 



Top Recipes

Goto Page: 1 2 
पत्तागोभी से बनी हुई यह एक सूखी सब्ज़ी है। इसी तरह बीन्स्, गवार फल्ली, साबर बीन्स्, गाजर आदि जैसी सब्ज़ीयों को भी बनाया जा सकता है। पारंपरिक दक्षिण भारतीय खाने में इस प्रकार की एक सब्ज़ी को हमेशा परोसा जाता है।
एक ऐसा रसम जो कहसुन के गुणों से भरा हुआ है, यह पाचन के साथ-साथ स्वस्थ के लिए भी लाभदायक होता है। इस रसम को कम से कम 15 दिन में एक बार ज़रुर बनाऐं और इसके पौषण लाभ के साथ इसके स्वाद का मज़ा लें।
दक्षिण भारतीय अकसर भुनी हुई दाल को सब्ज़ीयों के साथ मिलाकर चटनी बनाते हैं, को इडली, डोसे, पुरी और लगभग किसी भी नाश्ते के साथ अच्छी लगती है। इन चटनी का पारंपरिक तरीके से मज़ा लेने के लिए, इन्हें गरमा गरम चावल के साथ परोसकर उपर तिल का तेल या घी डालें और भुने हुए उड़द दाल पापड़ के साथ परोसें। इस तरह तुरई की चटनी बनाने का यह एक अच्छा तरीका है। अपने आहार में तुरई शामिल करने का आपको यह तरीका अच्छा लगेगा और आप इसी तरह की चटनी को दुसरी सब्ज़ीयों से बनाकर ज़रुर देखना चाहेंगे।
यह एक सूखा व्यंजन है जिसे फण्सी, गवारफल्ली या केले के फूल और दाल से बनाया जाता है। यह अकसर मोर कोज़ाम्बू, रायता और भुने हुए या तले हुए अप्पलम (पापड़) के साथ बेहद जजता है।
एक तीखा और खट्टा चावल से बना व्यंजन जो दोनो बच्चों और बड़ो के लंच बॉक्स् के लिए पर्याप्त है! इसे पापड़ और कोकोनट पछड़ी के साथ परोसें।
वेल्लरी का मतलब होता है "ककड़ी", और जैसा इसका नाम बताता है, यह एक लाल रंग की करी है। लेकिन इसका लाल रंग विभिन्न मसालों के मेल की वजह से मिलता है और ना ही केवल भरपुर मात्रा में लाल मिर्च के कारण। इसलिए, इस व्यंजन के नाम से घबराये नहीं, और अपनी पसंद अनुसार इसके तीखेपन को कम-ज़्यादा करें।
अप्पम एक मशहुर केरेला का व्यंजन है जो दक्षिण भारतीय खाने को दर्शाता है। यह व्यंजन बनाने में बेहद आसान है, और मुश्किल से बनने वाले व्यंजन एक झटपट विकल्प है। चूंकी इसमें खमीर का प्रयोग किया गया है, पारंपिक तरह से पकए गए व्यंजन की तरह, इसमें खमीर लाने के लिए घोल को लंबे समय तक रखना ज़रुरी नहीं होता। इन अप्पम को हलके मीठे नरियल के दूध और वेजिटेबल कोरमा के साथ परोसकर एक पर्याप्त भोजन बनाऐं।
फ्रेंच बीन्स् इन कोकोनट करी ना सिर्फ स्वादिष्ट है लेकिन दिखने में भी बेहतरीन है। बीन्स् का गहरा हरा रंग सफेद ग्रेवी में बेहद अच्छी तरह से जजता है। इसमें डाली गई भुनी हुई मूंगफली इस व्यंजन को और भी खास बनाती है, क्योंकि मूंगफली बीन्स् के साथ बेहद अछ्छी तरह से जजती है और ग्रेवी को बेहद प्यारा करारापन प्रदान करती है।
अवियल एक ऐसा व्यंजन है जिसका उत्पादन केरेला में हुआ था, लेकिन यह तमिल नाडू में भी उतना ही मशहुर हो गया है। बहुत ही कम होता है कि शादि या त्यौहारों में अवियल ना बना हो! बेहतरीन अवियल बनाने का राज़ यह है कि इन दोनों बात पर ध्यान दिया जाए कि गाजर, फण्सी, कद्दू आदि जैसी सब्ज़ीयों के चटकीले रंग पर ध्यान देते हुए, इन्हें पतले 1" के लंबे टुकड़ों मे काटा जाये और साथ ही इन्हें करारा होने तक अच्छी तरह पकाया जाए। अगर आपने ऐसा किया है, आपका आधा कार्य अच्छी तरह हो गया है!
रतालू और केले से बनी ऐरीसेरी त्यौहारों के खाने का एक मुख्य भाग है, जिसे केरेला में मनाये जाने वाले सबसे बड़े त्यौहार- ओनम में परोसा जाता है। इसके अलावा, इस व्यंजन को कद्दू और लाल बीन्स् से भी बनाया जा सकता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन