मेथी के दानें ( Fenugreek seeds )

मेथी के दानें क्या है ? ग्लॉसरी, मेथी के दानें का उपयोग, स्वास्थ्य के लिए लाभ, रेसिपी  Viewed 19429 times

अन्य नाम
मेथी दाना, वेन्दायाम

मेथी के दानें क्या है?


मेथी के दानें छोटे, हलके कोणीय आकार के, भुरे पीले रंग के बीज होते हैं, जिनका स्वाद हलका कड़वा होता है और तेज़ खुशबु होती है। इसकी तेज़ खुशबु को निहारने के लिए, बीज को अकसर भुना जाता है और फिर अकेला या अन्य मसालों के सात पीसकर पाउडर बनाया जाता है। भारतीय पाकशैली में, करी पाउडर और अचार के मसालों में मेथी के दानें आम सामग्री होती है। साथ ही इसका प्रयोग विभिन्न प्रकार की सब्ज़ीयों या दाल संबंधित व्यंजन में तड़का लगाने के लिए किया जाता है जिससे व्यंजन का स्वाद निखर कर आता है।

क्रश किए हुए मेथी के दानें (crushed fenugreek seeds)
भूने हुए मेथी के दाने (roasted fenugreek seeds)
मेथी के दानों को सूखा भूनने से इनकी खुशबु और तेज़ हो जाती है और स्वाद ज़्यादा मेवेदार हो जाता है। भुनने से पहले, बीज को साफ कर पत्थर या कंकड़ निकाल लें। उसके बाद, पॅन गरम कर बीज डालें। मध्यम आँच पर, जलने से बचाने के लिए, बीच-बीच में हिलाते हुए भून लें। इसके रंग के गहरा होने तक भून लें। मधुर स्वाद के लिए (खासतौर पर सब्ज़ी या दाल के लिए) हलका भूनें और तेज़ कड़वे स्वाद के लिए (जिसका प्रयोग अचार के मसालों के लिए किया जाता है), लंबे समय के भून लें।
अंकुरित मेथी के दानें (sprouted fenugreek seeds)
बीज को छन्नी में धोकर, काँच या प्लास्टिक के बर्तन में डालकर 1 कप पानी डालें। ढ़क्कन से ढ़ककर लगभग 12 मिनट तक भिगने दें। सारा पानी छान लें। ताज़े पानी से धोकर छान लें। दुबारा ढ़ककर 4 दिनों के लिए अंकुरित होने के लिए रख दें प्रत्येक 6-8 घंटे में मेथी को समय-समय पर धोते रहें। ज़रुरत अनुसार अंकुर निकलने के बाद, अच्छी तरह धोकर छान लें। पैपर टॉवल से हलका पोंछकर, ज़रुरत पड़ने तक फ्रिज में रख दें। इसके साथ ही, सब्ज़ी में प्रयोग करने के लिए, आप मेथी के दानों को 2 घंटे के लिए भिगोकर उबला सकते हैं।

मेथी के दानें चुनने का सुझाव (suggestions to choose fenugreek seeds, methi dana, methi ke dane, methi seeds)


• समान आकार वाले पीले रंग के दानें चुनें।
• तेज़ सुगंध वाले दानें चुनें।

मेथी के दानें के उपयोग रसोई में (uses of fenugreek seeds, methi dana, methi ke dane, methi seeds in cooking)


• मेथी के दानों का प्रयोग, साबूत, तले हुए या पाउडर रुप में, दाल या सब्ज़ीयों में तड़का लगाने के लिए किया जाता है।
• भारत भर में इसका प्रयोग अकसर अचार में किया जाता है और यह बंगाल के मशहुर 5-स्पाईस मिश्रण का भाग है।
• बेहतरीन खुशबु और स्वाद के लिए, भारतीय करी, छोले, फलाफल मिक्स् और आलू से बने व्यंजन में चुटकी भर मेथी पाउडर डालें।
• भिगोए और उबले हुए बीज या अंकुरित दानों को सब्जीयों में डाला जा सकता है।
• अंकुरित मेथी दानों को सेन्डविच और सलाद में भी डाला जा सकता है, सब्ज़ीयों में डाला जा सकता है या इसका प्रयोग सूप, चावल, पास्ता से बने व्यंजन और स्टर-फ्राय को सजाने के लिए भी किया जा सकता है।
• चाय बनाने के लिए, 1 कप उबलते पानी में 1 टी-स्पून मेथी के दानें डालें। छानकर थोड़ा शहद मिलाकर, सादा या दूध के साथ इसका मज़ा लें।

मेथी के दानें संग्रह करने के तरीके 


• मेथी के दानें अपना स्वाद सालों तक बनाकर रख सकते हैं।
• इसमें नमी की मात्रा कम होने के कारण, इसे हवा बद डब्बे में रखकर, बिना फ्रिज में रखें, इसे साल भर या उससे भी लबे समय तक रखा जा सकता है।

मेथी के दानें के फायदे, स्वास्थ्य विषयक (benefits of fenugreek seeds, methi dana, methi ke dane, methi seeds in hindi)

 
• अति प्राचीन काल से, मेथी के दानों को इनके चिकित्सक लाभ के लिए मूल्य माना जा रहा है।
• इसमें साफ करने के गुण होते हैं। यह खून को साफ करने में मदद करता है। पसीना निकालने के साथ-साथ, यह शरीर को साफ करने में मदद करता है। साथ ही इसे लसीका साफ करने के लिए माना जाता है।
• यह प्रतिरक्षी तंत्र को स्फूर्तिदायक और मज़बूत करने के लिए बेहतरीन होता है।
• रात भर पानी में भिगोए हुए मेथी के दानें को उस पानी के साथ सुबह उठकर पीने से, रक्त में शक्करा की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करता है।
• यह एक सशक्त ऑक्सीकरण रोधी है, यह बलगम द्राववक और गले को साफ करने के लिए काम आता है, और साथ ही यह खाँसी से आराम प्रदान करता है।
• साथ ही जिस पानी में मेथी के दानों को भिगोया या जिस पानी से धोया गया है, यह पानी कोशिकिय कचरे के कड़े मलबे को नरम कर घोलने में मदद करता है।
• मेथी का प्रयोग सर में सर्दी, ज़ुकाम, सर्दी, कब्ज़, गले में दर्द, दमा, वातस्फीति, नीमोनिया, गले में खराश, कँठनाली में सूजन, है बुखार और सायनस से आराम प्रदान करने के लिए किया जाता है।
• मेथी का प्रयोग पेप्टिक अलसर और पेट और आंत में सूजन से आराम मिलने के लिए किया जाता है, क्योंकि यह जहरीले पदार्थ को सोखकर निकालने में मदद करता है।
• खराब पानी पीने से पेट दर्द और आंत संबंधित बिमारी से पीड़ीत बाहार घुमने वालों को मेथी आराम प्रदान करती है।
• लोगों ने यह देखा है कि खाने से पहले मेथी चाय का एक कप पीने से बहुत सी बिमारीयों से आराम मिलता है।

Try Recipes using मेथी के दानें ( Fenugreek Seeds )


More recipes with this ingredient....

मेथी के दानें (71 recipes), अंकुरित मेथी के दानें (0 recipes), भूने हुए मेथी के दाने (0 recipes), क्रश किए हुए मेथी के दानें (1 recipes)

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन