इलायची ( Cardamom, elaichi )

बड़ी इलायची क्या है? ग्लॉसरी, इसका उपयोग,स्वास्थ्य के लिए लाभ, रेसिपी Viewed 5679 times

अन्य नाम
हरी इलायची

इलायची क्या है?


भारत में, कालीमिर्च के बाद, इलायची सबसे ज़्यादा प्रयोग होने वाला मसाला है। साथ ही यह विश्व का सबसे पुराना मसाला है, जिसे अकसर मसालों की रानी, जन्नत का अनाज आदि कहा जाता है। इसका प्रयोग भारत में खाने और चिकित्सिक उपाय में बहुत किया जाता है।

इलायची मोटे, नरम राईज़ोम या ज़मीन से निकले हुए जड़ों वाला और पत्तेदार डंठल वाला एक बहुवर्षिय जड़ी बुटी है। इसके पत्ते बड़े, सफेद या फीके हरे रंग के होते हैं, जिनके हरे या पीले रंज के फल में बहुत से बीज होते हैं और इनके बीज त्रिकोन आकार के काले रंग के होते हैं। इसकी खुशबु सौम्य होती है और इसका स्वाद सौम्य तीखा होता है। हरी इलायची के फली मिलने में मुशकिल होते हैं और ज़्यादा महँगे होते हैं जिनमें खुशबु और स्वाद को लबे समय तक रखने की क्षमता होती है।

क्रश्ड की हुई इलायची (crushed cardamom)
इलायची की फली को हलका क्रश कर लें और अंदर के बीज को निकाल लें। छिलके फेंक दें। बीज को खलबत्ते में रखक, व्यंजन अनुसार, दरदरा या बारीक पीस लें। ज़्यादा मात्रा में क्रश की हुई इलायची बनाने के लिए, मिक्सर या ग्राइन्डर का प्रयोग करें, कुछ लोग बारीक पाउडर के लिए और पाउडर को सूखने से बचाने के लिए इसे छिलके के साथ पीसते हैं।

चुनने का सुझाव
• इलायची को साबूत या पीसकर बेचा जाता है। साबूत इलायची खरीदना बेहतर होता है और लंबे समय तक खुशबु बनाये रखने के लिए, ज़रुरत अनुसार पीसना बेहतर होता है। पीसी हुई इलायची से स्वाद जल्दी उड़ जाता है।
• बीज खरीदते समय, हल्के हरे रंग, सफेद या भुरे विकल्प से खरीदें।
• साबूत इलायची खरीदते समय, ज़्यादा स्वाद के लिए, हरे रंग की फली को चुनें।

इलायची के उपयोग रसोई में (uses of elaichi in cooking )

इलाईची का उपयोग करके भारतीय पेय | Indian drinks using elaichi |

1. इलाइची की चाय : गर्मियों की तपती गर्मी में भी, जब आपका कुछ गर्म होने का मन नहीं करता है, तो हर कोई अपने होश को बढ़ाने के लिए एक कप इलाइची की चाय पीता है! और जब इलाइची की चाय फूली और सुगंधित इलायची के साथ पी जाती है, तो यह सभी स्वाद कलियों के लिए अधिक रोमांचक होती है।

2. कश्मीरी कावा : हिमालयी घाटी का एक प्रतिष्ठित पेय है यह कश्मीरी कावा जिसमें विविध भारतीय मसालों का समावेश होता है। इस पेय में कश्मीरी हरी चाय की पत्तियों के साथ दालचीनी, इलायची और केसर का समावेश होता है। इसके अलावा उपर से इसे कटे हुए बादाम से सजाया जाता है।

इलायची का उपयोग करके भारतीय डेसर्ट | Indian desserts using cardamom |

1. खोया के साथ हमारा गाजरका हलवा एक पंजाबी गाजर का हलवा रेसिपी है। कई शॉर्टकट हो सकते हैं, लेकिन कभी-कभी मिठाई बनाने की पारंपरिक विधि सबसे रीच स्वाद देती है! प्रामाणिक गाजर का हलवा का यह प्रामाणिक नुस्खा साबित होता है!

2. खजूर और ओट्स की खीर, ओट्स और खजूर से बनी एक स्वादिष्ट खीर है, यह आपके क्रेविंग को स्मार्ट और हेल्दी तरीके से संतृप्त करने के लिए निश्चित है। ओट्स खजूर पायसम किसी भी चीनी का उपयोग नहीं करता है।

3. अखरोट का शीरा : आपने आज तक रवा से बना हुआ या फिर किसी और आटे बनाया हुआ शिरा चखा होगा। लेकिन यह अखरोट का शीरा , अखरोट से बनने वाला अनोखा है। इसकी बनावट और स्वाद दोनों सचमुच ही दिलचस्प है। बस एक चमम्च भर वॉलनट शीरा आपकी डीश में रखिए और इसका आनंद लीजिए। 

4. श्रीखंड एक आसान तरीके से, दही का एक मिठाई में चमतकारी बदलाव है। इसे बनाने के लिए पकाने की आवश्यक्ता नहीं होती और इसे रविवार के खाने में, त्यौहारों में और साथ ही फराली खाने में अकसर परोसा जाता है!

• इलायची गरम मसाले की मुख्य सामग्री है, जो एक मसाले का मिश्रण है जिसका भारत में प्रयोग सब्ज़ी, चावल से बने व्यंजन, नाश्ते आदि में किया जाता है।
• इलायची से बनी चाय या कॉफी ताज़ी और स्वादिष्ट लगती है।
• इलायची को अरबी तरीके से प्रयोग कर देखें। इसी थोड़ी मात्रा को पीसी हुई कॉफी में डालें और मीठा कर इसमें क्रीम डालें।
• इलायची का प्रयोग पान में भी किया जाता है, जो पान के पत्तों से बना एक पाचन पदार्थ है।
• बहुत से पुलाव, करी और गरमा गरम व्यंजन में साबूत इलायची का प्रयोग किया जाता है। यह धीरे-धीरे व्यंजन में मिलता है और इसकी खुशबु व्यंजन में मिल जाती है। इसलिए, इसका प्रयोग अकसर बिरयानी, पुलाव या कबाब में खुसबु प्रदान करने के लिए किया जाता है।
• भारतीय मीठाई जैसे खीर, फिरनी आदि, साथ ही गुलाब जामुन और गाजर का हलवा को इलायची अनोखा स्वाद प्रदान करती है।
• पश्चिमी डेज़र्ट जैसे फ्लॉन, राईस पुडिंग और पॉरिज में भी इस मसाले का प्रयोग किया जाता है।

संग्रह करने के तरीके
• इलायची को फली के साथ रखना बेहतर होता है, क्योंकि छिलका निकालने के बाद बीज अपना स्वाद जल्दी खो देते हैं।
• हालाँकि भरोसेमंद दुकान से आप उच्च गुण वाली साबूत इलायची खरीद सकते हैं, इसे ज़रुरत अनुसार पीसना बेहतर होता है।
• इलायची को ठंडी, सूखी जगह पर रखकर हवा बंद डब्बे में रखना चाहिए।
• सूखी जगह पर रखने से यह साल भर तक खुशनुदार रहता है।

इलायची के फायदे, स्वास्थ्य विषयक (benefits of elaichi
• इलायची के फायदे, इलाइची: इलायची में आवश्यक तेल होता है जो बैक्टीरिया को मारने के लिए जाना जाता है। इलायची की यह रोगाणुरोधी शक्ति पेट की कुछ समस्याओं जैसे कि पेट दर्द और गैस आदि से राहत दिलाने में मदद करती है। इलायची की मीठी पर तेज़ सुगंध इसे हैलिटोसिस (सांसों की दुर्गंध) को नियंत्रित करने के लिए एकदम सही बनाती है। इलायची में खनिज मैंगनीज रक्त शर्करा के स्तर को कम करने और मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद  जाना गया है। इलायची के विस्तृत लाभ पढें।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन