गरम मसाला ( Garam masala )

गरम मसाला ( Garam Masala ) Glossary |स्वास्थ्य के लिए लाभ, पोषण संबंधी जानकारी + गरम मसाला रेसिपी ( Garam Masala ) | Tarladalal.com Viewed 16101 times

वर्णन
गरम मसाला, जिसका मतलब तीखा (गरम) मसाला होता है, एक मशहुर मसालों का मिश्रण है जिसका प्रयोग संपूर्ण भारत और आस-पास के श्रेत्र में किया जा रहा है। यह एक ऐसा पाउडर है जिसे 10 से अधिक प्रकार के मसालों से बनाया जाता है, और इसे खाना बनाने के अंत में थोड़ी मात्रा में डाला जाता है या तड़के के साथ डाला जाता है। गरम मसाले का प्रयोग अकेला किया जा सकता है या अन्य मसालों के साथ भी किया जा सकता है। इसका स्वाद तीखा होता है, लेकिन यह मिर्च पाउडर जितना तेज़ नहीं होता। इसलिए बहुत से व्यंजन में गरम मसाले के साथ लाल मिर्च पाउडर को डालना ज़रुरी नहीं होता। याद रखें कि अगर आपके गरम मसाला को अत्यधिक मात्रा में प्रयोग करने से या लंबे समय तक पकाने से, च्यंजन का स्वाद बदल सकता है। खास स्वाद के लिए इसे कम से कम मात्रा में मिलाना अच्छा होता है।

गरमा मसाला बाज़ार में आसानी से मिलता है,लेकिन बहुत से परिवार इसे घर पर बनाते हैं। इस मसाले को बनाने का प्रत्येक श्रेत्र और प्रत्येक परिवार की अपनी विधी होती है, जहाँ वह इच्छा अनुसार मसालों के विभिन्न मेल और मात्रा का प्रत्येक कर इसे बनाते हैं। गरम मसाले के कुछ आम सामग्री हैं- काली और सफेद काली मिर्च, लौंग, तेज़पत्ता, लंबी मिर्च (जिसे पिप्पाली भी कहते हैं), शाह ज़ीरा, ज़ीरा, दालचीनी, काली, भुरी और हरी इलायची, जायफल, जाविंत्री, चक्रफूल और खड़ा धनिया।

चुनने का सुझाव
• हालांकि गरम मसाला बाज़ार में आसानी से मिलता है, अन्य पीसे हुए मसालों की तरह यह अपनी खुशबु जल्दी खो देते हैं।
• साबूत मसाले, जिन्हें लंबे समय तक रखा जा सकता है, उन्हें खलबत्ते या मिक्सर में पीसा भी जा सकता है।
• तैयार गरम मसाला खरीदते समय, समापन के दिनांक की जांच कर लें और नमी की जांच कर लें। अधिकतर खुशबु के लिए, पैकेट के सील की अच्छी तरह जांच कर लें।

रसोई में उपयोग
• विभिन्न मसालों के मेल से बने गरम मसाले के बहुत से प्रयोग होते हैं।
• इसे अकसर करी, सब्ज़ी से बने व्यंजन, सूप या स्ट्यू के पकाने के अंत में मिलाया जाता है या परोसने के तुरंत पहले उपर छिड़का जाता है।
• इसका प्रयोग दाल और खिचड़ी में तड़का लगाते समय किया जाता है, इसे मेरीनेड में मिलाया जा सकता है या पापड़ के उपर छिड़का जाता है।

संग्रह करने के तरीके
• मसाले को हवा बंद डब्बे में रखकर ठंडी और गहरे रंग की जगह पर रखें।

स्वास्थ्य विषयक
• चूंकी इस मसाले का प्रयोग बहुत कम मात्रा में किया जाता है, इसमें बहुत ज़्यादा लाभ नहीं होते।
• फिर भी, लौंग और काली मिर्च जैसे लाभदायक मसालों का प्रयोग पाचन और प्रतिरक्षी तंत्र स्वस्थ रखने में मदद करता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन