बड़ी इलायची ( Black cardamom )

बड़ी इलायची ( Black Cardamom ) Glossary |स्वास्थ्य के लिए लाभ, पोषण संबंधी जानकारी + बड़ी इलायची रेसिपी ( Black Cardamom ) | Tarladalal.com Viewed 3566 times

अन्य नाम
मोटी इलायची

वर्णन
बड़ी इलायची आम छोटी इलायची से 5 से 6 गुना बड़ी होती है । बड़ी इलायची के बहुत से विलुप्त प्रकार हैं, जो 2 सिमी के छोटे पोड से लेकर 5 सिमी से बड़े आकार के होते हैं। इनका स्वाद, इनकी खुशबु और इनके अन्य गुण छोटी इलायची से अलग होते हैं। खासतौर पर, इनकी खुशबु ज़्यादा स्तँबक होती है लेकिन कड़वे नहीं और इनमें पुदिने के समान ठंडक होती है।

भारत में तीखे व्यंजन में बड़ी इलायची डाली जाती है, जहाँ इनका प्रयोग कम मात्रा में किया जाता है।

चुनने का सुझाव
• बड़ी इलायची के फूले हुए समान फली चुनें, जिसमें भरपुर मात्रा बीज होने की आशंका हो।
• फली के सात साबूत बड़ी इलायची खरीदें क्योंकि इनमें फली निकाले हुई इलायची दाने की तुलना में खुशबु लंबे समय तक बनी रहती है। इलायची का प्रयोग करते समय इसका छिलका निकाल दें।
• इसके अलावा, आप कम थोड़ी-थोड़ी मात्रा में इलायची को पीस सकते हैं क्योंकि लंबे समय तक संग्रह करने से इनकी खुशबु कम हो सकती है।
• बड़ी इलायची का पाउडर बनाने के लिए, साबूत इलायची को मिक्सर में पीसकर मुलायम पाउडर बना लें। पीसे हुउ पाउडर को छन्नी से छानकर उपरी छिलका निकाल लें। हवा बंद डब्बे में रखकर ज़रुरत अनुसार प्रयोग करें।

रसोई में उपयोग
• पीसी हुई बड़ी इलायची को खाने में डालने से इसका सवाद बढ़ जाता है और साथ ही दुसरे सामग्री के स्वाद को भी निहारने में मदद करती है।
• इसकी बहुत ही अच्छी खुशबु होती है और स्वाद इसका स्वाद चावल और नमकीन व्यंजन को बेहद अच्छी सुगंध प्रदान करता है।
• पेय पदार्थ और मीठाई में बहुत मात्रा में प्रयोग करने के अलावा, यह पान मसाला का एक मुख्य भाग है।
• बढ़ी इलायची के फली का प्रयोग सूप, चाउडर, कैसेरोल और मेरीनेड में स्मोक जैसे स्वाद के लिए किया जाता है।
• यह चावल की खीर, केक, अदरक अंजीर की चटनी, पायासम आदि में अच्छी तरह जजता है।
• बड़ी इलायची का प्रयोग गरम मसाला बनाने के लिए भी किया जाता है, जिसका प्रयोग अकसर भारतीय करी, नाश्ते और चावल से बने व्यंजन में किया जाता है।
• यह हर्बल और स्वास्थ टँनिक में भी मिलाया जाता है, सात ही चाय या कॉफी में भी।

संग्रह करने के तरीके
• हवा बंद डब्बे में रखकर ठंडी और सूखी जगह पर रखें, जिससे इसकी खुशबु बनी रहे।
• सूखे वातावरण में इसे साल भर तक रखा जा सकता है।

स्वास्थ्य विषयक
• यह पाचन संबंधित तकलीफ से आराम प्रदान करता है।
• इसका प्रयोग सांस संबंधित रोग जैसे दमा या सांस की तकलीफ से आराम प्रदान करता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन