मटकी ( Matki )

मटकी ग्लॉसरी | स्वास्थ्य के लिए लाभ + मटकी की रेसिपी( Glossary & Recipes with Matki in Hindi) Tarladalal.com Viewed 9651 times

अन्य नाम
मोठ

मटकी क्या है?


मटकी छोटे पीले फूलों और गहरे लोबदार पत्तों वाली एक छोटी, सूखा प्रतिरोधी वार्षिक जड़ी बूटी है, जो विशेष रूप से दक्षिण एशिया के सूखे भागों में अपने छोटे (3-4 मि.मी.) खाद्य फलियों के लिए उगाई जाती है, जो हल्के भूरे रंग से गहरे लाल रंग की होती है। मटकी छोटे भूरे रंग की फलियाँ होती हैं, जो आकार में अंडाकार जैसी होती हैं। वे भारतीय व्यंजनों में बहुत आम हैं और मोठ के रूप में भी जाने जाते हैं। वे कई शाकाहारी आहारों में प्रोटीन का एक उच्च स्रोत और एक मुख्य घटक हैं।

आम तौर पर मटकी को अंकुरित और पूरी फलियों के रूप में खाया जा सकता है। इन्हें किसी भी भारतीय किराना स्टोर में बहुत आसानी से पाया जाता है। मटकी महारास्ट्रियन व्यंजनों में बहुत प्रसिद्ध होती है। फलियों को अंकुरित करने के लिए रात भर भिगोया जाता है। इन अंकुरित बीन्स का उपयोग सलाद, मिसल या उसल बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

उबाली और क्रश की हुई मटकी (boiled and crushed matki)
उबाली और सूखा छानी हुई मटकी को मिक्सर में एक मोटे मिश्रण में ब्लेंड करें, इस बात का ख्याल रखें कि यह पेस्ट न बन जाए। आप एक आलू मैशर का उपयोग भी कर सकते हैं, बस उबली हुई मटकी को एक प्लेट में रखें और इसे आलू मैशर से मैश करें।
उबाली हुई मटकी (boiled matki)
गंदगी और धूल को हटाने के लिए मटकी को 1 से 2 बार पानी से धोया जाता है। एक कटोरी में मटकी को कम से कम 3 से 4 घंटे के लिए पर्याप्त पानी में भिगोएँ। इससे पकाने का समय कम हो जाएगा। फिर छानें और पानी को फेंक दें। एक गहरे पैन में पर्याप्त पानी उबालें, भिगोई हुई मटकी डालें, ढक्कन के साथ कवर करें और लगभग 15 से 20 मिनट के लिए उबाल लें। मटकी की मात्रा के अनुसार उबालने का समय अलग-अलग होगा। उबालते समय पहले कुछ मिनटों के दौरान झाग बन सकती है, जिसे आप निकाल सकते हैं। मटकी को तब पकी मानी जाती है जब इसके दने फूलकर फूटने लगते हैं और पानी सिरप जैसा बन जाता है। आप 3 से 4 सीटी के लिए पानी में नमक के साथ या बिना नमक के भी मटकी को पका सकते हैं।
मटकी का आटा (matki flour)
भुनी हुई मटकी को एक मिक्सर में पीसकर एक दरदरे मटकी के आटे में तैयार किया जा सकता है। मटकी को आटे की चक्की में डालकर बारीक मटकी का आटा तैयार किया जा सकता है। यह बाजार में भी आसानी से उपलब्ध होता है।
भिगोई हुई मटकी (soaked matki)
मटकी को भिगोने से पहले, उसे पहले पत्थर या कंकड के लिए निरीक्षण किया जाता है और उन्हें निकालकर फेंक दिया जाता है। फिर गंदगी और धूल को हटाने के लिए मटकी को 1 से 2 बार पानी से धोया जाता है। मटकी को 6 घंटे के लिए पर्याप्त पानी में एक कटोरी में भिगोएँ और फिर पानी को छानकर फेंक दें। यह उन पदार्थों को हटाता है जो अपच का कारण हो सकते हैं और पकाने के लिए बाहरी त्वचा को नरम कर सकते हैं। आवश्यकतानुसार उबालें और उपयोग करें।

मटकी चुनने का सुझाव (suggestions to choose Matki, Moth beans)
साबुत मटकी आम तौर पर पहले से पैक किए गए कंटेनरों के साथ-साथ बल्क डिब्बे में भी उपलब्ध होती है। पैकेजिंग के बावजूद, यह सुनिश्चित करने के लिए मटकी को सबसे अच्छी तरह से जांच लें कि उस पर किसी छेद की निशानी न हो और ये पत्थर से मुक्त हो। मटकी के फायदे, स्वास्थ्य विषयक (benefits of matki, moth beans in hindi )
 मटकी या मोठ की फलियाँ प्रोटीन के अच्छे स्रोतों में से एक हैं। 1/4 कप कच्ची मटकी से 6 ग्राम प्रोटीन मिलता है जो मांसपेशियों को बनाए रखने में मदद कर सकता है। इसमें मौजूद फाइबर एक संतृप्ति मूल्य देने में मदद करता है और इस प्रकार वजन घटाने और रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर के प्रबंधित रखने में फायदेमंद होता है। यह महत्वपूर्ण पोषक तत्व एक स्वस्थ आंत को भी बनाए रखने में मदद करता है। यह मैग्नीशियम और फास्फोरस में भी समृद्ध है। इसमें रहित विटामिन बी 1 ऊर्जा चयापचय के लिए आवश्यक है और भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद जिंक एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है और शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को हटाने में मदद करता है और इस प्रकार सभी कोशिकाओं का स्वास्थ्य बनाए रखता है और विभिन्न अंगों की रक्षा करता है।
मटकी या मोठ (Benefits of Matki, moth beans in Hindi) : मटकी या मोठ की फलियाँ प्रोटीन के अच्छे स्रोतों में से एक हैं। 1/4 कप कच्ची मटकी से 6 ग्राम प्रोटीन मिलता है जो मांसपेशियों को बनाए रखने में मदद कर सकता है। इसमें मौजूद फाइबर एक संतृप्ति मूल्य देने में मदद करता है और इस प्रकार वजन घटाने और रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर के प्रबंधित रखने में फायदेमंद होता है। यह महत्वपूर्ण पोषक तत्व एक स्वस्थ आंत को भी बनाए रखने में मदद करता है। यह मैग्नीशियम और फास्फोरस में भी समृद्ध है। इसमें रहित विटामिन बी 1 ऊर्जा चयापचय के लिए आवश्यक है और भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद जिंक एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है और शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को हटाने में मदद करता है और इस प्रकार सभी कोशिकाओं का स्वास्थ्य बनाए रखता है और विभिन्न अंगों की रक्षा करता है।

Related Links

मटकी दाल

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन