This category has been viewed 2861 times

36 सूजी recipes

Last Updated : May 17,2019

semolina recipes - in English
રવો રેસીપી - ગુજરાતી માં વાંચો (semolina recipes in Gujarati)

36 सूजी की रेसिपी | भारतीय रवा, सूजी रेसिपी का संग्रह

सूजी की रेसिपी संग्रह। सूजी, जिसे रवा के रूप में भी जाना जाता है, यह एक दरदरा आटा है जो गेहूं के एक प्रकार से बनता है और यह गेहूं की गुणवत्ता के आधार पर पीले से सफेद रंग में भिन्न हो सकता है। सूजी का उपयोग मुख्य रूप से अमेरिका और अन्य देशों में पास्ता, विभिन्न प्रकार के सीरियल्स या डेसर्ट बनाने के लिए किया जाता है लेकिन भारत में इसका उपयोग ज्यादातर नमकीन व्यंजन बनाने के लिए किया जाता है।

सुबह के नाश्ते में रवा की रेसिपी

भारतीय व्यंजनों में रवा एक बुनियादी भोज्य होने के कारण वह बहुत से नाश्ते के रेसिपी में मौजूद है। यदि आप वेजीटेबल उपमा खाना चाहते है तो वो केवल 10 मिनट में बनाया जा सकता है। इसको बनाने के लिए गर्म पानी में विभिन्न सब्जियों के साथ सूजी, हींग, सरसों और हरी मिर्च डालकर धीमी आँच पर पकाया जाता है

अनियन टमॅटो रवा उत्तपाअनियन टमॅटो रवा उत्तपा

यदि उपमा नहीं खाना है, तो यह वास्तव में रवा चीला जैसे नमकीन पैनकेक बनाने के लिए सबसे अच्छी सामग्री है, जहां सूजी को मसाले और बारीक कटी सब्जियों के साथ मिलाया जाता और गर्म तवा पर पैनकेक की तरह पकाया जाता  है। यदि आप कुछ स्वस्थ नाश्ता बनाने की सोच रहे हैं, तो आप इन स्वादिष्ट ओट्स रवा पालक ढोकला को बना सकते हैं, जो निश्चित रूप से आपके परिवारवालों को भी बहुत पसंद आएगा और इसे बनाने में भी अधिक समय नहीं लगता है। रवा डोसा, को पेपर डोसा की तरह पतला और तुरन्त बनाया जाता है जिसका आनंद नारियल की चटनी और सांभर के साथ लिया जा सकता है। रवा पोंगल भी एक बेहतरीन दक्षिण-भारतीय नाश्ते के रूप में बनाया जा सकता है। इसमें पीली मूंग दाल और सूखे मसालों के साथ पकाया जाने वाला रवा शामिल है जो सभी को पसंद आएगा।

भारतीय रेसिपी में रवा का उपयोग

जब आपको मसालेदार, कुरकुरी और प्रमुख रूप से भारतीय रेसिपी खाने की इच्छा हो तो आप मसालेदार उड़द दाल पुरी जैसे स्नैक्स को आजमा सकते है जो आपको राजस्थानी फील देने के लिए एक शानदार नाश्ता है। दक्षिण भारतीय जानते हैं कि रवा का उपयोग कैसे करना चाहिए। इंस्टंट रवा अप्पे  सरसों और हिंग के तड़के से स्वादिष्ट बनता हैं। यहां तक कि गुजरातियों को अपने भोजन में रवा का उपयोग करना पसंद है, चाहे वह रवा ढोकला हो या फिर बेसन और रवा मिलाकर नरम और फुला हुआ खमन ढोकला

रवा डेसर्ट

पाईनएप्पल शीरापाईनएप्पल शीरा

रवा का विभिन्न प्रकार से उपयोग करके नारियल शीरा बना सकते है जो मुँह में पानी लाने जैसा है जिसको खाते समय नारियल की पौष्टिकता का स्वाद मिलता हैमैंगो शीरा या पसंदीदा पाइनएप्पल शीरा दोनों ही शीरा की अलग-अलग विविधताएं है। एक अन्य प्रसिद्ध मिठाई करंजी है जो ज्यादातर महाराष्ट्र में बनाई जाती है। यह एक नारियल और रवा से भर कर तली हुई स्वादिष्ट मिठाई है। आप रवा केक बना सकते हैं जो कि अपने आप में इतना अनोखा है जिसे देखकर हर कोई हैरान हो जाएगा कि इसका स्वाद कितना स्वादिष्ट है। शाही पूरन पोली, एक रेगुलर मीठी रोटी की तुलना में, मावा, चीनी और सूजी से भरी हुई एक शानदार भारतीय मिठाई है।

रवा से बने स्नैक्स

डाकोर ना गोटाडाकोर ना गोटा

पार्टी करने वालों के लिए कई अलग-अलग स्नैक्स हैं जो सूजी के साथ बनाए जा सकते हैं। यदि आप कुछ ऐसा चाहते हैं जो लंबे समय तक चले, तो नमक पारा सबसे अच्छा है। मैदे और सूजी से बने आटे के ये गहरे तले हुए हीरे के आकार के टुकड़े कुछ ही समय में खत्म हो जाएंगे! यदि उद्देश्य पार्टी में परोसना है, तो रवा ढोकला विथ स्टफ्ड शेज़वान फिलिंग से बेहतर कोई स्टार्टर नहीं है। रवा का उपयोग कोटिंग के रूप में भी किया जाता है। कटलेट सैंडविच में कटलेट के लिए या दाल बाटी चूरमा में बाटी के लिए रवा बहुत महत्वपूर्ण होता है।

नीचे हमारे भारतीय रवा व्यंजनों का आनंद लें।


Goto Page: 1 2 3 
इस रवा ढोकला को बनाने के लिए पीसने या फर्मेटिंग की जरूरत नहीं पडती, फिर भी यह अच्छे से फूलकर बहुत ही स्वादिष्ट तैयार होते हैं। आप इन्हें सुबह या
एक अद्भूत मिठाई जो मिनटों में तैयार की जा सकती है। इसे बहुत अग्रिम तैयारी की आवश्यकता नहीं है और बहुत ही थोडे समय के अतंर में बनाई जा सकती है। रवा शीरा परंपरागत है पर अपनी सादगी में अभी तक आधुनिक है और इसलिए असल में सबका प्रिय भी है। यह शीरा
झटपट बनने वाला, यह ज्वार उपमा एक पौष्टिक नाश्ता है जिसे आप सुबह के नाश्ते, खाने या दिन के किसी भी समय के लिए बना सकते हैं। रवा से बने पारंपरिक उपमा एक काफी पौष्टिक विकल्प, इस ज्वार उपमा को काफी मात्रा की सूजी को रेशांक और लौहतत्व भरपुर ज्वार के आटे से और हरे मटर से बदलकर बनाया गया है। हालांकि इसके र ....
यह ढ़कले इतने मुलायम और स्पंजी होते हैं कि इन्हें नायलोन कहा जा सकता है! और क्या चाहिए, अगर आपने विधी का पालन अच्छी तरह किया है और अभयास किया है, तो इस व्यंजन को बनाना बेहद आसान हो जाता है। घोल में फ्रूट सॉल्ट और तड़के में पानी, यह दो मुख्य तत्व हैं जो इस ढ़ोकले के बेहद नरम और स्पौंजी रुप के लिए ज़ि ....
आपने विभिन्न आटों के और विभिन्न तड़केवाले ढोकलों का स्वाद चखा होगा, लेकिन क्या आपने कभी ओट्स, रवा और पालक से बने हुए ढोकलों का मज़ा लिया है? इन सभी सामग्री के संयोजन से
यह पालक मेथी मुठिया स्वाद, पौष्टिक्ता और बेहतरीन रुप को दर्शाते हैं। इन स्टीम किये हुए डम्पलिंगस् में, पालक और मेथी का स्वाद एक दुसरे के साथ बेहद अच्छी तरह जजते हैं, जिसकी खुशबु सरसों और तिल के तड़के के बाद और निखर जाती है। न्यूट्रिशियस ग्रीन चटनी के साथ परोसने से यह पालक मेथी मुठिया बेहद स्वादिष्ट ....
क्या आपको पता है कि 100 ग्राम हलीम के बीज में 100 मिलीग्राम लौहतत्व होता है? किसने सोचा था कि यह छोटा सा बीज लौहतत्व का खज़ाना होगा! हलीम लड्डू एक पारंपरिक महाराष्ट्रियन मिठाई है, जिसे लौह भरपुर हलीम के बीज से बनाया गया है। गुड़ और बादाम जैसी अन्य सामग्री भी इन स्वादिष्ट लड्डू के लौहतत्व को बढ़ाते ह ....
पारंपरिक डोसा का एक आसानी से बनने वाला विकल्प! इन करारे डोसे को सूजी और छाच से बने घोले से बनाया जाता है। चूंकी घोल में खमीर लाने इसे लंबे समय तक रखने की ज़रुरत नहीं होती, यह व्यंजन अचानक आये मेहमानों के लिए पर्याप्त व्यंजन है!
3 में 1 एक पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन। राजस्थानी खाने में मीठा और नमकीन साथ परोसने में खासियत रखते हैं और सबका मन जितने में भी। हल्का मीठा चूरमा, तीखी दाल और तली हुई बाटी का मेल एक ऐसा ही पारंपरिक मेल है। गरमा गरम दाल में डूबी ताज़ी बाटी चूरमा के साथ परोसने के लिए पर्याप्त है। अगर आप ठंड के दिनों में ....
मुठीया मुठ्ठी के आकार का एक गुजरातियों का पसंदीदा नाश्ता है। इसमें दूधी और प्याज़ के साथ उपयुक्त मात्रा में सूजी, गेहूं के आटे और बेसन का संयोजन है। जबकि हरी मिर्च, अदरक और धनिय ....
गुजराती के लिए, फरसी पुरी के बिना दिवाली अधूरी है। यह एक मज़ेदार तला हुआ नाश्ता है जिसे आप एक बार जरूर से आज़माइए। इसके अलावा, यह सामन्य सामग्री का उपयोग करके आस ....
सुबह नाश्ते में ढोकला खाने का मन है? आप इन्हे पोहे का प्रयोग कर झटपट बनाये जहाँ पोहे को ना भिगोना है और ना आपको खमीर आने का इंतज़ार करना है। यह ढोकला आपके डब्बे के लिए भी एक विक्लप है। इसे ग्रीन चटनी के साथ परोसिए।
कुकरी सूजी की पुरी और साथ ही मिले जुले अंकुरित दानें और पुदिनेवाला पानी सभी मिलकर गर्मियों के मौसम के लिए एक उपयुक्त नाश्ता बनता है। इन्हें उत्तर भारत में 'गोलगप्पा' और पश्चिम बंगाल में 'पुचका' के नाम से जाना जाता है। आप मिले जुले दानों के बदले में रगड़े का भी उपयोग कर सकते हैं। यूँ तो आप यह पुरी ....
कभी- कभी, कुछ सामग्रियों के रुपांतर से या सब्जियों को मिलाने से एक लोकप्रिय व्यंजन को बहुत ही अनोखा बदलाव दियाजा सकता है।इसपारंपरिक चिले में छास और पत्तागोभी का संकलन यह काम करता है।सूजी और उड़द की दाल का आटा आवश्यक सामग्रियाँ हैं, जो चावल के चिकनेपन को संतुलित रखते हैं। जब यह चावल और सब्जियों के चि ....
Goto Page: 1 2 3 

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन