हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | Fresh Herbal Tea, Tulsi, Mint and Ginger Drink for The Common Cold
द्वारा


हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in hindi | with 17 amazing images.

भारतीय हर्बल चाय अनेकों स्वास्थ्य लाभ के साथ एक प्राकृतिक पेय है। साथ में, बुखार, सर्दी और खांसी से तंग शरीर को फिर से जीवंत करने के लिए आदर्श सामग्री का एक संग्रह है। जानिए घर पर काढ़ा बनाने की विधि

यह ताजा हर्बल चाय हर्ब से भरपुर और शहद के स्वाद से भरा गरमा गरम पेय बूखार आने पर आपको तरो-ताज़ा महसुस करवाने के लिए पर्याप्त है। जड़ी-बूटियों की रानी तुलसी, चबाने पर सबसे अच्छी होती है। हालाँकि, आप इसका सेवन पानी में उबाल कर भी कर सकते हैं जैसा कि इस चाय में किया जाता है। फाइटोन्यूट्रिएंट्स यूजेनॉल और सिनेोल एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करके अपना जादू चलाते हैं।

अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए गले के लिए काफी सुखदायक है। जहाँ तुलसी और अदरक के गुण खाँसी और संस्वीकरण को आराम प्रदान करने के लिए माने जाते हैं, बहुत कम लोगो को यह ज्ञात है कि पुदिना में प्रस्तुत विटामीन सी भी सर्दी-ज़ूखाम से आराम प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

घर का बना हर्बल चाय बनाने के लिए, तुलसी, पुदिना और अदरक को मिक्सर में मिलाकर, बहुत ही कम पानी का, मिक्सर मे डालकर प्रयोग कर दरदरा पीस लें। इस पेस्ट को एक नॉन-स्टिक सॉस-पॅन में निकालें, ११/२ कप पानी डालकर अच्छी तरह मिला लें और ५ से ७ मिनट तक, बीच-बीच में हिलाते हुए उबाल लें। मिश्रण को छन्नी से छान लें और शहद डालकर अच्छी तरह मिला लें। तुरंत परोसें।

इसके अलावा, गिंजरोल अदरक में मुख्य जैव सक्रिय यौगिक पदार्थ है जो प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली चाय में उपयोग किया जाता है जो इसके औषधीय गुणों के लिए जिम्मेदार है। इस में पावरफुल प्रज्वलनरोधी और एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव होते हैं। यह स्वस्थ भारतीय गर्म पेय विभिन्न बीमारियों के खिलाफ आपकी प्रतिरक्षा बनाने के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपचार में से एक है।

आप दिन में २ से ३ बार इस घर पर बने काढ़ा पर घूंट ले सकते हैं। हमने इसमें शहद मिलाया है क्योंकि शहद में एंटी-माइक्रोबियल लाभ भी होते हैं जो बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करता है। आप चाहें तो अपनी पसंद के अनुसार शहद की मात्रा को समायोजित कर सकते हैं।

होममेड हर्बल चाय के लिए टिप्स। 1. सामग्री को एक दरदरा पेस्ट में मिलाएं ताकि वे पानी में अच्छी तरह से उबल सकें और उनके लाभकारी यौगिकों को मुक्त कर सकें। 2. कढ़ा गर्म या उष्ण परोसें, लेकिन ठंडा नहीं।

आनंद लें हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in hindi | नीचे दिए गए स्टेप बाय स्टेप फ़ोटो और वीडियो के साथ।

हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि - Fresh Herbal Tea, Tulsi, Mint and Ginger Drink for The Common Cold recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    कुल समय :     २ कप के लिये
मुझे दिखाओ कप

सामग्री

ताजा हर्बल चाय के लिए सामग्री
१/२ कप तुलसी के पत्ते
१/४ कप पुदिना के पत्ते
१ टेबल-स्पून कटा हुआ अदरक
१ टी-स्पून शहद
विधि
    Method
  1. तुलसी, पुदिना और अदरक को मिक्सर में मिलाकर, बहुत ही कम पानी का, मिक्सर मे डालकर प्रयोग कर दरदरा पीस लें।
  2. इस पेस्ट को एक नॉन-स्टिक सॉस-पॅन में निकालें, 11/2 कप पानी डालकर अच्छी तरह मिला लें और 5-7 मिनट तक, बीच-बीच में हिलाते हुए उबाल लें।
  3. मिश्रण को छन्नी से छान लें और शहद डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  4. तुरंत परोसें।
पोषक मूल्य प्रति cup
ऊर्जा12 कैलरी
प्रोटीन0.2 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट3.1 ग्राम
फाइबर0.2 ग्राम
वसा0 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम
सोडियम0.3 मिलीग्राम
विस्तृत फोटो के साथ हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि

अगर आपको हर्बल टी रेसिपी पसंद है

  1. अगर आपको हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in Hindi | पसंद है, तो फिर हमारे भारतीय पेय व्यंजनों का संग्रह देखें और फिर अन्य रेसिपी भी आजमाएं जो गले में खराश के दर्द को कम करता हैं और सर्दी और खांसी को भी कम करता हैं जैसे :

हर्बल टी रेसिपी कोनसी सामग्री से बनती है?

  1. हर्बल टी रेसिपी कोनसी सामग्री से बनती है? हर्बल टी ४ साधारण सामग्री जैसे १/२ कप तुलसी के पत्ते, १/४ कप पुदिना के पत्ते, १ टेबल-स्पून कटा हुआ अदरक और १ टी-स्पून शहद से बनाई जाती है।

तुलसी क्या है?

  1. तुलसी कुछ इस तरह दिखती है। तुलसी, जिसे भारतीय बेसिल या पवित्र तुलसी के रूप में भी जाना जाता है, को अक्सर भारत में जड़ी-बूटियों की रानी के रूप में जाना जाता है। एक पवित्र जड़ी बूटी मानी जाने वाली तुलसी को लगभग हर हिंदू घर में उगाई जाती है। तुलसी को पवित्र माना जाने के अलावा एक महान उपचारक के रूप में भी जाना जाता है। इसकी पत्तियों और जड़ों का उपयोग विभिन्न चिकित्सा काढ़े में किया जाता है, माना जाता है कि यह मन और शरीर को शांत और ठीक करता है।
  2. तने से पत्तियाँ तोड़ लें।
  3. पत्तों को साफ पानी में धो लें। गंदगी के सारे छोटे-छोटे कण नीचे जम जाएंगे।
  4. पानी को छान लें।

ताजी हर्बल टी बनाने के लिए

  1. मिक्सर में १/२ कप तुलसी के पत्ते डालें। तुलसी के पत्तों को धोने और तैयार करने का विवरण ऊपर देखें। तुलसी में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो सर्दी से राहत दिलाने में मदद करते हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और अन्य बीमारियों को दूर रखने के लिए जाना जाता है। पेट में पीएच संतुलन बनाए रखने से यह एसिडिटी को कम करने में मदद करता है। तुलसी में कुछ फाइटोकेमिकल्स कैंसर से भी बचाव के लिए जाने जाते हैं। एंटीऑक्सीडेंट होने के साथ-साथ यह शरीर को डिटॉक्सीफाई भी करता है। इस तुलसी के पानी को पीने का सबसे प्रभावी समय सुबह खाली पेट है। तनाव, चिंता और अवसाद से मुक्त स्वस्थ शरीर के लिए तुलसी के पानी का सेवन करने की आदत डालें।
  2. १/४ कप पुदिना के पत्ते डालें। पुदीना (mint leaves) अनुत्तेजीक (anti-inflammatory) होने के कारण पेट में इन्फ्लमेशन (inflammation) को कम करता है। ताजा पुदीना और लेमन टी जैसे हेल्दी ड्रिंक पर गर्भवती महिलाओं के लिए जी मिचलने के एहसास को दूर करने का सबसे अच्छा विकल्प है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन ए (आर.डी.ए. का 10%) और विटामिन सी (20.25%) खांसी, गले में खराश और जुखाम से राहत दिलाने के लिए काम करते हैं। पुदीना एक ऐसी सब्जी है जो कैलोरी, कार्ब्स या वसा को जमा किए बिना पौष्टिक व्यंजन बना सकता है। असल में यह जो प्रदान करता है वो है फाइबर। पुदीने की पत्तियों के विस्तृत लाभ पढें।
  3. १ टेबल-स्पून कटा हुआ अदरक डालें।
  4. मिक्सर में दरदरा होने तक पीस लें।

हर्बल टी पकाने के लिए

  1. एक नॉन-स्टिक सॉस पैन में पेस्ट डालें।
  2. १ १/२ कप पानी डालें।
  3. अच्छी तरह मिलाएं।
  4. बीच-बीच में हिलाते हुए ५ से ७ मिनट तक उबालें। यह तस्वीर उबलने के ३ मिनट पर ली गई है।
  5. चाय अब तैयार है।
  6. एक छलनी की मदद से मिश्रण को छान लें।
  7. इसे हल्का गर्म होने तक ठंडा होने दें और फिर इसमें १ टी-स्पून शहद मिलाएं। यह मजबूत अदरक के स्वाद को ऑफसेट करने के लिए किया जाता है।
  8. हर्बल टी को | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in Hindiअच्छी तरह मिला लें।
  9. हर्बल टी को | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in Hindiतुरंत परोसें।

होममेड हर्बल चाय के लिए टिप्स

  1. सामग्री को एक दरदरा पेस्ट में मिलाएं ताकि वे पानी में अच्छी तरह से उबल सकें और उनके लाभकारी यौगिकों को मुक्त कर सकें।
  2. कढ़ा गर्म या उष्ण परोसें, लेकिन ठंडा नहीं।


Reviews

हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि
 on 13 Jun 21 08:35 PM
5

Tarla Dalal
14 Jun 21 07:51 PM
   Thanks for the feedback !!! Keep reviewing recipes and articles you loved.