This category has been viewed 26532 times
 Last Updated : Apr 15,2021


 कोर्स रेसिपी, भारतीय कोर्स रेसिपी, वेज मुख्य व्यंजनों > भारतीय पेय रेसिपी | भारतीय ड्रिंक्स



પીણાં - ગુજરાતી માં વાંચો (Indian Beverages, Indian Drinks recipes in Gujarati)

भारतीय पेय रेसिपी | भारतीय ड्रिंक्स रेसिपी | Easy Indian Beverages | Indian Drinks Recipes |

भारतीय पेय रेसिपी | भारतीय ड्रिंक्स रेसिपी | Easy Indian Beverages | Indian Drinks Recipes |

 

कई लोगों के लिए, प्रत्येक दिन गर्म कॉफी या चाय के साथ शुरू होता है, और रात एक ताज़ा गिलास हल्दी दूध के साथ समाप्त होता है। इस तरह पेय हमारे जीवन के साथ बहुत गहरे से जुड़े हुए हैं।

गर्मी हो या सर्दी, सुकून की छुट्टी हो या जल्दी-जल्दी काम का दिन, पेय पदार्थ - गर्म या ठंडा, हल्का या भारी, मीठा या मसाले वाला - हमेशा हमारे जीवन का हिस्सा बने रहते हैं।

फिर चाहे वो गर्म मसाला चाय हो, बादाम और केले का स्मूदी हो, चीकू मिल्कशेक और चॉकलेट मिल्कशेक हो, जो नाश्ते के साथ या आपकी भूख को कम करने के लिए होता में, या जलजीरा या छास जैसे पेय हो जो दोपहर के भोजन या हमारे दिनचर्या का एक सुखद हिस्सा होते हैं। इस खंड में ऐसे ताज़ा और तृप्त पेय पदार्थों का खजाना है।

गर्म भारतीय पेय या ड्रिंक्स रेसिपी

चाय और कॉफी दो सबसे प्रसिद्ध गर्म भारतीय पेय हैं। सुबह गर्म मसाला चाय का एक कप कई लोगों के लिए दिन की शुरुआत होता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, मसाला चाय सचमुच मसाले से बनी होती है। चाय का स्वाद बहुत शक्तिशाली होता है, यह मूल रूप से मसाला के साथ काली चाय ऊबालकर बनाई जाती है। जब आप अस्वस्थ होते हैं तो यह आपके लिए उपयुक्त होती है और जब आप थके हुए होते हैं तो यह आपको ताज़गी का एहसास देती है।

मसाला चाय | मसाला टी | भारतीय मसालेदार चाय | टपरी की मसाला चायमसाला चाय | मसाला टी | भारतीय मसालेदार चाय | टपरी की मसाला चाय

अपने दिन की शुरुआत के लिए इंस्टेंट कॉफी इंडियन स्टाइल के कप जैसा कुछ नहीं। इसमें चीनी का मिश्रण बनाया जाता है और दूध के साथ मिलाया जाता है। जबकि हर किसी के पास पानी और चीनी के साथ दूध का अपना अनुपात होता है, यहां जानिए कि कैसे सही कॉफी बनाई जाए ...

कॉफी, इंस्टेंट कॉफी रेसिपी | घर पर बनाएं आसान कॉफी | हॉट कॉफी | क्विक भारतीय कॉफीकॉफी, इंस्टेंट कॉफी रेसिपी | घर पर बनाएं आसान कॉफी | हॉट कॉफी | क्विक भारतीय कॉफी

तमिलनाडु और कर्नाटक में एक दैनिक पेय, फिल्टर कॉफी अब पूरे देश में लोकप्रिय हो गया है। फ़िल्टर कॉफ़ी एक विशेष बर्तन का उपयोग करके बनाई जाती है जिसमें दो भाग होते हैं। ऊपरी हिस्से में छिद्रित छलनी होती है, जो कॉफ़ी को निचले आधे हिस्से में घुसने देता है, जो मूल रूप से एक कंटेनर होता है।

फिल्टर कॉफी रेसिपी | फ़िल्टर कॉफ़ी | साउथ इंडियन फिल्टर कॉफी | फिल्टर कॉफी घर पर बनाने की विधिफिल्टर कॉफी रेसिपी | फ़िल्टर कॉफ़ी | साउथ इंडियन फिल्टर कॉफी | फिल्टर कॉफी घर पर बनाने की विधि

बोर्नविटा एक चॉकलेट पाउडर है जो कैडबरी द्वारा निर्मित है जिसे दूध में मिलाकर एक पेय में बनाया जाता है! यह ठंडा होने के साथ-साथ गर्म भी हो सकता है। यहां, हमने आपको इसका हॉट बॉर्नविटा दूध संस्करण दिखाया है।

बॉर्नविटा रेसिपी | बॉर्नविटा दूध | गर्म बॉर्नविटा मिल्क | बच्चों के लिए बॉर्नविटाबॉर्नविटा रेसिपी | बॉर्नविटा दूध | गर्म बॉर्नविटा मिल्क | बच्चों के लिए बॉर्नविटा

हॉट डिटॉक्स इंडियन ड्रिंक्स रेसिपी

जबकि चाय और कॉफी अधिक मनभावन होते हैं, गर्म डिटॉक्स ड्रिंक पाचन तंत्र को साफ करने में मदद करते हैं, हमें डिटॉक्सिफाई करते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता का निर्माण करने में भी हमारी मदद करते हैं।

हल्दी और दालचीनी डिटॉक्स वॉटर आपके स्वास्थ्य के लिए अद्भुत काम करेगा। हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, और यह खांसी और सर्दी को दूर करने में भी मदद करता है। यह एंटीऑक्सिडेंट है और आपके शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है। दूसरी ओर, दालचीनी मधुमेह के लिए उपयुक्क है और प्रभावी रूप से संक्रमण से भी लड़ती है। नींबू, जैसा कि हम सभी जानते हैं, आपकी त्वचा को एक स्वस्थ चमक देता है और आपके भोजन से लोहे के अवशोषण में सुधार करता है जिससे सामान्य स्वास्थ्य में सुधार होता है।

हल्दी और दालचीनी का पानी की रेसिपी | हल्दी और दालचीनी डिटॉक्स पानी | बिमारियों को दूर करने के लिए हलहल्दी और दालचीनी का पानी की रेसिपी | हल्दी और दालचीनी डिटॉक्स पानी | बिमारियों को दूर करने के लिए हल

यह ताजा हर्बल टी हर्ब से भरपुर और शहद के स्वाद से भरा गरमा गरम पेय है, जो बूखार आने पर आपको तरो-ताज़ा महसुस करवाने के लिए पर्याप्त है। जड़ी-बूटियों की रानी तुलसी, चबाना सबसा अच्छा होता है। पर, आप इसका सेवन पानी में उबाल कर भी कर सकते हैं जैसा कि इस चाय में किया जाता है। फाइटोन्यूट्रिएंट्स यूजेनॉल और सिनेोल एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करके अपना जादू चलाते हैं।

हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधिहर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि

क्विक भारतीय पेय या ड्रिंक्स रेसिपी

भारत में, स्ट्रॉबेरी सर्दियों में नवंबर से फरवरी तक उपलब्ध होती है, इसलिए इस सुपर क्विक और आसान भारतीय स्टाइल स्ट्रॉबेरी बनाना मिल्कशेक बनाएं। स्ट्रॉबेरी बनाना मिल्कशेक बनाने के लिए , एक मिक्सर में स्ट्रॉबेरी, केला, दूध, चीनी और बर्फ के टुकड़े मिलाकर मुलायम होने तक पीस लें। मिल्कशेक को ग्लास में डालें, उसमें स्टॉ डालें और स्ट्रॉबेरी बनाना मिल्कशेक को तुरंत परोसें।

स्ट्रॉबेरी बनाना मिल्कशेक की रेसिपी | ५ मिनट में स्ट्रॉबेरी बनाना शेक | स्ट्रॉबेरी और केले का मिल्कशस्ट्रॉबेरी बनाना मिल्कशेक की रेसिपी | ५ मिनट में स्ट्रॉबेरी बनाना शेक | स्ट्रॉबेरी और केले का मिल्कश

यह स्वादिष्ट घर पर बनी ठंडाई बेहद स्वादिष्ट है, जो बाज़ार में मिलने वाले तैयार मिश्रण से काफी बेहतर है। बादाम और मसालों के स्वाद से भरा दूध, यह ठंडाई खास दिनों और होली और दिवाली जैसे त्यौहारों मे परोसने के लिए बेहतरीन पेय है। सौंफ, इलायची, काली मिर्च और केसर की खुशबु पुरी तरह से उबले हुए दूध के साथ घुलकर आपके घर को महका देते हैं।

ठंडाई रेसिपी | कैसे बनाएं ठंडाई रेसिपी | घर का बना ठंडाईठंडाई रेसिपी | कैसे बनाएं ठंडाई रेसिपी | घर का बना ठंडाई

गुलाब की लस्सी गर्मी के दिन परोसने के लिए आदर्श पेय है - लेकिन किसी भी अन्य मौसम में भी समान रूप से सुखद होता है। इस पंजाबी स्वीट रोज़ लस्सी में गुलाब की पंखुड़ियों के सुखद रंग, सुगंध और स्वाद है।

गुलाब की लस्सी रेसिपी | रोज लस्सी | पंजाबी गुलाब की लस्सी | गुलाब दही पेयगुलाब की लस्सी रेसिपी | रोज लस्सी | पंजाबी गुलाब की लस्सी | गुलाब दही पेय

इंडियन पार्टी ड्रिंक्स रेसिपी

यह ताज़ा होममेड पेय बिल्कुल स्वर्गीय हैं, जो बाजार में उपलब्ध रेडीमेड मिक्स से कहीं अधिक श्रेष्ठ हैं। इन पार्टी ड्रिंक्स की सुगंध और स्वाद इंद्रियों का सुखद एहसास देते हैं।

एक ताज़गी प्रदान करने वाला पेय जिसका मज़ा किसी भी समय लिया जा सकता है, इस भारतीय फ्रूट पंच को तैयार फल के रस और वैनिला आईस-क्रीम से झटपट बनाया जा सकता है। इस मेल का स्वाद यादगार होता है, जो कि ज़ाहिर है, क्योंकि कभी-कभी ताज़े फल अगर पुरी तरह से ना पके हों या बीज ना निकाला गया हों, तो उनका स्वाद हल्का कड़वा या खट्टा लगता है।

फ्रूट पंच | भारतीय फ्रूट पंच | फ्रूट पंच - मॉकटेल | आइसक्रीम के साथ फ्रूट पंचफ्रूट पंच | भारतीय फ्रूट पंच | फ्रूट पंच - मॉकटेल | आइसक्रीम के साथ फ्रूट पंच

ट्रॉपिकल ग्वावा मोजितो बारटेंडर स्टाइल पहले घूंट पर प्यार का एक निश्चित एहसास है! इसका गुप्त घटक स्प्राइट है। यह अमरूद के साथ बहुत अच्छी तरह से मिश्रित होता है और सही फ़िज़ देता है।

ग्वावा मोजितो रेसिपी | अमरूद मोजितो | ग्वावा मोजितो मॉकटेल | अमरूद मोइतो मॉकटेलग्वावा मोजितो रेसिपी | अमरूद मोजितो | ग्वावा मोजितो मॉकटेल | अमरूद मोइतो मॉकटेल

क्या आप गर्मी को मात देने के लिए एक ड्रिंक खोज रहे हैं? तो ठंडा कोको मिल्कशेक एक आदर्श विकल्प है। यह बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी पसंद आता है। मेरी माँ मेरे लिए कोको मिल्कशेक हमेशा बनाती थी और मैं इसे सेकंड में पी लेता था।

कोल्ड कोको मिल्कशेककोल्ड कोको मिल्कशेक

स्वस्थ भारतीय पेय या ड्रिंक्स रेसिपी

अक्सर हमें पेय पदार्थ में चीनी, कैफीन, चॉकलेट, आइसक्रीम आदि मिलते हैं, जो कैलोरी की गिनती में शामिल होते हैं। इस खंड से कुछ व्यंजनों का प्रयास करें और आप मिथक को दूर करेंगे कि स्वस्थ पेय स्वादिष्ट नहीं होते हैं।

सही लस्सी बनाने का रहस्य दही में है। यह चिया सीड लस्सी भी अलग नहीं है। लेकिन यहां दालचीनी के साथ-साथ एक महत्वपूर्ण सुगंधित स्पर्श भी है। नाशपाती फाइबर और विटामिन सी देता है और अधिक कार्ब्स नहीं देता है ; जबकि दही प्रोटीन और कैल्शियम देता है। फाइबर आपके आंत को स्वस्थ रखेगा और शेष 3 पोषक तत्व हड्डियों के विकास और मजबूती में सहायता करेंगे।

चिया सीड लस्सी रेसिपी | चिया सीड स्मूदी | चिया बीज और नाशपाती की लस्सी | बिना चीनी की लस्सीचिया सीड लस्सी रेसिपी | चिया सीड स्मूदी | चिया बीज और नाशपाती की लस्सी | बिना चीनी की लस्सी

जीवन कड़वी-मीठी यादों का मिश्रण होता है। और ऐसा ही है यह नीम का जूस - जिस क्षण आप इसकी चूसकी लेते हैं, यह थोड़ा कड़वा होता है, लेकिन यह आश्चर्यजनक रूप से एक मीठा स्वाद छोड़ देता है। नीम का जूस नीम के पत्तों और पानी से बनाया जाता है, इसलिए इसका 100% शुद्ध होता है। नीम रस के बहुत सारे औषधीय लाभ हैं, और विशेष रूप से आपके बालों, त्वचा और पेट के लिए अच्छा होता है। यह डिटॉक्स और क्लींजिंग गुणों के लिए जाना जाता है और इसके लाभों को प्राप्त करने के लिए नीम जूस का सेवन करना बुद्धिमानी है।

नीम का जूस रेसिपी | नीम का रस | वजन घटाने नीम का रसनीम का जूस रेसिपी | नीम का रस | वजन घटाने नीम का रस

हमारे अन्य पेय वाले रेसिपी की कोशिश करो …
चॉकलेट ड्रिंक्स् पेय वाले रेसिपी : Beverage Chocolate Drink Recipes in Hindi
१७ शर्बत पेय वाले रेसिपी : 17 Beverage Sharbat Recipes in Hindi
१९ ज्यूस पेय वाले रेसिपी : 19 Beverage Juice Recipes in Hindi
१६ लो कॅल पेय वाले रेसिपी : 16 Beverage Low Cal Recipes in Hindi
१२ मिल्कशेक और स्मूदीस् पेय वाले रेसिपी : 12 Beverage Milkshake and Smoothie Recipes in Hindi
मॉकटेल पेय वाले रेसिपी : Beverage Mocktail Recipes in Hindi
स्कॉवश / सिरप पेय वाले रेसिपी : Beverage Squash / Syrup Recipes in Hindi
चाय पेय वाले रेसिपी : Beverage Tea Recipes in Hindi
हैप्पी पाक कला!


Top Recipes

हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in hindi | with 17 amazing images. भारतीय हर्बल चाय अनेकों स्वास्थ्य लाभ के साथ एक प्राकृतिक पेय है। साथ में, बुखार, सर्दी और खांसी से तंग शरीर को फिर से जीवंत करने के लिए आदर्श सामग्री का एक संग्रह है। जानिए घर पर काढ़ा बनाने की विधि। यह ताजा हर्बल चाय हर्ब से भरपुर और शहद के स्वाद से भरा गरमा गरम पेय बूखार आने पर आपको तरो-ताज़ा महसुस करवाने के लिए पर्याप्त है। जड़ी-बूटियों की रानी तुलसी, चबाने पर सबसे अच्छी होती है। हालाँकि, आप इसका सेवन पानी में उबाल कर भी कर सकते हैं जैसा कि इस चाय में किया जाता है। फाइटोन्यूट्रिएंट्स यूजेनॉल और सिनेोल एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करके अपना जादू चलाते हैं। अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए गले के लिए काफी सुखदायक है। जहाँ तुलसी और अदरक के गुण खाँसी और संस्वीकरण को आराम प्रदान करने के लिए माने जाते हैं, बहुत कम लोगो को यह ज्ञात है कि पुदिना में प्रस्तुत विटामीन सी भी सर्दी-ज़ूखाम से आराम प्रदान करने के लिए जाना जाता है। घर का बना हर्बल चाय बनाने के लिए, तुलसी, पुदिना और अदरक को मिक्सर में मिलाकर, बहुत ही कम पानी का, मिक्सर मे डालकर प्रयोग कर दरदरा पीस लें। इस पेस्ट को एक नॉन-स्टिक सॉस-पॅन में निकालें, ११/२ कप पानी डालकर अच्छी तरह मिला लें और ५ से ७ मिनट तक, बीच-बीच में हिलाते हुए उबाल लें। मिश्रण को छन्नी से छान लें और शहद डालकर अच्छी तरह मिला लें। तुरंत परोसें। इसके अलावा, गिंजरोल अदरक में मुख्य जैव सक्रिय यौगिक पदार्थ है जो प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली चाय में उपयोग किया जाता है जो इसके औषधीय गुणों के लिए जिम्मेदार है। इस में पावरफुल प्रज्वलनरोधी और एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव होते हैं। यह स्वस्थ भारतीय गर्म पेय विभिन्न बीमारियों के खिलाफ आपकी प्रतिरक्षा बनाने के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपचार में से एक है। आप दिन में २ से ३ बार इस घर पर बने काढ़ा पर घूंट ले सकते हैं। हमने इसमें शहद मिलाया है क्योंकि शहद में एंटी-माइक्रोबियल लाभ भी होते हैं जो बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करता है। आप चाहें तो अपनी पसंद के अनुसार शहद की मात्रा को समायोजित कर सकते हैं। होममेड हर्बल चाय के लिए टिप्स। 1. सामग्री को एक दरदरा पेस्ट में मिलाएं ताकि वे पानी में अच्छी तरह से उबल सकें और उनके लाभकारी यौगिकों को मुक्त कर सकें। 2. कढ़ा गर्म या उष्ण परोसें, लेकिन ठंडा नहीं। आनंद लें हर्बल टी रेसिपी | घर का बना हर्बल चाय | हर्बल चाय के फायदे | घर पर काढ़ा बनाने की विधि | अदरक तुलसी की चाय -सर्दी के लिए | homemade herbal tea in hindi | नीचे दिए गए स्टेप बाय स्टेप फ़ोटो और वीडियो के साथ।
नींबू सेब का जूस रेसिपी | एप्पल नींबू जूस | नींबू और सेब के रस के फायदे | सेब और नींबू का रस बनाने की विधि | lemon apple juice in hindi. नींबू सेब का जूस एक स्वस्थ, स्फूर्तिदायक और सुबह के लिए भारतीय औषधि स्फूर्तिदायक है। जानिए सेब और नींबू का रस बनाने की विधिनींबू सेब का जूस बनाने के लिए, जूसर में एक बार में कुछ सेब के क्यूब्स डालें। नींबू का रस डालें और मिश्रण अच्छी तरह मिलाएं। २ अलग-अलग ग्लास में थोडा क्रश किया हुआ बर्फडालें और इसके ऊपर समान मात्रा में जूस डालें। नींबू सेब का जूस तुरंत परोसें। "एक सेब एक दिन डॉक्टर को दूर रखता है", कहावत है और यह लगभग सच है। सेब फाइबर का एक भंडार है जो आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। सेब में 'पॉलीफेनोलस' नामक एक एंजाइम होता है, जो ऑक्सीजन के संपर्क में आने पर रंगीन फेनोलिक यौगिक बनाता है जो टुकड़ों को अवांछनीय भूरा रंग प्रदान करता है। हालांकि, रस की प्रक्रिया में फाइबर की कुछ मात्रा खो जाती है। इसलिए हम अनुशंसा करते हैं कि आप एक उच्च गुणवत्ता वाले ब्लेंडर का उपयोग करें और रस को तनाव न दें, एप्पल नींबू कूलर से सबसे अधिक लाभ के लिए। नींबू का छींटा अच्छी तरह से मिठास में प्रवेश करता है और इस सेब और नींबू के रस के स्वाद को बढ़ा देता है। यह पर्याप्त विटामिन सी भी जोड़ता है। यह महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रतिरक्षा का निर्माण और रोगों से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। प्रति गिलास १०८ कैलोरी के साथ, यह चीनी मुक्त पौष्टिक पेय आपके नाश्ते के लिए एक बढ़िया अतिरिक्त है। बच्चों से लेकर बड़ों तक वरिष्ठ नागरिकों और यहां तक ​​कि गर्भवती महिलाओं तक सभी इस सेब और नींबू के रस में लिप्त हो सकते हैं। आप इसे खेलने के समय के बाद बच्चों को परोस सकते हैं जब उन्हें ऊर्जा बढ़ाने की आवश्यकता होती है और पानी की आवश्यकता भी पूरी होती है! नींबू सेब का जूस के लिए टिप्स 1. सेब को भूरे होने से बचाने के लिए, सेब को रस निकालने से पहले काट लें या टुकड़ों पर नींबू का रस निचोड़ लें। 2. बिना छिलके वाले सेब का प्रयोग अधिक करें, क्योंकि फलों की त्वचा के नीचे बहुत सारा फाइबर होता है। 3. नींबू के रस से विटामिन सी के लाभ के लिए इसे तुरंत परोसें। ऐसा इसलिए है क्योंकि विटामिन सी एक अस्थिर पोषक तत्व है और इसमें से कुछ हवा के संपर्क में आने पर खो जाता है। 4. हम मधुमेह रोगियों के लिए इस रस की सलाह नहीं देते हैं क्योंकि यह एक समय में अतिरिक्त कार्ब्स की खुराक हो सकता है। आनंद लें नींबू सेब का जूस रेसिपी | एप्पल नींबू जूस | नींबू और सेब के रस के फायदे | सेब और नींबू का रस बनाने की विधि | lemon apple juice in hindi.
एक मज़ेदार दिखने वाला और रेशांक से भरपुर कॉकटेल जिसे प्राकृतिक उत्पादन से बनाया गया है! यह पपाया, पाईनएपप्ल एण्ड बनाना ड्रिंक, अपच के लिए एक बेहद स्वादिष्ट और आराम प्रदान करने वाला घरेलु उपाय है, क्योंकि इसमें तीनो फल अपने रेचक औषधी के लिए माने जाते हैं। चूंकी इस पेय को छाना नहीं जाता है, इसमें भरपुर मात्रअ में रेशांक बना रहता है, जो पाचन के लिए ज़रुरी होता है। घरेलु उपाय बनाते समय, खसतौर पर फल और सब्ज़ीयों से, इसका सेवन बनाकर तुरंत करें, जिससे आपको इनके पौषण तत्वों का ज़्यादा से ज़्यादा लाभ मिल सके।
अदरक वाला दूध रेसिपी | अदरक दूध सर्दी और खांसी के लिए | अदरक दूध पीने के फायदे | ginger milk in hindi | with 9 amazing images. अदरक वाला दूध रेसिपी | अदरक दूध सर्दी और खांसी के लिए | अदरक दूध पीने के फायदे | अदरक वाला दूध रोगनिवारक बेनिफिट्स के साथ सुखदायक पेय है। जानिए कैसे करें अदरक दूध सर्दी और खांसी के लिएअदरक वाला दूध बनाने के लिए, एक गहरे पैन में सभी सामग्रियों को डालें, अच्छी तरह मिलाएं और मध्यम आंच पर ५ मिनट तक पकाएं। मिश्रण को छान लें। अदरक के दूध को ४ अलग-अलग गिलास में डालें और तुरंत परोसें। अदरक के स्फूर्तिदायक स्वाद के साथ एक कायाकल्प करने वाला कुप्पा, अदरक दूध सर्दी और खांसी के लिए आपके गले में दर्द को कम करता है। अपने एंटीऑक्सिडेंट और सूजनरोधी गुणों के कारण अदरक के औषधीय गुणों को ठंड और गले में दर्द के खिलाफ फायदेमंद माना जाता है। इसलिए हमने अदरक को दूध में पकाकर एक अद्भुत, आरामदेह पेय बनाया है। दूसरी ओर, दूध प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर होता है। जबकि प्रोटीन प्रतिरक्षा कोशिकाओं सहित कोशिकाओं के निर्माण में मदद करेगा, कैल्शियम हड्डी को मजबूत बनाने की प्रक्रिया में मदद करता है। इस प्रकार अदरक वाला दूध आपको तृप्त करने और सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। इस अदरक वाला दूध को चीनी के साथ हल्का मीठा किया गया है। हालाँकि, आप चीनी को टाल सकते हैं यदि आप चाहें और हम आपको ऐसा करने का सुझाव देते हैं। सर्वश्रेष्ठ प्रभाव के लिए इसे गर्म परोसना याद रखें। आप अदरक की चाय और स्टार एनिस टी जैसे अन्य घरेलू उपचार भी आजमा सकते हैं। अदरक वाला दूध के लिए टिप्स 1. सुनिश्चित करें कि आप अदरक को दूध में धोने, छीलने और अच्छी तरह से काट लें क्योंकि छिलके में अशुद्धियाँ कभी-कभी दूध को घनीभूत बना सकती हैं। 2. अगर आप अदरक को चबा सकते हैं, तो हमारा सुझाव है कि आप कद्दूकस की हुई अदरक का इस्तेमाल करें और दूध को बिना छीले इस्तेमाल करें। 3. आप उबलते समय एक चुटकी हल्दी पाउडर भी डाल सकते हैं। आनंद लें अदरक वाला दूध रेसिपी | अदरक दूध सर्दी और खांसी के लिए | अदरक दूध पीने के फायदे | ginger milk in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।
कोल्ड कोको मिल्कशेक | कोको चॉकलेट मिल्कशेक | कोको स्मूथी | cold cocoa milkshake recipe in hindi language | with 8 amazing images. गर्मी को मात देने के लिए एक ड्रिंक खोज रहे हैं? ठंडा कोको मिल्कशेक एक आदर्श विकल्प है। यह बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी पसंद आता है। मेरी माँ मेरे लिए कोको मिल्कशेक हमेशा बनाती थी और मैं इसे सेकंड में पी लेती थी। कोको मिल्कशेक बनाने के लिए मूल सामग्री का उपयोग किया जाता है और इसे तैयार करने में ५ मिनट से अधिक समय नहीं लगता है। कोको मिल्कशेक, कोको पाउडर, चीनी, ठंडा दूध और कुछ बर्फ क्यूब्स के साथ बनाया जाता है, सभी सामग्री एक हाँड ब्लेंडर से मिश्रित होती है। आप चाहें तो आइसक्रीम भी डाल सकते हैं, यह मिल्कशेक को एक चिकनी और मलाईदार बनावट देता है। कोको पाउडर फ्लेवोनोइड्स, कैटेचिन और एपिचिन्स जैसे पॉलीफेनोल्स से भरपूर होता है। ये विरोधी भड़काऊ प्रभाव दिखाते हैं और साथ ही शरीर को हानिकारक मुक्त कणों से छुटकारा पाने में मदद करते हैं और इस तरह हृदय रोग, मधुमेह और कैंसर जैसी विभिन्न पुरानी बीमारियों की शुरुआत को कम करते हैं। कोको मिल्कशेक बनाने के लिए हमेशा अच्छी गुणवत्ता वाले कोको पाउडर का उपयोग करें। चॉकलेट के साथ अपना दिन शुरू करने के लिए एक बहाना चाहिए? चॉकलेट शेविंग्स के साथ कोल्ड कोको मिल्कशेक को गार्निश करें। यह ठंडा कोको चॉकलेट मिल्कशेक कॉफी के लिए सबसे अच्छा विकल्प बनता है, खासकर जब मौसम गर्म और आर्द्र होता है और आप एक गर्म पेय को पसंद नहीं करते हैं। नीचे दिया गया है कोल्ड कोको मिल्कशेक | कोको चॉकलेट मिल्कशेक | कोको स्मूथी | cold cocoa milkshake recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
आप विश्वास नहीं करेंगे कि काले अंगूर और दही का संयोजन भी बन सकता है जब तक आप खुद यह स्मुदी बना न लें। इस स्मुदी को सुबह के नाश्ते में शामिल करना आपको बहुत समय संतुष्ट रखेगा।
केला, सेब और दही के संगठन से बना यह स्मुदी आपके दिन भर के आपके फलों की जरूरत को पुरा करता है। केले और सेब के सौम्य स्वाद बहुत अच्छी तरह से एक दुसरे के पुरक हैं जो दिन की शुरुआत के लिए एक तृप्त व्यंजन है।
आंवला जूस की रेसिपी | पौष्टिक आंवले का जूस | आंवले का रस | वजन कम करने के लिए आंवला जूस | how to make amla juice in hindi | with 8 amazing photos. यह आंवला रस रेसिपी एक इन्ग्रेडिएन्ट्स नुस्खा है। वजन घटाने के लिए इस आंवले के रस को बनाने में 5 मिनट से भी कम समय लगता है। जानिए आंवला जूस बनाने का तरीका। डिटॉक्स के लिए भारतीय आंवले का रस बनाने के लिए लगभग आंवले को काट लें और उन्हें जूसर में मिला दें। इसमें 1/2 कप पानी डालें और इसे चिकना होने तक फेंटें। अंत में एक छलनी का उपयोग करके इसे तनाव दें और इसे तुरंत सेवा दें। डिटॉक्स के लिए भारतीय आंवले के रस का एक शॉट सुबह सबसे पहले आपके शरीर के लिए जादू की औषधि की तरह है! यह आपको डिटॉक्स करने और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। आप इस आंवला जूस को कम कार्ब आहार और वजन कम करने वाले आहार में भी शामिल कर सकते हैं। डिटॉक्स के लिए विटामिन सी घने भारतीय आंवले का रस आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और आपके शरीर को विभिन्न बीमारियों से बचाने में मदद करता है। विटामिन सी एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में भी काम करता है और आपकी त्वचा को फिर से जीवंत करने में मदद करता है, आपके रक्त को शुद्ध करता है, कैंसर के खतरे को कम करता है और उम्र बढ़ने के संकेतों को धीमा करता है। यह आंवला रसपेट में एसिड के स्तर को भी कम करता है और पेट की सूजन का मुकाबला करने में मदद करता है, जो आजकल कई लोगों के सामने एक आम समस्या है। नीचे दिया गया है आंवला जूस की रेसिपी | पौष्टिक आंवले का जूस | आंवले का रस | वजन कम करने के लिए आंवला जूस | how to make amla juice in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।
मसाला चाय | मसाला टी | भारतीय मसालेदार चाय | टपरी की मसाला चाय | masala chai in hindi | with 10 amazing images. अपने हथों में मसाला चाय के प्याले को पकड़कर, धीरे-धीरे इस सुगंधित और स्वादिष्ट पेय के घूंट लेना, अपने मित्र के साथ विशिष्ट समय बीताने जैसा है। जब आप अस्वस्थ हों, तब यह आराम पहुँचाता है और जब आप थके हुए हों, या ऊब गये हों तब यह आपको ताज़गी देता है। चाय मसाला, अदरक और अन्य सामग्री का सही अनुपात करके यह बढ़िया जादूई पेय बनाने की विधि के लिए इस नुस्खे की ओर मुड़ें। इस मसाला चाय का मज़ा गरमा - गरम ही लें और इससे दोबारा गरम करना टालें क्योंकि इससे चाय थोड़ी सी कड़वी हो जाती है। बेक्ड ओट्स पुरी और चीज़ कुकीस् जैसे नाश्ते इस चाय के साथ अच्छा संयोजन बनाते हैं।
पपीते के टुकड़ों को एक बोतल पानी मे इन्फ्यूज़ करना है, सुनने में बहुत ही सरल लगता है ना? लेकिन यह आपके शरीर के लिए बहुत स्थास्थ्यकारक है। जब भी आप थकान महसूस करें, तब थोडा- थोडा करके आप इसका सेवन करें और फिर देखिए कि आप कैसी ताज़गी महसूस करते हैं। चूंकि पपीता और नींबू आपकी त्वचा के लिए लाभदायक हैं यह लेमानी- पपीता का इन्फ्यूज़ वॉटर आपकी त्वचा में चार चाँद लगा देगा। बस, यह सुनिश्चित करें कि 2-3 घंटों के बाद नींबू की स्लाइस निकालकर फेंक दे ताकि पानी कडवा न हो जाए। फ्रूट इन्फ्यूज़र बोतल ऑनलाइन और सुपरमार्केट में बहुत आसानी से मिल जाती हैं। पर यदि आप के पास यह बोतल नहीं है, तो आप किसी बड़े ग्लास या पिचर का इस्तेमाल कर सकते हैं। पर ध्यान रहे कि उन्हें 2 से 3 घंटे पानी में रखने के बाद छानें। पपीते को निकालकर फेंक सकते हैं या फिर नींबू की ताज़ी स्लाइस डालकर और इन्फ्यूज़ पानी तैयार कर सकते हैं। पर ध्यान रहें कि इस पपीते का दो बार से ज्यादा उपयोग न करें।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन