This category has been viewed 3857 times
 Last Updated : Mar 14,2020


 भारतीय स्वस्थ > पीसीओएस आहार, पीसीओएस रेसिपी



PCOS - Read In English
પીસીઓએસ રેસિપિ, પીસીઓએસ આહાર - ગુજરાતી માં વાંચો (PCOS recipes in Gujarati)

पीसीओएस रेसिपी, आहार,  Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) in Hindi  

 

पीसीओएस रेसिपी, आहार,  Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) in Hindi  


Top Recipes

दक्षिण भारत से उत्तपन्न एक सौम्य नाश्ता, यह उत्तपा अब विश्व भर में मशहुर हो गया है, कयोंकि इसे बहुत से अनोखे तरीके से बनाया जा सकता है। यह भी एक ऐसा ही विकल्प है, जिसे साबूत बाजरा और उसके आटे से बनाया गया है। गाजर और प्याज़ जैसी सब्ज़ीयाँ इस स्वादिष्ट व्यंजन को करारापन प्रदान करते हैं और वहीं धनिया, नींबू आदि मिलकर इसके स्वाद और खुशबु को निखारते हैं। इस बाजरा, कॅरट एण्ड अनियन उत्तपा को हेल्दी ग्रीन चटनी के साथ तवे से उतारकर तुरंत परोसें।
आलस से भरे ठंड के दिनों में आपको तरो ताज़ा करने के लिए पर्याप्त व्यंजन! मसाला चवली स्वाद और बेहतरीन खुशबु से भरपुर व्यंजन है! जहाँ टमाटर का पल्प और कसुरी मेथी पकी हुई चवली को बेहतरीन स्वाद प्रदान करते हैं, खुशबुसार पुदिने का पेस्ट इस व्यंजन को एक शानदार रुप प्रदान करता है, जिसे खाते ही आपके मुँह का स्वाद मज़ेदार हो जाएगा और आप अपनी ऊँगलीयाँ चाटते रह जाऐंगे।
बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | with 16 amazing images. हालांकि बाजरा रोटी राजस्थान के कुछ ही हिस्सों में कि जाती है, बाजरे की रोटी को संपूर्ण क्षेत्र में पसंद किया जाता है। गाँव में इन मोटे बेले हुए बाजरे की रोटी को कन्डे (गोबर के कंडे) पर पकाया जाता है। यह इन्हें बनाने का पारंपरिक तरीका है क्योंकि यह इन रोटीयों को जला हुआ स्वाद प्रदान करता है। लेकिन, यह इन बाजरे की रोटी को तवे में पकाया हुआ विकल्प है। राजस्थानी भोजन मे, बाजरे की रोटी को लगभग किसी भी प्रकार की कढ़ी या सब्ज़ी के साथ परोसा जा सकता है। वहाँ के लोगों का मुख्य आहार बाजरे की रोटी, लहसुन की चटनी और प्याज़ का मेल होता है। हालांकि इन्हें बनाना बेहद आसान है, यह बेहद स्वादिष्ट लगते हैं! नीचे दिया गया है बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
यह लौकी और पुदिने का रायता अद्भू्द ग्रीष्मकालीन नुस्खा है। कसी हुई लौकी का बहुत ही कम कैलोरी योगदान होता है और इस रायता में पुदिने के पत्तों के साथ मिलकर मज़ेदार स्वाद देती है। यदि आपको दूध पसंद नहीं है, तो आपके प्रोटिन और कैल्शियम की जरूरत को पूरा करने के लिए यह रायता आदर्श विकल्प है।
करेले के बारे में सोचते ही सबसे पहले हमारे मन मे आता है उसका कड़वापन। लेकिन करेला मधुमेह से पीड़ीत के लिए बहुत ही लाभदायक होता है और आगर आपको इसका स्वाद पसंद आ जाए तो आप इसका भरपुर मज़ा ले सकते हैं। इस अनोखे करेले के थेपले में करेले के छिलके का प्रयोग किया गया है जिसे हम अकसर फेक देते हैं। छिलको को धोकर छोटे टुकड़ों में काटकर आटे में मिलाऐं।
ब्रोकन व्हीट उपमा, जैसा इसका नाम है, यह एक गेहूं आधारित एक पौषण भरपुर व्यंजन है। जहाँ दलिया भरपुर मात्रा में रेशांक और ऊर्जा प्रदान करता है, गाजर और हरे मटर भरपुर मात्रा में आहार तत्व प्रदान करते हैं, खासतौर पर विटामीन ए। साथ ही सब्ज़ीया इस नरम उपमा को करारापन प्रदान करते हैं। इसे और भी रंग-बिरंगा और स्वादिष्ट बनाने के लिए, आप इसमें अपनी पसंद की अन्य सब्ज़ीयाँ भी मिला सकते हैं।
यह राईस एण्ड मूंग दाल इडली, मशहुर दक्षिण भारतीय व्यंजन इडली का एक विकल्प है, जिसे पारंपरिक रुप से चावल और उड़द दाल से बनाया जाता है। इस व्यंजन में चावल और हरी मूंग दाल के संतुलित मात्रा का प्रयोग किया गया है, जो इसे बेहतरीन रुप, रंग और स्वाद प्रदान करता है, जो आपके परिवार के सभी लोगो को पसंद आएगा। यह एक पौष्टिक प्रोटीन से भरपुर इडली है जिसे विटामीन भरपुर सब्ज़ीयों से और पौष्टिक बनाया गया है।
अगली बार चाय के समय पर बिस्कुट की जगह इस आसानी से बनने वाले और पौष्टिक नाश्ते को आज़माइए। यह वास्तव में बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्य के लिए हितकार माना जाता है।
विपरीततया, पारंपरिक सब्ज़ीयों को आदुनिक तरीकों से बनाया जा सकता है। लेकिन, कभी-कभी पुराने पसंदिदा तरीके हमेशा सबका पहला चुनाव होते हैं! समय इस गवारफल्ली की सब्ज़ी की ना ही खुशबु और ना ही स्वाद को धुंधला कर सकती है…यह एक आसानी से बनने वाली सब्ज़ी है, जहाँ गवारफल्ली को दही आधारित करी में पकाया गया है। इसे एक बार बनाने के बाद, यह रेशांक और फोलिक एसिड से भरपुर सब्ज़ी आपके खाने का भाग ज़रुर बना जाएगी।
अकसर रोज़ के खाने में, पालक को पनीर या आलू के साथ मिलाया जाता है। इस आसानी से बनने वाली सब्ज़ी में, इसके पौषणतत्व को और भी बढ़ाने के लिए, पालक को अंकुरित मटकी के साथ मिलाया गया है। अंकुरित करने से मोठ के लौहतत्व और विटामीन ए की मात्रा बढ़ जाती है, वहीं इस अनोखे व्यंजन में, पालक लौहतत्व, फोलिक एसिड और विटामीन सी प्रदान करता है। रोज़ प्रयोग होने वाले मसालों से बना एक खास मसाला पेस्ट इस स्पिनॅच एण्ड मोठ बीन्स् करी को और भी ज़्यादा स्वादिष्ट बनाता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन