This category has been viewed 3346 times
 Last Updated : Sep 04,2019


 भारतीय स्वस्थ > पीसीओएस आहार, पीसीओएस रेसिपी



PCOS - Read In English
પીસીઓએસ રેસિપિ, પીસીઓએસ આહાર - ગુજરાતી માં વાંચો (PCOS recipes in Gujarati)

पीसीओएस रेसिपी, आहार,  Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) in Hindi  

 

पीसीओएस रेसिपी, आहार,  Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) in Hindi  


Top Recipes

विपरीततया, पारंपरिक सब्ज़ीयों को आदुनिक तरीकों से बनाया जा सकता है। लेकिन, कभी-कभी पुराने पसंदिदा तरीके हमेशा सबका पहला चुनाव होते हैं! समय इस गवारफल्ली की सब्ज़ी की ना ही खुशबु और ना ही स्वाद को धुंधला कर सकती है…यह एक आसानी से बनने वाली सब्ज़ी है, जहाँ गवारफल्ली को दही आधारित करी में पकाया गया है। इसे एक बार बनाने के बाद, यह रेशांक और फोलिक एसिड से भरपुर सब्ज़ी आपके खाने का भाग ज़रुर बना जाएगी।
हमने यह बार-बार सुना है कि अलसी ओमेगा-3 फॅटी एसिडस के बेहतरीन स्रोत होते हैं और खासतौर पर शाकाहरी के लिए यह ज़रुरी होते हैं। लेकिन, हममें से बहुत इस सामग्री को रोज़ के खाने में प्रयोग करने के बारे में सोच में पड़ जाते हैं। जहाँ हम इसे मुखवास, रायता आदि जैसे व्यंजन में प्रयोग करते हैं, यहाँ हमने इस रेशांक, कॅल्शियम और ओमेगा-3 फॅटी एसिड भरपुर सामग्री को अनोखे तरह से करारे हर्बड क्रॅकर बनाने के लिए प्रयोग किया है। इन्हें पुदिना के स्वाद वाले बीटरुट डिप के साथ परोसकर स्वाद और पौषणतत्व को बढ़ाऐं।
झटपट बनने वाला, यह ज्वार उपमा एक पौष्टिक नाश्ता है जिसे आप सुबह के नाश्ते, खाने या दिन के किसी भी समय के लिए बना सकते हैं। रवा से बने पारंपरिक उपमा एक काफी पौष्टिक विकल्प, इस ज्वार उपमा को काफी मात्रा की सूजी को रेशांक और लौहतत्व भरपुर ज्वार के आटे से और हरे मटर से बदलकर बनाया गया है। हालांकि इसके रुप को अच्छा रखने के लिए कम मात्रा में सूजी का प्रयोग किया गया है। आप इसमें स्वाद, करारापन और पौषण तत्व प्रदान करने के लिए गाजर और टमाटर जैसी सब्ज़ीयाँ भी मिला सकते हैं। अन्य अनाज से बने व्यंजन की तरह, इस ज्वार उपमा को भी बनाकर तुरंत परोसना ज़रुरी है।
यह राईस एण्ड मूंग दाल इडली, मशहुर दक्षिण भारतीय व्यंजन इडली का एक विकल्प है, जिसे पारंपरिक रुप से चावल और उड़द दाल से बनाया जाता है। इस व्यंजन में चावल और हरी मूंग दाल के संतुलित मात्रा का प्रयोग किया गया है, जो इसे बेहतरीन रुप, रंग और स्वाद प्रदान करता है, जो आपके परिवार के सभी लोगो को पसंद आएगा। यह एक पौष्टिक प्रोटीन से भरपुर इडली है जिसे विटामीन भरपुर सब्ज़ीयों से और पौष्टिक बनाया गया है।
इस शानदार व्यंजन में ऐसी सामग्रियों को नए अंदाज में कुछ इस तरह से मिलाया गया है कि जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी! जी हाँ, बिलकुल सेहतमंद मिनी ओट्स भाकरी पिज्ज़ा इतना स्वादिष्ट है कि आपको पता भी नहीं चलेगा कि इसमें चीज़ नहीं है। इस मोहक स्वाद का मुख्य कारण है घर पर बना शानदार पिज्ज़ा सॉस, एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जियों की टॉपिंग और लुभावनी सीजनिंग का उपयोग इसमें किया गया है। चूँकि ओटस् और गेहूँ के आटे से बनी भाकरी का उपयोग बेस के रूप में किया गया है इसीलिए आपको यह पिज्ज़ा परोसने से ठीक पहले तैयार करना पड़ेगा। अन्यथा भाकरी गीली हो जाएगी। आप कभी कभार दो मिनी ओट्स भाकरी पिज्ज़ा का आनंद ले सकते हैं। डायबटिक के लिये ओट्स एण्ड मूंग दाल दही वड़ा या मूंग दाल एण्ड कॉलीफ्लावर ग्रीन्स अप्पे जैसे व्यंजन भी बनाकर देखें।
टमाटर पसंद करने वालों के लिए यह चटपटा करारा सलाद दावत के समान है। ना केवल यह फोलिक एसिड (विटामीन बी9) का बेहतरीन स्रोत है जो अनिमीया से बचाता है, लेकिन साथ ही यह विटामीन बी1 (थायामीन), विटामीन बी3 (नायासिन) और रेशांक के भरपुर है, जो अखरोट और तिल से मिलते हैं। साथ ही अखरोट विटामीन ई और ओमेगा 3-फॅट एसिड से भरपुर होते हैं, जो वसा के अच्छे स्रोत होते हैं।
क्या आप फूलगोभी का इस्तेमाल करके उसके पत्तों को फेंक देते हैं? ऐसा फिर न करें, क्योंकि आप जिसे कचरा समझकर फंक देते हैं वह वास्तव में स्वादिष्ट और पौष्टिकहोते हैं जिसका इस्तेमाल स्वादिष्ट व्यंजन बनाने के लिए किया जा सकता है। फूलगोभी के पत्ते, मेथी और पालक की सब्ज़ी में ताज़ी हरी सब्जियों के साथ प्याज़, टमाटर और रोज़ के मसालों का संयोजन है। फूलगोभी के पत्ते और अन्य हरी सब्जियों लोह और फोलिक एसिड से समृद्ध होते है जो हिमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में मदद रूप होते हैं। यह पौष्टिक सब्ज़ी खास करके गर्भवती महिलाओं के लिए फायदाकारक है। यह सब्ज़ी हल्की मसालेदार होने के साथ-साथ बहुत कम तेल में पकाई गई है, इसलिए मधूमेह और हृदय की समस्या वालों के लिए फायदेमंद है।
मटर पकाने के अनगिनत तरीके हैं, लेकिन यह तरीका आपके मूँह को स्वाद से भर देगा, जिसका श्रेय मसाला में प्रयोग किये गए भरपुर मात्रा में हरा धनिया को जाता है। हरियाली मटर में पौष्टिक सामग्री और पकाने के तरीके का प्रयोग किया गया है, जो बदले में आपके हृदय को स्वस्थ रखने में और रक्त में शक्कर की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करता है।
आम तौर पर इडली में चावल का इस्तेमाल होता है। पर इस इडली में चावल की जगह मूंग दाल का उपयोग किया गया है जिससे इडली में कैलरी की मात्रा कम हो और मधुमेह वाले लोग भी इसका आंनद ले सकें।
पत्तागोभी से बनी हुई यह एक सूखी सब्ज़ी है। इसी तरह बीन्स्, गवार फल्ली, साबर बीन्स्, गाजर आदि जैसी सब्ज़ीयों को भी बनाया जा सकता है। पारंपरिक दक्षिण भारतीय खाने में इस प्रकार की एक सब्ज़ी को हमेशा परोसा जाता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन