This category has been viewed 7746 times
 Last Updated : Apr 01,2020


 भारतीय स्वस्थ > कैंसर रोगियों के लिए व्यंजन



Cancer Patients - Read In English
કેન્સરના દર્દીઓ માટે પૌષ્ટિક વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Cancer Patients recipes in Gujarati)

Top Recipes

दाल ढ़ोकली रेसिपी | गुजराती दाल ढोकली की रेसिपी | dal dhokli recipe in hindi language | with 48 amazing images. बहुत से गुजराती घरों में दाल ढ़ोकली को रविवार की सुबह खास बनाया जाता है! मसालेदार गेहूं से बनी ढ़ोकली को गुजराती दाल में पकाया गया है, जिसे एक स्वादिष्ट आहार का रुप दिया जा सकता है, लेकिन आप इसे चावल के साथ भी परोस सकते हैं, जो इसे और भी स्वादिष्ट और संपूर्ण बनाता है। बस याद रखैं कि ढ़ोकली को परोसने के तुरंत पहले डालें वरना वह गल सकती हैं। लेकिन आप इसे चावल के साथ भी परोस सकते हैं, जो इसे और भी स्वादिष्ट और संपूर्ण बनाता है। बस याद रखैं कि ढ़ोकली को परोसने के तुरंत पहले डालें वरना वह गल सकती हैं। दाल ढ़ोकली महाराष्ट्र और गुजरात में बनाया जाने वाला एक सर्वकालिक पसंदीदा व्यंजन है, जिसमें गेहूं के आटे के स्ट्रिप्स को जीभ-गुदगुदी दाल में पकाया जाता है। दाल ढोकली बनाने के लिए, हमने साबुत गेहूं का आटा, बेसन, मिर्च पाउडर, हल्दी पाउडर, कैरम बीज और तेल को मिलाकर दाल के लिए ढोकले तैयार किए हैं और एक अर्ध-कड़े आटे में गूंधें। इसके अलावा, दोनों पक्षों के लिए हल्के से विभाजित करें, रोल करें और पकाना। प्रत्येक चपाती को हीरे या चौकोर आकार में ठंडा करें और काट कर अलग रख दें। इसके बाद, हमने टोवर दाल को प्रेशर कुक करके दाल बनाई है। एक गहरे नॉन-स्टिक पैन में स्थानांतरण करें, आगे हाथ ब्लेंडर के साथ पर्याप्त पानी मिलाएं। आप सोच सकते हैं कि दाल बहुत पानी है लेकिन यह कैसे होना चाहिए। एक बार जब आप ढोकली डालेंगे, तो यह कुछ पानी सोख लेगी और दाल गाढ़ी हो जाएगी।नमक, कोकम, नींबू का रस, गुड़, अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट, मिर्च पाउडर, काजू, करी पत्ता और हल्दी पाउडर डालें, अच्छी तरह मिलाएँ और मध्यम आँच पर 10 से 15 मिनट तक पकाएँ, जबकि कभी-कभी हिलाएँ।इस बीच, तड़के के लिए, एक छोटे नॉन-स्टिक पैन में घी और तेल गरम करें, जीरा और राई डालें और उन्हें चटकने दें।जब बीज चटकने लगे, हींग, लाल मिर्च, दालचीनी, लौंग और सौंठ को मध्यम आंच पर 30 सेकेंड के लिए भूनें। इस तड़के को दाल में डालें, अच्छी तरह मिलाएँ और कभी-कभी हिलाएँ। परोसने से ठीक पहले, दाल को उबालने के बाद, एक बार उबलने लगे, ढोकले, धनिया और घी डालें, अच्छी तरह मिलाएँ और मध्यम आँच पर 1 से 2 मिनट तक पकाएँ, जबकि कभी-कभी हिलाएँ। दाल ढ़ोकली को तुरंत घी के साथ सर्व करें। परोसने से ठीक पहले दाल में ढोकली को उबालना याद रखें, नहीं तो यह खट्टी हो जाएगी। एक-एक करके दाल में ढोकले मिलाएं, नहीं तो वे एक बड़ी गांठ बनाने के लिए जमा सकते हैं। दाल उबालते समय अधिक पानी डालें। नीचे दिया गया है दाल ढ़ोकली रेसिपी | गुजराती दाल ढोकली की रेसिपी | dal dhokli recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
आपमें में बहुत कम लोगो ने ककड़ी के प्रयोग से पेय बनाने के बारे में सोचा होगा! कॅल्शियम भरपुर लो-फॅट दही से बना यह पर्याप्त स्वादिष्ट पेय पुदिने के स्वाद से भरा है। ककड़ी और लो-फॅट दही साथ मिलकर मज़ेदार लो-फॅट कूलर बनाते हैं।
पुदीना छाछ रेसिपी | ठंडा पुदीना छाछ पेय | पौष्टिक पुदीना छाछ | पुदीना छाछ रेसिपी इन हिंदी | with 14 amazing images. पुदिना के पत्ते और ज़ीरा पाउडर जैसी सामग्री से चटपटा बना ताज़गी परदान करने वाला पुदीना छाछ, एक ऐसा ठंडा पुदीना छाछ पेय है जो आपको अंदर तक ठंडक प्रदान करेगा! यह एक ठंडक प्रदान करने वाला दक्षिण भारत का पारंपरिक पेय है, खासतौर पर तमिलनाडू मे, जहाँ इसे अनोखी खुशबु के लिए मिट्टी के बर्तन में रखा जाता है। इस हर्ब से भरी पौष्टिक पुदीना छाछ का मज़ा ना केवल सारा परिवार लेता है, लेकिन साथ ही इसे गर्मी के मौसम में मेहमानो को भी परोसा जाता है। कुछ धर्मार्थ ट्रस्ट गर्मी में धूप मे काम करने वालो कर्मचारीयों के लिए छोटे टेन्ट बनाते हैं, जहाँ इस ठंडा पुदीना छाछ पेय को मिट्टी के बर्तनों में परोसा जाता है। लू से बचने के लिए, बाहर निकलने से पहले या धूप से आने के तुरंत बाद इस आराम प्रदान करने वाले पुदीना छाछ के एक ग्लास का सेवन करें। विकल्प के तौर पर, आप इसमें क्रश किये हुए कड़ी पत्ते, सौंठ और नींबू के रस को मिला सकते हैं। नीचे दिया गया है पुदीना छाछ रेसिपी | ठंडा पुदीना छाछ पेय | पौष्टिक पुदीना छाछ | पुदीना छाछ रेसिपी इन हिंदी स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
स्वास्थ के प्रति सचेक को यह पेय ना केवल इसके पौषण तत्वों के लिए पसंद आएगा, लेकिन साथ ही इसके रंग और स्वाद के लिए भी। इस ज्यूस को बनाने के लिए प्रयोग किये गए फल और सब्ज़ीयों को संभाल कर चुना गया है, जो दिन भर की ज़रुरत को पुरा करने के लिए भरपुर मात्रा में विटामीन ए, सी और पाचन एन्ज़ाईम्स् से भरे है। यह बेहद संपूर्ण और पौष्टिक पेय है जो केवल 37 कॅलरी प्रदान करता है! इसमें रेशांक की मात्रा को बनाए रखने के लिए, ज्यूस छानने के लिए बड़े छेद वाली छन्नी चुनें।
एक आराम प्रदान करने वाला मिल्कशेक जो आपकी थकान हठाने में मदद करेगा! सेब और ओट्स, दोनो रेशांक से भरपुर सामग्री है, और स्वाद और रुप के मामले में मज़ेदार मेल बनाते है। किशमिश इस पेय को प्राकृतिक मिठास प्रदान करता है, जिसे शहद से और भी मीठा बनाया गया है। इस एप्पल एण्ड ओट्स मिल्कशेक को सुबह के नाश्ते में बनाऐं या दोन भर के काम के बाद बनाऐं और अपने चाहने वालों के साथ इसका मज़ा ले। यह चॉकलेट और कॉफी से काफी बेहतर लगेगा!
सूप से लेकर सब्ज़ीयों जैसे बहुत से व्यंजन में स्वाद और रुप प्रदान करने के लिए, प्याज़ काफी मशहुर है। लेकिन इस अनोखे सूप में, यह कम वसा और कलेस्ट्रॉल वाली सामग्री सूखे थाईम के साथ बहुत ही अहम भाग निभाती है! थोड़ी सी मात्रा में हरी प्याज़ शानदार स्वाद प्रदान करने के साथ-साथ इस अनियन थाईम सूप को रंग भी प्रदान करती है, और वहीं वेजिटेबल स्टॉक इसके स्वाद और रुप को और भी निहार देता है। इस पौष्टिक बाउल के कॅलरी की मात्रा कम करने के लिए, सूप को गाढ़ा बनाने के लिए, मैदा या कोर्नफ्लॉर की जगह गेहूं के आटे का प्रयोग किया गया है।
चुनी गई सब्ज़ीयाँ और खुशबुसार मसालों के साथ इडली के घोल के मिश्रण को स्वादिष्ट नाशते में बदला गया है, जिसे दिन भर में या किसी भी त्यौहारों पर परोसा जा सकता है। जहाँ इसे बनाना आसान है, इस वेजिटेबल राईस केक में और भी रंग बिरंगी सब्ज़ीयाँ जैसे मकई या हरे मटर, को मिलाकर इसे और भी मज़ेदार बनाया जा सकता है और मज़ेदार आकार में काटकर परोसें।
आपके बच्चे की बढ़ती ऊर्जा और प्रोटीन की ज़रुरतों को पुरा करने के लिए दाल मैश एक बेहतरीन खाना है। सादे दाल मैश के साथ शुरुआत कर आप धीरे-धीरे उसमें सब्ज़ीयाँ मिला सकते हैं। जब आपके बच्चे की उम्र 6 माह से ज़्यादा हो जाये, आप इसमें थोड़ौ काली मिर्च और नींबू का रस मिलाकर इसके स्वाद को उभार सकते हैं।
खिचड़ी अपने आप में ही एक संपूर्ण आहार है जो आपके बच्चे के लिए भरपुर मात्रा में ऊर्जा, प्रोटीन और फोलिक एसिड प्रदान करता है। इसमें मिलाया गया गाजर इसे विटामीन ए और रेशांक से भरपुर बनाता है। आपके बच्चे के आहार में हलका मसालेदार खाना शामिल करने का यह एक अच्छा तरीका है।
सलाद बेहद पौष्टिक होते हैं और इन्हें आपके बच्चे के आहार का भाग ज़रुर बनाना चाहिए। जहाँ बहुत से बच्चे सलाद के लिए उत्सुक नहीं होते, लेकिन अगर आप इसमें उनके पसंद की कुछ सामग्री डाल दें, तो उन्हें यह अहसास भी नहीं होगा कि वह सलाद खा रहे हैं। आप इसमें अंगूर और संतरे की जगह अपने बच्चे के पसंद के कोई भी मौसमी फल मिला सकते हैं।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन