नारियल का दूध ( Coconut milk )

नारियल का दूध क्या है ? ग्लॉसरी | इसका उपयोग | स्वास्थ्य के लिए लाभ | रेसिपी | Viewed 8445 times

नारियल का दूध क्या है?



नारियल का दूध भूरे नारियल के मांस की मलाई से निकाला जाता है, न कि हरे रंग के टेंडर से। नारियल के पानी के विपरीत, जो खोल के टूटने पर पाया जाता है, नारियल का दूध ताजा, गाढ़ा नारियल दूध छोड़ने के लिए मांस को निचोड़ने से पहले पीसने की प्रक्रिया का अनुसरण करता है। इसके बाद इसमें थोड़ा सा गर्म पानी मिलाएं और दूध को निचोड़ने के चरण को दोहराएं। इस के 3 राउंड आपको अलग-अलग मोटाई के नारियल के दूध के साथ प्रदान करना चाहिए। सूप और करी बनाते समय, पहले नारियल के दूध के सबसे पतले बैच के साथ इसे गोल करने से पहले पतले नारियल के दूध का उपयोग करें। यह सुनिश्चित करता है कि नारियल का दूध विभाजित न हो।

नारियल का दूध चुनने का सुझाव (suggestions to choose coconut milk, nariyal ka doodh)


• नारियल का दूध क, टेट्रा पैक और पाउडर के रूप उपलब्ध होता है।
• आपातकालीन उपयोग के लिए, नारियल के दूध के ओवर-द-काउंटर रूप खरीदे जा सकते हैं, पर इसे पुराने ढंग का बनाने की सलाह दी जाती है। यह वाणिज्यिक किस्मों के विपरीत ताजा बनाया हुआ नारियल का दूध सुगंधित, स्वाभाविक रूप से मीठा और स्वाद से भरा होता है।

नारियल का दूध के उपयोग रसोई में (uses of coconut milk, nariyal ka doodh in Indian cooking)


नारियल के दूध का उपयोग करके भारतीय नाश्ते की रेसिपी | Indian Breakfast recipes using coconut milk |

1. अप्पम रेसिपी एक मशहुर केरेला का व्यंजन है जो दक्षिण भारतीय खाने को दर्शाता है। यह व्यंजन बनाने में बेहद आसान है, और मुश्किल से बनने वाले व्यंजन एक झटपट विकल्प है।

2. मिनी इडली इन कोकोनट सॉस : मिनी इडली, जिसके घोल में बहुत सारा पालक मिलाया गया है, वह एक बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक व्यंजन है। ईन इडलियों को हम साम्भर की बजाय कोकोनट सॉस के साथ परोसेंगे, जिसमें थोडी-सी हरी मिर्च डालकर तीखापन दिया गया है।

3. पपीता नाशपाती और योगहर्ट का स्मुदी : सुखद और मज़ेदार फलों के संयोजन से बनता यह स्मुदी बहुत ही ताज़गीभरा है। नाशपती और पपीता दोनों ही आसानी से बाज़ार में उपलब्ध हैं, इसलिए यह स्मूदी आप कभी भी बना सकता हैं। 

नारियल के दूध का उपयोग कर भारतीय डेसर्ट | Indian desserts using coconut milk |

1. इस कोकोनट रवा शीरा के हर चम्मच से मिठास की नदी बेहती है। न केवल नारियल बल्कि नारियल के दूध के मलाईदार स्वाद के साथ, नारियल के शीरा में सूजी को जोड़ा गया है , मावे को अधिक मात्रा लिए डाला गया है, और एक रोमांचक क्रंच के लिए नट नट्स डाले हैं।

नारियल के दूध का उपयोग करके भारतीय पेय व्यंजनों | Indian drink recipes using coconut milk |

1. कोमल पेय : इसके नाम जैसा सुंदर! मसालेदार दही और नारियल के दूध का अनोखा मेल इस कोमल को एक तीखा लेकिन ताज़ा पेय बनाता है। हालांकि हरी मिर्च इस पेय में मुख्य स्वाद दर्शाती है, परोसने से पहले इन्हें निकालने से यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि इसके टुकड़े पीने वाले के मूँह में ना आए। यास रखें कि इस व्यंजन का मुख्य भाग इसका तड़का है।



नारियल का दूध संग्रह करने के तरीके


• एक बार कैन खोलने के बाद नारियल के दूध को रेफ्रिजरेट किया जाना चाहिए।
• यह कुछ दिनों से लेकर एक सप्ताह तक रहता है।
• नारियल के दूध को फ्रिजर में रखने से अगली बार खाना पकाने में कर्डल होने की संभावना बढ़ जाती है -
• सावधान रहें कि थाई खाना पकाने के लिए मीठा नारियल का दूध न खरीदें, जब तक कि निश्चित रूप से आप इसका उपयोग थाई या भारतीय मिठाई बनाने के लिए नहीं कर रहे हों।

नारियल का दूध के फायदे, स्वास्थ्य विषयक (benefits of coconut milk, nariyal ka doodh in Hindi)


 आधुनिक शोध से पता चला है कि पर्याप्त स्वस्थ वसा नहीं खाने से वास्तव में शरीर की चरबी बढ सकती है। लेकिन आपको सही वसा का प्रकार, जैसे कि नारियल के दूध, चुनने की आवश्यकता है। और इसका जवाब है एम.सी.टी. (मीडियम चेन ट्राइग्लिसराइड्स) (Medium Chain Triglycerides) - जो सीधे लीवर में जाता है और शरीर में वसा के रूप में जमा नहीं होता है। नारियल के दूध में पोटेशियम की भी थोडी मात्रा होती है, जो उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए फायदेमंद होता है। नारियल के दूध में मौजूद लॉरिक एसिड (lauric acid) कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर सकारात्मक प्रभाव डालता है, जिससे हृदय स्वास्थ्य में भी सुधार होता है। नारियल दूध के विस्तृत लाभ पढ़ें।



ग्लाइसेमिक इंडेक्स का नारियल का दूध, Coconut Milk
नारियल का दूध का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 45 to 50 होता है, जो कम गिना जाता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स का मतलब आपके रोज़ के खाने में पाए जाने वाला कार्बोहाइड्रेट युक्त पदार्थ आपके रक्त शर्करा या ग्लूकोज़ के स्तर को कितनी तेज़ी से बढता है उसका क्रम होता है। 0 से 50 तक के खाद्य पदार्थ का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, 51 से 69 तक के खाद्य पदार्थ का ग्लाइसेमिक इंडेक्स मध्यम होता है और 70 से 100 तक का ग्लाइसेमिक इंडेक्स उच्च माना जाता है। उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले पदार्थ वजन घटाने और मधुमेह के लिए उपयुक्त नहीं होते। नारियल का दूध जैसे खाद्य पदार्थ जिनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है और यह धीरे–धीरे अवशोषित होते हैं, इसलिए यह पदार्थ रक्त शर्करा को तुरंत बढ़ने नहीं देते। ऐसे पदार्थ वजन घटाने के लिए और मधुमेह के लिए उपयुक्त होते हैं।

Try Recipes using नारियल का दूध ( Coconut Milk )


More recipes with this ingredient....

नारियल का दूध (39 recipes)