This category has been viewed 5327 times
 Last Updated : Mar 09,2020


 भारतीय स्वस्थ > उच्च रक्तचाप के लिए व्यंजन | रक्त चाप को कम करने



High Blood Pressure - Read In English
લોહીના ઉંચા દબાણ માટેના વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (High Blood Pressure recipes in Gujarati)

कम नमक, सोडियम रेसिपी | रक्त चाप को कम करने रेसिपी | Low Sodium recipes in Hindi | recipes to lower blood pressure in hindi |

कम नमक, सोडियम रेसिपी | रक्त चाप को कम करने रेसिपी | Low Sodium recipes in Hindi | recipes to lower blood pressure in hindi |

 

हमारे अन्य कम नमक (कम सोडियम) रेसिपी की कोशिश करो …
कम नमक खाने के साथ रेसिपी : Lower Blood Pressure Accompaniments Recipes in Hindi
कम नमक ब्रेकफास्ट रेसिपी : Lower Blood Pressure Breakfast Recipes in Hindi
कम नमक सूप रेसिपी : Lower Blood Pressure Soups Recipes in Hindi
हैप्पी पाक कला!


Top Recipes

आपकी भूख बढ़ाने के लिए इस सलाद की एक झलक ही काफी है, लेकिन अगर यह भी काम ना करे, तो इस सलाद का एककप आपकी भूख बढ़ाने का काम ज़रुर करेगा। सेब के टुकड़े और पुदिना का मज़ेदार मेल जिसे अदरक, नींबू के रस और शहद से सजाया गया है, इस मिन्टी एप्पल सलाद में एन सभी सामग्री का मेल है, जो आपकी भूख बढ़ाने मे मदद करेंगे। जहाँ पुदिना, नींबू का रस और अदरक भूख बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। बहुत से लोगो को यह पता नही है कि सेब भी पाचन स्वस्थ रखने में मदद करता है और भूख बढ़ाने में मदद करता है। देखा गया तो, यह स्वादिष्ट सलाद अरुचि ठीक करने के लिए पर्याप्त है।
रक्तक्षीण्ता से ना केवल आपका चेहरा फीका दिखता है, लेकिन साथ ही यह आपको थकान और चीड़चीड़ा बना देता है। अच्छी बात यह है कि अपगर आपको सही लौहतत्व से भरपुर खाद्य पदार्थ की जानकारी है, तो अब आप रक्तक्षीण्ता से आसानी से लड़ सकते हैं। सही सामग्री के साथ, आप लगभग प्रत्येक आहार में इस ज़रुरी आहारतत्व को शामिल कर सकते हैं। यहाँ, उदाहरण के तौर पर, मिक्स्ड स्प्राउट्स् एण्ड बाजरा रोटी है, जिसे आप सुबह के नाश्ते में, दोपहर के या रात के खान में परोस सकते हैं। दोनो बाजरा और अंकुरित दानें आहार तत्व से भरपुर सामग्री है, जो आपके लौहतत्व की मात्रा को बढ़ाकर रक्तक्षीण्ता से लड़ने में मदद करते हैं। मिले-जुले अंकुरित दानों को किसी भी अंकुरित दानों से बदला जा सकता है।
मीठे और खट्टे फलों का एक सोचा समझा मेल बिना शक्कर के प्रयोग के एक बेहतरीन पेय बनाता है! इस स्वीट लाईम एण्ड किवी ज्यूस मे गमने यहाँ हलीम के बीज भी मिलाए है जिससे इसमें लौहतत्व की मात्रा बढ़ जाती है। इन बीज में प्रस्तुत लौहतत्व अच्छी तरह घुल जाता है, जिसका श्रेय फलों में प्रस्तुत विटामीन सी को जाता है। बेहतरीन स्वाद के लिए केवल इस बात का ध्यान रखें कि किवी पुरी तरह से पका हुआ हो।
बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | with 16 amazing images. हालांकि बाजरा रोटी राजस्थान के कुछ ही हिस्सों में कि जाती है, बाजरे की रोटी को संपूर्ण क्षेत्र में पसंद किया जाता है। गाँव में इन मोटे बेले हुए बाजरे की रोटी को कन्डे (गोबर के कंडे) पर पकाया जाता है। यह इन्हें बनाने का पारंपरिक तरीका है क्योंकि यह इन रोटीयों को जला हुआ स्वाद प्रदान करता है। लेकिन, यह इन बाजरे की रोटी को तवे में पकाया हुआ विकल्प है। राजस्थानी भोजन मे, बाजरे की रोटी को लगभग किसी भी प्रकार की कढ़ी या सब्ज़ी के साथ परोसा जा सकता है। वहाँ के लोगों का मुख्य आहार बाजरे की रोटी, लहसुन की चटनी और प्याज़ का मेल होता है। हालांकि इन्हें बनाना बेहद आसान है, यह बेहद स्वादिष्ट लगते हैं! नीचे दिया गया है बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
स्वाद भी! स्वास्थ भी! कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर, रागी की रोटी पौष्टिक हेने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी है। दही की हल्कि खट्टास, मिर्च के तीखापन, कद्दूकस किया हुआ गाजर और हरा प्याज़ रोटी के स्वाद को बढाते है। थोडा सा परथन लगाकर रोटी बेलने में मुश्किल नही होनी चाहिए। लेकिन अगर आप नहीं बेल पा रहे हों तो आटे के पेडे को सूखा आटा लगाकर दो प्लास्टिक की पन्नियो कए बीच रखकर आसानी से बेल सकते है। रोटी को टूटने से बचाने के लिए पलटते तथा तवे से उठाते समय चिमटे का इस्तेमाल करें क्योंकि रागी की रोटी बहुत नाजुक होती है। उत्तम आंनद लेने के लिए रोटी गरम ही परोसें।
नाम से पता चल जाता है कि इस रोटी की मूख्य सामग्री है बाजरा। और इसी के साथ मिलाए गए हैं उबले और मसले हुए हरे मटर, जिससे रोटी को मिलता है उसका अनोखा स्वाद। इस रोटी को मज़ेदार और अधिक स्वादिषट बनाने के लिए बहुत सारा ताज़ा धनिया और थोडी सी कालीमिर्च मिलाई गई है। इसकी सुगंध और शानदार बनावट का मज़ा लेने के लिए इसे बनाकर तुरंत परोसना अत्यधिक आवश्यक है।
इन्हें गरमा गरम घी के साथ परोसने पर यह बेहद स्वादिष्ट लगते हैं…इन सादी रोटी को हल्का सा लहसुन एक नया रुप प्रदान करता है…बनाने में बेहद आसान और इसे ज़रुर बनाकर देखें!
रोटला रेसिपी | बाजरा का रोटला | गुजराती स्टाइल बाजरा रोटला | हेल्दी बाजरा रोटी | rotla recipe in hindi language | with 17 amazing images. रोटला रेसिपी बाजरा, ज्वार या नाचनी के आटे से बनाए जाते हैं और यह घी और गुड़ के साथ बेहद अच्छे लगते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि गुजराती स्टाइल बाजरा रोटला को आटा गूँथने के तुरंत बाद बना लें, क्योंकि यह आटा जल्दी सख्त हो जाता है जिसकी वजह से इन्हें बेलना मुश्किल हो जाता है। बाजरा का रोटला को मोटा तौर पर रोल किया जाता है, एक तवा पर पकाया जाता है और फिर भूरे रंग के धब्बे आने तक खुली आंच पर भूनते हैं। परंपरागत रूप से सफेद मक्खन को रोटला पर उतारा जाता है या यदि यह उपलब्ध नहीं है तो आप घी का उपयोग कर सकते हैं। हेल्दी बाजरा रोटी बाजरे के आटे से बनती है जो प्रोटीन में उच्च होती है और दाल के साथ मिलाकर शाकाहारियों के लिए एक पूर्ण प्रोटीन है। धैर्य से और बार-बार बनाने से आप इन बाजरा का रोटला को बहुत अच्छे से बेलने योग्य हो जाऐंगे और यह अच्छी तरह फूलेंगे भी। रोटला आप रिंगणा वटाना , कड़ी और तुवर दाल नी खिचड़ी के साथ परोसें और सम्पूर्ण भोजन का मज़ा लें।
स्वास्थ के प्रति सचेक को यह पेय ना केवल इसके पौषण तत्वों के लिए पसंद आएगा, लेकिन साथ ही इसके रंग और स्वाद के लिए भी। इस ज्यूस को बनाने के लिए प्रयोग किये गए फल और सब्ज़ीयों को संभाल कर चुना गया है, जो दिन भर की ज़रुरत को पुरा करने के लिए भरपुर मात्रा में विटामीन ए, सी और पाचन एन्ज़ाईम्स् से भरे है। यह बेहद संपूर्ण और पौष्टिक पेय है जो केवल 37 कॅलरी प्रदान करता है! इसमें रेशांक की मात्रा को बनाए रखने के लिए, ज्यूस छानने के लिए बड़े छेद वाली छन्नी चुनें।
जब आपका कुछ नाध्ता खाने का मन हो और साथ ही रक्त चाप को संतुलित रखना हो, इस स्वादिष्ट, पौषण से भरपुर मिनी बेक्ड मूंग दाल एण्ड ज्वार पुरी को बनाकर देखें। इसमें प्रयोग की गई सामग्री भरपुर मात्रा में प्रोटीन, रेशांक और अन्य हृदय के लिए लाभदायक पौषण तत्व प्रदान करते हैं, वह भी लो-फॅट और लो-सोडियम के साथ। इन पुरी में नमक की मात्रा बहुत कम है, लेकिन मसालों के प्रयोग की वजह से आपको इसका अहसास ही नहीं होगा। यही नही, इन पुरीयों को तला भी नही गया है, लेकिन केवल 15 मिनट के लिए बेक कर बनाया गया है। ऐसा करने से इनमें वसा की मात्रा को काफी कम किया गया है, जिससे नलीयों में खून जमनें की आशंका कम हो जाती है। इन करारी पुरीयों को हवा बंद डब्बे में डालकर संगह्र करें, जिससे भूख लगने पर आप कभी भी इनका मज़ा ले सकते हैं या इनसे चाट या अन्य तरह के नाश्ते बना सकते हैं।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन