रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी | हेल्दी मूली की चटनी | | Radish Chutney, Mooli Ki Chutney
द्वारा

रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी | हेल्दी मूली की चटनी | radish chutney in Hindi | with 21 amazing images.

रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी | हेल्दी मूली की चटनी स्वास्थ्य लाभ से भरी एक अनोखी चटनी है। जानिए मूली की चटनी बनाने की विधि।

रैडिश चटनी बनाने के लिए, सभी सामग्री कि मिलाकर, मिक्सर में पीसकर मुलायम मिश्रण बना लें। तुरंत परोसें या प्रयोग आने तक फ्रिज में रख दें।

प्याज़, अदरक और लहसुन जैसे तीखे स्वाद वाली सामग्री जैसे की तरह, मूली का स्वाद काफी तेज़ होता है, लेकिन आश्चर्यजनक रुप से अकसर इसका प्रयोग चटनी बनाने के लिए नही किया जाता। यहाँ, मूली की चटनी में मूली को स्वाद से भरे पुदिना और धनिया और खट्टे दही के साथ मिलाकर चटनी बनायी गई है, जो स्वाद, रंग और रुप से संपूर्ण रुप से संतुलित है।

हेल्दी मूली की चटनी में मूली में विटामिन सी की अच्छी मात्रा होती है मूली में एक एंटीऑक्सीडेंट होता है और इसमें सूजन-रोधी गुण भी होते हैं। पुदीना अपने सफाई प्रभाव के लिए जाना जाता है, जबकि धनिया में एंटीऑक्सिडेंट ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन होते हैं जो हृदय सुरक्षात्मक लाभ प्रदर्शित करते हैं। तो चाहे आप स्वस्थ व्यक्ति हों या मधुमेह या हृदय रोग से पीड़ित हों, आप इस चटनी को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

यह रैडिश चटनी ना केवल सभी प्रकार के भारतीय स्टार्टस के साथ परोसने के लिए पर्याप्त है, लेकिन साथ ही इसका प्रयोग सलाद ड्रेसिंगके रुप में, या मल्टीग्रेन ब्रेड वगैरह के लिए स्प्रेड।

रैडिश चटनी के लिए टिप्स। 1. मिश्रण के लिए पानी न डालें, क्योंकि दही चटनी की आवश्यक बनावट प्राप्त करने में मदद करता है। 2. इस चटनी को २ दिन के अंदर ही इस्तेमाल करें, नहीं तो मूली की तीखी गंध आ सकती है।

आनंद लें रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी | हेल्दी मूली की चटनी | radish chutney in Hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।

रैडिश चटनी रेसिपी in Hindi


रैडिश चटनी रेसिपी - Radish Chutney, Mooli Ki Chutney recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय :    कुल समय :     १.५ कप के लिये
मुझे दिखाओ कप

सामग्री
१ कप कसी हुई सफेद मूली
१/४ कप कटा हुआ पुदिना
१/४ कप कटा हुआ हरा धनिया
२ टी-स्पून कटी हुई हरी मिर्च
१/२ कप ताज़ा दही
नमक स्वादअनुसार
विधि
    Method
  1. रैडिश चटनी बनाने के लिए, सभी सामग्री कि मिलाकर, मिक्सर में पीसकर मुलायम मिश्रण बना लें।
  2. रैडिश चटनी को तुरंत परोसें या प्रयोग आने तक फ्रिज में रख दें।
पोषक मूल्य प्रति tbsp
ऊर्जा7 कैलरी
प्रोटीन0.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट0.5 ग्राम
फाइबर0.2 ग्राम
वसा0.3 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0.8 मिलीग्राम
सोडियम2.8 मिलीग्राम
रैडिश चटनी रेसिपी की कैलोरी के लिए यहाँ क्लिक करें
विस्तृत फोटो के साथ रैडिश चटनी रेसिपी

अगर आपको रैडिश चटनी रेसिपी पसंद है

  1. अगर आपको रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी | हेल्दी मूली की चटनी | radish chutney in Hindi | पसंद है, तो फिर हमारे चटनी व्यंजनों का संग्रह और कुछ ऐसी रेसिपी देखें जो हमें पसंद हैं।

रैडिश चटनी कोनसी सामग्री से बनती है?

  1. रैडिश चटनी कोनसी सामग्री से बनती है? मूली की चटनी १ कप कसी हुई सफेद मूली, १/४ कप कटा हुआ पुदिना, १/४ कप कटा हुआ हरा धनिया, २ टी-स्पून कटी हुई हरी मिर्च, १/२ कप ताज़ा दही और स्वादअनुसार नमक से बनाई जाती है।

मूली क्या है?

  1. सफेद मूली कुछ इस तरह दिखती है।
  2. अपनी उंगलियों से मूली के पत्तो को तोड़ दें। तो मूली के पत्ते अब अलग हो गए हैं।
  3. मूली को बहते पानी में धो लें ताकि उसमें चिपकी गंदगी निकल जाए।
  4. बाहरी त्वचा को हटाने के लिए एक पीलर का उपयोग करके मूली को कद्दूकस कर लें।
  5. हाथ से कद्दूकस करने के लिए, एक हाथ में ग्रेटर और दूसरे हाथ में मूली को पकड़ लें। मूली के वांछित मोटेपन के लिए उपयुक्त आकार के छिद्रों के साथ मूली को ग्रेटर की नीचे की ओर रगड़ें। हाथों और उंगलियों को ग्रेटर से दूर रखने के लिए सावधान रहें।

पुदीने की पत्तियां क्या है?

  1. पुदीने की पत्तियां कुछ इस तरह दिखती हैं।
  2. पुदीने की जड़ों को काटकर अलग कर लें।
  3. पुदीने के पत्तों को एक गहरे कटोरे में रखें। पुदीने की पत्तियों को साफ पानी में भिगो दें। गंदगी को दूर करने के लिए अपने हाथों का उपयोग करके पत्तियों को धो लें।
  4. छलनी की सहायता से पानी को छान लें।
  5. धुले हुए पत्तों को एक चॉपिंग बोर्ड पर रखें और उन्हें एक तेज चाकू से बारीक काट लें या बोर्ड के उपयोग से मोटे तौर पर काट लें।

रैडिश चटनी रेसिपी | मूली की चटनी बनाने के लिए

  1. मिक्सर में १ कप कद्दूकस की हुई सफेद मूली डालें। मूली में विटामिन सी, फोलिक एसिड, कैल्शियम, पोटेशियम और फ्लेवोनोइड्स जैसे कई हृदय सुरक्षा पोषक तत्व होते हैं। ये फाइबर का भी एक अद्भुत स्रोत है, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। मूली में मौजूद विटामिन सी एक एंटीऑक्सिडेंट है जो अनुत्तेजक प्रभाव (anti-inflammatory effect) देता है जो गठिया के रोगियों की मदद कर सकता है। मूली में मौजूद पोटेशियम गुर्दे की पथरी के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। मूली के विस्तृत लाभ पढें। 
  2. १/४ कप कटा हुआ पुदिना डालें। पुदीना (mint leaves) अनुत्तेजीक (anti-inflammatory) होने के कारण पेट में इन्फ्लमेशन (inflammation) को कम करता है। ताजा पुदीना और लेमन टी जैसे हेल्दी ड्रिंक पर गर्भवती महिलाओं के लिए जी मिचलने के एहसास को दूर करने का सबसे अच्छा विकल्प है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन ए (आर.डी.ए. का 10%) और विटामिन सी (20.25%) खांसी, गले में खराश और जुखाम से राहत दिलाने के लिए काम करते हैं। पुदीना एक ऐसी सब्जी है जो कैलोरी, कार्ब्स या वसा को जमा किए बिना पौष्टिक व्यंजन बना सकता है। असल में यह जो प्रदान करता है वो है फाइबर। पुदीने की पत्तियों के विस्तृत लाभ पढें।
  3. १/४ कप कटा हुआ हरा धनिया डालें। धनिया एक ताजा जड़ी बूटी है जिसे अक्सर भारतीय पाक कला में स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसका मुख्य रूप से एक गार्निश के रूप में उपयोग किया जाता है। यह इसका उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका है - कोई खाना पकाने नहीं। यह इसकी विटामिन सी की मात्रा को संरक्षित रखता है, जो हमारी प्रतिरक्षा का निर्माण करने और त्वचा में चमक लाने में मदद करता है। धनिया में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट विटामिन ए, विटामिन सी और क्वेरसेटिन हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने की दिशा में काम करते हैं। धनिया आयरन और फोलेट का भी काफी अच्छे स्रोत हैं - 2 पोषक तत्व जो हमारे रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells ) के उत्पादन और रखरखाव में मदद करते हैं। धनिया कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भी अच्छा है और मधुमेह रोगियों के लिए भी। विवरण समझने के लिए धनिए के 9 लाभ पढ़ें।
  4. २ टी-स्पून कटी हुई हरी मिर्च डालें। हरी मिर्च में  मौजूद  एंटीऑक्सिडेंट विटामिन सी शरीर को हानिकारक मुक्त कणों के प्रभाव से बचाता है और तनाव से बचाता है। इसका उच्च फाइबर है जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह एक डायबिटिक आहार के लिए एक योग्य अवयव है। क्या आप एनीमिया (anaemia ) से पीड़ित हैं? तो हरी मिर्च को अपनी आयरन युक्त खाद्य पदार्थों की सूची में जरुर शामिल करें। पूरी जानकारी के लिए हरी मिर्च के फायदे देखें।
  5. १/२ कप ताज़ा दही डालें। दही पाचन में मदद करते हैं क्योंकि इसमें बहुत अच्छे बैक्टीरिया होते हैं। दही में प्रोबायोटिक्स एक हल्के रेचक के रूप में कार्य करता है और दस्त और पेचिश के मामले में, यह एक वरदान है, अगर दही चावल के साथ उपयोग किया जाता है। वे वजन कम करने में मदद करते हैं, आपके हार्ट के लिए अच्छा है और प्रतिरक्षा का निर्माण करते हैं। दही और कम फॅट वाले दही के बीच एकमात्र अंतर वसा का स्तर होता है। अपने दैनिक आहार में शामिल करने के लिए दही के लाभों को पढ़ें।
  6. स्वादानुसार नमक डालें।
  7. एक मुलायम मिश्रण बनाने के लिए मिक्सर में पीस लें। ५ से १० सेकंड के लिए पहली मिक्सर चलाएं। यह चटनी सम्मिश्रण की तीन तस्वीर में से पहली है।
  8. फिर से मिक्सर चलाएं। यह सम्मिश्रण की प्रक्रिया की तीन तस्वीर में से दूसरी है।
  9. चटनी तैयार है। यह सम्मिश्रण की तीसरी तस्वीर है।
  10. तुरंत परोसें।
  11. २ दिनों तक फ्रिज में स्टोर करें। कारण यह है कि मूली तेज गंध छोड़ना शुरू कर सकती है।

रैडिश चटनी के लिए टिप्स

  1. चटनी को पीसने लिए पानी न डालें, क्योंकि दही चटनी को आवश्यक बनावट प्राप्त करने में मदद करता है।
  2. २ दिन में इस चटनी का प्रयोग करें, नहीं तो मूली की मज़बूत गंध आ सकती है।

रैडिश चटनी के स्वास्थ्य को लेकर फायदे

  1. रैडिश चटनी - एक हेल्दी संगत है।
  2. मूली में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है, जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है। यह इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है।
  3. मूली फाइबर का एक अच्छा स्रोत है जो पाचन तंत्र को साफ करने में मदद करता है।
  4. दही प्रोबायोटिक है और इस प्रकार पाचन में भी सहायता करता है।
  5. धनिया कई एंटीऑक्सीडेंट का भंडार है। लिनोलिक एसिड, ओलिक एसिड और स्टीयरिक एसिड एल.डी.एल कोलेस्ट्रॉल (खराब कोलेस्ट्रॉल) को कम करने और धमनी और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए अच्छी तरह से काम करते हैं।
  6. इस चटनी को मधुमेह, वजन घटाने और स्वस्थ हृदय आहार में जोड़ा जा सकता है।


Reviews