फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया | Cauliflower Greens and Besan Muthia
द्वारा

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया in Hindi

This recipe has been viewed 6175 times
5/5 stars  100% LIKED IT   
1 REVIEW ALL GOOD

ફૂલગોબીના પાનના મુઠિયા ની રેસીપી - ગુજરાતી માં વાંચો - Cauliflower Greens and Besan Muthia In Gujarati 



फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया | cauliflower greens and besan muthia recipe in hindi | with 23 amazing images.

अक्सर हम बाजार से जब फूलगोभी खरीदते हैं तब उसके हरे भाग को जल्दी से फेंक देते हैं और सिर्फ फूलगोभी के सफेद भाग को फ्रिज में रख देते हैं! यह रेसिपी आपको इस फूलगोभी के इस्तेमाल नहीं किए जाने वाले भाग की खूबी का अनुभव लेने में मदद करेगी। हमने इसके साथ प्रयोग किया है और इसे भारतीय स्टाइल स्टीम्ड मुथिया के रूप में यहां प्रस्तुत किया है।

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया बनाने के लिए, फूलगोभी के पत्ते, बेसन, गेहूँ का आटा, लाल मिर्च का पाउडर, हल्दी पाउडर, चीनी, तेल, धनिया और नमक एक गहरे बाउल में डालिए, अच्छी तरह से मिलाइए और पर्याप्त पानी लेकर मुलायम लोई बना लीजिए। लोई को २ बराबर भागों में बाँटिए और हर भाग को करीब १५० मि। मी। (६’’) लंबाई और २५ मि। मी। (१’’) लंबा बना लीजिए। दोनों रोल को चुपडी हुई छलनी पर ठीक से रखिए और स्टीमर में १० मिनट तक स्टीम कीजिए। उसे निकालिए और थोडा ठंडा होने के लिए १० मिनट तक रखिए। हर रोल को १२ मि। मी। (१/२") के टुकड़ों में काटिए और एक तरफ रख दीजिए। छौंकने के लिए, एक चौडे नॉन-स्टिक पैन में तेल गर्म कीजिए। उसमें सरसों, तिल और हींग डालिए और मध्यम आँच पर ३० सेकंड के लिए भुनिए। उसमें मुठिया के टुकड़े डालें, हल्के से उलटे पलटिए और फिर २ मिनट तक मध्यम आँच पर बीच-बीच में हिलाते हुए पकाइए। हरी चटनी के साथ तुरंत परोसिए।

यह फूलगोभी के हरे पत्ते लोह और फोलिक एसिड का एक बड़ा स्रोत हैं, जो गर्भवती महिलाओं के लिए उति आवश्यक पोषक तत्व हैं। आयरन हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाने में मदद करता है और फोलिक एसिड बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया एक स्वादिष्ट और पौष्टिक स्टीम्ड नाश्ता है, जो आपके लोहे और फोलिक एसिड के स्तर में बढ़ावा करने के साथ-साथ हीमोग्लोबिन की मात्रा भी बढ़ाते हैं। आपको पारंपरिक तरीके से छौंके गए मुठिया का स्वादिष्ट टेक्सचर और लुभावना स्वाद भी खूब अच्छा लगेगा।

ये मुठिया फाइबर का भी बहुत अच्छा स्रोत हैं, इस प्रकार वजन-देखने वालों से लेकर हृदय रोगियों तक सभी इस हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता का आनंद ले सकते हैं। मधुमेह रोगियों के लिए हम परोसा हिस्सा को आधा करने के लिए प्रतिबंधित करने की सलाह देते हैं। फाइबर तृप्ति को जोड़ने और हमारी प्रणाली को शुद्ध करने में मदद करता है जिससे कब्ज को रोकता है।

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया के लिए टिप्स। 1. स्टीमर प्लेट को चिकना करना न भूलें। 2. स्टीम करने के बाद, मुठिया को हमेशा टुकड़े बनाने से पहले ठंडा होने दें, अन्यथा वे चाकू से चिपक जाएंगे और आपको एक समान टुकड़े नहीं मिलेंगे।

गर्भावस्था के दौरान अन्य लोह युक्त व्यंजन भी आजमाईए जैसे पोहा कटलेट, चवली बीन्स् एण्ड मिन्ट बर्गर और कोलोकैशिया लीफ उसली

आनंद लें फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया | cauliflower greens and besan muthia recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया - Cauliflower Greens and Besan Muthia recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    कुल समय :     ३ मात्रा के लिये
मुझे दिखाओ मात्रा

सामग्री

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया के लिए
१/२ कप फूलगोभी के पत्ते
३/४ कप बेसन
१/२ कप गेहूँ का आटा
१ टी-स्पून लाल मिर्च का पाउडर
१/४ टी-स्पून हल्दी पाउडर
२ टी-स्पून चीनी
२ टी-स्पून तेल
२ टेबल-स्पून बारीक कटा हुआ धनिया
नमक , स्वादानुसार
१ टी-स्पून तेल , छौंकने के लिए
१/२ टी-स्पून सरसों
१ टी-स्पून तिल
१/४ टी-स्पून हींग

परोसने के लिए
हरी चटनी
विधि
फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया के लिए

    फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया के लिए
  1. फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया बनाने के लिए, फूलगोभी के पत्ते, बेसन, गेहूँ का आटा, लाल मिर्च का पाउडर, हल्दी पाउडर, चीनी, तेल, धनिया और नमक एक गहरे बाउल में डालिए, अच्छी तरह से मिलाइए और पर्याप्त पानी लेकर मुलायम लोई बना लीजिए.
  2. लोई को 2 बराबर भागों में बाँटिए और हर भाग को करीब 150 मि. मी. (6’’) लंबाई और 25 मि. मी. (1’’) लंबा बना लीजिए.
  3. दोनों रोल को चुपडी हुई छलनी पर ठीक से रखिए और स्टीमर में 10 मिनट तक स्टीम कीजिए. उसे निकालिए और थोडा ठंडा होने के लिए 10 मिनट तक रखिए.
  4. हर रोल को 12 मि. मी. (1/2") के टुकड़ों में काटिए और एक तरफ रख दीजिए.
  5. छौंकने के लिए, एक चौडे नॉन-स्टिक पैन में तेल गर्म कीजिए. उसमें सरसों, तिल और हींग डालिए और मध्यम आँच पर 30 सेकंड के लिए भुनिए.
  6. उसमें मुठिया के टुकड़े डालें, हल्के से उलटे पलटिए और फिर 2 मिनट तक मध्यम आँच पर बीच-बीच में हिलाते हुए पकाइए.
  7. फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया को हरी चटनी के साथ तुरंत परोसिए.
पोषक मूल्य प्रति serving
ऊर्जा233 कैलरी
प्रोटीन8.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट34.6 ग्राम
फाइबर6.8 ग्राम
वसा7.2 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम
सोडियम23.9 मिलीग्राम
विस्तृत फोटो के साथ फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया

अगर आपको फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी पसंद है

  1. अगर आपको फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया रेसिपी पसंद है, तो फिर अन्य स्वस्थ मुथिया रेसिपी बनाने का प्रयास करें जैसे

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया बनाने के लिए

  1. फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया बनाने के लिए | हेल्दी फूलगोभी के पत्ते नाश्ता | आयरन से भरपूर मुठिया | cauliflower greens and besan muthia recipe in hindi | हमे फूलगोभी के पत्ते की जरूरत है। चमकीले, कुरकुरे और धब्बे रहित हरे पत्ते चुनें। किसी भी तरह के पीले रंग से बचें।
  2. फूलगोभी के पत्ते को साफ करके धो लें। फूलगोभी के पत्तों के गुच्छे से मोटे तनो को हटा दें। फूलगोभी के पत्तों को छोटे टुकड़ों में काटकर लगभग १/४ इंच व्यास में काट लें।
  3. एक गहरी कटोरी में कटे हुए फूलगोभी के पत्ते डालें। यह आयरन से भरपूर होते हैं। फूलगोभी के हरे पत्ते प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट से भरे हुए होते हैं, जो कैंसर को रोकने में मदद करने के लिए जाने गए हैं। इसके अलावा, गहरे हरे रंग की पत्तियों को जोड़ने से आपका रात का खाना और भी स्वस्थ हो जाता है क्योंकि इनमें फाइटोन्यूट्रिएंट्स (phytonutrients) की मात्रा अधिक होती है। इसमेंरहित फाइबर और पोटेशियम अच्छे पाचन तंत्र बनाए रखने में मदद करते हैं और पानी की अवधारण (water retention) को सीमित करते हैं। यह फोलिक एसिड और पोटेशियम का भी एक उत्कृष्ट स्रोत है।
  4. ३/४ कप बेसन डालें। बेसन में गेहूं के आटे की तुलना में अधिक अच्छा वसा होता है और प्रोटीन की मात्रा भी अधिक होती।जटिल कार्बोहाइड्रेट में समृद्ध और कम ग्लाइसेमिक सूचकांक के साथ, बेसन मधुमेह रोगियों के लिए भी अच्छा है। बेसन फोलेट या फोलिक एसिड में उच्च है, जो तेजी से विकास और हड्डी के लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells) और सफेद रक्त कोशिकाओं (डब्ल्यूबीसी) के गुणन के लिए महत्वपूर्णहै। बेसन के 10 विस्तृत लाभ देखें और यह आपके लिए क्यों अच्छा है।
  5. १/२ कप गेहूँ का आटा डालें। गेहूं का आटा मधुमेह रोगियों के लिए उत्कृष्ट है क्योंकि वे आपके रक्त शर्करा के स्तर को गोली नहीं मारेंगे क्योंकि वे कम जीआई भोजन हैं।साबुत गेहूं का आटा फास्फोरस में समृद्ध है जो एक प्रमुख खनिज है जो हमारी हड्डियों के निर्माण के लिए कैल्शियम के साथमिलकर काम करता है। विटामिन बी 9 आपके शरीर को नई कोशिकाओं के निर्माण और रखरखाव में मदद करता है, विशेष रूप से लाल रक्त कोशिकाओं  (red blood cells ) मेंवृद्धि।साबुत गेहूं के आटे के विस्तृत 11 लाभ देखें और यह आपके लिए क्यों अच्छा है।
  6. मिर्च पाउडर डालकर इसे तीखापन दें।
  7. हल्दी पाउडर डालें। हल्दी भोजन के पाचन में मदद करती है जिससे अपच दूर करने में मददमिलती है। हल्दी पाउडर शरीर में वसा की कोशिकाओं की वृद्धि को कम करने में मदद कर सकती है। आयरन से भरपूर हल्दी एनीमिया के उपचारमें अत्यधिक मूल्यवान है और हल्दी के जड़ के साथ-साथ पाउडर भी एनेमिक आहार का नियमित हिस्सा होना चाहिए। हल्दी के स्वास्थ्य लाभों मेंसे एक यह सक्रिय यौगिक कर्क्यूमिन, जो अपने ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी गुणों से जोड़ों की सूजन को दूर करने में मदद करता है और इस कारण गठियासे संबंधित दर्द को दूर करने के लिए यह एक सीढ़ी है।हल्दी में मौजूद करक्यूमिन बैक्टीरिया की सर्दी, खांसी और गले की जलन पैदा करने वालेबैक्टीरिया को मारता है। रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह के लिए भी लाभदायक पाई गई है।इसके एंटीऑक्सिडेंट और ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी  प्रभाव मधुमेह के रोगियों के उपचार में उपयोगी होते हैं। यह दिमाग के लिए  अच्छा भोजन माना जाता है और अल्जाइमर जैसीबीमारियों को दूर रखता है। हल्दी के विस्तृत लाभों के लिए यहाँ देखें।
  8. चीनी डालें। यह वैकल्पिक है। आप चाहें तो इससे बच सकते हैं।
  9. २ टीस्पून तेल डालें।
  10. कटा हुआ धनिया डालें। धनिया एक ताजा जड़ी बूटी है जिसे अक्सर भारतीय पाक कला में स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसका मुख्य रूप से एक गार्निश के रूप में उपयोग किया जाता है। यह इसका उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका है - कोई खाना पकाने नहीं। यह इसकी विटामिन सी की मात्रा को संरक्षित रखता है, जो हमारी प्रतिरक्षा का निर्माण करने और त्वचा में चमक लाने में मदद करता है। धनिया में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट विटामिन ए, विटामिन सी और क्वेरसेटिन हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने की दिशा में काम करते हैं। धनिया आयरन और फोलेट का भी काफी अच्छे स्रोत हैं - 2 पोषक तत्व जो हमारे रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells ) के उत्पादन और रखरखाव में मदद करते हैं। धनिया कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भी अच्छा है और मधुमेह रोगियों के लिए भी। विवरण समझने के लिए धनिए के 9 लाभ पढ़ें।
  11. स्वादानुसार नमक डालें।
  12. अच्छी तरह से मिलाएं और पर्याप्त पानी का उपयोग करके नरम आटा गूंध लें।
  13. फूलगोभी और बेसन मुठिया के आटे को २ बराबर भागों में विभाजित करें और हर भाग को करीब १५० मि। मी। (६’’) लंबाई और २५ मि। मी। (१’’) लंबा बना लीजिए।
  14. दोनों रोल को चुपडी हुई छलनी पर ठीक से रखिए और स्टीमर में १० मिनट तक स्टीम कीजिए। उसे निकालिए और थोडा ठंडा होने के लिए १० मिनट तक रखिए।
  15. प्रत्येक रोल को १२ मि। मी। (१/२") के टुकड़ों में काटिए और एक तरफ रख दीजिए।
  16. भारतीय स्टाइल स्टीम्ड मुठिया को तड़का देने के लिए, एक बड़े नॉन-स्टिक पैन में तेल गरम करें।
  17. इसमें सरसों डालें।
  18. तिल डालें। यह मुठिया में एक अच्छा क्रंच जोड़ता हैं।
  19. हींग भी डालें।
  20. मध्यम आंच पर ३० सेकंड के लिए भून लें।
  21. उसमें भारतीय स्टाइल स्टीम्ड मुठिया के टुकड़े डालें।
  22. धीरे से टॉस करें और मध्यम आंच पर बीच-बीच में हिलाते हुए २ मिनट तक पकाएं।
  23. फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया को हरी चटनी के साथ तुरंत परोसें।

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया के स्वास्थ्य को लेकर फायदे

  1. फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया - लोह से भरपूर नाश्ता।
  2. प्रति मात्रा ४.२ मिलीग्राम लोह के साथ, ये मुठिया गर्भवती महिलाओं के लिए पौष्टिक ब्रेकफ़ास्ट और नाश्ते का विकल्प है।
  3. फोलिक एसिड, कैल्शियम, बी विटामिन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम और ज़िंक कुछ अन्य पोषक तत्वों के साथ यह मुठिया एक अच्छा स्रोत हैं।
  4. स्वस्थ हृदय को बनाए रखने के लिए इन मुठिया का फाइबर फायदेमंद है।
  5. वजन कम करने वालो के लिए भी यह हेल्दी नाश्ता हो सकता है। बेसन के उपयोग से वे प्रोटीन से भरपूर होते हैं। इसका फाइबर और प्रोटीन आपको लंबे समय तक भरपेट रखेंगा और द्वि घातुमान खाने से बचाएंगा।


Reviews

फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया
 on 03 Aug 17 11:12 AM
5

आसान और स्वादिष्ट फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया मेने नाश्ते मे बनाई मुझे अच्ची लैगी