ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी | Jowar and Moong Dal Khichdi
द्वारा

ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी | jowar moong dal khichdi in hindi | with 18 amazing images.

ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी एक बेहतरीन और सुपर हेल्दी रेसिपी है जिसे पूरे ज्वार और मूंग की दाल के साथ बनाया जाता है। जानिए स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी बनाने की विधि।

ज्वार मूंग दाल खिचड़ी बनाने के लिए एक बाउल में ज्वार को पर्याप्त पानी में भरकर ढक्कन से बंद कर दीजिए और इसे रात भर या कम से कम १० घंटों तक भिगो दीजिए। दूसरे दिन ज्वार को छान कर पानी को निकाल दीजिए। एक प्रेशर कुकर में भिगोए और छाने हुए ज्वार, मूंग दाल, नमक और २ १/२ कप पानी डालकर अच्छी तरह से मिला लीजिए और ७ सीटी बजने तक प्रेशर कुकर में पका लीजिए। प्रेशर कुकर का ढ़क्कन खोलने से पहले सारी भाप निकलने दीजिए। एक तरफ रख दीजिए। तड़का देने के लिए, एक छोटे नॉन-स्टिक पॅन में घी गरम कीजिए और उसमें ज़ीरा डाल दीजिए। जब बीज चटकने लगे, तब उसमें हींग और हल्दी पाउडर डालकर उसे कुछ सेकन्ड तक भून लीजिए। खीचड़ी के उपर तैयार तड़के के मिश्रण को डालकर अच्छी तरह से मिला लीजिए और बीच-बीच में हिलाते हुए मध्यम आँच पर २ से ३ मिनट तक पका लीजिए। तुरंत परोसिए।

इस साधारण खिचड़ी में चावल को फाइबर युक्त ज्वार के साथ बदल दिया गया है और इसे मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी बनाने के लिए प्रोटीन युक्त मूंग दाल के साथ जोड़ा गया है। यह संयोजन उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स चावल की तुलना में व्यंजनों के ग्लाइसेमिक लोड को कम करता है। लेकिन हम एक भोजन में मधुमेह व्यक्ति के लिए आधे सर्विंग की सलाह देते हैं।

इस स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी का उच्च फाइबर स्वस्थ व्यक्तियों से लेकर हृदय रोगियों और यहां तक ​​कि वजन घटाने (पीसीओएस वाली महिलाओं सहित) को लक्षित करने के लिए उपयुक्त बनाता है। फाइबर और प्रोटीन आपको लंबे समय तक भरा रखना सुनिश्चित करता है। इसके अलावा इसमें एक डिश भोजन होने का एक फायदा है और इस तरह यह एक परेशानी मुक्त व्यंजन है जिसे खाना पकाने में कम से कम समय और प्रयास की आवश्यकता होती है।

आप इस ज्वार मूंग की खिचड़ी में पूरे ज्वार के मुँह-एहसास का आनंद लेंगे। आप चाहें तो इस सोरघम खिचड़ी में कुछ मसाले और सब्जियाँ मिलाकर इसे और स्वादिष्ट बना सकते हैं। इसे दही, रायता या कढ़ी के साथ परोसें और आपके पास पूरी तरह से संतुलित और पौष्टिक भोजन तैयार है।

ज्वार मूंग दाल खिचड़ी के लिए टिप्स 1. इस नुस्खे के लिए ज्वार को 10 घंटे तक भिगोने की आवश्यकता होती है, इसलिए इसके लिए पहले से योजना बनाएं। 2. इसकी बनावट का आनंद लेने के लिए, आपको इस खिचड़ी को तुरंत परोसना होगा। 3. साबुत ज्वार को पूरे बाजरे के साथ बदला जा सकता है जैसा कि बाजरा खिचड़ी की रेसिपी में किया जाता है।

आनंद लें ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी | jowar moong dal khichdi in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।

ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी in Hindi

This recipe has been viewed 7150 times

જુવાર અને મગની દાળની ખીચડી ની રેસીપી - ગુજરાતી માં વાંચો - Jowar and Moong Dal Khichdi In Gujarati 



ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी - Jowar and Moong Dal Khichdi recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    भिगोने का समय:  १० घंटे   कुल समय :     ४ servings के लिये
मुझे दिखाओ servings

सामग्री

ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी बनाने के लिए
१/२ कप ज्वार
१/२ कप पीली मूंग दाल , धोकर छानी हुई
नमक , स्वादानुसार
२ टी-स्पून घी
१ टी-स्पून ज़ीरा
एक चुटकी हींग
१/४ टी-स्पून हल्दी पाउडर
विधि
ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी बनाने की विधि

    ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी बनाने की विधि
  1. ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी बनाने के लिए एक बाउल में ज्वार को पर्याप्त पानी में भरकर ढक्कन से बंद कर दीजिए और इसे रात भर या कम से कम 10 घंटों तक भिगो दीजिए।
  2. दूसरे दिन ज्वार को छान कर पानी को निकाल दीजिए।
  3. एक प्रेशर कुकर में भिगोए और छाने हुए ज्वार, मूंग दाल, नमक और 2 1/2 कप पानी डालकर अच्छी तरह से मिला लीजिए और 7 सीटी बजने तक प्रेशर कुकर में पका लीजिए।
  4. प्रेशर कुकर का ढ़क्कन खोलने से पहले सारी भाप निकलने दीजिए। एक तरफ रख दीजिए।
  5. तड़का देने के लिए, एक छोटे नॉन-स्टिक पॅन में घी गरम कीजिए और उसमें ज़ीरा डाल दीजिए।
  6. जब बीज चटकने लगे, तब उसमें हींग और हल्दी पाउडर डालकर उसे कुछ सेकन्ड तक भून लीजिए।
  7. खीचड़ी के उपर तैयार तड़के के मिश्रण को डालकर अच्छी तरह से मिला लीजिए और बीच-बीच में हिलाते हुए मध्यम आँच पर 2 से 3 मिनट तक पका लीजिए।
  8. ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी को तुरंत परोसिए।
पोषक मूल्य प्रति serving
ऊर्जा160 कैलरी
प्रोटीन6.8 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट26.3 ग्राम
फाइबर3.5 ग्राम
वसा3.1 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम
सोडियम6.7 मिलीग्राम
विस्तृत फोटो के साथ ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी

अगर आपको ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी पसंद है

  1. अगर आपको ज्वार मूंग दाल खिचड़ी रेसिपी पसंद है, फिर अन्य स्वस्थ खिचड़ी व्यंजनों को भी आजमाएँ।

ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी बनाने के लिए

  1. ज्वार मूंग दाल खिचड़ी बनाने के लिए | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी | jowar moong dal khichdi in hindi | हमें १/२ कप ज्वार चाहिए। ज्वार पोटैशियम से भरपूर होता है।  उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए पोटेशियम महत्वपूर्ण है क्योंकि यह सोडियम के प्रभाव को कम करता है। अधिक पोटेशियम रिच फूड्स खाने से आपके शरीर से  युरिन के माध्यम से अधिक सोडियम निकल जाएगा।
  2. इसके साथ हमें १/२ कप पीले मूंग दाल की आवश्यकता है।
  3. एक कटोरी में पर्याप्त पानी में ज्वार को साफ करे और रात भर या कम से कम १० घंटे के लिए भिगोएं।
  4. अगले दिन, एक छलनी का उपयोग करके इसे छान लें और पानी को निकाल दें।
  5. साथ ही, पीली मूंग दाल को साफ करके धो लें और एक छलनी का उपयोग करके इसे छान लें और पानी को निकाल दें। पीली मूंग दाल में मौजूद फाइबर (4.1 ग्राम प्रति कप) धमनियों में खराब कोलेस्ट्रॉल (एल. डी. एल.) के जमाव को रोकता है, जो बदले में स्वस्थ्य हार्ट को बढ़ावा देता है। जिंक (1.4 मिलीग्राम), प्रोटीन (12.2 मिलीग्राम) और आयरन (1.95 मिलीग्राम) जैसे पोषक तत्वों से भरपूर, पीली मूंग की दाल आपकी त्वचा के लचीलेपन को बनाए रखने और इसे नम रखने में मदद करती है। पीली मूंग दाल में मौजूद फाइबरपोटेशियम और मैग्नीशियम एक साथ मिलकर रक्तचाप और मधुमेह को नियंत्रित करने और तंत्रिकाओं को शांत रखने में मददरुप है।। पीले मूंग दाल के 7 आश्चर्यजनक लाभों के विवरण के लिए यहां देखें।
  6. प्रेशर कुकर में ज्वार और मूंग दाल डालें।
  7. ज्वार मूंग दाल खिचड़ी पकाने के लिए २ १/२ कप पानी डालें।
  8. एक चम्मच का उपयोग करके अच्छी तरह मिलाएं।
  9. प्रेशर कुकर का ढक्कन बंद करें और ७ सीटी के लिए प्रेशर कुक करें। ढक्कन खोलने से पहले भाप को निकलने दें। एक तरफ रख दें।
  10. स्वस्थ ज्वार खिचड़ी के तड़के के लिए, एक छोटे नॉन-स्टिक पैन में २ टीस्पून घी गरम करें। कैलोरी और वसा के अलावा, घी जिन पोषक तत्व जो में समृद्ध हैं, वे हैं विटामिन - जिनमें से सभी वसा में घुलनशील होते हैं। सभी 3 विटामिन (विटामिन एविटामिन ई और विटामिन केएंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं जो शरीर से मुक्त कणों को हटाने और हमारी कोशिकाओं की रक्षा करने के साथ-साथ त्वचा के स्वास्थ्य और चमक को बनाए रखने में भी मदद करता है। घी अपने उच्च स्मोक पॉइंट के कारण खाना पकाने का एक उच्च उत्कृष्ट माध्यम है। अधिकांश तेलों और मक्खन की तुलना में, घी का स्मोक पॉइंट 230 ° C, 450 ° F है, इसलिए इसके पोषक तत्वों का विनाश कम होता है। हां, घी में कोलेस्ट्रॉल होता है, लेकिन शरीर को कुछ मात्रा में कोलेस्ट्रॉल की जरूरत भी होती है। कोलेस्ट्रॉल के कुछ कार्य भी हैं। यह हार्मोन उत्पादन, मस्तिष्क के कार्यकाज, कोशिकाओं  के स्वास्थ्य और जोड़ों को लूब्रिकैट करने के लिए आवश्यक है। यह वास्तव में, शरीर और मस्तिष्क के लिए एक उच्च गुणवत्ता वाला वसा है। घी वसा से भरा होता है, लेकिन इसमें मध्यम श्रृंखला फैटी एसिड (एमसीटी) होते हैं जो वजन घटाने में सहायता करता हैं। घी थोड़ी मात्रा में डेबेटिक्स के लिए स्वास्थ्यदायक है। परिरक्षकों से मुक्त घी को आसानी से अपने घर पर बनाना सीखें घी के फायदे भी देखें |
  11. १ टीस्पून जीरा डालें। जीरा का सबसे लाभ जो कई लोगों को पता है वह है पेट, आंत और पूरे पाचन तंत्र को  आराम पहुँचाना। जीरा जाहिर तौर पर आयरन का बहुत अच्छा स्रोत है। एक टेस्पून जीरे आयरन की दैनिक आवश्यकता का लगभग 20% पूरा कर सकते है। जीरे की थोड़ी मात्रा में भी कैल्शियम की भारी मात्रा होती है - यह एक हड्डियों का  भरण-पोषण करने वाला खनिज है। यह पाचन, वजन घटाने और इन्फ्लमेशन (inflammation) को कम करने में भी मदद करता है। जीरा के विस्तृत लाभ पढें।
  12. जब जीरा चटकने लगें, तो एक चुटकी हींग डालें। ऐक्टिव कम्पाउन्ड कौमरिन (Coumarin) रक्त में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को प्रबंधित करने में मदद करता है। हींग में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो अस्थमा को दूर रखने में मदद करता है। हींग  ब्लोटिंग और पेट में गैस की तकलीफ जैसी अन्य समस्याओं के लिए एक पुराना उपचार है। सबसे अच्छा उपाय यह है कि पानी के साथ थोड़ा सा हींग का पानी पिएं या इसे पानी में घोलकर घूंट-घूंट पीते रहे। इसका उपयोग दही या बादाम के तेल के साथ हेयर मास्क के रूप में भी किया जा सकता है। यह बालों की शुष्कता को रोकने और बालों को मजबूत बनाने के साथ-साथ उन्हें मुलायम बनाने में मदद करता है।
  13. १/४ टीस्पून हल्दी पाउडर डालें। हल्दी भोजन के पाचन में मदद करती है जिससे अपच दूर करने में मददमिलती है। हल्दी पाउडर शरीर में वसा की कोशिकाओं की वृद्धि को कम करने में मदद कर सकती है। आयरन से भरपूर हल्दी एनीमिया के उपचारमें अत्यधिक मूल्यवान है और हल्दी के जड़ के साथ-साथ पाउडर भी एनेमिक आहार का नियमित हिस्सा होना चाहिए। हल्दी के स्वास्थ्य लाभों मेंसे एक यह सक्रिय यौगिक कर्क्यूमिन, जो अपने ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी गुणों से जोड़ों की सूजन को दूर करने में मदद करता है और इस कारण गठियासे संबंधित दर्द को दूर करने के लिए यह एक सीढ़ी है।हल्दी में मौजूद करक्यूमिन बैक्टीरिया की सर्दी, खांसी और गले की जलन पैदा करने वालेबैक्टीरिया को मारता है। रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह के लिए भी लाभदायक पाई गई है।इसके एंटीऑक्सिडेंट और ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी  प्रभाव मधुमेह के रोगियों के उपचार में उपयोगी होते हैं। यह दिमाग के लिए  अच्छा भोजन माना जाता है और अल्जाइमर जैसीबीमारियों को दूर रखता है। हल्दी के विस्तृत लाभों के लिए यहाँ देखें।
  14. कुछ सेकंड के लिए भून लें।
  15. मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी में तड़का डालें।
  16. अच्छी तरह से मिलाएं और मध्यम आंच पर बीच-बीच में हिलाते हुए २ से ३ मिनट के लिए सोरघम खिचड़ी को पकाएं।
  17. ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी को | स्वस्थ ज्वार की खिचड़ी | ज्वार मूंग की खिचड़ी | मधुमेह के लिए ज्वार की खिचड़ी | सोरघम खिचड़ी | jowar moong dal khichdi in hindi | तुरंत परोसिए।

ज्वार और मूंग दाल की खिचड़ी के स्वास्थ्य को लेकर फायदे

  1. ज्वार मूंग दाल खिचड़ी - एक फाइबर युक्त व्यंजन है।
  2. इस खिचड़ी में मौजूद फाइबर इसे बलवान बनाता है।
  3. इसे स्वस्थ व्यक्तियों के साथ मधुमेह रोगि और वजन कम करने वाले लोग भी इसका आनंद ले सकते है।
  4. इस खिचड़ी के तड़के में थोड़ी मात्रा में इस्तेमाल किया जाने वाला घी वसा से भरा होता है, लेकिन यह मध्यम श्रृंखला फैटी एसिड (एमसीटी) होता है, जो वजन बढ़ाने में योगदान करने वाले शरीर में वसा ऊतकों में जमा नहीं होता है। इसके बजाय वे ऊर्जा बढ़ाने के रूप में शरीर में उपयोग किया जाता हैं।
  5. मूंग दाल प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है - एक पोषक तत्व जो हमारी कोशिकाओं और ऊतकों पोषण देता है।


Reviews