This category has been viewed 47284 times
 Last Updated : Nov 06,2019


 विभिन्न व्यंजन > भारतीय व्यंजन > राजस्थानी व्यंजन



Rajasthani Food - Read In English
રાજસ્થાની વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Rajasthani Food recipes in Gujarati)

राजस्थानी रेसिपी, Rajasthani Recipes in Hindi

 

राजस्थानी रेसिपी, Rajasthani Recipes in Hindi 

हमारे अन्य राजस्थानी व्यंजनों की रेसिपी ज़रूर आज़माये…

राजस्थानी अचार, लौंजी रेसिपी : Rajasthani Achaar, Launji Recipes in Hindi
राजस्थानी सूखे नाश्ते की रेसिपी : Rajasthani Dry Snacks Recipes in Hindi
राजस्थानी कढ़ी, दाल की रेसिपी : Rajasthani Dal, Kadhi Recipes in Hindi
राजस्थानी खिचडी़, पुलाव की रेसिपी : Rajasthani Khichdi, Pulao Recipes in Hindi
११ राजस्थानी मिठाई व्यंजनों, राजस्थानी मीठे रेसिपी : 11 Rajasthani Mithai Sweets Recipes in Hindi
१५ राजस्थानी नाश्ता रेसिपी : 15 Rajasthani Naashta Recipes in Hindi
११ राजस्थानी रोटी, पुरी, पराठा : 11 Rajasthani Roti, Paratha, Puri Recipes in Hindi
१७ राजस्थानी सब्जी रेसिपी : 17 Rajasthani Subzi Recipes in Hindi
राजस्थानी पारंपरिक व्यंजनों : Rajasthani Traditional Recipes in Hindi

हैप्पी पाक कला!


Top Recipes

बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | with 16 amazing images. हालांकि बाजरा रोटी राजस्थान के कुछ ही हिस्सों में कि जाती है, बाजरे की रोटी को संपूर्ण क्षेत्र में पसंद किया जाता है। गाँव में इन मोटे बेले हुए बाजरे की रोटी को कन्डे (गोबर के कंडे) पर पकाया जाता है। यह इन्हें बनाने का पारंपरिक तरीका है क्योंकि यह इन रोटीयों को जला हुआ स्वाद प्रदान करता है। लेकिन, यह इन बाजरे की रोटी को तवे में पकाया हुआ विकल्प है। राजस्थानी भोजन मे, बाजरे की रोटी को लगभग किसी भी प्रकार की कढ़ी या सब्ज़ी के साथ परोसा जा सकता है। वहाँ के लोगों का मुख्य आहार बाजरे की रोटी, लहसुन की चटनी और प्याज़ का मेल होता है। हालांकि इन्हें बनाना बेहद आसान है, यह बेहद स्वादिष्ट लगते हैं! नीचे दिया गया है बाजरा रोटी | बाजरे की रोटी | राजस्थानी बाजरे की रोटी | बाजरा रोटी | bajra roti recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
शिमला मिर्च के टुकड़ो से बनी और कलौंजी, सौंफ, हरी मिर्च और आम मसालों के स्वाद से भरपुर यह एक चटपटी लौंजी है, जिसे आप बनाकर तुरंत परोस सकते हैं या कुछ दिनों के लिए रख भी सकते हैं। शिमला मिर्च की लौंजी को अमचूर से मज़ेदार खट्टापन मिलता है, जिसे थोड़ी शक्कर से और भी मज़ेदार बनाया गया है। बनाने में बेहद आसान, आप जब चाहें इस लौंजी को बनाकर इसका मज़ा ले सकते हैं।
मेथी की लौंजी के एक चम्मच को अपने मूँह में रखें और आपको सभी प्रकार के स्वाद का अनुभव होगा- कड़वा, मीठा और तीखा! आपको इस पारंपरिक व्यंजन में स्वाद का संतुलित मेल ज़रुर पसंद आएगा, जहाँ भिगोए हुए मेथी दानों को मसाले और पाउडर के साथ मिलाकर बनाया गया है और साथ ही गुड़ और किसमिश जैसी सामग्री से मीठापन प्रदान किया गया है। जहाँ इस व्यंजन मे भिगोए हुए मेथी दानों का प्रयोग किया गया है, आप इसमें अंकुरित मेथी दानों का प्रयोग भी कर सकते हैं, जो इस लौंजी को कम कड़वा बनाते हैं। आप इस मेथी की लौंजी को रोटी, खाखरे या यहाँ तक चावल के साथ भी परोस सकते हैं, हालांकि राजस्थानी इसका मज़ा गरमा गरम पुरी या पराठों के साथ लेते हैं।
झटपट और आसानी से बनने वाला अचार जो आपको ज़रुर पसंद आएगा! आम की लौंजी को चुनिंदा मसाले और पाउडर के साथ आम को पकाकर बनाया जाता है। इसे बनाने में ना कोई झंझट, सक्रीय नापतोल और समय लगता है, लेकिन फिर भी इसे आप लगभग 4 दिनों तक फ्रिज मे ताज़ा रख सकते हैं। इस खट्टी-मीठी आम की लौंजी को आप अपने पसंद के पराठे या रोटी के साथ परोस सकते हैं।
लाल मिर्च पाउडर के प्रयोग से एक तीखी बनी हुई और नींबू के रस से चटपटी बनी लहसुन की चटनी। लहसुन की चटनी बाजरा रोटला जैसे सादे और आसानी से बनने वाले व्यंजन के साथ बेहद अच्छी लगती है। इसका प्रयोग सेन्डविच, ब्रेड या अन्य नमकीन व्यंजन को चटपटा बनाने के लिए भी किया जा सकता है। हवा बद डब्बे में डालकर फ्रिज में रखने के बाद, इस चटनी को लगभग 2 हफ्तों के लिए ताज़ा रखा जा सकता है।
केर, राजस्थान में खास पायी जाने वाली बेरी का प्रयोग इस श्रेत्र में बहुत से मज़ेदार तरीकों से किया जाता है। केर का अचार ऐसा ही स्वादिष्ट व्यंजन है, जिसमें केर को सरसों के तेल में, विभिन्न प्रकार के मसाले और बीज साथ अचार के रुप में बनाया जाता है, इसलिए इस अवार की खुशबु ही आपकी भूख बढ़ाने के लिए काफी है।
सूप से लेकर अचार तक, हर व्यंजन को ठीक किया जा सकता है। लेकिन कभी-कभी लंबे समय लगने वाले व्यंजन भी बेहद स्वादिष्ट लगते हैँ। आपको यह सच तब लगेगा, जब सात दिनों तक इंतज़ार करने के बाद, आप इस स्वादिष्ट आम और चने के अचार का मज़ा लेंगे। कच्ची कैरी और सफेद काबुली चने से बना एक पारंपरिक राजस्थानी अचार, जिसे बहुत से मसालों से स्वादिष्ट बनाया गया है और सरसों के तेल में सचगह्र किया गया है, इस अचार में खट्टे से लेकर तीखे स्वाद का मेल है। अचार को सग्रह करने से पहले, बर्तन को अच्छी तरह साफ करना ना भुलें, जिससे इसे लंबे समय तक रखा जा सके।
रोज़ प्रोयग होने वाली सामग्री, कम समय और बहुत ही कम मेहनत, इस स्वादिष्ट और मूँह में पानी लाने वाली चटनी बनाने के लिए केवल इनकी ज़रुरत है! बीज का आम तड़का और आम मसाले पाउडर का प्रयोग, सौम्य टमाटर को एक शानदार व्यंजन में बदलते हैं। देखा गया तो, सामग्री का पर्याप्त मेल और झटपट बनाने का तरीका, टमाटर के खट्टेपन को इस व्यंजन में बेहतरीन तरह से बनाए रखते हैं। इस टमाटर की लौंजी को अपने पसंद की रोटी के साथ गरमा गरम और ताज़ा परोसें।
मूंग दाल कचौड़ी रेसिपी | राजस्थानी खस्ता कचौड़ी | दाल भरी खस्ता कचौरी | moong dal kachori recipe in hindi language | with 28 amazing images. मूंग दाल की कचौड़ी एक लिप-स्मूचिंग डिश है, जो सीधे राजस्थान के जायके से बनती है और जिसे राजस्थानी खस्ता कचौड़ी या दाल भरी खस्ता कचौरी भी कहा जाता है। राजस्थानी खस्ता कचौड़ी एक बहुत ही स्वादिष्ट स्नैक है, जो उत्तर भारत में बहुत लोकप्रिय है और सबसे पसंदीदा स्ट्रीट फूड में से एक है। एक मज़ेदार कचौड़ी वह होती है जो बाहर से फूली हुई और करारी हो और अंदर से खोखली जहाँ इसका भरवां मिश्रण किनारों पर चिपका हुआ हो। यह व्यंजन विधी अपनी रसोई में मज़ेदार राजस्थानी खस्ता कचौड़ी बनाने की है। स्वाद से भरी मूंग दाल के भरवां मिश्रण से भरी, इस मूंग दाल कचौड़ी को समय लेकर धिमी आँच पर तला गया है जिससे बाहर कि परत करारी और खोखली बनती है और अंदर का भाग पुरी तरह से पक जाता है। इस राजस्थानी खस्ता कचौड़ी को हवा बंद डब्बे में 2 से 3 दिनों के लिए रखा जा सकता है। परोसने से तुरंत पहले कचौड़ी को अवन में 7 से 10 मिनट के लिए गरम कर लें और दही और चटनीयों के साथ परोसें! नीचे दिया गया है मूंग दाल कचौड़ी रेसिपी | राजस्थानी खस्ता कचौड़ी | दाल भरी खस्ता कचौरी | moong dal kachori recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
जोधपुर अपने मावा कचौड़ी के लिए मधहुर है। सूखे मेवे और मावा (खोया) से भरी, करारी तली हुई कचौड़ी को चाश्नी से ढ़का गया है। इन कचौड़ीयों का मज़ा दिन के किसी भी समय लिया जा सकता है। इन मीटी कचौड़ी को अकसर "गुजीया" कहा जाता है और होली के पर्व में इन्हें "खास तौर" पर बनाया जाता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन