This category has been viewed 1025 times
 Last Updated : Nov 04,2019


 भारतीय स्वस्थ > हाइपरथायराइडिज़्म



Hyperthyroidism Diet - Read In English
હાઈપરથાઈરોડિસમ - ગુજરાતી માં વાંચો (Hyperthyroidism Diet recipes in Gujarati)

Top Recipes

टमाटर पसंद करने वालों के लिए यह चटपटा करारा सलाद दावत के समान है। ना केवल यह फोलिक एसिड (विटामीन बी9) का बेहतरीन स्रोत है जो अनिमीया से बचाता है, लेकिन साथ ही यह विटामीन बी1 (थायामीन), विटामीन बी3 (नायासिन) और रेशांक के भरपुर है, जो अखरोट और तिल से मिलते हैं। साथ ही अखरोट विटामीन ई और ओमेगा 3-फॅट एसिड से भरपुर होते हैं, जो वसा के अच्छे स्रोत होते हैं।
आराम प्रदान करने वाली खिचड़ी के बिना जीवन अधुरा सा लगता है! एक सबसे ज़्यादा आराम करने वाला आहार खिचड़ी पौषण के साथ-साथ पेट भरा रखने में भी मदद करती है। यहाँ इसे एक अनिखा रुप प्रदान किया गया है, हमने इस खिचड़ी को बनाने के लिए रेशांक भरपुर जौ का प्रयोग किया है। चावल का एक अच्छा विकल्प, जौ मूंग दाल और मसालों के साथ मिलकर एक आराम प्रदान करने वाला आहार बनाता है और इसमें उच्च मात्रा में रेशांक होने के कारण यह आपका पेट लंबे समय तक भरा रखता है। कलेस्ट्रॉल कम करने के साथ-साथ, जौ वजन को कम रखने में भी मदद करता है। हमनें यहाँ घी की जगह हृदय संबंधित जैतून के तेल का प्रयोग किया है। इस आसानी से बनने वाली बार्ली एण्ड मूंग दाल खिचड़ी को एक संपूर्ण आहार बनाने के लिए, बाउल भर लो-फॅट दही के साथ परोसें।
चटकीले लाल रंग का और स्वाद से भरा, यह सूप मधुमेह के लिए पर्याप्त है। शिमला मिर्च में विटामीन ए और फोलिक एसिड, एक ऑक्सीकरण तत्व होता है को मुक्त रेडिकल से लड़ने में मदद करता है जो अन्यथा हृदय को हानी पहूँचा सकते हैं और बिमारी का कारण बन सकते हैं। रेशांक से भरपुर ओट्स रक्त में शक्करा की मात्रा कम करने में मदद करता है। दो सामग्री से बना सूप और लहसुन, टमाटर और मसालों के स्वाद से भरा, खाने की शुरुआत करने के लिए बेहतरीन उपाय है और आपके मेहमानों को खाने का ईंतज़ार करने के लिए मजबूर कर देगा।
इस मेरिनेटड पनीर एण्ड कॅप्सिकम सब्ज़ी का मज़ा गेहूं के आटे बने पराठों के साथ गरमा गरम ले, जिसे ना केवल खाकर आपको आनंद मिलेगा, लेकिन साथ ही भरपुर मात्रा में पौषण भी, खासतौर पर विटामीन ए और सी और रेशांक, जो टमाटर और शिमला मिर्च से आते हैं, और लो फॅट पनीर से क़ल्शियम और प्रोटीन।
क्या आपने कभी जौ की खिचडी बनाने के बारे में सोचा है? एक बार आज़माकर देखिए और फिर आप इसे अपनी कृती में जरूर ही दोहरते रहना चाहोंगे। जौ और बहुत सारी पौष्टिक सब्जियों के संयोजन से बनती यह खिचडी एक बहुत ही रंगीन और आकर्षक पकवान है। सब सब्जियाँ इस खिचडी में थोडा करकरापन जोड़ती हैं, जबकि ज़ीरा और हरी मिर्च जैसे रोजमर्रा की सामग्री खिचड़ी को सुखद स्वाद प्रदान करते हैं। इस संतृप्त पकवान में भरपूर मात्रा में एटिऑक्सिडंट हैं, जो शरीर में मुक्त कणों से लडने की शक्ति देते हैं और रोग प्रतिकार शक्ति में बढ़ावा करने में मदद रूप होते हैं। साथ ही सब्जियों में रहने वाले फाइबर से शरीर शुद्ध होगा और वज़न भी कम होगा। इस खिचडी का मज़ा ताज़ी और गरमा-गरम खाने में ही है। मूंग दाल खिचड़ी और कर्ड राईस जैसी अन्य खिचडी की रेसीपी भी जरूर आज़माइए।
पुरी, सादी हो या भरी हुई, बेक की हुई हो या तली हुई, एक ऐसा नाश्ता है जिसके बिना हम भारतिय रह नहीं सकते! यह एक ऐसा विकल्प है जिसे आप आराम से खा सकते हैं, वह भी बिना किसी शरम के। रेशांक भरपुर ओट्स् से बने यह बेक्ड ओट्स पुरी, तिल, लहसुन के पेस्ट और कसुरी मेथी के स्वाद से भरपुर हैं। तलने की जगह बेक करने से पुरी के कॅलरी की मात्रा को कम किया जाता है। हवा बद डब्बे में रखें और अपने ऑफिस, स्कूल या यहाँ तक बाहर जाते समय भी इसे ले जाऐं।
अपने हृदय और मन को इस ओटस् एण्ड कैबेज रोटी को लो-फॅट दही के साथ एक आहार के रुप में आनंद प्रदान करें और इसे खाकर स्वस्थ जीवन का आनंद लें! पुरी तरह से स्वादिष्ट, इन संपूर्ण रोटी को गेहूं के आटे, ओट्स और पत्तागोभी के अनोखे आटे से बनाया गया है जिसे तिल और मसाला पाउडर से चटपटा बनाया गया है। ओट्स् ना केवल इन रोटी को एक शानदार दरदरा रुप प्रदान करते हैं, लेकिन साथ ही इनमें भरपुर मात्रा में रेशांक और बीटा-ग्लुकन होता है, जो एल. डी. एल (बुरे कलेस्ट्रॉल) को कम करने में मदद करता है। साथ ही हमने यहाँ आटे में मैदे का प्रयोग ज़रा भी नहीं किया है और उसे गेहूं के आटे से बदला है। हमनें इसमें थोड़ा लहसुन का पेस्ट मिलाया है, क्योंकि लहसुन हृदय के लिए लाभदायक होता है और साथ ही रोटी के स्वाद को और भी मज़ेदार बनाता है। इन रोटी को खाने से पहले बनाकर रखा जा सकता है और साथ ही डब्बे में भी ले जा सकते हैं, लेकिन इनका मज़ा गरमा गरम ताज़ा बनाकर परोसने में है।
मिक्स्ड स्प्राउट्स् एण्ड बार्ली सूप दो अलग तरह के प्रोटीन का मेल है- मिले जुले अंकुरित दानें और जौ- जो एक संपूर्ण प्रोटीन से भरपुर सूप बनाता है। अकसर जिन्हें बॉडी बिल्डिंग ब्लॉक कहते हैं, प्रोटीन हमारे शरीर के ऊतक को संतुलित रखने में मदद करता है, जो ऊतक के उत्पादन और रख-रखाव में मदद करता है। भरपुर करारी सब्ज़ीयों के साथ और पौष्टिक वेजिटेबल स्टॉक के साथ, यह सूप सवादिष्ट भी है और पौष्टिक भी।
जब खाना बनाने की बात होती है, थोड़ी बहुत जानकारी आपको विभिन्न तरह के व्यंजन बनाने में मदद करता है, जैसे यह ब्रॉकली एण्ड ज़ूकिनी इन रेड कॅप्सिकम ग्रेवी। यहाँ देखें कि कैसे लाल शिमला मिर्च अपने आप को इस स्वादिष्ट ग्रेवी में मिला लेती है, जो ना केवल स्वाद से भरी है लेकिन पौष्टिक भी है और वुटामीन ए और ई जैसे ऑक्सीकरण तत्व से भरपुर है। ब्रॉकली, बेबी कार्न और ज़ूकिनी मिलाने से इस सब्ज़ी को शानदार अंतराष्ट्रिय रुप मिलता है।
अकसर टिक्की को मिली-जुली सब्ज़ीयों के साथ मसले हुए आलू के मिश्रण से बनाया जाता है। यहाँ, हमनें कम कॅलरी वाली फूलगोभी को रेशांक भरपुर ओट्स के साथ मिलाकर इसे बनाने के लिए प्रयोग किया है! 2 अदभूत सामग्री को रंग-बिरंगी सब्ज़ीयों के साथ मिलाकर शानदार टिक्की बनाई गई है जो आपको ज़रुर पसंद आएगी। इस नाश्ते में सब्ज़ीयाँ रेशांक, विटामीन और ऑक्सीकरण तत्व प्रदान करते हैं और वहीं इन कॉलीफ्लॉवर एण्ड ओट्स टिक्की पुदिना और धनिया खुशबु के साथ-साथ विटामीन सी प्रदान करते हैं। कम से कम आहार तत्व के नुकसान के लिए और कॅलरी की मात्रा कम करने के लिए, इस शानदार नाश्ते को कम से कम तेल का प्रयोग कर तवे पर पकाया गया है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन