मूली मूंग दाल रेसिपी | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | Rajasthani Mooli Moong Dal, Healthy Moong Dal with Mooli
द्वारा

मूली मूंग दाल रेसिपी | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | mooli moong dal in Hindi | with 29 amazing images.

मूली मूंग दाल रेसिपी | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | स्वस्थ मूंग दाल मूली के साथ एक स्वस्थ भारतीय संगत है। जानिए राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल बनाने की विधि।

मूली मूंग दाल बनाने के लिए, मूली, मूंग दाल, हल्दी पाउडर, नमक और २ कप पानी को एक प्रैशर कुकर मे अच्छी तरह मिला ले और ३ सिटी तक प्रैशर कुक कर लें। ढ़क्कन खोलने से पुर्व सारी भाप निकलने दें। एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें, ज़ीरा, तेज़पत्ता और लौंग डालकर मध्यम आँच पर कुछ सेकन्ड तक भुन लें। हरी मिर्च, अदरक, हींग, लाल मिर्च पाउडर और पकी हुई मूली-दाल का मिश्रण डालकर अच्छी तरह मिला ले और बीच-बीच में हिलाते हुए, मध्यम आँच पर २-३ मिनट तक पका लें। धनिया डालकर अच्छी तरह मिला लें। गरमा गरम परोसें।

भारत के अन्य राज्य की तुलना में, राजस्थानी खाने में मूली का प्रयोग काफी मात्रा में किया जाता है, जहाँ इसका प्रयोग अकसर सलाद के रुप मे किया जाता है। मूली मूंग दाल बनाने के लिए सादी मूंग दाल के साथ मिलाने पर मूली तेज़ और तीखा स्वाद प्रदान करता है।

और अन्य सभी पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन की तरह,राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल में भी घी का तड़का लगाया गया है। कुछ घरों में मूली के नरम पत्ते भी डाले जाते हैं, जो इस दाल को और भी स्वादिष्ट बनाता है। आप भी ऐसा कर सकते हैं!

मूली के भी कई फायदे हैं! मूली में मौजूद विटामिन सी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर आंत के लिए फायदेमंद है और आपके वजन घटाने के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए भी फायदेमंद है। वहीं, मूंग की दाल में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है। स्वस्थ मूंग दाल मूली के साथ इन दो सामग्रियों का संयोजन एक पौष्टिक और पौष्टिक संगत देता है जिसे चपाती और एक कटोरी स्वस्थ सलाद के साथ परोसा जा सकता है।

मूली मूंग दाल के लिए टिप्स। 1 मूली को छोटे टुकड़ों में काट लें, बड़े टुकड़ों में नहीं। 2. छोटा चम्मच गरम मसाला स्वाद बढ़ाने वाला होगा। 3. अगर आप दाल को बाद में परोस रहे हैं, तो आपको पानी मिलाना पड़ सकता है और दोबारा गरम करने से पहले इसकी स्थिरता को समायोजित करना पड़ सकता है।

आनंद लें मूली मूंग दाल रेसिपी | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | mooli moong dal in Hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।

मूली मूंग दाल रेसिपी in Hindi


मूली मूंग दाल रेसिपी - Rajasthani Mooli Moong Dal, Healthy Moong Dal with Mooli recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    कुल समय :     ४ मात्रा के लिये
मुझे दिखाओ मात्रा

सामग्री
१ कप कटी हुई मूली , धोकर छानी हुई
१/२ कप पीली मूंग दाल , धोकर छानी हुई
१/२ टी-स्पून हल्दी पाउडर
नमक स्वादअनुसार
१ टेबल-स्पून घी
१/२ टी-स्पून ज़ीरा
तेज़पत्ता
लौंग
१ टी-स्पून बारीक कटी हुई हरी मिर्च
१/४ टी-स्पून कसा हुआ अदरक
१/४ टी-स्पून हीँग
१ टी-स्पून लाल मिर्च पाउडर
१/२ कप कटा हुआ हरा धनिया
विधि
    Method
  1. मूली मूंग दाल, मूली, मूंग दाल, हल्दी पाउडर, नमक और 2 कप पानी को एक प्रैशर कुकर मे अच्छी तरह मिला ले और 3 सिटी तक प्रैशर कुक कर लें।
  2. ढ़क्कन खोलने से पुर्व सारी भाप निकलने दें।
  3. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें, ज़ीरा, तेज़पत्ता और लौंग डालकर मध्यम आँच पर कुछ सेकन्ड तक भुन लें।
  4. हरी मिर्च, अदरक, हींग, लाल मिर्च पाउडर और पकी हुई मूली-दाल का मिश्रण डालकर अच्छी तरह मिला ले और बीच-बीच में हिलाते हुए, मध्यम आँच पर 2-3 मिनट तक पका लें।
  5. धनिया डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  6. गरमा गरम परोसें।
पोषक मूल्य प्रति serving
ऊर्जा123 कैलरी
प्रोटीन6.4 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट16.2 ग्राम
फाइबर2.9 ग्राम
वसा3.6 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम
सोडियम18.2 मिलीग्राम
मूली मूंग दाल रेसिपी की कैलोरी के लिए यहाँ क्लिक करें
विस्तृत फोटो के साथ मूली मूंग दाल रेसिपी

अगर आपको मूली मूंग दाल रेसिपी पसंद है

  1. अगर आपको मूली मूंग दाल रेसिपी | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | mooli moong dal in Hindi | पसंद है, तो फिर दाल व्यंजनों का हमारा संग्रह देखें और कुछ व्यंजन जो हमें पसंद हैं।

मूली मूंग दाल बनाने की सामग्री

  1. मूली मूंग दाल कोनसी सामग्री से बनती है? राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल १ कप कटी हुई मूली , धोकर छानी हुई, १/२ कप पीली मूंग दाल , धोकर छानी हुई, १/२ टी-स्पून हल्दी पाउडर, स्वादअनुसार नमक, १ टेबल-स्पून घी, १/२ टी-स्पून ज़ीरा, १ तेज़पत्ता, २ लौंग, १ टी-स्पून बारीक कटी हुई हरी मिर्च, १/४ टी-स्पून कसा हुआ अदरक, १/४ टी-स्पून हीँग, १ टी-स्पून लाल मिर्च पाउडर, १/२ कप कटा हुआ हरा धनिया से बनती है।

मूली मूंग दाल के लिए टिप्स

  1. मूली को छोटे टुकड़ों में काटें, बड़े टुकड़ों में नहीं।
  2. १/४ टी-स्पून गरम मसाला स्वाद बढ़ाने वाला होगा।
  3. अगर आप दाल को बाद में परोस रहे हैं, तो आपको पानी मिलाना पड़ सकता है और दोबारा गरम करने से पहले इसकी स्थिरता को समायोजित करना पड़ सकता है।

सही मूली का चुनाव कैसे करें?

  1. मूली के पत्तों को बरकरार रखते हुए आमतौर पर गुच्छों में बांधा जाता है।
  2. चिकनी, कुरकुरी और वेल-फॉर्म्ड मूली खरीदना सुनिश्चित करें।
  3. चाहे लाल हो या सफेद, जड़ें सख्त और ठोस होनी चाहिए, एक चिकनी, बेदाग सतह के साथ।
  4. नरम या स्पंजी मूली से बचें।
  5. खरीदने से पहले मूली सडी हुई नहीं है ना यह जांच लें।
  6. उनके उपर काले धब्बे नहीं होने चाहिए।
  7. यदि पत्तियां जुड़ी हुई हैं, तो वे कुरकुरी और हरी होनी चाहिए।

सही पीली मूंग दाल का चुनाव कैसे करें?

  1. मूंग दाल किराना स्टोर, प्री-पैकेज्ड और बल्क कंटेनर में आसानी से मिल जाती है।
  2. यदि आप एक पैक कंटेनर खरीद रहे हैं, तो यह जांचें कि क्या पैकेज पर "उपयोग-दिनांक" तारीख है।
  3. किसी भी अन्य भोजन की सामग्री की तरह आप इसे थोक खंड में खरीद सकते हैं, सुनिश्चित करें कि मूंग दाल वाले डिब्बे ढके हुए हो और स्टोर में उत्पाद का अच्छा कारोबार है ताकि इसकी अधिकतम ताजगी सुनिश्चित हो सके।
  4. मूंग दाल को थोक में खरीदना हो या पैकेज्ड कंटेनर में, इस बात का ध्यान रखें कि उसमें नमी का कोई सबूत न हो।
  5. दाल रंग और आकार में एक समान होनी चाहिए।
  6. यह कीड़े और मलबे से मुक्त होनी चाहिए।

पीली मूंग दाल को धोने के लिए

  1. मूंग दाल को धोने के लिए १/२ कप पीली मूंग दाल को एक कटोरे में पर्याप्त पानी के साथ डाल कर अच्छे से धो लीजिये। आप इसे बहते पानी के नीचे भी धो सकते हैं।
  2. एक छलनी की मदद से अच्छी तरह छान लें। पानी को नीकाल दें।

मूली मूंग दाल को प्रैशर कुक करने के लिए

  1. मूली मूंग दाल को प्रैशर कुक करने के लिए, धोकर छानी हुई १ कप कटी हुई मूली को प्रेशर कुकर में डालें। मूली में विटामिन सी, फोलिक एसिड, कैल्शियम, पोटेशियम और फ्लेवोनोइड्स जैसे कई हृदय सुरक्षा पोषक तत्व होते हैं। ये फाइबर का भी एक अद्भुत स्रोत है, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। मूली में मौजूद विटामिन सी एक एंटीऑक्सिडेंट है जो अनुत्तेजक प्रभाव (anti-inflammatory effect) देता है जो गठिया के रोगियों की मदद कर सकता है। मूली में मौजूद पोटेशियम गुर्दे की पथरी के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। मूली के विस्तृत लाभ पढें। 
  2. धुली और छानी हुई मूंग दाल डालें।
  3. १/२ टी-स्पून हल्दी पाउडर डालें। हल्दी भोजन के पाचन में मदद करती है जिससे अपच दूर करने में मददमिलती है। हल्दी पाउडर शरीर में वसा की कोशिकाओं की वृद्धि को कम करने में मदद कर सकती है। आयरन से भरपूर हल्दी एनीमिया के उपचारमें अत्यधिक मूल्यवान है और हल्दी के जड़ के साथ-साथ पाउडर भी एनेमिक आहार का नियमित हिस्सा होना चाहिए। हल्दी के स्वास्थ्य लाभों मेंसे एक यह सक्रिय यौगिक कर्क्यूमिन, जो अपने ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी गुणों से जोड़ों की सूजन को दूर करने में मदद करता है और इस कारण गठियासे संबंधित दर्द को दूर करने के लिए यह एक सीढ़ी है।हल्दी में मौजूद करक्यूमिन बैक्टीरिया की सर्दी, खांसी और गले की जलन पैदा करने वालेबैक्टीरिया को मारता है। रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह के लिए भी लाभदायक पाई गई है।इसके एंटीऑक्सिडेंट और ऐन्टी-इन्फ्लैमटॉरी  प्रभाव मधुमेह के रोगियों के उपचार में उपयोगी होते हैं। यह दिमाग के लिए  अच्छा भोजन माना जाता है और अल्जाइमर जैसीबीमारियों को दूर रखता है। हल्दी के विस्तृत लाभों के लिए यहाँ देखें।
  4. स्वादानुसार नमक डालें।
  5. २ कप पानी डालें।
  6. अच्छी तरह मिलाएं और ३ सिटी तक प्रैशर कुक करें। ढक्कन खोलने से पहले भाप को निकलने दें। एक तरफ रख दें।
  7. प्रेशर कुकिंग के बाद पीली मूंग दाल कुछ इस तरह दिखती है। एक तरफ रख दें।

मूली मूंग दाल को पकाने के लिए

  1. मूली मूंग दाल को पकाने के लिए | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | mooli moong dal in Hindi | एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में १ टेबल-स्पून घी गरम करें।
  2. १/२ टी-स्पून ज़ीरा डालें।
  3. तेज़पत्ता डालें।
  4. लौंग डालें।
  5. मध्यम आंच पर कुछ सेकन्ड तक भुन लें।
  6. १ टी-स्पून बारीक कटी हुई हरी मिर्च डालें। हरी मिर्च में  मौजूद  एंटीऑक्सिडेंट विटामिन सी शरीर को हानिकारक मुक्त कणों के प्रभाव से बचाता है और तनाव से बचाता है। इसका उच्च फाइबर है जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह एक डायबिटिक आहार के लिए एक योग्य अवयव है। क्या आप एनीमिया (anaemia ) से पीड़ित हैं? तो हरी मिर्च को अपनी आयरन युक्त खाद्य पदार्थों की सूची में जरुर शामिल करें। पूरी जानकारी के लिए हरी मिर्च के फायदे देखें।  
  7. १/४ टी-स्पून कसा हुआ अदरक डालें। अदरक कन्जेशन, गले की खराश, सर्दी और खांसी के लिए एक प्रभावी इलाज है। यह अपाचन को ठीक करता है और कब्ज से भी राहत देता है। अदरक को माहवारी के दर्द (menstrual pain) से राहत देने में दवाओं के रूप में प्रभावी पाया गया है। अदरक उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले रोगियों में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी मदद करता है। अदरक गर्भवती महिलाओं में जी मचलने (nausea) के लक्षणों को काफी कम करता है। अदरक के 16 सुपर स्वास्थ्य लाभ के लिए यहाँ पढें।
  8. १/४ टी-स्पून हींग डालें। ऐक्टिव कम्पाउन्ड कौमरिन (Coumarin) रक्त में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को प्रबंधित करने में मदद करता है। हींग में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो अस्थमा को दूर रखने में मदद करता है। हींग  ब्लोटिंग और पेट में गैस की तकलीफ जैसी अन्य समस्याओं के लिए एक पुराना उपचार है। सबसे अच्छा उपाय यह है कि पानी के साथ थोड़ा सा हींग का पानी पिएं या इसे पानी में घोलकर घूंट-घूंट पीते रहे। इसका उपयोग दही या बादाम के तेल के साथ हेयर मास्क के रूप में भी किया जा सकता है। यह बालों की शुष्कता को रोकने और बालों को मजबूत बनाने के साथ-साथ उन्हें मुलायम बनाने में मदद करता है।
  9. १ टी-स्पून लाल मिर्च पाउडर डालें।
  10. पका हुआ मूली-मूंग दाल का मिश्रण डालें।
  11. १/२ कप पानी डालें।
  12. अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आंच पर बीच-बीच में हिलाते हुए २ से ३ मिनट तक पका लें।
  13. धनिया डालें। धनिया एक ताजा जड़ी बूटी है जिसे अक्सर भारतीय पाक कला में स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसका मुख्य रूप से एक गार्निश के रूप में उपयोग किया जाता है। यह इसका उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका है - कोई खाना पकाने नहीं। यह इसकी विटामिन सी की मात्रा को संरक्षित रखता है, जो हमारी प्रतिरक्षा का निर्माण करने और त्वचा में चमक लाने में मदद करता है। धनिया में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट विटामिन ए, विटामिन सी और क्वेरसेटिन हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने की दिशा में काम करते हैं। धनिया आयरन और फोलेट का भी काफी अच्छे स्रोत हैं - 2 पोषक तत्व जो हमारे रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और रखरखाव में मदद करते हैं। धनिया कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भी अच्छा है और मधुमेह रोगियों के लिए भी। विवरण समझने के लिए धनिए के 9 लाभ पढ़ें।
  14. अच्छी तरह मिलाएं।
  15. मूली मूंग दाल को | राजस्थानी मूली पीली मूंग दाल | हेल्दी मूली के पत्ते और मूंग दाल | mooli moong dal in Hindi | गरमा गरम परोसें।

मूली मूंग दाल के स्वास्थ्य को लेकर फायदे

  1. मूली मूंग दाल - एक प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर संगत।
  2. आपकी कोशिकाओं और ऊतकों को पोषण देने के लिए मूंग दाल प्रोटीन प्रदान करती है।
  3. मूली से फाइबर जोड़ने के साथ, यह दाल चयापचय को बढ़ावा देने और आपको लंबे समय तक तृप्त करने में मदद करती है।
  4. इस रेसिपी में घी की थोड़ी मात्रा योगदान देगी, ब्यूटायरेट शरीर में सूजन को कम करने और अंगों की रक्षा करने के लिए जाना जाता है।
  5. वजन बढ़ने, मधुमेह, हृदय रोग, पीसीओएस या यहां तक कि कैंसर जैसी पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों के अलावा सभी स्वस्थ व्यक्ति इस दाल का आनंद ले सकते हैं।
  6. फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, पोटेशियम और बी विटामिन कुछ अन्य पोषक तत्व हैं जो इस दाल में समृद्ध हैं।


Reviews