This category has been viewed 16593 times
 Last Updated : Feb 14,2019


 भारतीय स्वस्थ > पौष्टिक लोह युक्त



Iron Rich - Read In English
આયર્ન ભરપૂર રેસિપિ - ગુજરાતી માં વાંચો (Iron Rich recipes in Gujarati)


Top Recipes

पंडोली एक गुजराती नाश्ता है, जो बहुत ही अनोखे तरीके से डबल बॉयलर में पकाया जाता है। छोला दाल इस व्यंजन में प्रोटिन, कैल्शियम, लोहतत्व और फोलिक एसिड की मात्रा बढ़ाने में मददरूप होती है। परंतु छोला दाल को कुछ घंटों के लिए भिगोना आवश्यक है, ताकि उसकी चाहे तो पंडोली मोल्ड में भी बना सकते हैं। हमने इस पंडोली मोल्ड को रोमांचक और रंगीन बनाने के लिए इसमें पालक मिलाई है, पर आप किसी भी हरी सब्जी का उपयोग कर सकते हैं। इस पंडोली के स्वाद का आनंद हरी चटनी या नारियल की चटनी के साथ लें।
म्यूसली अनाज, सूखे मेवे और ताज़े फल का संतुलित मेल होता है। सुबह के लिए, यह अपने आप में ही एक संपूर्ण नाश्ता है क्योंकि इसमें भरपुर मात्रा में प्रोटीन, कॅल्शियम, लौषतत्व, रेशांक, विटामीन और ऑक्सीकरण रोधी होते हैं। आप सभी सूखी सामग्री को मिलाकर हवा-बन्द डब्बे में रख सकते हैं, जिससे समय कम होने पर, आपको इसमें केवल ताज़े कटे हुए फल और दूध मिलाना होगा।
तुवर दाल हरे पत्तेदार सब्ज़ीयों के साथ अच्छी तरह जजती है, केवल इस बात का ध्यान रखें कि दाल पुरी तरह घुल जाए लेकिन मसल ना जाए। यहाँ, पालक और तुवर दाल को साथ मिलाकर, संभल कर प्रैशर कुक किया गया है और पर्याप्त रुप पाने के लिए ब्लेन्ड किया गया है। तड़के में कुछ साबूत मसाले डाले गए हैं जो इस पालक तुवर दाल को ताज़ी खुशबु और बेहतरीन स्वाद प्रदान करते हैं।
अक्सर हम बाजार से जब फूलगोभी खरीदते हैं तब उसके हरे भाग को जल्दी से फेंक देते हैं और सिर्फ फूलगोभी के सफेद भाग को फ्रिज में रख देते हैं! यह रेसिपी आपको इस फूलगोभी के इस्तेमाल नहीं किए जाने वाले भाग की खूबी का अनुभव लेने में मदद करेगी। यह फूलगोभी के हरे पत्ते लोह और फोलिक एसिड का एक बड़ा स्रोत हैं, जो गर्भवती महिलाओं के लिए उति आवश्यक पोषक तत्व हैं। फूलगोभी के पत्ते और बेसन मुठिया एक स्वादिष्ट और पौष्टिक स्टीम्ड नाश्ता है, जो आपके लोहे और फोलिक एसिड के स्तर में बढ़ावा करने के साथ-साथ हीमोग्लोबिन की मात्रा भी बढ़ाते हैं। आपको पारंपरिक तरीके से छौंके गए मुठिया का स्वादिष्ट टेक्सचर और लुभावना स्वाद भी खूब अच्छा लगेगा। गर्भावस्था के दौरान अन्य लोह युक्त व्यंजन भी आजमाईए जैसे पोहा कटलेट , चवली बीन्स् एण्ड मिन्ट बर्गर और कोलोकैशिया लीफ उसली
आपने बाजरा खिचड़ी का नाम को सुना ही होगा, जो एक मशहुर राजस्थानी व्यंजन है। हालांकि यह एक संपूर्ण व्यंजन है, यह और भी ज़्यादा पौष्टिक और स्वस्थ सामग्री से बना है, जैसे साबूत मूंग, हरे मटर और टमाटर। यह इस खिचड़ौ को ना केवल करारापन और खट्टापन प्रदान करते हैं, लेकिन साथ ही रेशांक, लौहतत्व और प्रोटीन प्रदान करते हैं, जो इस बाजरा, होल मूंग एण्ड ग्रीन पी खिचड़ी को अपने आप में ही संपूर्ण बनाते हैं।
एक मिनट में बर्फी, और वह भी बेहद पौष्टिक? यह एक ऐसी ही है! अंजीर एण्ड मिक्स्ड नट बर्फी, जैसा इसका नाम है, अंजीर, मेवे और तिल जैसे लौहतत्व भरपुर और स्वादभरी सामग्री का मेल है। केसर और इलायची के साथ एक टी-स्पून घी इस झटपट बर्फी को मज़ेदार खुशबु प्रदान करता है। अंजीर की मिठास को मेवे के स्वाद के संतुलित बनाया गया है। देखा गया तो, यह आपके लिए एक झटपट और आसानी से बनने वाली मिठाई है।
दोपहर के खाने की शुरुआत करने का एक हल्का और रंग-बिरंगा तरीका! इस खट्टे, करारे बीन स्प्राउटस् एण्ड सुआ टोस्ड सलाद में, सुआ, टमाटर और बीन सप्राउट्स, नमक और नींबू के रस के साथ बेहतरीन तरह जजते है। सुआ लौहतत्व का बेहतरीन स्रोत होता है, वहीं बीन स्प्राउटस् विटामीन सी से भरपुर होते हैं, जो लौहतत्व को सोखने में मदद करते हैं।
नाम से पता चल जाता है कि इस रोटी की मूख्य सामग्री है बाजरा। और इसी के साथ मिलाए गए हैं उबले और मसले हुए हरे मटर, जिससे रोटी को मिलता है उसका अनोखा स्वाद। इस रोटी को मज़ेदार और अधिक स्वादिषट बनाने के लिए बहुत सारा ताज़ा धनिया और थोडी सी कालीमिर्च मिलाई गई है। इसकी सुगंध और शानदार बनावट का मज़ा लेने के लिए इसे बनाकर तुरंत परोसना अत्यधिक आवश्यक है।
यह हल्का गर्म शहद नींबू का पानी, हल्दी के साथ सरल डिटॉक्स् समाधान है जिसका आप प्रतिदिन सुबह उठकर सबसे पहले सेवन कर सकते हैं। हम सभी जानते हैं कि नींबू के रस और हल्दी के अद्भूत स्वास्थ्य लाभ हैं और इस आसान नुस्खे में यह दोनों सामग्री एक साथ है। हल्दी पाउडर जो हर किसी के मसाले की डिब्बे में पाई जाती है, उसकी जड़ों को कुछ घंटों तक उबालने के बाद हफ्तों तक सुखाने के बाद बड़े ग्राइन्डर में पीसकर उसका पाउडर तैयार किया जाता है। यह पित्त के प्रवाह को उत्तेजित करके पाचन में मदद रूप होती है और साथ ही यह एंटीसेप्टिक गुणों के लिए भी जानी जाती है। उसकी इसी एंटीसेप्टिक प्रक्रिया के लिए उसका पेचिश और दस्त के इलाज में प्रयोग किया जाता है। क्योंकि हल्दी का उपयोग बहुत कम मात्रा में किया जाता है, इसलिए बहुत सारे लोग हल्दी में पाए जाने वाले लौह की अच्छी मात्रा से अवगत नहीं होता, जो अनेमिया दूर करने में मदद रूप होता है। ककर्यूमिन कुमिन हल्दी में पाए जाने वाले एक अनुत्तेजक पदार्थ है, जो जोडों के सूजन को कम करने में मदद रूप होता है। बेशक नींबू के रस के लाभ को भी भूलाए नहीं जा सकते है। यह सुबह में आपके चयापचय को बढ़ावा देने के साथ-साथ विटामिन सी जैसे एंटिऑक्सिडेंट का एक अच्छा स्त्रौत है। शहद में स्वाद को संतुलित करने में मदद करता है, जिससे यह पेय रोज़ सुबह के सेवन के लिए मज़ेदार बनता है। इस पेय के सभी लाभ से आपको परिचित कराने के बाद, हमारी सलाह है कि आप इस पेय का आनंद स्ट्रो (straw) से लें क्योंकि नींबू का रस अम्लीय होता है और स्ट्रो के बिना पिने पर आपके दाँतों के एनामेल (enamel) को नुकसान पहुंचा सकता है। पाईनएप्पल एण्ड मस्कमेलन ड्रिंक और नारियल पानी के साथ नारियल की मलाई जैसे और भी पौष्टिक पेय रेसिपी जरूर आज़माइए।
लैट्यूस एक अनदेखा खज़ाना है! बहुत से लोगों यह नहीं पता कि लैट्यूस लौहतत्व का अच्छा स्रोत होता है। यह एक लैट्यूस से बना एक क्रिमी सूप है जिसे बारीक कटी हुई फूलगोभी से गाढ़ा बनाया गया है, जो ना केवल क्रिमी रुप प्रदान करता है, साथ ही लैट्यूस के स्वाद को संतुलित बनाता है। फूलगोभी के प्रयोग से इसमें दूध का प्रयोग भी नहीं करना पड़ता है! कटे हुए प्याज़ और कालीमिर्च इस लौह भरपुर और संपूर्ण लैट्यूस एण्ड कॉलीफ्लॉवर सूप को स्वाद और खुशबु प्रदान करते हैं।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन