This category has been viewed 803 times
 Last Updated : Mar 09,2020


 भारतीय स्वस्थ > स्तनपान की रेसिपीः



Lactation - Read In English
સ્તનપાન માટે રેસીપી - ગુજરાતી માં વાંચો (Lactation recipes in Gujarati)

स्तनपान की रेसिपीः भारतीय स्तनपान की रेसिपीः Indian Lactation Recipes in Hindi 


Top Recipes

खिचड़ी अपने आप में ही एक संपूर्ण और पौष्टिक आहार है, खासतौर पर जब इसे दही के साथ परोसा जाये। साथ ही यह एक ही व्यंजन में 2 खाद्य समूह को शामिल करने का एक अच्छा तरीका है-जैसे अनाज और सब्ज़ीयाँ। इस सम तक, बच्चे अपना खाना चबाना शुरु कर देते हैं और इस व्यंजन में कटी हुई सब्ज़ीयाँ इस प्रक्रीया को प्रोत्साहित करता है।
कितना मज़ा आता है जब हम पेट भर पार्टी मे खाने का आनंद लेते हैं, लेकिन उसके बाद होने वाला पेट दर्द हमसे बदर्शात नही होता! लेकिन चिंता ना करें, अपच या गैस के कारण पेट दर्द से आराम पाने के लिए यह एक स्वादिष्ट उपाय है। मीठे गुड़ के साथ तीखे सौंठ का मेल बेहद स्वादिष्ट लगता है, लेकिन सबसे महत्वपुर्ण बात यह है कि यह दोनो सामग्री पेट मे पचाने वाले एन्ज़ाईम्स् को काम करने में मदद करते हैं और आँत को साफ रखने में भी मदद करते हैँ, जो इन जैगरी एण्ड ड्राईड जिंजर बॉल्स् को पेट दर्द के लिए बेहतरीन उपाय बनाता है। आप इन बॉल्स् को बनाकर पेहले से रख सकते हैं और सोने से पुर्व रोज़ 2 बा़ल्स् का सेवन कर सकते हैं।
दलिया और ओटस् जैसे अनाज और केले और सेब जैसे फल का पौष्टिक मेल इस पॉरिज को स्वादिष्ट और बेहतरीन बनाता है। पकाने से पहले दलिया और ओटस् को भुनने से इसके कच्ची खुशबु को कम करने में मदद करता है, वहीं दालचीनी पाउडर और फल इसकी खुशबु और इसके स्वाद को और भी निहारते हैं। आपके सुबह की शुरुआत करने के लिए यह बनाना एप्पल पॉरिज पर्याप्त तरीका है, क्योंकि यह ना केवल भरपुर मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता है, लेकिन साथ ही कॅल्शियम, प्रोटीन, रेशांक आदि से भी भरपुर है।
इन फीके स्वाद वाले रोटीयों को लहसुन, हरी मिर्च का पेस्ट और तिल अनोखा स्वाद प्रदान करते हैं। बेहतरीन परिणाम के लिए, इन आसानी से बनने वाली रोटीयों को घी के साथ गरमा गरम परोसें।
क्या आपको पता है कि 100 ग्राम हलीम के बीज में 100 मिलीग्राम लौहतत्व होता है? किसने सोचा था कि यह छोटा सा बीज लौहतत्व का खज़ाना होगा! हलीम लड्डू एक पारंपरिक महाराष्ट्रियन मिठाई है, जिसे लौह भरपुर हलीम के बीज से बनाया गया है। गुड़ और बादाम जैसी अन्य सामग्री भी इन स्वादिष्ट लड्डू के लौहतत्व को बढ़ाते हैं। इस पौष्टिक विकल्प में, हमनें नारियल की मात्रा भी कम की है, जिससे सैच्य़ूरेटड वसा की मात्रा को कम रखा जा सके।
अदरक की चाय | अदरक का पानी | सर्दी और खांसी के लिए अदरक का पानी | सर्दी और खांसी के लिए घरेलु नुस्खे | ginger water recipe in hindi | with 7 amazing images. अदरक की चाय के ताज़ा स्वाद के साथ एक सुखद पेय, अदरक की चाय आपकी आत्मा को गर्म करती है और आपको बेहतर महसूस कराती है। ठंड और खांसी के लिए भारतीय स्टाइल अदरक की चाय बनाने के लिए, एक गिलास में अदरक और गर्म पानी को मिलाएं, ढक्कन के साथ कवर करें और 5 मिनट के लिए अलग रखें। मिश्रण तनाव और तुरंत अदरक की चाय गर्म - गर्म परोसें। अदरक पारंपरिक रूप से अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए इस्तेमाल किया गया है। पेट के अपच का इलाज करने से लेकर कुछ प्रकार के कैंसर तक, यह आम मसाला चिकित्सीय लाभ प्रदान करता है। अदरक मतली, उल्टी और चक्कर को रोकने में भी अच्छा काम करता है। इसे कभी-कभी गर्भवती महिलाओं द्वारा और मोशन सिकनेस के लिए अतिसंवेदनशील लोगों द्वारा सुबह की बीमारी के लिए एक हर्बल उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है। नीचे दिया गया है अदरक की चाय | अदरक का पानी | सर्दी और खांसी के लिए अदरक का पानी | सर्दी और खांसी के लिए घरेलु नुस्खे | ginger water recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
यह आरोग्यदायक और संतोषजनक दलीया का पॅारिज 8-9 महीनों के शिशुओं के लिए एक उत्तम भोजन है, जब वे फूर्तीले होने के साथ-साथ तेज़ी से बढ़ते भी हैं। यह पॅारिज शिशुओं को कुछ घंटों तक संतुष्ट रखता है और यह उर्जा कार्बोहाइड्रेट और लोह जैसे पोषकतत्वों का एक अच्छा स्श्रोत भी है। खज़ूर का उपयोग इस पॅारिज की मिठास बढ़ाने के लिए किया गया है, जो उपयुक्त मात्रा में लोह और फइबर भी प्रदान करता हैं। एप्पल एण्ड कॅरट सूप विद पटॅटोस् और ज्वार एण्ड रागी पॉरिज जैसे अन्य व्यंजन भी शिशू के लिऐ आरोग्यदायक हैं।
भूख लगी है लेकिन खाने का अभी तक समय नहीं हुआ है? इस प्रकार की भूख के लिए यह डेट एण्ड एप्पल शेक पर्याप्त है। ऊर्जा भरपुर यह ग्लास आपको तुरंत तरो ताज़ा कर देगा! सेब और खजूर का मेल रेशांक से भरपुर होता है, जो आपका पेट लंबे समय तक भरा रखने में मदद करता है। लो-फॅट दूध का प्रयोग करने से आपको ज़रुरी कॅल्शियम प्रदान होता है लेकिन ज़हरीला वसा नहीं। देखा गया तो, यह स्वाद और पौषणतत्व का सही विजेता है!
खाना खाने के बाद लिया जाने वाला एक शानदार मुखवास! अलसी के बीजों में निहित ओमेगा 3 फैटी एसिड्स हमारी कोशिका झिल्लियों (सेल मेंब्रेन्स), सिग्नलिंग के मार्गों और न्यूरोलॉजिकल प्रणालियों को बनाने में मदद करता है। इस मुखवास के रूप में इन बीजों को बड़ी सहजता से खाया जा सकता है। आप इन बीजों के मिश्रण के लुभावने स्वाद जरूर पसंद करेंगे।
चिया सीड लस्सी रेसिपी | चिया सीड स्मूदी | चिया बीज और नाशपाती की लस्सी | बिना चीनी की लस्सी | chia seed and pear lassi in hindi | with 12 amazing images. चिया बीज और नाशपाती लस्सी आपके फाइबर की आवश्यकता के लिए एक स्वस्थ संतृप्त नाश्ता विकल्प है। पंजाबी अपनी लस्सी से प्यार करते हैं। लेकिन अगर आप शुगर-फ्री विकल्प की तलाश में हैं तो इस हेल्दी चिया सीड लस्सी रेसिपी को ट्राई करें। चिया सीड लस्सी बनाने के लिए , चिया के बीज को १ टेबलस्पून पानी में २ घंटे के लिए भिगो दें। एक तरफ रख दें।फिर एक छोटे मिक्सर में नाशपाती और १/४ पानी मिलाएं और मुलायम होने तक पीस लें। एक तरफ रख दें। फिर दही, नाशपाती-पानी का मिश्रण, दालचीनी और शहद को एक बड़े मिक्सर में मिलाएं और और मुलायम होने तक पीस लें। इसे एक कटोरे में निकाल ले, इसमें भिगोए हुए चिया के बीज डालें और अच्छी तरह मिला लें। चिया सीड लस्सीको कम से कम १ घंटे के लिए फ्रिज में ठंडा करें और ठंडा परोसें। देखते हैं कि यह चिया सीड लस्सी स्वस्थ क्यों है? नाशपाती फाइबर, विटामिन सी कई कार्ब्स के बिना देता है; जबकि दही प्रोटीन और कैल्शियम उधार देता है। फाइबर आपके आंत को स्वस्थ रखेगा और शेष 3 पोषक तत्व हड्डियों के विकास और मजबूती में सहायता करेंगे। ग्लाइसेमिक इंडेक्स स्केल पर कम होना, दही और नाशपाती दोनों ही मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद हैं। उन्हें बस शहद के उपयोग से बचने की जरूरत है। इसके अलावा सेवारत आकार का नियंत्रण मधुमेह खाद्य प्रबंधन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। नीचे दिया गया है चिया सीड लस्सी रेसिपी | चिया सीड स्मूदी | चिया बीज और नाशपाती की लस्सी | बिना चीनी की लस्सी | chia seed and pear lassi in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन