दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा - Dal Baati Churma
द्वारा

दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा in Hindi

This recipe has been viewed 119468 times
5/5 stars  100% LIKED IT   
4 REVIEWS ALL GOOD

Dal Baati Churma - Read in English 



दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा | dal baati churma recipe in hindi language | with 50 amazing images.

थ्री-इन-वन ट्रीट दाल बाटी चूरमा एक पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन हैं। राजस्थानी खाने में मीठा और नमकीन साथ परोसने में खासियत रखते हैं जो सबका मन जितते हैं और स्वाद कलियों को खुश करते हैं।

हल्का मीठा चूरमा, तीखी दाल और तली हुई बाटी का मेल एक ऐसा ही पारंपरिक राजस्थानी दाल बाटी चूरमा मेल है। गरमा गरम दाल में डूबी ताज़ी बाटी चूरमा के साथ परोसने के लिए पर्याप्त है। पानी की कमी और जलवायु परिस्थितियों के कारण, खाना पकाने के विभिन्न तरीकों का उपयोग किया जाता है। राजस्थानी व्यंजनों में ऐसे व्यंजन हैं जिन्हें तैयार करके दिनों तक संग्रहीत किया जा सकता है!

दाल बाटी राजस्थानी व्यंजनों का एक मुख्य भोजन है, जिस व्यंजन के लिए जाना जाता है। बाटी एक कठिन ब्रेड है जिसे मोटे गेहूं के आटे, सूजी, घी, बेसन और सौंफ और अजवायन से बनाया जाता है। बाटी को तला या बेक किया जा सकता है। बाटी की उत्पत्ति रावल वंश के लिए वापस जाती है जहाँ सैनिक आटे की गोले बनाते हैं और उन्हें रेत के नीचे दफनाते हैं और युद्ध से वापस लौटने के बाद बाटी पूरी तरह से और अच्छी तरह से बेक हो जाएगी। बाटी एक प्रसिद्ध युद्ध-काल का भोजन बन गया। बाद में, फिर दाल बाटी का संयोजन बहुत प्रसिद्ध हुआ।

माना जाता है कि चूरमा का आविष्कार दुर्घटना से हुआ था, गलती से गन्ने का रस बाटी के ऊपर गिर गया जिससे वे नरम हो गए और आगे चलकर चूरमा में विकसित हुआ।

दाल बाटी चूरमा को एक साथ बनाने की प्रक्रिया में अभी काफी समय लग सकता है, फिर भी बाहर आने और प्रयास करने लायक हैं !! सभी दाल बाटी चूरमा बनाने में घी की मात्रा का उपयोग किया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि घी स्वाद को बढ़ाता है और असली स्वाद को बाहर लाने में मदद करता है।

दाल बाटी चूरमा रेसिपी के लिए टिप्स। 1. बाटी के लिए आटा सख्त होना चाहिए वरना बाटी को मजबूती नहीं मिलेगी। 2. अपने अंगूठे का उपयोग करके बाटियों के केंद्र में एक छोटा सा इंडेंटेशन बनाएं। आप एक 'X' या '+' साइन इंडेंटेशन भी बना सकते हैं, इसलिए यह अंदर से भी अच्छी तरह से पकाया जाता है।

अगर आप ठंड के दिनों में कभी राजस्थान गए हैं, तो आपको यह अहसास होगा कि अपने आप को ठंड के दिनों में आराम प्रदान करने के लिए यह दाल बाटी चूरमा का व्यंजन अच्छा चुनाव है।

आनंद लें दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा | dal baati churma recipe in hindi language स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।

दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा - Dal Baati Churma recipe in Hindi

तैयारी का समय:    पकाने का समय:    कुल समय :     ४ मात्रा के लिये
मुझे दिखाओ मात्रा

सामग्री

चूरमा के लिए
१ कप दरदरा गेहूं का आटा
१/४ कप सूजी
४ टेबल-स्पून पिघला हुआ घी
२ टेबल-स्पून बादाम के कतरन
१/४ टी-स्पून इलायची पाउडर
५ टेबल-स्पून पीसी हुई शक्कर
घी , तलने के लिए

दाल के लिए
५ टेबल-स्पून चना दाल
५ टेबल-स्पून तुवर दाल
५ टेबल-स्पून मूंग दाल
१ टेबल-स्पून उड़द दाल
नमक स्वादअनुसार
३ टेबल-स्पून घी
लौंग
तेज़पत्ता
१ टी-स्पून ज़ीरा
हरी मिर्च , चीर लगी हुई
एक चुटकी हींग
१ टी-स्पून लहसुन का पेस्ट
१ कप बारीक कटा हुआ प्याज़
१ कप बारीक कटे हुए टमाटर
१ टी-स्पून धनिया पाउडर
१/२ टी-स्पून हल्दी पाउडर
१ टेबल-स्पून लाल मिर्च पाउडर
१/२ टी-स्पून गरम मसाला
१ टेबल-स्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया

बाटी के लिए
१ कप दरदरा गेहूं का आटा
१/२ कप सूजी
२ टेबल-स्पून बेसन
१/२ कप दूध
४ टेबल-स्पून पिघला हुआ घी
१ टी-स्पून सौंफ
१/४ टी-स्पून अजवायन
नमक स्वादअनुसार
घी , तलने के लिए

टॉपिंग के लिए
४ टेबल-स्पून पिघला हुआ घी
८ टेबल-स्पून बारीक कटा हुआ प्याज़
२ टी-स्पून नींबू का रस
विधि
चूरमा के लिए

    चूरमा के लिए
  1. गेहूं का आटा, सूजी और पिघले हुए घी को एक गहरे बाउल मे डालकर अच्छी तरह मिला लें। लगभग 1/4 कप पानी डालकर सख्त आटा गूंथ लें।
  2. आटे को 8 भाग में बाँट लें।
  3. आटे के प्रत्येक भाग को अपनी हथेली के बीच रखकर गोल आकार में बना लें और ऊँगलीयों से बीच में दबा लें, जैसे नीचे दिये चित्र में दिखाया गया है।
  4. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें और थोड़े-थोड़े आटे के गोले डालकर, धिमी आँच उनके सभी तरफ से सुनहरा होने तक तल लें। इन्हें तलने में ज्यादा समय लगता है क्योंकि अंदर के भाग को पकने में भी समय लगता है।
  5. तेल सोखने वाले कागज़ पर निकाल लें और ठंडा होने देँ।
  6. तले हुए आटे के गोलों को मिक्सर मे पीसकर बारीक पाउडर बना लें।
  7. बादाम, इलायची पाउडर और पीसी हुई शक्कर डालकर अच्छी तरह मिला लें। एक तरफ रख दें।

दाल के लिए

    दाल के लिए
  1. सभी साल को अच्छी तरह साफ कर धो लें। दाल, नमक और 4 कप पानी को प्रैशर कुकर में डालकर अच्छी तरह मिला लें और 3 सिटी तक प्रैशर कुक कर लें।
  2. ढ़क्कन खोलने से पुर्व सारी भाप निकलने दें। पानी छाने बिना एक तरफ रख दें।
  3. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें, लौंग, तेज़पत्ता, ज़ीरा, हरी मिर्च और हींग डालकर मध्यम आँच पर कुछ सेकन्ड तक भुन लें।
  4. जब बीज चटकने लगे, लहसुन का पेस्ट और प्याज़ डालकर मध्यम आँच पर 2-3 मिनट तक भुन लें।
  5. टमाटर, धनिया पाउडर, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और गरम मसाला डालकर अच्छी तरह मिला लें और बीच-बीच में हिलाते हुए मध्यम आँच पर 2 मिनट तक पका लें।
  6. पकी हुई दाल और थोड़ा नमक डालकर अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आँच पर, बीच-बीच मे हिलाते हुए 2-3 मिनट तक पका लें।
  7. धनिया डालकर अच्छी तरह मिला लें। एक तरफ रख दें।

बाटी के लिए

    बाटी के लिए
  1. सभी सामग्री को एक गहरे बाउल में डालकर मिला लें और बिना पानी के प्रयोग किये, हल्का सख्त आटा गूंथ लें।
  2. आटे को 8 भाग में बाँट लें और प्रत्येक भाग के समान आकार के गोले बना लें।
  3. गोलों को चपटा कर लें और अपने अँगूठे से बाटी के बीच में हल्का दबा लें। एक तरफ रख दें।
  4. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में भरपुर मात्रा में पानी उबालें, सभी बाटी डालकर तेज़ आँच पर 15 मिनट तक पका लें और बीच-बीच में घुमाते रहें। छानकर पुरी तरह ठंडा करने रख दें।
  5. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें, एक समय में 4 बाटी डालकर उनके सभी तरफ से सुनहरा होने तक तल लें।
  6. विधी क्रमांक 7 को दोहराकर बची हुई 4 बाटी तल लें। तेल सोखने वाले कागज़ पर निकालकर एक तरफ रख दें।

दाल बाटी चुरमा परोसने की विधी

    दाल बाटी चुरमा परोसने की विधी
  1. दाल को दुबारा गरम कर लें।
  2. परोसने की प्लेट में 2 बाटी डालकर टुकड़ो में तोड़ लें और 1 टेबल-स्पून घी डालें। दाल के 1/4 भाग को अच्छी तरह डाल दें। 2 टेबल-स्पून बारीक कटा हुआ प्याज़ और 1/2 टी-स्पून नींबू का रस डालें।
  3. विधी क्रमांक 2 को दोहराकर 3 और मात्रा दाल बाटी बना लें।
  4. चूरमा के साथ तुरंत परोसें।
विस्तृत फोटो के साथ दाल बाटी चूरमा रेसिपी | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा

राजस्थानी दाल बाटी चूरमा के लिए रेसिपी नोट्स

  1. हमने दरदरे गेहूं के आटे का उपयोग किया है क्योंकि यह एक दानेदार बनावट और एक पौष्टिक स्वाद देता है।
  2. बाटी के लिए आटा सख्त होना चाहिए वरना बाटी फर्म नहीं बनेगी।
  3. दाल बाटी चूरमा की इस रेसिपी में हमने कम घी का इस्तेमाल किया है, लेकिन परंपरागत रूप से घी दाल बाटी चूरमा रेसिपी में एक महत्वपूर्ण घटक है। कई घरों में फ्राई करने के बाद उन्हें घी में डुबो कर रखा जाता है और फिर परोसा जाता है।
  4. चूरमा को साइड में खाया जाता है या आप चाहें तो इसे दाल बाटी के ऊपर छिड़क कर खा सकते हैं।
  5. परंपरागत रूप से बाटी को कोयले पर रखकर पकाया जाता है। यहाँ हमने उन्हें डीप-फ्राइड किया है। वैकल्पिक रूप से आप उन्हें ओवन या तंदूर में भी बेक कर सकते हैं।
  6. भिन्नता के लिए, बेक्ड मसाला बाटी की हमारी विधि देखें। यह बाटी को स्वादिष्ट बनाने के लिए हरे मटर की स्टफिंग से स्टफ्ट कीया है।
  7. यह रेसिपी दाल, बाटी और चूरमा ३ से १ का कॉम्बो है। तो पहले चूरमा से शुरुआत करते हैं।

चूरमा बनाने के लिए

  1. दाल बाटी चूरमा के लिए चूरमा बनाने के लिए | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा | dal baati churma recipe in hindi | एक गहरे कटोरे या परात / थाल में, गेहूं का आटा लें।
  2. चूरमा की दानेदार बनावट पाने के लिए सूजी डालें। यदि जाडा गेहूँ का उपयोग करते हैं तो रवा जोड़ना छोड़ें।
  3. पिघला हुआ घी डालें।
  4. १/२ कप पानी डालें। आप पानी की जगह दूध का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आटे को बांधने के जितना ही पर्याप्त पानी का उपयोग करें।
  5. सभी सामग्री को मिलाएं और एक सख्त आटा गूंधें। हमे आटे को ब्रेड के आटा की तरह गूंधने की ज़रूरत नहीं है। आप सिर्फ आटे को एक साथ बाँधते हैं और पकौड़ी बनाते हैं जैसे हम टार्ट बनाते हैं।
  6. आटे को ८ बराबर भागों में विभाजित करें।
  7. प्रत्येक भाग को अपनी मुट्ठी का आकार दें। आटे का हिस्सा ऐसा होना चाहिए कि अगर आप उन्हें तलने के लिए तो वे टूट न जाऐ। 
  8. डिप्रेशन बनाने के लिए प्रत्येक भाग के केंद्र में अपनी उंगलियों से दबाएं।
  9. एक गहरी नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें और ४ आटे के भागों को तल लें। एक अच्छा स्वाद पाने के लिए, हमने तलने के लिए घी का उपयोग कर रहे हैं, लेकिन आप तेल का उपयोग भी कर सकते हैं।
  10. मध्यम आंच पर २० मिनट या तब तक भूनें जब तक वे चारों ओर से सुनहरे भूरे रंग के न हो जाएं। घी मध्यम गरम होना चाहिए ताकि गेहूं की पकौड़ी अंदर से ठीक से पक जाए। यदि आप पहली बार बना रहें हैं और यह नहीं समझपाते हैं कि आटे का भाग अच्छी तरह से तला हुआ है या नहीं, तो एक तले हुए हिस्से को आधा तोड़ें और यदि आप ध्यान दें कि वह अंदर से नरम और  भूरा नहीं है, तो आप आटा के बाकी हिस्सों को लंबी अवधि के लिए तल लें।
  11. तेल सोखने वाले काहज़ पर निकाल लें और ठंडा करने के लिए रख दें।
  12. चरण ९ से ११ को दोहराते हुए और ४ आटे के गोले को तल लें।आपको तलते समय धैर्य रखना होगा, वे अंदर से कच्चे नहीं रहने चाहीए।
  13. ठंडा होने पर अपने हाथों से छोटे टुकड़ों में तोड़ लें।
  14. उन्हें मिक्सर जार में डालें।
  15. एक बारीक पाउडर होने तक पीस लें। इस स्मूद मिश्रण को "चूरमा" कहा जाता है।
  16. चूरमा को एक गहरे कटोरे में निकालें और एक तरफ रख दें।
  17. बादाम के कतरन डालें। अन्य सूखे पदार्थ जैसे अखरोट, पिस्ता, किशमिश भी मिलाया जा सकता हैं।
  18. चूरमा का स्वाद बढ़ाने के लिए इलायची पाउडर डालें।
  19. पीसी हुई शक्कर डालें। आप जो मिठास पसंद करते हैं, उसके अनुसार कम या ज्यादा शक्कर मिलाएं।
  20. अच्छी तरह मिलाएं। एक तरफ रख दें। आप एक दिन पहले चूरमा बनाकर फ्रिज में रख सकते हैं।

दाल बनाने के लिए

  1. दाल बाटी चूरमा रेसिपी के लिए दाल बनाने के लिए | राजस्थानी दाल बाटी चूरमा | असली दाल बाटी चूरमा | dal baati churma recipe in hindi | दाल को साफ करें और धो लें।
  2. एक प्रेशर कुकर में दाल डालें।
  3. ४ कप पानी और नमक डालें।
  4. अच्छी तरह से मिलाएं और ३ सीटी के लिए या टेंडर होने तक प्रेशर कुक करें, लेकिन अगर आपकी दाल अभी भी पकी नहीं है, तो ढक्कन को बंद कर दें और फिर से १ से २ सीटी के लिए प्रेशर कुक करें। ढक्कन खोलने से पहले भाप को निकलने दें।
  5. इसे एक बार हिला लें। पानी की निकासी न करें और एक तरफ रखें।
  6. दाल बाटी चूरमा के लिए दाल को तड़का लगाने के लिए, एक गहरे नॉन-स्टिक कढ़ाई में घी गरम करें।
  7. जब घी गरम हो जाए, तो उसमें लौंग डालें।
  8. तेज़पत्ता डालें।
  9. ज़ीरा डालें।
  10. हरी मिर्च डालें।
  11. हींग डालें और मध्यम आंच पर कुछ सेकेंड के लिए भून लें।
  12. जब बीज चटक जाए तो लहसुन का पेस्ट डालें।
  13. प्याज़ डालें।
  14. मध्यम आंच पर २ से ३ मिनट के लिए या प्याज के पारदर्शी होने तक भून लें।
  15. टमाटर डालें। लाल पके हुए टमाटर का उपयोग करें।
  16. धनिया पाउडर डालें।
  17. हल्दी पाउडर डालें।
  18. मिर्च पाउडर डालें। मसाले के स्तर के अनुसार कम या ज्यादा जोड़ें।
  19. गरम मसाला डालें।
  20. अच्छी तरह से मिलाएं और मध्यम आंच पर बीच-बीच में हिलाते हुए २ मिनट के लिए पकाएं।
  21. पकी हुई दाल (पानी के साथ) डालें।
  22. थोड़ा नमक डालें।
  23. अच्छी तरह से मिलाएं और मध्यम आंच पर बीच-बीच में हिलाते हुए २ से ३ मिनट के लिए पकाएं।
  24. धनिया डालें।
  25. अच्छी तरह मिलाएं। एक तरफ रख दें।

दाल बाटी के लिए बाटी बनाने के लिए

  1. राजस्थानी बाटी तैयार करने के लिए, एक गहरे कटोरे में गेहूं का आटा लें।
  2. सूजी डालें।
  3. बेसन डालें।
  4. दूध डालें।
  5. घी डालें। इस में घी जोड़ने को 'मोयन' कहा जाता है। यह बाटी को क्रम्ब्ली और खस्ता  बनाने में मदद करता है।
  6. राजस्थानी बाटी का स्वाद बढ़ाने के लिए सौंफ और अजवायन डालें।
  7. स्वादानुसार नमक डालें।
  8. बिना पानी के प्रयोग किये हल्का सख्त आटा गूंथ लें।
  9. गोल चपटा करें।
  10. अपने अंगूठे का उपयोग करके बाटियों के केंद्र में एक छोटा सा इंडेंटेशन बनाएं। आप एक 'X' या '+' साइन इंडेंटेशन भी बना सकते हैं, ताकी यह अंदर से भी अच्छी तरह से पकाया जाता है। एक तरफ रख दें।
  11. एक गहरे नॉन-स्टिक कढ़ाई में पर्याप्त पानी उबालें और ध्यान से सभी बाटी को उबलते पानी में डालें।
  12. तेज़ आंच पर १५ मिनट तक पका लें और बीच-बीच में घुमाते रहें।
  13. छान लें और उन्हें पूरी तरह से ठंडा करने रख दें।
  14. एक गहरे नॉन-स्टिक कढाई में घी गरम करें और एक बार में ४ बाटी डालें।
  15. सभी तरफ से सुनहरा भूरे रंग में बदल जाने तक तल लें।
  16. तेल सोखने वाले कागज़ पर बाटी को निकालकर एक तरफ रख दें।
  17. चरण १४ से १६ दोहराएं और शेष ४ बाटियों को एक और बैच में तल लें। पारंपारीक बाटी को बनाने के लिए, जले हुए स्मोकी स्वाद को देने के लिए गोइठा या चारकोल पर भुना जाता है। एक समान बनावट देने के लिए आप सभी बाटी को बेकिंग शीट पर रख सकते हैं और उन्हें घी से ब्रश कर सकते हैं। १८ से २० मिनट के लिए या नीचे की सतह पर हल्का सुनहरा भूरा होने तक 200'C पर बेक करें। फिर ओवन से बाहर निकालें, सभी बाटी को पलटें और दूसरी तरफ से १५ से १८ मिनट तक फिर से बेक करें। वैकल्पिक रूप से, आप बाटी को गैस तंदूर में भी बेक कर सकते हैं।
  18. हमारा चूरमा, दाल और बाटी अब असेम्बल करने के लिए तैयार हैं।

दाल बाटी चूरमा को परोसने के लिए

  1. दाल को फिर से पूरा गरम करें। एक सर्विंग डिश पर २ बाटी रखें।
  2. अपने हाथों से उन्हें टुकड़ों में तोड़ दें।
  3. इसके ऊपर समान रूप से १ टेबल-स्पून पिघला हुआ घी डालें।
  4. इसके ऊपर समान रूप से १/४ भाग दाल डालें।
  5. २ टेबल-स्पून प्याज छिड़कें।
  6. और अंत में उस पर समान रूप से १/२ टी-स्पून नींबू का रस डालें।
  7. ३ और सर्विंग बनाने के लिए दोहराएं।
  8. चूरमा के साथ तुरंत परोसें।
  9. अन्य लोकप्रिय राजस्थानी फूड कॉम्बो के बारे में जाने जैसे चना दाल और गुड़ चावल और राबड़ी विद बाजरा रोटी

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. प्र. क्या मैं एक दो दिन के लिए फ्रिज में दाल बाटी स्टोर कर सकता हूं? आप बाटी और चूरमा को ३ से ४ दिनों के लिए स्टोर कर सकते हैं। लेकिन हर बार दाल को नए सिरे से बनाना पड़ता है।
  2. प्र. क्या मैं दरदरा गेहूं का आटा के बजाय नियमित गेहूं के आटे का उपयोग कर सकता हूं? हम बाटी और चूरमा का प्रामाणिक स्वाद प्राप्त करने के लिए दरदरा गेहूं के आटे का उपयोग करने का सुझाव देंगे।


Reviews