फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये समा का दोसा - Farali Dosa, Faral Foods Recipe - How To Make Farali Dosa, Faral Foods
द्वारा

फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये समा का दोसा in Hindi

This recipe has been viewed 31031 times
5/5 stars  100% LIKED IT   
2 REVIEWS ALL GOOD




फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये समा का दोसा | उपवास डोसा | dosa in Hindi | with 15 amazing images.

फराली दोसा दक्षिण भारतीय पाक व्यंजनों के कई भूले हुए रत्नों में से एक है, जिसे लोग अब फिर से सामने लाने की कोशिश कर रहे हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि फराली दोसा का सेवन व्रत के दिनों में किया जाता है।

व्रत, उपवास या फ़ास्ट नवरात्रि, शिवरात्रि या एकादशी या करवा चौथ जैसे शुभ त्योहारों पर भी हिंदू देख सकते हैं। इन उपवास के दिनों में सेवन की जाने वाली सामग्री धर्म से धर्म और व्यक्ति से व्यक्ति में भिन्न होते हैं।। इसलिए, यदि आप इस फराली रेसिपी में बताई गई किसी भी सामग्री का सेवन नहीं कर रहे हैं, तो इसे छोड़ दें।

समा और राजगिरा के आटे का संयोजन एक शानदार सामा राजगीरा डोसा को जन्म देता है जो एक उपवास के दिन आपके तालू को खुश करने के लिए निश्चित है। खट्टा छाछ किण्वन में मदद करने के लिए घोल में जोड़ा जाता है। किण्वन का समय सिर्फ दो घंटे है, इसलिए आपको पिछले दिन ही इस सामा राजगीरा डोसा की योजना बनाने की आवश्यकता नहीं है।

इस फराली दोसा में एक लाजवाब, कुरकुरा बनावट है जिसे अगर पतला बनाया जाए और तुरंत खाना चाहिए। यदि आप फराली दोसा को बहुत गाढ़ा बनाते हैं और बाद में बनाते हैं, तो यह चबाने योग्य हो सकता है।

इस सामा राजगीरा डोसा को मूंगफली की दही की चटनी या फराली इडली-सांभर के साथ खाएं।

आप महाराष्ट्रीयन पसंदीदा जैसे अन्य फराली व्यंजनों को भी आज़मा सकते हैं - उपवास थालिपेठ और फ़ाराली मिसल, या लोकप्रिय गुजराती परत हाण्डवा

आनंद लें फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये समा का दोसा | उपवास डोसा | dosa in Hindi | नीचे दिए गए स्टेप बाय स्टेप फ़ोटो और वीडियो के साथ।

Farali Dosa, Faral Foods Recipe - How To Make Farali Dosa, Faral Foods

खमीर का समय:  रातभर।   तैयारी का समय:    पकाने का समय:    भिगोने का समय:  २ घंटे।   कुल समय :     ८ दोसा। के लिये
मुझे दिखाओ दोसा।

सामग्री

फराली दोसा के लिए
१/२ कप सामा
१/२ कप राजगीरा आटा
१/२ कप खट्टी छास/मठ्ठा
१ टेबल-स्पून अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट
सेंधा नमक, स्वादअनुसार
तेल , पकाने के लिए

परोसने के लिए
मूँगफली दही चटनी / हरी चटनी
विधि
फराली दोसा के लिए

    फराली दोसा के लिए
  1. फराली दोसा बनाने के लिए , सामा को साफ और धोकर उपयुक्त पानी में 2 घंटे के लिये भिगो दें।
  2. पानी छानकर 2 टेबल-स्पून पानी के साथ मिक्सर में पीसकर मुलायम पेस्ट बना लें।
  3. मिश्रण को एक बाउल में डालें, राजगीरा आटा, छास/मठ्ठा, अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट और सेंधा नमक डालकर अच्छि तरह से मिलाऐं। ढ़ककर रातभर खमीर आने के लिये रख दें।
  4. घोल को 8 बराबर हिस्सो में बाँटे और एक तरफ रख दें।
  5. एक नॉन-स्टिक तवा गरम करें, घोल के एक हिस्से को डालकर 125 mm (5'') व्यास के गोल आकार में फैलाकर पतला दोसा बनाऐं।
  6. किनारों पर थोड़ा तेल और दोनो तरफ से सुनहरा होने तक पकाऐं। मोड़कर चंद्र या त्रिकोन आकार बनायें।
  7. बचे हुए घोल का प्रयोग कर 7 और दोसे बनाऐं।
  8. फराली दोसा मूँगफली दही चटनी या हरी चटनी के साथ गरमा गरम परोसें।
पोषक मूल्य प्रति dosa
ऊर्जा118 कैलरी
प्रोटीन1.9 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट13.4 ग्राम
फाइबर1.9 ग्राम
वसा6 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल2 मिलीग्राम
सोडियम3.2 मिलीग्राम
विस्तृत फोटो के साथ फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये समा का दोसा की रेसिपी

फराली दोसे का घोल के लिए

  1. फराली दोसा | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये सामा का दोसा। साफ सामा को अच्छी तरह से धो लें। इसे कम से कम २ घंटे के लिए पर्याप्त पानी में भिगोएँ। भिगोने के बाद सामा ऐसा दिखाई देगा।
  2. २ घंटे के बाद इसे बारीक छलनी की मदद से छान लें।
  3. इसे मिक्सर जार में डाल करें २ बड़े चम्मच पानी की मदद से मुलायम मिश्रण बना लें। यदि आप कम पानी डालते हैं, तो बनावट दानेदार होगी और यदि आप बहुत अधिक पानी डालते हैं तो फराली दोसे का घोल पानी जैसा पतला हो जाएगा, इसलिए पानी डालते समय सावधान रहें।
  4. राजगिरा का आटा डालें। इस के बदले में आप साबुदाना का आटा या सिंघाड़े का आटा भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  5. छाछ डालें। हमने व्रत वाले डोसे का स्वाद बढ़ाने के लिए खट्टी छाछ का इस्तेमाल किया है।
  6. मसालेदार करने के लिए अदरक-हरी मिर्च की पेस्ट डालें। अगर आप व्रत के दौरान अदरक का सेवन नहीं करते हैं तो बस हरी मिर्च का पेस्ट डालें।
  7. सेंधा नमक डालें क्योंकि हम उपवास के लिए ये दोसा बना रहे हैं।
  8. लम्प-फ्री मुलायम घोल बनाने के लिए अच्छी तरह से मिलाएं।
  9. ढक्कन से कवर कर के रातभर खमीर आने के लिये अलग रख दें।
  10. जब आप सुबह ढक्कन खोलते हैं, तो आप बुलबुले की एक परत देखेंगे और खट्टी महक भी आयेगी जो दर्शाती है कि घोल अच्छी तरह से खमीर हो गया है। यह घोल हमारे नियमित इडली / दोसे के घोल की तरह मात्रा में वृद्धि नहीं करता है।

व्रत का डोसा बनाने के लिए

  1. फराली दोसा तैयार करने के लिए | व्रत वाला डोसा | व्रत के लिये सामा का दोसा | उपवास डोसा | एक नॉन-स्टिक तवे को अच्छे से गरम करें फिर आंच को कम कर दें और तवे पर एक चमचा घोल डालें।
  2. इसे १२५ mm (५'') व्यास के गोल आकार में फैलाकर पतला दोसा बनाऐं। बहुत मोटा डोसा न बनाएं अन्यथा यह रबड़ जैसा हो जाएगा।
  3. पकाने के लिए डोसा के ऊपर और किनारों पर थोड़ा सा तेल डालें। भरवां डोसा बनाने के लिए आप व्रत की आलू की सब्जी तैयार कर सकते हैं और डोसा के ऊपर फैला सकते हैं।
     

  4. एक बार नीचे की तरफ कुरकुरा और सुनहरा हो जाने के बाद डोसा को पलटें और दूसरी तरफ भी पकाएं।
  5. जब यह दोनों तरफ से पक जाए तो उसे आधा मोड़ ले और एक प्लेट पर निकाल दें।
  6. और ७ फराली डोसा बनाने के लिए चरण १ से ५ को दोहराएं | सामा और राजगिरा के आटे से बना उपवास डोसा । फराली दोसा 
     
  7. फराली डोसा | व्रत वाला डोसा | उपवास डोसा तुरंत परोसें मूंगफली दही की चटनी के साथ। आप नवरात्रि या शिवरात्रि के व्रत के दौरान इस सामा का दोसा का आनंद ले सकते हैं।
     

  8. कुट्टु की खिचड़ी, सिंघाड़ा शीरा और लो कॅलरी आलू वेफर कुछ अन्य लोकप्रिय व्रत रेसिपी हैं जो आपको पसंद आ सकती हैं।
     


Reviews