This category has been viewed 29071 times
 Last Updated : May 25,2019


 विभिन्न व्यंजन > भारतीय व्यंजन > महाराष्ट्रीयन व्यंजन > महाराष्ट्रीयन उपवास का व्यंजन

17 recipes

Maharashtrian Upvas (Fasting) - Read In English
મહારાષ્ટ્રીયન ઉપવાસના વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Maharashtrian Upvas (Fasting) recipes in Gujarati)

महाराष्ट्र उपवास की रेसिपी,  Maharashtrian Fasting Recipes in Hindi 

महाराष्ट्रीयन घरो में प्रताह सुबह की दिन चर्या पार पडने पर घर की साफ सफाई की जाती है इसमें आपकी पूजाघर की भी साफ सफाई की जाती है। भगवान की मूर्तीयों को सुगंधित चंदन या उटना से नहलाया जाता है। ताज़े फूलमालाओं से सजाकर, धूप, अगरबत्ती, कपूर या घी से भगवान की आरती की जाती है। भगवान को तुलसी, मिस्ठांन और पंचामृत का भोग चढाया जाता है। पंचामृत या तिर्थामृत बनाने के लिए दूध, दही, शहद, गाय की घी और चीनी जैसे पांच तत्वों से बनाते है। कुछ तुलसी पत्तियों को भी डाला जाता है। बहुत से लोग नारियल तोड़ते हैं और मिठाइयों के साथ भगवान को चढ़ाते हैं, जिन्हें बाद में दूसरों को प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है। कुछ भोग के रूप में फल प्रदान करते हैं।

मलाई पेड़ा - Malai Pedaमलाई पेड़ा - Malai Peda

उपवास के दौरान केवल सत्त्विक खाद्य पदार्थों का उपभोग किया जाना चाहिए। आम तौर पर, अनाज का सेवन नहीं किया जाता है। कई उत्सवों में उपवास के विशिष्ट नियम होते हैं। उदाहरण के लिए, कुछ लोग मंगलवार को कोई नमक नहीं खाते हैं। इसी तरह, जो लोग संतोषीमता के लिए उपवास करते हैं, वो लोग खट्टा भोजन नहीं करते है। कुछ लोग उपवास के दौरान दही लेते हैं, जबकि विशेष रूप से दक्षिण भारत में कई लोग केवल उपवास छोडते समय ही दही का उपभोग करते हैं। इसी प्रकार, कुछ समुदायों में उपवास करते समय धनिया और पुदिना का उपयोग नहीं होता है। इसलिए, किसी बुजुर्ग व्यक्ति से घर या अपने परिवार के पुजारी से उपवास के नियमों को जानना सर्वोत्तम है, और तिथी के अनुसार अपने उपवास के भोजन की योजना बनाएं।

मिठी पंजाबी लस्सी - Sweet Punjabi Lassi, Dahi Ki Lassi
मिठी पंजाबी लस्सी - Sweet Punjabi Lassi, Dahi Ki Lassi

महाराष्ट्रीयन उपवास के लिए सुबह का फराळ, Morning Fast for Maharashtrians in Hindi

आम तौर पर चाय, कॉफी या दूध जैसे गर्म पेय उपवास के दौरान लिए जाते है। कभी कभार फलों के नाश्ते के साथ अपना दिन शुरू कर सकते हैं। तुलसी ड्रेसिंग मिश्रित फल और मेवे का मिल्कशेक, मसाला दूध या दक्षिण भारतीय फ़िल्टर कॉफी के साथ ताज़ा फल सलाद आज़माएं।

मसाला चाय - Masala Chai Or Masala Teaमसाला चाय - Masala Chai Or Masala Tea

महाराष्ट्रीयन उपवास के लिए दोपहर का फराळ, Lunch Fast for Maharashtrians in Hindi

दोपहर के फराळ के लिए, आप मीठे आलू रबडी, मीठे आलू खिचड़ी, ओवन भुना हुआ मीठे आलू या आलू खिचड़ी जैसे कंद से बने कुछ व्यंजन ले सकते हैं। मूंगफली करी या चटनी जैसे मूंगफली आधारित संगत के साथ साबुदाना खिचड़ी या सामा पुलाव एक शानदार फराळ बनाती है। आप आलू और कूट्टू के कुरकुरे पकोडे भी खा सकते हैं। फराळ में फल भी खाया जा सकता है।

उपवास थालीपीठ - Upvaas Thalipeeth (Faraal Recipe)उपवास थालीपीठ - Upvaas Thalipeeth (Faraal Recipe)

उपवास छोडने से पहले शाम की फराळ, Evening before Upvaas is broken Bhog is offered in Hindi

शाम को उपवास समाप्त करने से पहले भागवान आरती करके नेवेद्या या पंचपकवान का भोग चढ़ाते हैं। इसमें खीर, श्रीखंड, बासुंदी या रावा शीरा जैसे कुछ मीठे व्यंजन शामिल हैं। यदि उपवास गणपति के लिए है, तो यह मोदक या लड्डू अर्पण किए जाते है। स्टीमड या फ्राइड मोडक, पुरी और आम्रखंड या श्रीखंड, पुरण पोली, बासुंदी या वरण भात जैसे स्वादिष्ट प्रसाद के साथ अपने पसंदीदा देवता को प्रसन्न करते है। जब आप के पास कम समय हो तो रावा शीरा जैसे आसान व्यंजन बना सकते है। पाल पायसम जैसे दक्षिण भारतीय व्यंजन भी मुँह में पानी लाने वाले नेवेद्य बन सकते है।

बासूंदी - Basundiबासूंदी - Basundi

शाम को उपवास छोडने के वक्त सात्विक महाराष्ट्रीयन भोजन, Saatvik Food eaten after Maharashtrian fast broken in the Evening in Hindi

आरती और नेवेद्य के बाद दाल, चावल, चपाती और सब्ज़ी जैसे नियमित और सात्विक भोजन खाने से उपवास छूटता है। कुछ लोगों उपवास उसी शाम या अगली सुबह समाप्त करते हैं। दक्षिण भारत में एकदशी उपवास केवल अगली सुबह द्वादिशी पराना नामक एक विशेष भोजन करके छोडा जाता है, जिसे बिना इमली और कच्चे केले के पकाया जाता है। इसमें आमला और सुंदइकई (तुर्की बेरी) शामिल है, जो केवल उबला हुआ या रायता के रूप में तैयार है। भोजन में चावल कुछ सब्ज़ी और मोर कुज़ाम्बू (दही से बने एक ग्रेवी) और नींबू रसम भी शामिल हैं।

दाल खिचड़ी - Dal Khichdi
दाल खिचड़ी - Dal Khichdi

उपवास करने वाले व्यक्ति के मन में शांती भाव और ईश्वर के प्रति भक्ति अधिक जागरूक रहती है जिसके कारण वे जो भी फराळी व्यंजन बनाते है वह उतने ही अधिक स्वादिष्ट बनते है। ये फराळी व्यंजन या भोग उपवास करने वाले व्यक्ति के अलावा उपवास न रखने वाले व्यक्ति भी पसंद करते है। इसलिए आप उपवास का भोजन और भोग अधिक मात्रा में बनाएं।

सूखी-भिंडी की रेसिपी - Sukhi Bhindi, Punjabi Dry Bhindi Recipeसूखी-भिंडी की रेसिपी - Sukhi Bhindi, Punjabi Dry Bhindi Recipe

महाराष्ट्रीयन उपवास के धार्मिक प्रथा, Rituals of how Maharashtrians Fast in Hindi

पूर्ण लाभ के लिए आपको व्यवस्थित रूप से उपवास के प्रथाओं का पालन करना होगा। आम तौर पर उपवास करने वाले लोग सुबह जल्दी उठते हैं और अपने शरीर को शुद्ध करने के लिए अभ्यांगा स्नान करते हैं। महिलाएं सुनिश्चित करती हैं कि वे उपवास के दिनों में अपने बालों को धो लें। फिर वे साफ कपड़े पहनते हैं और मंदिरों में दर्शन के लिए जाते हैं जिनके लिए उपवास रखते हैं। उदाहरण के लिए

1. सोमवार के दिन शिव मंदिर जाते हैं।

2. मंगलवार को वे गणपति या दुर्गामाता मंदिर जाते हैं।

3. गुरुवार को वे साईबाबा या गुरुदत्त मंदिर में जाते है।

4. शुक्रवार को दुर्गामाता या संतोषीमाता के मंदिर में जाते है।

5. शनिवार को शनिदेव या हनुमानजी के मंदिर में पूजा करते है।

श्रीखंड - Shrikhandश्रीखंड - Shrikhand

उपवास एक ऐसा अभास है जो हिंदू संस्कृति को निकटता से जोडता है। यह हमारे इंद्रियों पर निपुणता लागू करने का एक तरीका है, भोजन की तरह संवेदनात्मक सुखों के बजाय भगवान को प्रार्थनाओं पर ध्यान केंद्रित करना होता है। आजकल के आधुनिक युगों में उपवास एक वजन घटाने का या शरीर के विषहरण करने का साधन बन गया है। वास्तव में यह एक धार्मिक उपवास में अनुष्ठानों के साथ सत्त्विक खाद्य पदार्थों का उपभोग और ईश्वर पर ध्यान केंद्रित करके हमारे दिमाग और शरीर दोनों एक स्थायी और प्रभावी तरीके से विषहरण करते हैं।

हैप्पी पाक कला !

Enjoy our collection of Maharashtrians Upvas (Fasting) Recipes in Hindi.

यदि आपको महाराष्ट्रीयन उपवास की रेसिपी पर यह आलेख पसंद है, तो आप नीचे दिए गए अन्य महाराष्ट्रीयन व्यंजनों के लेखों का आनंद लें।

1. महाराष्ट्रीयन व्यंजन

2. महाराष्ट्रीयन भात (चावल) रेसिपी

3. महाराष्ट्रीयन ब्रेकफास्ट रेसिपी

4. महाराष्ट्रीयन चटनी / अचार

5. महाराष्ट्रीयन दाल, वरण, आमटी, कालवण

6. महाराष्ट्रीयन रोटी भाकरी व पोळीची रेसिपी

7. महाराष्ट्रीयन नाश्ते की रेसिपी

8. महाराष्ट्रीयन मिठाई रेसिपी



गुजराती बासुंदी एक शाही और स्वादिष्ट गाढ़े दूध की गुजराती मिठाई है, जो उत्तर भारतीय रबड़ी के समान है। मूल रूप से दूध को मोटे सतह वाले पॅन में उबालकर कम किया जाता हैं। बादाम और पिस्ता इस समृद्ध और मलाईदार मिठाई में करकरापन जोडत ....
इस व्यंजन विधी पर एक नज़र डाले और आप समझ जायेंगे कि उपवास मतलब भुखा रहना नही है। इस व्यंजन को एक भरपुर आहार बनाने के लियें इसे मूंगफली की कढ़ी के साथ परोसें।
गणेश चतूर्थी का पर्व है! समय आ गया है विभिन्न प्रकार के मोदक बनाने का, जो गणेश जी के पसंदिदा है। यह मोदक की एक व्यंजन विधी है जहाँ चावल से आटे से बने मोदक को गुड़ और नारियल के मिश्रण से भरकर बनाया गया है। जहाँ यह व्यंजन
फ्रूट ऐन्ड नट मिल्कशेक गर्भवती महिलाओं के लिए एक आदर्श नाश्ता बन सकता है जिन्हें आम तौर पर थोडे-थोडे समय पर छोटे भोजन की सलाह दी जाती है। प्रतिग्लास 8. 1 ग्राम
यह पनीर मिश्रण से भरे पराठे अपने आप में ही एक संपूर्ण व्यंजन है। पराठे को टुटने से बचाने के लिये इन्हें हल्के हाथों से थपथपाना न भूलें।
एक और दक्षिण पाक शैली का व्यंजन जो उपवास के दिनों में खाया जा सकता है। इसका स्वाद हरी चटनी या मूँगफली दही चटनी के साथ खुब जजता है।
कॅलरी से मुक्त, कभी भी खाने वाला सबका पसंदिदा व्यंजन! माइक्रोवेव मे इसे बनाकर तेल की मात्रा कम की है जिससे आपके फराल के दिनों में वसा की मात्रा कम रहेगी।
महाराष्ट्र पाक शैली से लीया गया यह विलासमय पेय है जो त्यौहारों के दिनों में खुब जजता है और आपकी जुबान पर स्वाद भर देता है।
इस खट्टे और स्वादिष्ट चटनी को आप किसी भी फराली व्यंजन के साथ खा सकते हैं, फिर चाहे वह नाश्ता हो या मुख्य आहार!
महाराष्ट्र का एक मशहुर फराली व्यंजन, जिसे आप झट-पट नाश्ते के रूप में भी खा सकते हैं या दही और चटनी के साथ भोजन के रूप में भी खा सकते हैं।
मिनटों मे तैयार होने वाला बेहद स्वादिष्ट डेज़र्ट, जिसे रोज़ प्रयोग होने वाली सामग्री से माईक्रोवेव में बनाया गया है! इस शानदार सूजी के हलवे मे आपको केले का स्वाद और उसका मुलायम रुप मिलेगा। दूध, केला आदि मिलाने से पहले सूजी को घी में भुनना ज़रुरी है, जिससे हलवे का रुप शानदार बनता है। इस सुनजी के ह ....
इस सदैव पसंदिदा व्यंजन को तिल और ज़ीरे के स्वाद से भरपुर बनाया गया है। इस व्यंजन को फराली बनाने के लिये बेसन को सिंघाड़े के आटे से बदला गया है।
महाराष्ट्र में कोई भी त्यौहार पुरण पोली के बिना अधूरा है! पकेऔर मीठे चना दाल के मिश्रण से भरी गेहूं के आटे से बनी पोली को खाने का मज़ा ही अलग है, खासतौर पर जब इन्हें तवे से गरमा गरम उतारकर घी के साथ परोसा जाए। आपको पुरण पोली को पकाने के लिए घी की ज़रुरत नही है, लेकिन पकाने के बाद इनमें घी ज़रु ....
पनीर और उत्तेजक हरी चटनी को मिलाकर, कन्द और आलू के बीच में रखकर पूर्ण होने तक पकाया गया है।
एक बेहद स्वादिष्ट पायसम, जो बच्चों को बेहद पसंद आता है क्योंकि यह दिखने में नूडल जैसा दिखता है और खाने में सेंवई जैसा लगता है! इस व्यंजन को ज़रुर बनाकर देखें और चाहें तो इसमें और भी किशमिश और भुने हुए काजू डालें, क्योंकि यह पायसम को और भी स्वादिष्ट बनाते हैं।

Top Recipes

Goto Page: 1 2 

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन