This category has been viewed 7095 times
 Last Updated : Jul 07,2021


 कुकिंग बेसिक > प्रेशर कुक



Indian Pressure Cooker - Read In English
પ્રેશર કૂકરમાં બનતિ રેસિપિ - ગુજરાતી માં વાંચો (Indian Pressure Cooker recipes in Gujarati)

Top Recipes

छोले बिरयानी रेसिपी | काबुली चना बिरयानी | चना बिरयानी | शाकाहारी चना बिरयानी | kabuli chana biryani in hindi | with amazing 33 images.
दाल पालक सूप रेसिपी | मसूर दाल टमाटर और पालक सूप | मसूर दाल पालक सूप | दाल, टमाटर और पालक सूप | lentil, tomato and spinach soup in hindi | with 19 amazing images.
कभी-कभी आहार-तत्वों का सही मेल एक आहार से ज़्यादा अच्छी तरह काम करता है। उदाहरण के तौर पर, हिमोगलोबिन की मात्रा बढ़ाने के लिए, लौहतत्व और प्रोटीन का मेल ज़्यादा अच्छी तरह काम करता है, जैसे सोआ चना दाल में किया गया है, जहाँ चना दाल से प्रोटीन, सुआ के लौहतत्व के साथ अच्छी तरह जजता है। टमाटर और प्याज़ के साथ, पारंपरिक मसाले और पीसे हुए मसालों का मेल अपना काम बहुत अच्छी तरह करता है, जो इस दाल को पौष्टिक भी बनाता है और स्वादिष्ट भी!
स्वाद और पौष्टिक्ता से भरपुर, यह पालक तुवर दाल एक बेहद पौष्टिक व्यंजन है, जिसे आप बिना झंझट के बार-बार बना सकते हैं, क्योंकि इसमें पकाने के आसान से तरीके और आम सामग्रीयों का प्रयोग किया गया है। आपको केवल तुवर दाल को पहले से भिगोकर रखना याद रखना है। इस दाल में नींबू का रस डाला गया है, जो लौहतत्व को बेहतर तरीके से सोखने में मदद करता है।
पालक तुवर दाल रेसिपी | अरहर दाल पालक | हेल्दी तुवर दाल पालक | प्रेशर कुकर में दाल पालक कैसे बनाएं | अरहर की पालक वाली दाल | palak toovar dal in Hindi | with 30 amazing images. पालक तुवर दाल रेसिपी | दाल पालक | स्वस्थ पालक तुवर दाल | प्रेशर कुक्ड दाल पालक पोषक तत्वों से भरी एक साधारण दाल है। जानिए दाल पालक बनाने की विधि। पालक तुवर दाल बनाने के लिए, तुवर दाल, पालक, हरी मिर्च, अदरक का पेस्ट, हल्दी पाउडर, नमक और ३ कप पानी को एक प्रैशर कुकर में अच्छी तरह मिला लें और २ सिटी तक प्रैशर कुक कर लें। ढ़क्कन खोलने से पुर्व सारी भाप निकलने दें। हेन्ड ब्लेन्डर का प्रयोग कर दाल को दरदरा पीस लें। एक तरफ रख दें। एक चौड़े नॉन-स्टिक पॅन में घी गरम करें, तेज़पत्ता, लौंग, लाल मिर्च, ज़ीरा और हींग डालकर मध्यम आँच पर कुछ सेकन्ड तक भुन लें। जब बीज चटकने लगे, तड़के को दाल के मिश्रण में डालकर, लाल मिर्च पाउडर और धनिया पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और मध्यम आँच पर ४-५ मिनट तक, बीच-बीच में हिलाते हुए पका लें। गरमा गरम परोसें। तुवर दाल में साग के साथ अच्छी तरह से संयोजन करने की एक आदत है, जो बिना गूदे के सही दलिये जैसा मिश्रण प्रदान करती है। दाल पालक में, पालक और तुवर की दाल एक साथ आती हैं, अच्छी तरह से प्रेशर-कुक और सही स्थिरता के लिए हैंड ब्लेंडर से मिश्रित। तड़के के रूप में जोड़े गए साबुत मसाले प्रेशर पकी हुई दाल पालक को एक ताज़ा सुगंध और अनूठा स्वाद प्रदान करते हैं। यह दाल, हालांकि रेस्तरां के मेन्यू में ज्यादा पहचानी नहीं गई है, निश्चित रूप से आपकी पसंदीदा बनेगी और आप इसे अपने मेन्यू में जरूर शामिल करेंगे। कोशिश करके देखो! आयरन, फाइबर, फोलिक एसिड और विटामिन ए ऐसे पोषक तत्व हैं जिन्हें आप पालक से प्राप्त कर सकते हैं, जबकि प्रोटीन और बी विटामिन तुवर दाल से प्राप्त होते हैं। ७२ कैलोरी और १.९ ग्राम फाइबर के साथ, यह स्वस्थ पालक तुवर दाल निश्चित रूप से मधुमेह, हृदय रोगियों और वजन पर नजर रखने वालों के लिए एक पौष्टिक संगत के रूप में योग्य है। पालक तुवर दाल के लिए टिप्स। 1. तुवर दाल को 3 घंटे के लिए भिगोना है। इसलिए इसके लिए पहले से योजना बना लें। 2. जिन लोगों को तुवर की दाल पचाने में दिक्कत होती है, उनके लिए इसे हरी मूंग दाल से बदल सकते हैं. 3. पालक को कटी हुई चावली भाजी से बदला जा सकता है। आनंद लें पालक तुवर दाल रेसिपी | अरहर दाल पालक | हेल्दी तुवर दाल पालक | प्रेशर कुकर में दाल पालक कैसे बनाएं | अरहर की पालक वाली दाल | palak toovar dal in Hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।
ढ़ोकली, एक पारंरपिक गुजराती पसंदिदा व्यंजन को, गेहूं के आटे सोया के आटे ओर मेथी के पत्तों का प्रयोग कर, मधुमेह पीड़ीत के लिए पर्याप्त बनाया गया है। पौष्टिक तुवर दाल के साथ मिलाकर, यह पौष्टिक ढ़ोकली सबके लिए एक बेहद स्वादिष्ट व्यंजन है। हालांकि इसे मधुमेह पीड़ीत को जजने के लिए, कम से कम वसा का प्रयोग कर और बिना किसी गुड़ या शक्कर का प्रयोग कर बनाया गया है, यह सोया मेथी दाल ढ़ोकली बेहद स्वादिष्ट लगते हैं!
बनावट कहें या स्वाद, इस सलाद में आपको दोनों ही निश्चित रूप से मिलेंगे। यह सलाद बहुत सारी सामग्रियों के संयोजन से बनाया गया है, जैसे कि करकरी और रसीली ककड़ी और भुरभुरे काबूली चने से लेकर जौ और खूंभ औेर थोडी सी खट्टास के लिए सन ड्राइड टमाटर। इसे अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए इसमें विनेगर, ताज़गी भरे लींबू का रस और जैतून के संयोजन से तैयार किया हुआ ड्रेसिंग मिलाया गया है जो इस सलाद के स्वाद का संतुलन बनाए रखने में मदद करता है। इस काबुली चने, खूंभ और जौ के सलाद के साथ बालसमिक ड्रेसिंग को ठंडा ही परोसें ताकि यह नरम न पडें और आप इसके रोमांचक करकरेपन का मज़ा ले सकें।
बच्चों के लिए मसूर दाल का पानी रेसिपी | 6 महीने के शिशुओं के लिए मसूर दाल का पानी | मसूर दाल का पानी | masoor dal water for babies in hindi | with 12 amazing images.
मूंग दाल की मंगौड़ी और उड़द दाल के पापड़. . वाह क्या मेल है! जब यह मेल खट्टे दही और मिले-जुले तीखे मसालों के साथ मिलता है, आपको एक मज़ेदार तीखी चटपटी सब्ज़ी मिलती है। सरसों और ज़ीरा का आम तड़का इस पापड़ मंगौड़ी की सब्ज़ी को शानदार खुशबु प्रदान करता है। पापड़ को अंत में ही डालें, क्योकि यह नरम हो जाते हैं। यह मज़ेदार झटपट व्यंजन को गरमा गरम कोरीएण्डर रोटी के साथ परोसें।
मूंग दाल की खिचड़ी | गुजराती मूंग दाल की खिचड़ी | पीले मूंग दाल की खिचड़ी | मूंग दाल और चावल की खिचड़ी | moong dal khichdi recipe in hindi language | with 8 amazing images. पीली मूंग दाल और चावल को पिपरकॉर्न के साथ पकाया जाता है और घी के साथ पकाया जाता है | मूंग दाल की खिचड़ी एक हल्की और सेहतमंद भोजन है, जो कि समृद्ध बनावट के बावजूद घी और दाल इसे प्रदान करती है। आराम प्रदान करने वाला, मूंग दाल खिचड़ी एक बेहद मशहुर व्यंजन है। यह आपको ज़रुर आराम प्रदान करेगा और आपका मुड़ अच्छा ना होने पर भी आपको अच्छा महसुस करने में मदद करेगा, खासतौर पर जब आपको बुखार हो या आपको पेट में दर्द हो! कुछ महत्वपूर्ण बाते जो मैं आपके साथ गुजराती मूंग दाल की खिचड़ी पर साझा करना चाहता हूँ। 1. प्रेशर कुकर लें और उसमें दाल डालें। हमने मूंग दाल का इस्तेमाल किया है, लेकिन बहुत से लोग तोर दाल, हरी मूंग दाल या मसूर दाल का एक संयोजन का उपयोग करते हैं | 2. पौष्टिक मूल्य बढ़ाने के लिए, आप खिचड़ी में मटर, गाजर, बीन्स, प्याज जैसी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। 3. प्रेशर कुकिंग के दौरान थोड़ा अतिरिक्त पानी डालकर मूंग दाल और चावल की खिचड़ी को थोड़ा नरम बनाना सबसे अच्छा है। 4. जब पीले मूंग दाल की खिचड़ी पक रही है तो तेज आंच पर न पकाएं क्योंकि खिचड़ी प्रेशर कुकर के तल में अटक जाएगी और एक जले हुए स्वाद को दे देगी। इसलिए मध्यम आंच पर पकाएं। 5. आप पीले मूंग दाल की खिचड़ी स्वस्थ बनाने के लिए चावल को इस रेसिपी में टूटे हुए गेहूं (लापसी या डालिया) से बदल सकते हैं। कालीमिर्च और घी के स्वाद से भरपुर, पका हुआ दाल और चावल एक हल्का और पौष्टिक आहार बनाता है, बजाय इसके की घी और दाल इसे गाढ़ा बनाते हैं। बहुत से गुनजराती घरों में, शुक्रवार को खिचडी़ बनाई जाती है।