This category has been viewed 14010 times
 Last Updated : Jul 18,2017


 विभिन्न व्यंजन > भारतीय व्यंजन > मुगलई



Mughlai - Read In English
મુઘલાઇ વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Mughlai recipes in Gujarati)
हमारे अन्य मुगलई व्यंजनों की कोशिश करो …
मुगलई चावल बिरयानी रेसिपी : Mughlai biryani and Chawal Recipes in Hindi
मुगलई मिठाई रेसिपी : Mughlai Sweet Recipes in Hindi
मुगलई पराठा रोटी नान रेसिपी, Mughlai Roti Paratha Naan Recipes in Hindi
मुगलई सब्जी करी रेसिपी Mughlai Subzi Curry Recipes in Hindi
हैप्पी पाक कला!

Top Recipes

वेजिटेबल बिरयानी एक पारंपरिक मुघलाई मुख्य आहार का भाग है जो कटी हुई सब्ज़ीयाँ, मसाले, केसर और सूखे मेवों से भरपुर है। आम दिनों में, आप इसे खाने में अकेले ही बना सकते हैं। हालांकि शिमला मिर्च और धनिया जैसे सामग्री अपनी खुशबू फैलाते हैं, वहीं, केसर और अन्य मसाले इसे और भी बेहतर बनाते हैं।
प्रेशर कूकर या खूल्ले पॅन में बननेवाली बिरयानी की तुलना में हंडी बिरयानी श्रेष्ठ मानी जाती है फिर भले ही ऐसा प्रतीत होता हो कि दोनों में समान सामग्री का इस्तेमाल होता है। चपती के आटे से ढक्कन को बंद करना और उसी के भीतर सामग्री को पकाने की प्रक्रिया ही इस बिरयानी को बाकी सभी से विभिन्न बनाती है। असल में इस प्रक्रिया में क्या होता है कि ज़रा-सा भी गीलापन बाहर नहीं जाता है। अंदर का पूरा पानी वाष्पित हो जाता है, जिससे सामग्री का स्वाद और सुगंध दोनों ही हंडी में बँधे रहते हैं। यह सभी मिलकर एक लज्जतदार हंडी बिरयानी बनाती है। जिसका स्वाद आपको इसके हर चम्मच में चख़ने मिलेगा और आप निश्चय ही हर सामग्री के ज़ायके की परख पाएँगे। फिर चाहे वो मसाले हों जो चावल और रसीले चना मसाले के मिश्रण को स्वादिष्ट बनाने के लिए उपयोग किए गए हों या फिर केसर और ताज़े हर्ब्स हों जो चावल की परत पर फैलाए गए हों। बस, तो फिर तैयार हो जाए बिरयानी के स्वाद में खो जाने के लिए।
चावल, दाल, मिली-जुली सब्ज़ीयाँ, केसर और तले हुए प्याज़ का मेल, जिसमें अवन में बेक की हुई प्याज़ के पेस्ट से बनी ग्रेवी की परत उपर डाली गई है। यह एक आसान से बनने वाला खाना है, लेकिन बेक करने के कारण इस व्यंजन वेजिटेबल एण्ड लेन्टिल पुलाव का स्वाद और भी बेहतर हो जाता है।
बिरयानी मुगल युग का एक अनन्त अवशेष है जो दुनिया भर मेँ असंख्य रेस्टारेन्ट और रसोईघर में आज भी बहुत प्रख्यात है। इतना ही नहीं, यह परंपरागत नुस्खा हमेशा प्रत्येक पीढ़ी के स्वाद के अनुकूल हुआ है और समय की कसौटी पर खरा उतरा है। हालांकि इस मसालेदार भरे चावल की तैयारी के कई आधुनिक संस्करण ओवन या माइक्रोवेव में बनाये जाते हैं, यह विधि है जो हंडी में पकाए हुए बिरयानी के जादू को बरकरार रखती है। चावल और वेजीटेबल ग्रेवी की परतों पर सबसे उपर खुशबबूदार केसर के मिश्रण को अच्छी तरह फैलाकार बिरयानी को चूल्हे पर धीमी आँच पर पकाया गया है, जिससे उसकी सुगंध दुगनी होकर कमरे में इस तरह बिखर जाती है कि खानेवाले का मन जरुर ललचा जाए।
इस त्यौहार के मौसम में अपने चाहने वालों को इस शानदार पनीर टिक्का पुलाव परोसकर चौका दें। तवा पर पकाने से पहले, रसभरे पनीर और सब्ज़ीयों को दही और मसालों के गाढ़े घोल में मेरीनेट करें और अंत में चावल के साथ मिलाकर इस स्वादिष्ट व्यंजन को बनाऐं।
ग्रीन पी पुलाव विद पनीर कोफ्तास् एक शानदार व्यंजन है, जिसमें ना सिर्फ हरे मटर और खुबानी के रंगों का मेल है, साथ ही स्वादिष्ट पनीर के कोफ्ते जिन्हें चावल के साथ मिलाया गया है! बेक करने से केसर और मसालों की खुशबू और भी उभर कर आती है।
एक ऐसा व्यंजन जिसका नाम विश्व भर के रेस्टरॉन्ट में भारतीय पाकशैली में आता है, यह वेजिटेबल बिरयानी बेहद मशहुर है! सब्ज़ीयाँ और पनीर से भरे मसालेदार ग्रेवी को चावल की परतों के बीच रखकर, मसालों और केसर के स्वाद वाले दही के साथ पकाया गया है। इस संपूर्ण प्रबन्ध पर घी डालकर, ढ़ककर तब तक पकाया गया है, जब तक इसके स्वाद घुल मिल ना जाये और हान्डी से सुनहरी खुशबु ना आने लगे, जो इस बेहतरीन दीखने वाले, खुशबुसार और स्वादिष्ट व्यंजन को अनोखा बनाता है।
इस दाल का नाम मुगल सम्राट शाहजहां के नाम पर रखा गया है। काबूली चने को पका कर और उसकी प्युरी बनाकर तैयार की हुई यह दाल सचमुच शानदार बनती है। मुगल शैली के एहसास के लिए इसे पराठा या पुलाव के साथ परोसें।
गर्मी के दिनों में इस ठंडे खस के पेय की चुस्की लेने पर आपको पता चलेगा कि अमृत का स्वाद कैसा होता है। सचमुच, खस सिरप को जब सब्ज़ा और नींबू के रस के साथ मिलाया जाता है तब एक ऐसा ताज़गीभरा पेय तैयार होता है, जो आपके शरीर की हर खोशिका को ताज़गी देता है। यह पेय तैयार करने के तुरंत बाद ही परोसा जाना चाहिए, इसलिए सुनिश्चित करें कि यह पेठंडा हो और इसे परोसने से पहले थोड़े बर्फ के टुकड़े भी मिलाएँ ताकी यह पेय सही मायने मेंठंडा बने। पन्हा , नारियल पानी के साथ नारियल की मलाई और मिन्टी कुकुम्बर कूलर जैसे पेय भी जरूर से अज़माइए।
गाजर का हलवा एक ऐसा पारंपरिक व्यंजन है जो भारतीयो की तरह हर पीढ़ी को खुश करता आया है। खोया का उपयोग करने के बजाय, मैंने इस हलवे के मलाइदार स्वाद और बनावट को बनाए रखने के लिए गाजर को दूध में पकाया है जिससे खोया बनाने का समय भी बच गया। और बस कुछ ही मिनटों में गाजर का हलवा (झट पट गाजर का हलवा) तैयार है। अन्य हलवा रेसिपी को भी आजमाईए जैसे सूजी का हलवा और मूंग दाल हलवा.

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन