This category has been viewed 27547 times
 Last Updated : Apr 03,2020


 भारतीय स्वस्थ > ग्लूटिन - मुक्त



Gluten Free Veg Indian - Read In English
ગ્લૂટન વગરનાં વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (Gluten Free Veg Indian recipes in Gujarati)

Top Recipes

चना पालक एक बेहद स्वादिष्ट सब्ज़ी है जो आपको ना केवल स्वाद के मामले में संतुष्टि देगी लेकिन पौष्टिक्ता के मामले में भी! पालक और काबुली चने के आहार तत्व भरपुर मेल को ना केवल एक लेकिन दो स्वादिष्ट पेस्ट से मज़ेदार बनाया गयाहै- एक प्याज़ से बना और दुसरा बैंगन और टमाटर से। आम मसाले और मसाला पाउडर के साथ यह दोनो पेस्ट, पालक और काबुली चने को एक बेहद मज़ेदार सब्ज़ी में बदलने में मुख्य भाग निभाते हैं।
फण्सी बनाने का एक पारंपरिक दक्षिण भारतीय तरीका, जिसमें भिगोई हुई चना दाल डालकर, पारंपरिक तड़के का स्वाद भरा गया है। इस स्टर-फ्राय में चना दाल करारापन प्रदान करने के साथ-साथ नारियल जैसे अन्य सामग्री के विकल्प में, इस व्यंजन की मात्रा भी बढ़ाता है। जहाँ बहुत सी सब्ज़ीयों को इस तरह से पकाया जा सकता है, यह फ्रेंच बीन एण्ड चना दाल स्टर-फ्राय मधुमेह पीड़ीत के लिए बेहतरीन हे क्योंकि फण्सी में प्रस्तुत रेशांक शक्करा को बाँधकर रखता है और उसे जल्दी सोखने नहीं देता, जिससे रक्त में शक्करा की मात्रा बहुत जल्दी नहीं बढ़ती।
डोसा रेसिपी | सादा डोसा | डोसा बैटर के साथ | दक्षिण भारतीय डोसा | डोसा बनाने की विधि | dosa recipe in Hindi language | with 22 amazing images. डोसा दक्षिण भारतीय पाकशैली का मुख्य भाग है और लोकप्रियता में यह इडली के बाद आते हैं! आप चाहें त नीचे दी गई विधी का प्रयोग कर डोसा रेसिपी के लिए अलग घोल बना सकते हैं या इडली के घोल में थोक में बनाकर दोनो व्यंजन बनाने के लिए प्रयोग कर सकते हैं, जिनमें अंतर केवल इतना है कि इडली के घोल में लंबे समय तख खमीर लाया जाता है और डोसा के घोल को उतने लंबे समय तक खमीर की आवश्यक्ता नहीं होती। आप इस घोल को पीसने के तुरंत बाद प्रयोग कर सकते हैं, या इसे फ्रिज में रखकर प्रयोग करने के 15 मिनट पहले फ्रिज से निकाल सकते हैं। नीचे दिया गया है डोसा रेसिपी | सादा डोसा | डोसा बैटर के साथ | दक्षिण भारतीय डोसा | डोसा बनाने की विधि | dosa recipe in Hindi language स्टेप बाय स्टेप फोटो के साथ।
हालांकि यज विश्व भर में मशहुर नहीं है, रागी में भरपुर मात्रा में लौहतत्व और कॅल्शियम होता है जो लाल रक्त कण बनाने में और हड्डीयों को मज़बूत रखने में मदद करते हैं। हरी पयाज़, गाजर और हरी मिर्च का पेस्ट इन रागी रोटीयों को करारापन और स्वाद प्रदान करते हैं।
ज्वार रोटी | ज्वार की रोटी | पौष्टिक ज्वार रोटी | jowar roti recipe in hindi | with amazing 12 photos ज्वार रोटी एक अखमीरी भारतीय फ्लैटब्रेड है जो कम से कम सामग्री - ज्वार के आटे और नमक के साथ बनाई जाती है। ज्वार की रोटी प्रसिद्ध है और भारत के पश्चिमी भागों में अधिक खपत की जाती है। आप इसे कैसे पसंद करते हैं, इस पर निर्भर करते हुए ज्वार की रोटी को नरम मुलायम बनाएं। ज्वार की रोटी फाइबर से भरपूर होती है, ग्लूटेन मुक्त होती है, मधुमेह रोगियों के लिए अच्छी होती है, मैग्नीशियम में उच्च और आयरन रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को कम करती है। हमने आटा गूंधने के लिए गर्म पानी का उपयोग किया है क्योंकि यह ज्वार रोटी को नरम बनाने में मदद करता है और यहां तक ​​कि जब घंटों तक नहीं परोसा जाता है, तो यह कठोर या चबाना नहीं बनता है। लेकिन आपको यह भी सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप आटा गूंधने के तुरंत बाद रोटी को रोल करते हैं जैसे कि आप आटा को लंबे समय तक रखेंगे, यह इसकी नमी को ढीला कर देगा और मोच बन जाएगा जो रोलिंग को मुश्किल बना देगा।मेरी दादी इसे चुल्हा पर मिट्टी के तवे पर पकाती थीं जो ज्वार की रोटी को एक स्वादिष्ट स्वाद देता था। जब भी हम घर में ज्वार रोटी पकाते हैं, मैं साथ में खाने के लिए कोई महाराष्ट्रीयन सब्ज़ी बनाती हूँ। नीचे दिया गया है ज्वार रोटी | ज्वार की रोटी | पौष्टिक ज्वार रोटी | jowar roti recipe in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
रोटला रेसिपी | बाजरा का रोटला | गुजराती स्टाइल बाजरा रोटला | हेल्दी बाजरा रोटी | rotla recipe in hindi language | with 17 amazing images. रोटला रेसिपी बाजरा, ज्वार या नाचनी के आटे से बनाए जाते हैं और यह घी और गुड़ के साथ बेहद अच्छे लगते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि गुजराती स्टाइल बाजरा रोटला को आटा गूँथने के तुरंत बाद बना लें, क्योंकि यह आटा जल्दी सख्त हो जाता है जिसकी वजह से इन्हें बेलना मुश्किल हो जाता है। बाजरा का रोटला को मोटा तौर पर रोल किया जाता है, एक तवा पर पकाया जाता है और फिर भूरे रंग के धब्बे आने तक खुली आंच पर भूनते हैं। परंपरागत रूप से सफेद मक्खन को रोटला पर उतारा जाता है या यदि यह उपलब्ध नहीं है तो आप घी का उपयोग कर सकते हैं। हेल्दी बाजरा रोटी बाजरे के आटे से बनती है जो प्रोटीन में उच्च होती है और दाल के साथ मिलाकर शाकाहारियों के लिए एक पूर्ण प्रोटीन है। धैर्य से और बार-बार बनाने से आप इन बाजरा का रोटला को बहुत अच्छे से बेलने योग्य हो जाऐंगे और यह अच्छी तरह फूलेंगे भी। रोटला आप रिंगणा वटाना , कड़ी और तुवर दाल नी खिचड़ी के साथ परोसें और सम्पूर्ण भोजन का मज़ा लें।
अकसर लोगो को लगता है कि पनीर का फीका स्वाद केवल टमाटर से बनी ग्रेवी के साथ जजता है, लेकिन ऐसा नहीं है- पनीर इतना बहुउपयोगी है कि यह सफेद ग्रेवी के साथ भी जजता है। पनीर इन क्विक व्हाईट ग्रेवी एक सौम्य स्वाद वाला झटपट और आसानी से बनने वाला व्यंजन है। ताज़े, नरम पनीर से बना यह व्यंजन सबको ज़रुर पसंद आयेगा।
खूंभ को भारतीय तरीके से पकाने का यह फ्रेश मशरुम करी बेहतरीन तरीका है। ताज़े हरा धनिया और उबले हुए प्याज़ का पेस्ट इस ग्रेवी को स्वाद से भरा और खूंभ के फीके स्वाद को पुरी तरह से ढ़क देता है। खूंभ को गरम पानी में 2 मिनट के लिए भिगोना ना भुले-यह ना सिर्फ खूंभ को नरम करता है, लेकिन उन्हें अच्छी तरह से साफ करने में भी मदद करता है।
ढ़ोल और नगाड़ो के साथ, हम पेश करते हैं एक मशहुर चाट का बिना तला हुआ विकल्प…दही वड़ा। वड़ो को 2-3 मिनट से ज़्यादा ना भिगोऐं, जिससे वह टुटे नहीं। यह एक भारी नाश्ता है, इसलिए मैं यह सुझाव देती हूँ कि इसका एक मात्रा से ज़्यादा सेवन ना करें।
स्वास्थ के प्रति सचेक को यह पेय ना केवल इसके पौषण तत्वों के लिए पसंद आएगा, लेकिन साथ ही इसके रंग और स्वाद के लिए भी। इस ज्यूस को बनाने के लिए प्रयोग किये गए फल और सब्ज़ीयों को संभाल कर चुना गया है, जो दिन भर की ज़रुरत को पुरा करने के लिए भरपुर मात्रा में विटामीन ए, सी और पाचन एन्ज़ाईम्स् से भरे है। यह बेहद संपूर्ण और पौष्टिक पेय है जो केवल 37 कॅलरी प्रदान करता है! इसमें रेशांक की मात्रा को बनाए रखने के लिए, ज्यूस छानने के लिए बड़े छेद वाली छन्नी चुनें।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन