This category has been viewed 6434 times
 Last Updated : Jan 24,2020


 भारतीय स्वस्थ > ऐसिडिटी



Acidity - Read In English
એસિડિટીન થાચ એના માટેની રેસિપી - ગુજરાતી માં વાંચો (Acidity recipes in Gujarati)

ऐसिडिटी रेसिपी


एसिडिटी किसके कारण होता है?

  What causes Acidity? एसिडिटी किसके कारण होता है?
1. Irregular Meals अनियमित भोजन के कारण
2. Excessive consumption of oily and spicy foods तेल और मसालेदार पदार्थों की अत्यधिक सेवन करने से
3. Stress तनाव के कारण
4. Over eating especially before going to bed बिस्तर पर जाने से पहले ज़्यादा भोजन करना
5. Bad posture after meals खाने के बाद खराब स्थिति
6. Excessive alcohol consumption अत्यधिक शराब का सेवन करने से

एसिडिटी के लक्षण

  Symptoms of Acidity एसिडिटी के लक्षण
1. Burning sensation in the digestive tract पाचन तंत्र में जलन का एहसास होना
2. Headache सिरदर्द
3. Sour burps खट्टा डकार आना
4. Dizziness due to hypoglycemia (low blood sugar levels) हाइपोग्लाइसीमिया के कारण चक्कर आना (लो ब्लड शुगर लेवल)

Top Recipes

सोआ के बीज़ से बना है यह कद्दू का सूप आपके भोजन में जरूर ही चार चाँद लगा देगा। कद्दू और गाजर के संयोजन से तैयार होता यह सूप सुखद रूप से मीठा है और इसमें अधिक नमक की आवश्यकता नहीं है। इसके अलावा, कद्दू में सोडियम की मात्रा कम होती है, इसलिए यह सूप उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए भी उपयुक्त है। इस स्वादिष्ट और पोषक तत्व से भरे सूप का मज़ा गरमा-गरम पीने में ही है।
घर का बना बादाम का मक्ख़न एक अनोखा और किसी को भी ललचा दे ऐसा बनता है। दरसल यह वर्णित करने से ज्यादा अनुभव करने जैसा है। यहाँ बादाम को पीसने से पहले भूना गया है, इसलिए यह अधिक स्वादिष्ट लगते हैं। थोड़ा सा नारियल का तेल इस मक्ख़न की पौष्टिकता बढ़ाने के साथ-साथ अधिक स्वादिष्ट भी बनता है। यह बादाम का मक्ख़न प्रोटिन का एक बहुत अच्छा स्त्रोत है, जबकि नारियल आपको मध्यम श्रृंखला ट्रायग्लिसराइड के स्वास्थ फैटी एसिड प्रदान करते हैं। बाज़ार में मिलने वाले बादाम के मक्ख़न से घर पर बनाया गया मक्ख़न बेहतर होता है, क्योंकि बाज़ार में मिलने वाले मक्ख़न में अधिक मात्रा में शक्कर और हाइड्रोजनेटेड वनस्पति होते हैं। इसके अलावा घर पर यही मक्ख़न आधे दाम में भी बनाया जा सकता है। और हाँ, यह मक्ख़न बनाने के लिए आपको महंगे और बड़े बादाम खरीदने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि इन्हें पीसना ही है। केवल एक चीज़ यह है कि आपको थोडा धौर्य होना चाहिए, जिससे की आप बादाम को धिरे-धिरे पीसें और हर आधे मिनट पर स्विच बंद करें। यह बादाम का मक्ख़न एक ग्लास की बोतल में भरकर फ्रिज़ में संग्रह करें तो यह 25 दिनों तक ताज़ा रहता है। यदि आप कमरे के तापमान पर इसका संग्रह करेंगे तो यह 15 दिनों तक ताज़ा रहता है। पर एक बात का ध्यान रहे कि यदि आपने इसे बनाकर इसका संग्रह फ्रिज़ में किया है, तो फिर इसे फ्रिज़ में ही रखें। और फिर जब भूख लगे तब 1 चम्मच भर इसका मज़ा ले सकते हैं। यह वज़न घटाने वालों के लिए एक उपयुक्त नाश्ता है क्योंकि इसमें पाए जाने वाले सही वसा आपको लंबे समय तक तृप्त होने का एहसास देते हैं। घर का बना हुआ मूंगफली का मक़्खन भी आजमाईए।
छाछ रेसिपी | सादा छाछ | सादा भारतीय छाछ की रेसिपी | chaas recipe in Hindi | with 12 amazing images. हममम…छाछ के इस मज़ेदार विकल्प के केवल एक ग्लास से अपने आप को कोई नहीं रोक सकता। इस ताज़े पेय में बहुत से मसालों में से, ज़ीरा पाउडर खास जगह रखता है। गर्मी के दोपहर में इस छाछ को ठंडा परोसें और अपने परिवार वालों के ऊर्जा की मात्रा को तुरंत बढ़ते देखें। यह देखकर अच्छा लगेगा कि छाछ पाचन में मदद करता है। इसलिए, यह दिना में पीने वाला पेय है। नीचे दिया गया है छाछ रेसिपी | सादा छाछ | सादा भारतीय छाछ की रेसिपी | chaas recipe in Hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
फाइबर से भरपूर सेब और रसीली ककड़ी का संयोजन एक स्फूर्तिदायक ज्यूस बनाता है जिससे त्वचा की चमक हमेशा बनी रहती है।
हालांकि आप हॉपर में किसी भी फलों के मेल को डाल सकते हैं और ग्लास भरकर पौष्टिक रस निकाल सकते हैंयह ऐसे फल चुननें में मदद करता है जो एक दुसरे के साथ संतुलित रहते हैं, इसलिए आप इसमें शक्कर नहीं डाल सकते हैं। यह संतुलित मेल हे, जो इस मस्कमेलन, एप्पल एण्ड ग्रीन ग्रेप्स् ज्यूस को बेहतरीन बनाता है! ऊर्जा से भरपुर और फिर भी रेशांक से भरपुर, यह वजन कम करने वालों के लिए भी अच्छा उपाय है। जब अंगूर मौसम में ना मिले, खट्टेपन के लिए आप इसमें संतरे या मौसंबी मिला सकते हैं।
सूप से लेकर सब्ज़ीयों जैसे बहुत से व्यंजन में स्वाद और रुप प्रदान करने के लिए, प्याज़ काफी मशहुर है। लेकिन इस अनोखे सूप में, यह कम वसा और कलेस्ट्रॉल वाली सामग्री सूखे थाईम के साथ बहुत ही अहम भाग निभाती है! थोड़ी सी मात्रा में हरी प्याज़ शानदार स्वाद प्रदान करने के साथ-साथ इस अनियन थाईम सूप को रंग भी प्रदान करती है, और वहीं वेजिटेबल स्टॉक इसके स्वाद और रुप को और भी निहार देता है। इस पौष्टिक बाउल के कॅलरी की मात्रा कम करने के लिए, सूप को गाढ़ा बनाने के लिए, मैदा या कोर्नफ्लॉर की जगह गेहूं के आटे का प्रयोग किया गया है।
क्रिमी मशरूम सूप के कप को कौन मना कर सकता है! और अगर आपको कहा जाए कि यह पौष्टिक विकल्प है, आपको इसे खाने के बाद और भी मज़ा आएगा। खूंभ में कार्बोहाईड्रेट की मात्रा कम होती है और इसलिए इनका ग्लाईसमिक ईन्डेक्स् भी कम होता है, जो इसे मधुमेह के लिए पर्याप्त सामग्री बनाता है। पौटॅशियम से भरपुर, खूंभ रक्त चाप को भी संतुलित रखने में मदद करता है, जो इसे और भी लाभदायक बनाता है। इसके साथ-साथ, सूप को गाढ़ा बनाने के लिए, लो फॅट दूध के साथ-साथ, गेहूं का आटा प्रयोग करने से हमनें क्रिमी रुप का मज़ा दुगना कर दिया है!
जब आपका कुछ नाध्ता खाने का मन हो और साथ ही रक्त चाप को संतुलित रखना हो, इस स्वादिष्ट, पौषण से भरपुर मिनी बेक्ड मूंग दाल एण्ड ज्वार पुरी को बनाकर देखें। इसमें प्रयोग की गई सामग्री भरपुर मात्रा में प्रोटीन, रेशांक और अन्य हृदय के लिए लाभदायक पौषण तत्व प्रदान करते हैं, वह भी लो-फॅट और लो-सोडियम के साथ। इन पुरी में नमक की मात्रा बहुत कम है, लेकिन मसालों के प्रयोग की वजह से आपको इसका अहसास ही नहीं होगा। यही नही, इन पुरीयों को तला भी नही गया है, लेकिन केवल 15 मिनट के लिए बेक कर बनाया गया है। ऐसा करने से इनमें वसा की मात्रा को काफी कम किया गया है, जिससे नलीयों में खून जमनें की आशंका कम हो जाती है। इन करारी पुरीयों को हवा बंद डब्बे में डालकर संगह्र करें, जिससे भूख लगने पर आप कभी भी इनका मज़ा ले सकते हैं या इनसे चाट या अन्य तरह के नाश्ते बना सकते हैं।
रोटला बाजरा, ज्वार या नाचनी के आटे से बनाए जाते हैं और यह घी और गुड़ के साथ बेहद अच्छे लगते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि रोटलों को आटा गूँथने के तुरंत बाद बना लें, क्योंकि यह आटा जल्दी सख्त हो जाता है जिसकी वजह से इन्हें बेलना मुश्किल हो जाता है। धैर्य से और बार-बार बनाने से आप इन रोटला को बहुत अच्छे से बेलने योग्य हो जाऐंगे और यह अच्छी तरह फूलेंगे भी। रोटला आप रिंगणा वटाना , कड़ी और तुवर दाल नी खिचड़ी के साथ परोसें और सम्पूर्ण भोजन का मज़ा लें।
यह हर्ब से भरपुर और शहद के स्वाद से भरा गरमा गरम पेय बूखार आने पर आपको तरो-ताज़ा महसुस करवाने के लिए पर्याप्त है। जहाँ तुलसी और अदरक के गुण खाँसी और संस्वीकरण को आराम प्रदान करने के लिए माने जाते हैं, बहुत कम लोगो को यह ज्ञात है कि पुदिना में प्रस्तुत विटामीन सी भी सर्दी-ज़ूखाम से आराम प्रदान करने के लिए जाना जाता है। साथ ही, यह फ्रेश हर्बल कप पर्याप्त सामग्री का एक शानदार मेल है जो बूखार, सर्दी और ज़ूखाम होने पर शरीर की थकान को दूर करने में मदद करता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन