This category has been viewed 117311 times
 Last Updated : May 25,2020


 विभिन्न व्यंजन > भारतीय व्यंजन > दक्षिण भारतीय व्यंजन



South Indian - Read In English
દક્ષિણ ભારતીય વ્યંજન - ગુજરાતી માં વાંચો (South Indian recipes in Gujarati)

Top Recipes

Goto Page: 1 2 
रवा डोसा रेसिपी | अनियन रवा डोसा | क्रिस्पी रवा डोसा | झटपट रवा डोसा | सूजी का दोसा | onion rava dosa in hindi | with 24 amazing images.
फ्रेंच बीन्स् इन कोकोनट करी ना सिर्फ स्वादिष्ट है लेकिन दिखने में भी बेहतरीन है। बीन्स् का गहरा हरा रंग सफेद ग्रेवी में बेहद अच्छी तरह से जजता है। इसमें डाली गई भुनी हुई मूंगफली इस व्यंजन को और भी खास बनाती है, क्योंकि मूंगफली बीन्स् के साथ बेहद अछ्छी तरह से जजती है और ग्रेवी को बेहद प्यारा करारापन प्रदान करती है।
प्याज़-हरी मिर्च-अदरक के पेस्ट और नारीयल के दूध का यह मेल, पनीर इन कोकोनट ग्रेवी को केरेला-स्ट्यू की तरह बनाता है। यह ग्रेवी रोटी और चावल के साथ बेहद अच्छी लगती है और धनिया से सजी हुई, यह गरमा गरम ग्रेवी ठंड के दिनों में लालजवाब लगती है।
खूशबुदार मसालों के साथ एक केरेल प्रकार का व्यंजन जिसमें टमाटर और प्याज़ का स्वाद डाला गया है। फेंटा हुआ दही दही भुंडी का आधार बनाता है, जो इसे खट्टा लेकिन हल्का स्वाद प्रदान करता है। यह पुरी के साथ बेहद जजता है।
कोवालम दक्षिण भारत का एक सुंदर तटीय शह रहै, जिसके तट पर नारियल के पेड़ हैं। इससे जाहिर होता है कि उनके खाने में नारियल का उपयोग अधिक मात्रा में होता है। कोवालम एक मध्यम मसालेदार हरे मटर की सब्ज़ी है,जिसे मटर,प्याज़, टमाटर, मसालों और नारियल-काजू की मुलायम पेस्ट के साथ पकाया गया है और ऊपर से पारंपरिक दक्षिण भारतीय कुरकुरे जीरे और उड़द दाल का तड़का दिया गया है।
साम्भर दक्षिण भारत के खाने का भाग है। कभी-कभी वह इसे दिने में एक बार से ज़्यादा बनाते हैं- सुबह के नाश्ते में और दोपहर और रात के खाने में भी। तुवर दाल और मिली-जुली सब्ज़ीयों के पौष्टिक्ता से भरपुर, इसे रोज के खाने का भाग बनाया जा सकता है और यह इतना बहुउपयोगी है कि इसे चावल, इडली, वड़ा, उपमा और किसी भी दक्षिण भारतीय नाश्ते के साथ परोसा जा सकता है।
यह स्वादिष्ट अनियन टमॅटो रचा उत्तपा एक बहुत ही बहुउपयोगी व्यंजन है जिसे आप सुबह के नाश्ते में या दोपहर के खाने में या बच्चों के लिए शाम के नाश्ते में भी बना सकते हैं। मज़ेदार बात यह है कि, इस व्यंजन को झटपट बनाने के लिए इसमें सोडा का प्रयोग नही किया गया है और ना ही इसे बनाने के लिए आपको एक दिन पहले तैयारी करनी पड़ेगी, क्योंकि इस सूजी के घोल में खमीर लाने के लिए आपको केवल 1 घंटा चाहिए, जिसका श्रेय इसमें प्रयोग किये हुए दही को जाता है। खट्टे टामटर, प्याज़ और धनिया और हरी मिर्च के चटपटे मेल के साथ, इस उत्तपा में वह सब कुछ है जो इसे मज़ेदार बनाने के लिए चाहिए। इसे ताज़ी बनी धनिया कि चटनी या नारियल की चटनी के साथ, तवे से उतारकर गरमा गरम परोसें।
मैसूर चटनी रेसिपी | मैसूर मसाला चटनी | मैसूर मसाला डोसा की चटनी | दक्षिण भारतीय मैसूर चटनी | mysore chutney in hindi. कन्नड़ व्यंजन आम तौर पर लगभग सभी संगत में नारियल और गुड़ के मध्यम उपयोग द्वारा चिह्नित किया गया है। यहाँ मैसूर की चटनी में, ये तत्व दाल, इमली और मसालों के संयोजन के साथ आते हैं। इस दक्षिण भारतीय मैसूर की चटनी को डोसा के अंदरूनी हिस्से में फैलाया जा सकता है और आलू भाजी के साथ मैसूर मसाला डोसा बनाया जा सकता है। दक्षिण भारतीय मैसूर की चटनी पर नोट्स। 1. लाल मिर्च न केवल आवश्यक मसालेदारता प्रदान करती है, बल्कि एक उज्ज्वल रंग भी प्रदान करती है। आप स्पाइसी या कम स्पाइसी स्वाद के लिए लाल मिर्च की मात्रा बढ़ा या घटा सकते हैं। 2. गुड़ डालें। यह इमली के गूदे से खट्टेपन को संतुलित करता है। 3. नारियल डालें। नारियल अधिकांश दक्षिण-भारतीय चटनी का एक प्रमुख घटक है। यह स्वाद को बढ़ाता है और उनके थोक में जोड़ता है। आप इस दक्षिण भारतीय मैसूर चटनी को अन्य दक्षिण भारतीय स्नैक्स जैसे इडली, मेदु वड़ा, मद्दुर वड़ा, मिश्रित उत्तपा थाली, उड़द दाल और सब्जी अप्पे, क्विक इडियप्पम और पालक अप्पे के साथ भी परोस सकते हैं। नीचे दिया गया है मैसूर चटनी रेसिपी | मैसूर मसाला चटनी | मैसूर मसाला डोसा की चटनी | दक्षिण भारतीय मैसूर चटनी | mysore chutney in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
दक्षिण भारत से उत्तपन्न एक सौम्य नाश्ता, यह उत्तपा अब विश्व भर में मशहुर हो गया है, कयोंकि इसे बहुत से अनोखे तरीके से बनाया जा सकता है। यह भी एक ऐसा ही विकल्प है, जिसे साबूत बाजरा और उसके आटे से बनाया गया है। गाजर और प्याज़ जैसी सब्ज़ीयाँ इस स्वादिष्ट व्यंजन को करारापन प्रदान करते हैं और वहीं धनिया, नींबू आदि मिलकर इसके स्वाद और खुशबु को निखारते हैं। इस बाजरा, कॅरट एण्ड अनियन उत्तपा को हेल्दी ग्रीन चटनी के साथ तवे से उतारकर तुरंत परोसें।
रागी डोसा रेसिपी | नाचनी डोसा | हल्दी रागी डोसा | nachni dosa in hindi | with 28 amazing images. रागी डोसा को नचनी डोसा या फिंगर मिलेट डोसा के रूप में भी जाना जाता है, जिसका उपयोग दक्षिण-भारतीय राज्यों में नाश्ते के रूप में किया जाता है और अब पूरे भारत में भी नचनी के स्वास्थ्य लाभों के कारण! रागी एक सुपर मिलेट है जिसे आम तौर पर दक्षिण भारतीय राज्यों में खाया जाता है, जिसे आमतौर पर मैदा में डाला जाता है और कई व्यंजन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिनमें से एक नचनी डोसा है! इस पौष्टिक और स्वादिष्ट नचनी डोसा को बनाने के लिए बैटर को नियमित दोसे से बनाना ज्यादा आसान है क्योंकि हमने नचनी के आटे का इस्तेमाल किया है। तो, आपको बस उड़द की दाल को पीसना है। मैं नाश्ते के लिए रागी डोसा बनाती हूं या जब हल्का स्वस्थ भोजन करती हूं। बैटर को अच्छी तरह से किण्वित करने की अनुमति दें, ताकि आपको वास्तव में कुरकुरी रागी डोसे मिलें। भिन्नता के रूप में, आप डोसे बनाने से पहले कद्दूकस की हुई गाजर या बारीक कटा प्याज और हरी मिर्च भी डाल सकते हैं! रागी डोसा तैयार करने के लिए आपको बस ५ सामग्री चाहिए। मेथी के बीज किण्वन के साथ मदद करते हैं और बैटर को सुगंध देते हैं! देखें कि हमें क्यों लगता है कि इसे स्वस्थ रागी डोसा कहा जाता है? नचनी या रागी का आटा कैल्शियम का अच्छा स्रोत है। इस डोसे में उरद की दाल, इसके साथ बनती है, प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। ये दोनों प्रमुख पोषक तत्व मिलकर मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करते हैं, जो हमारे शरीर के स्तंभ हैं। प्रोटिन का ३.२ ग्राम और कैल्शियम का ७७.३ मिलीग्राम (१३%) यह प्रत्येक नचनी डोसा प्रदान करता है। जैसे-जैसे हमारे शरीर में कैल्शियम को अवशोषित करने की क्षमता कम होती जाती है। तो यह नचनी डोसा कैल्शियम से भरपूर नाश्ता करके आपके दिन की कैल्शियम की आवश्यकता को पूरा करने का एक शानदार तरीका है। आपको याद रखने की ज़रूरत है कि उन्हें पकाने के लिए बहुत अधिक तेल का उपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि अतिरिक्त वसा कैल्शियम के अवशोषण में बाधा डालती है। यहाँ सही नचनी डोसा के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं। 1. यदि आपने बड़ी मात्रा में बैटर बनाया है, तो हमेशा एक अलग कटोरे में आवश्यक मात्रा में बैटर लें और बैटर की स्थिरता को समायोजित करें। 2. यदि फ्रिज से बचे हुए बैटर का उपयोग कर रहे हैं तो इसे कमरे के तापमान पर लाएं और फिर डोसा बनाएं। 3. आगे, अगर यह बहुत गर्म हो जाता है, तो तवा के तापमान को नीचे लाने के लिए थोड़ा पानी छिड़कें। ऐसा करने से रागी डोसा पैन से चिपकेगा नहीं। पूरी तरह से डोसा बनाने के लिए तवा का आदर्श तापमान बहुत महत्वपूर्ण है। 4. अंत में, यदि कच्चा लोहा तवा का उपयोग किया जाता है, तो कृपया समय से पहले इसे अच्छी तरह से प्री-सीजन करें। रागी डोसा को स्वस्थ नारियल चटनी और सांबर के साथ परोसें। नीचे दिया गया है रागी डोसा रेसिपी | नाचनी डोसा | हल्दी रागी डोसा | nachni dosa in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन