This category has been viewed 20874 times
 Last Updated : Aug 28,2019


 कोर्स रेसिपी, भारतीय कोर्स रेसिपी, वेज मुख्य व्यंजनों > मेन कोर्स वेज > दाल / कढ़ी



Dals / Kadhis - Read In English
દાળ / કઢી - ગુજરાતી માં વાંચો (Dals / Kadhis recipes in Gujarati)

Top Recipes

ओसामन एक गरम पेय है, जिसका संबंध रसम से है, लेकिन रसन जितना तीखा नहीं! तुवर दाल के पानी का प्रयोग इस व्यंजन को सौम्य रुप प्रदान करता है। इस व्यंजन को बनाने के लिए प्रयोग की गई दाल से बाद में लचकि दाल जैसे अन्य व्यंजन बनाए जा सकते हैं। गरमा गरम ओसामन का चावल और लचको दाल के साथ मज़ा लें।
साम्भर दक्षिण भारत का एक व्यंजन है। साम्भर अपने आप में ही बेहद पौष्टिक होता है, क्योंकि इसमें तुवर दाल और मिली-जुली सब्ज़ीयों के मेल का प्रयोग किया गया है। कद्दू, सहजन की फल्ली और लौकी जैसी सब्ज़ीयाँ इस व्यंजन को पौषण तत्व प्रदान करते हैं, वहीं मेथी भाजी से भरपुर मात्रा में लौष प्रदान होता है, जो साथ ही स्वाद और खुशबु प्रदान करता है। इस मेथी लीव्स् साम्भर को इडली, डोसा, चावल के साथ गरमा गरम परोसें या इसे रोटी के साथ भी परोसा जा सकता है।
मिक्स्ड कठोल साबूत दालों के मज़ेदार मेल को दर्शाता है जिन्हें गुजराती तरह से पेश किया गया है। कठोल 'जामन' का एक भाग है जिसे त्यौहारों के मौसम में परोसा जाता है, लेकिन इसे गुजराती घरों में सालभर आमतौर पर भी बनाया जा सकता है।
जैसा इसके नाम में त्रेवटी संबोधित करता है, यह तीन प्रकार की दाल का मेल है जिन्हें मसालों में पकाया गया है। रोज़ खाने वाली दाल को यह तीन तरह की दाल एक खास रुप प्रदान करते हैं, जो भाखरी और लहसुन की चटनी के साथ अच्छी तरह जजती है। विकल्प के रुप में, आप पीली मूंग दाल की जगह उड़द दाल का प्रयोग भी कर सकते हैं।
एक महाराष्ट्रीयन व्यंजन जिसमें हल्का सा बदलाव लाया गया है ताकि उसकी पौष्टिकता बढाई जा सके। जहाँ पालक इस दाल में विटामिन `ए` की मात्रा बढा़ती है, वहाँ चना दाल इसमें कैल्शियम, फोलिक एसिड और फाइबर जैसे पोषकतत्वों की मात्रा बढा़ने में मदद रूप होता है। यह सुनिश्चित करें कि आप चना दाल को अधिक न पका लें, क्योंकि दाल पकने के बाद अलग-अलग दिखनी चाहिए ना की मसली हुई। इसे गरमा-गरम भाखरी या मकई की रोटी के साथ परोसकर एक मज़ेदार भोजन का आनंद लीजिए।
यह एक ऐसा दक्षिण भारतीय व्यंजन है जिसे किसी परिचय की आवशआयक्ता नहीं है, और यह सभी में से सबसे ज़्यादा बहुउपयोगी है। हर परिवार अलग-अलग माप में सामग्री का प्रयोग करता है। आप अपनी पसंद अनुसार भी सामग्री के माप को बदल सकते हैं। साम्भर में (या किसी भी कूज़ाम्बू में) मिलाई गई सब्ज़ीयों को थान कहते हैं। विभिन्न थान इस प्रकार हैं- सहजन फल्ली, आलू, अरबी, गाजर, कद्दू, बैंगन, भिंडी आदि।
अंकुरित करने से वाल के पौषक तत्व बहुत अधिक मात्रा से बढ़ जाते हैं, और इसलिए हरियाली वाल की दाल आपके रोज़मर्रा आहार के लिए बहुमूल्य संकलन है। इसमें बने पेस्ट की सामग्रियों को आप ज़रूर ही अपने फ्रिज में पायेंगे, जो इस स्वादिष्ट और मध्यम मसालेदार व्यंजन का आधार है। इसका मजा आप चावल और रोटी के साथ अच्छे से ले सकते है।
इस प्रोटीन युक्त ब्लेक बीन दाल में एक बहुत ही आनंददायक गुण है, जो बेहद स्वादिष्ट और बनाने में भी बहुत आसान है। सब मिलाकर, एक ही पैकेट में बहुत सारी अच्छी बातें है! इस दाल को बनाने के लिए आपको बस थोड़े से आयोजन की जरुरत है और रात भर दाल भीगोने की, और फिर टमाटर, प्याज़ और सामान्य मसालों का जादू अपना काम करेगा।
नुस्खा बनाने में कितना पेचीदा है उसका स्वाद से कोई लेना-देना नहीं है और यह व्यंजन इस बात को सिद्ध करता है। बंगाली रसोई की यह साधारण दाल कलई पकाई हुई उड़द दाल को सौंफ और अदरक की पेस्ट मिलाकर मज़ेदार बनाई गई है। इस पेस्ट के साथ हरी मिर्च का तड़का इस दाल को एक विशिष्ट रूप से स्वादिष्ट और सुगंधित बनाता है, जिससे सभी इसे खाने के लिए ललचा जाते हैं। बस आप एक बार यह नुस्खा आज़माइए और निश्चय ही इसकी सादगी में खो जाएँगें। वास्तव में यह बनाने में भी बहुत आसान है इसलिए सबसे व्यस्त दिनों में भी आप इसे झटपट तैयार कर सकते हैँ। चूकिं इसमें बहुत तेल या क्रीम नहीं मिलाया गया है, यह दाल मधुमेह और वजन पर नज़र रखने वालों के लिए भी अच्छा विकल्प है। इस दाल कलई को आलू पनीर रोटी और गार्लिक रोटी के साथ परोसे ।
दही वाली तुअर दाल | अरहर दाल रेसिपी | दही वाली अरहर दाल | dahiwali toovar dal दहीवाली तुअर दाल हड्डियों को बेहद मजबूत बनाती है क्योंकि यह कैल्शियम, प्रोटिन और फास्फोरस से भरपूर है। दाल को प्रेशर कुक करें, तड़का दे और उबालें. . . बस! बेहद ही आसान! मल्टीग्रेन रोटियों के साथ परोसें।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन