This category has been viewed 57340 times
 Last Updated : Nov 02,2018


 कोर्स रेसिपी, भारतीय कोर्स रेसिपी, वेज मुख्य व्यंजनों > मेन कोर्स वेज



Main Course - Read In English
મેન કોર્સ - ગુજરાતી માં વાંચો (Main Course recipes in Gujarati)

मेन कोर्स रेसिपी : वेज भारतीय मेन कोर्स रेसिपी | Main Course recipe in Hindi 


Top Recipes

Goto Page: 1 2 
भारत के पश्चिमी भाग मे खाने मे अक्सर नारीयल का प्रयोग किया जाता है। केरेला के रसोई से मिला यह मालाबारी करी इनमे से एक है। नारीयल दुध से बने अअधर मे सब्ज़ीयाँ डाली गयी है और नारीयल का प्रयोग मसाला पेस्ट बनाने के लिये भी किया गया है, साथ ही सब्ज़ीयों कौ नरमाहट इस व्यंजन मे उभर कर आती है।
जब हम घर के खाने के बारे में सोचते हैं, सबसे पहले हमें खिचड़ी का खयाल का आता है। एक संपूर्ण खिचड़ी जो आपका दिल जीत लेगी और साथ ही काम से भरपुर दोन के बाद आपको प्रदान करेगी, और यह स्वादिष्ट बाजरा खिचड़ी आपकी उम्मीदों पर ज़रुर खरी उतरेगी। राजस्थान के निवासी चावल से ज़्यादा बाजरा जैसे अनाज का प्रयोग ज़्यादा करते हैं और इसलिए खिचड़ी जैसे व्यंजन को, जिसे भारत के बहुत से भाग में चावल से बनाया जाता है, राजस्थान में अलग तरह से बनाया जाता है। अपने क्रिमी रुप और सौम्य स्वाद के साथ, यह बाजरा खिचड़ी आराम भी प्रदान करती है और भूख भी मिटाती है और दही या रायता के साथ परोसने के बाद एक संपूर्ण आहार बनाती है। अगर आपकि कुछ अलग चाहिए तो, इसमें अपने पसंद के मसाले मिलाऐं या बाजरा और मूंग दाल के साथ कुकर में सब्ज़ीयाँ भी डाल सकते हैं।
पनीर कॅप्सिकम स्टर-फ्राय, पनीर और शिमला मिर्च का एक बेहतरीन मेल, जहाँ इस व्यंजन को खास स्वाद प्रदान करने के लिए, इन्हें अन्य सब्ज़ीयाँ और मसालों के साथ स्टर फ्राय किया गया है। इसे ज़रुर बनाकर देखें!
खूशबुदार मसालों के साथ एक केरेल प्रकार का व्यंजन जिसमें टमाटर और प्याज़ का स्वाद डाला गया है। फेंटा हुआ दही दही भुंडी का आधार बनाता है, जो इसे खट्टा लेकिन हल्का स्वाद प्रदान करता है। यह पुरी के साथ बेहद जजता है।
भारत के अन्य राज्य की तुलना में, राजस्थानी खाने में मूली का प्रयोग काफी मात्रा में किया जाता है, जहाँ इसका प्रयोग अकसर सलाद के रुप मे किया जाता है। इस सादी मूंग दाल को मूली तेज़ और तीखा स्वाद प्रदान करता है। और अन्य सभी पारंपरिक राजस्थानी व्यंजन की तरह, इसमें भी घी का तड़का लगाया गया है। कुछ घरों में मूली के नरम पत्ते भी डाले जाते हैं, जो इस दाल को और भी स्वादिष्ट बनाता है। आप भी ऐसा कर सकते हैं!
मज़ेदार लौह भरपुर आपके लिए पेश है! एक पर्याप्त लो-कॅल मुख्य व्यंजन, यह ग्रीन टमॅटो सालसा विद वैजी रैप करारी सब्ज़ीयों से भरपुर है, जो ना केवल पौष्टिक होती है, साथ ही मज़ेदार और स्वादिष्ट भी। आटे में प्रयोग किये गए लौह भरपुर सोया का आटा और पार्सले इस स्वादिष्ट रैप को और भी लौहतत्व भरपुर बनाते हैं। साथ ही, हरे टमाटर से बना सालसा इस लौह भरपुर सामग्री के लाभ लेने में मदद करता है।
क्या आपने कभी जौ की खिचडी बनाने के बारे में सोचा है? एक बार आज़माकर देखिए और फिर आप इसे अपनी कृती में जरूर ही दोहरते रहना चाहोंगे। जौ और बहुत सारी पौष्टिक सब्जियों के संयोजन से बनती यह खिचडी एक बहुत ही रंगीन और आकर्षक पकवान है। सब सब्जियाँ इस खिचडी में थोडा करकरापन जोड़ती हैं, जबकि ज़ीरा और हरी मिर्च जैसे रोजमर्रा की सामग्री खिचड़ी को सुखद स्वाद प्रदान करते हैं। इस संतृप्त पकवान में भरपूर मात्रा में एटिऑक्सिडंट हैं, जो शरीर में मुक्त कणों से लडने की शक्ति देते हैं और रोग प्रतिकार शक्ति में बढ़ावा करने में मदद रूप होते हैं। साथ ही सब्जियों में रहने वाले फाइबर से शरीर शुद्ध होगा और वज़न भी कम होगा। इस खिचडी का मज़ा ताज़ी और गरमा-गरम खाने में ही है। मूंग दाल खिचड़ी और कर्ड राईस जैसी अन्य खिचडी की रेसीपी भी जरूर आज़माइए।
इस त्यौहार के मौसम में अपने चाहने वालों को इस शानदार पनीर टिक्का पुलाव परोसकर चौका दें। तवा पर पकाने से पहले, रसभरे पनीर और सब्ज़ीयों को दही और मसालों के गाढ़े घोल में मेरीनेट करें और अंत में चावल के साथ मिलाकर इस स्वादिष्ट व्यंजन को बनाऐं।
इस पुलाव में, मकई की मिठास और मेथी का हल्का कड़वापन एक साथ बेहद अच्छी तरह जजते हैं। सादे मसालों का प्रयोग कर और प्रैशर कुक करने से, इस आसान से बनने वाले कोर्न मेथी पुलाव को झटपट बनाया जा सकता है।
पत्तागोभी से बनी हुई यह एक सूखी सब्ज़ी है। इसी तरह बीन्स्, गवार फल्ली, साबर बीन्स्, गाजर आदि जैसी सब्ज़ीयों को भी बनाया जा सकता है। पारंपरिक दक्षिण भारतीय खाने में इस प्रकार की एक सब्ज़ी को हमेशा परोसा जाता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन