This category has been viewed 4880 times
 Last Updated : Oct 21,2020


 कोर्स रेसिपी, भारतीय कोर्स रेसिपी, वेज मुख्य व्यंजनों > मनपसंद रेसिपी



Comfort Foods - Read In English
મનગમતી રેસીપી - ગુજરાતી માં વાંચો (Comfort Foods recipes in Gujarati)

मनपसंद भारतीय रेसिपी : Comfort Foods recipes in Hindi 

हमारे अन्य मनपसंद व्यंजनों की कोशिश करो ...
३ मनपसंद केक, आइसक्रीम रेसिपी : Comfort Food Cakes, Ice Creams Recipes in Hindi
२ मनपसंद चाट रेसिपी : Comfort Food Chaat Recipes in Hindi
१० मनपसंद मिठाई, भारतीय डेसर्ट रेसिपी : Comfort Food Mithai, Indian Desserts Recipes in Hindi
८ मनपसंद पिज्जा,पास्ता रेसिपी : Comfort Food Pizza, Pasta Recipes in Hindi
८ मनपसंद सैंडविच, बर्गर रेसिपी : Comfort Food Sandwiches, Burgers Recipes in Hindi
१० मनपसंद नाश्ता रेसिपी : Comfort Food Snack Recipes in Hindi
३ मनपसंद चिला रेसिपी : Comfort Foods Chila in Hindi
१० मनपसंद चावल / खिचड़ी रेसिपी : Comfort Foods Rice / Khichdi in Hindi
१० मनपसंद सूप रेसिपी : Comfort Foods Soups in Hindi

हैप्पी पाक कला!

 


Top Recipes

क्रीम ऑफ ब्रोकली सूप रेसिपी | ब्रोकली सूप | भारतीय स्टाइल वेज ब्रोकली सूप | cream of broccoli soup in hindi | with amazing 22 images.
सभी पारंपरिक भजीये की तरह, कन्द ना भजीये को भी कन्द के पतले स्लाईस को बेसन के घोल में डुबोकर तल कर बनाया जाता है। लेकिन, खड़ा धनिया, तिल और ताज़ी पीसी हुई काली मिर्च को तलने से तुरंत पहले डाला जाता है जो इन्हें और भी मज़ेदार बनाते हैं! बरसात के दिनों में इन्हें गरम चाय या कॉफी के साथ गरमा गरम परोसकर और भी मज़ेदार बनाऐं।
मूंग दाल की खिचड़ी | गुजराती मूंग दाल की खिचड़ी | पीले मूंग दाल की खिचड़ी | मूंग दाल और चावल की खिचड़ी | moong dal khichdi recipe in hindi language | with 8 amazing images. पीली मूंग दाल और चावल को पिपरकॉर्न के साथ पकाया जाता है और घी के साथ पकाया जाता है | मूंग दाल की खिचड़ी एक हल्की और सेहतमंद भोजन है, जो कि समृद्ध बनावट के बावजूद घी और दाल इसे प्रदान करती है। आराम प्रदान करने वाला, मूंग दाल खिचड़ी एक बेहद मशहुर व्यंजन है। यह आपको ज़रुर आराम प्रदान करेगा और आपका मुड़ अच्छा ना होने पर भी आपको अच्छा महसुस करने में मदद करेगा, खासतौर पर जब आपको बुखार हो या आपको पेट में दर्द हो! कुछ महत्वपूर्ण बाते जो मैं आपके साथ गुजराती मूंग दाल की खिचड़ी पर साझा करना चाहता हूँ। 1. प्रेशर कुकर लें और उसमें दाल डालें। हमने मूंग दाल का इस्तेमाल किया है, लेकिन बहुत से लोग तोर दाल, हरी मूंग दाल या मसूर दाल का एक संयोजन का उपयोग करते हैं | 2. पौष्टिक मूल्य बढ़ाने के लिए, आप खिचड़ी में मटर, गाजर, बीन्स, प्याज जैसी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। 3. प्रेशर कुकिंग के दौरान थोड़ा अतिरिक्त पानी डालकर मूंग दाल और चावल की खिचड़ी को थोड़ा नरम बनाना सबसे अच्छा है। 4. जब पीले मूंग दाल की खिचड़ी पक रही है तो तेज आंच पर न पकाएं क्योंकि खिचड़ी प्रेशर कुकर के तल में अटक जाएगी और एक जले हुए स्वाद को दे देगी। इसलिए मध्यम आंच पर पकाएं। 5. आप पीले मूंग दाल की खिचड़ी स्वस्थ बनाने के लिए चावल को इस रेसिपी में टूटे हुए गेहूं (लापसी या डालिया) से बदल सकते हैं। कालीमिर्च और घी के स्वाद से भरपुर, पका हुआ दाल और चावल एक हल्का और पौष्टिक आहार बनाता है, बजाय इसके की घी और दाल इसे गाढ़ा बनाते हैं। बहुत से गुनजराती घरों में, शुक्रवार को खिचडी़ बनाई जाती है।
तुवर दाल नी खिचड़ी रेसिपी | अरहर की दाल की खिचड़ी | गुजराती दाल चावल की खिचड़ी | toovar dal khichdi in hindi | with 13 amazing images. तोर दाल और चावल एक घी के साथ मसालेदार तड़का तुवर दाल नी खिचड़ीतुवर दाल नी खिचड़ी रेसिपी के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव साझा करना चाहूंगा. 1. हमने नियमित रूप से सुरती चावल का उपयोग किया है, आप चाहें तो बासमती चावल का भी उपयोग कर सकते हैं। 2. टोअर दाल और चावल को कम से कम 30 मिनट के लिए भिगोएँ। भिगोने से अरहर की दाल की खिचड़ी को जल्दी पकाने में मदद मिलेगी। 3. ३ १/२ कप गरम पानी डालें। गरम पानी खाना पकाने की प्रक्रिया को तेज करता है। इस खिचड़ी की स्थिरता पतली नहीं होगी। यदि आप पतली स्थिरता चाहते हैं, तो थोड़ा अधिक पानी जोड़ें। 4. ४ सीटी के लिए प्रेशर कुक करें। ढक्कन खोलने से पहले भाप को नीकल ने दें अन्यथा आप गरम भाप से खुद को जला सकते हैं। एक बार प्रेशर कुकर से भाप नीकल जाए और पूरी तरह से ठंडा हो जाए, उसके बाद ही ढक्कन खोलें क्योंकि तुवर दाल नी खिचड़ी अभी भी पक रही होगी और दाने कच्चे हो सकते हैं यदि आप इसे समय से पहले खोल देते हैं तो चावल कच्चे रह सकते है। तुवर दाल नी खिचड़ी सादी खिचड़ी से बेहद अलग है, क्योंकि इसमें खुशबुदार मसालों का प्रयोग किया गया है। रसवाला बटेटा नू शाक और किसी भी तरह की कड़ी और रोटला के साथ तुवर दाल नी खिचड़ी परोसने पर, यह एक संपूर्ण और शानदार खाने को दर्शाता है। नीचे दिया गया है तुवर दाल नी खिचड़ी रेसिपी | अरहर की दाल की खिचड़ी | गुजराती दाल चावल की खिचड़ी | toovar dal khichdi in hindi | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
टोमैटो बेसिल पास्ता रेसिपी | बेसिल टमाटर पास्ता | टोमेटो पास्ता | टोमेटो गार्लिक बेसिल पास्ता | basil and tomato pasta in hindi.
ब्लैक बीन सूप रेसिपी | मेक्सिकन वेज ब्लैक बीन सूप | हेल्दी ब्लैक बीन सूप | black bean soup in hindi.
रगड़ा पेटिस रेसिपी | गुजराती रगड़ा पेटिस | रगड़ा पॅटीस की रेसिपी | ragda pattice recipe in hindi | with step by step photos. पश्चिमी भारत में बेहद लोकप्रिय इस रगड़ा पेटिस को कोई भी परिचय की आवश्यकता नहीं है। इस स्वादिष्ट व्यंजन में आलू की पॅटिस होती है जिसमें मसालेदार सफेद वटाने का भरवां होता है, जिस पर सफेद वटाने की ग्रेवी फैलाई जाती है और उपर से प्याज़, सेव और मसाले से सजाया जाता है। अधिकांश मसालों का उपयोग सौम्य आलू और सफेद वटाने के साथ बखुबी मिल जाता है। साथ ही मीठी चटनी, हरी चटनी, सेव और पापडी के छिड़काव से यह वास्तव में बहुत ही रोमांचक बनती है। एक बरसात के दिन ठेलेवाले की छत्री के नीचे दोस्तों के साथ गरमा-गरम रगड़ा पेटिस के स्वाद का अनुभव एक अच्छी यादगार है। यह वाकय में बहुत संतोषजनक भोजन का एहसास देती है।
चाहे करारे और त्रिकोन हो या बड़े और कोन जैसे आकार के, समोसा भारत भर में सबके पसंदिदा है। यह एक पारंपरिक गुजराती "पट्टी समोसा" है, जो अन्य श्रेत्र से थोड़े अलग करारे समोसे होते हैं। अन्य समोसों से अलग, इस गुजराती विकल्प में उबले हुए आलू का प्रयोग नहीं किया गया है- यहाँ कच्चे आलू को काटकर तेल में पकाया गया है। इस समोसे में पत्तागोभी का उपयोग एक और अनोखी बात है, और साथ ही मैदा की जगह गेहूं के आटे से बनी पट्टीयों का उपयोग।
सूजी की इडली रेसिपी | रवा इडली | सूजी इडली | सूजी की सॉफ्ट इडली | sooji idli in hindi | with 16 amazing images.
गोलपापड़ी रेसिपी | गुड़ पापड़ी | सुखड़ी | गुजराती गुड़ पापड़ी | Golpapdi recipe in hindi language | with 16 amazing images. गुड़ पापड़ी एक पारम्परिक गुजराती स्वीट डिश है, जो पूरी-गेहूँ के आटे और गुड़ से तैयार होती है। यह गेहूं से बना मीठा, किसी भी पारंपरिक गुजराती मिठाई की तुलना मे बनाने में बेहद आसान है। चूंकी गुड़ पापड़ी बहुत ज़्यादा घी का प्रयोग नही किया जाता है और इसे बनाना भी बेहद आसान है, आप इसे शाम के नाश्ते के लिए भी बना सकते हैं। गुड़ को पतला कीसने का ध्यान रखें, जिससे इसके मिश्रण में डल्ले ना बने। सर्दीयों के मौसम में, आप इसमें गौंद भी डाल सकते हैं, जैसे बहुत से गुजरात के श्रेत्रों में किया जाता है। सुखड़ी को एक एयर-टाइट कंटेनर में स्टोर करें। परंपरागत रूप से सुखड़ी को सर्दियों के दौरान खाया जाता है क्योंकि यह आपके शरीर को गर्माहट प्रदान करता है। मेरे पास आमतौर पर गोल पापड़ी बनाई और संग्रहीत की जाती है जो मिठाई की लालसा को मारने में मदद करती है। नीचे दिया गया है गोलपापड़ी रेसिपी | गुड़ पापड़ी | सुखड़ी | गुजराती गुड़ पापड़ी | Golpapdi recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन