This category has been viewed 45278 times
 Last Updated : Aug 11,2020


 कोर्स रेसिपी, भारतीय कोर्स रेसिपी, वेज मुख्य व्यंजनों > मेन कोर्स वेज > सब्जी़ रेसिपी , करी



Sabzis, Curries - Read In English
શાક રેસિપિ, કરી - ગુજરાતી માં વાંચો (Sabzis, Curries recipes in Gujarati)

सब्जी़  रेसिपी संग्रह, करी रेसिपी, Sabzis Curries Recipes in Hindi 


Top Recipes

लो-फैट पनीर रेसिपी | हेल्दी कम वसा वाला पनीर | घर का बना कम वसा वाला पनीर | low fat paneer recipe in hindi | लो-फैट दूध और लो-फैट दही से बने लो-फैट पनीर में फुल फैट पनीर की तुलना में ज्यादा प्रोटीन और कैल्शियम होता है। यह रेसिपी 1 कप कसा हुआ, टुकडे किए हुए या क्यूब किए हुए पनीर देती है। नींबू के रस के बजाय दही का उपयोग करने से न सिर्फ पनीर की अधिक मात्रा मिलती है, बल्कि यह उसे मुलायम भी बना देती है। बेहतर परिणाम पाने के लिए ताजा बने पनीर का उपयोग करें। लो-फैट पनीर से पनीर खीर , ग्रिल्ड हॉट एण्ड स्वीट पनीर या पनीर खुरचन रोल जैसे व्यंजन बनाकर देखें।
एक पारंपरिक महाराष्ट्रियन व्यंजन, जिसमें अंकुरित वाल डालकर इसे पौष्टिक बनाया गया है। आहार तत्व बढ़ाने के साथ-साथ, वाल को अंकुरित करने से यह पचाने में आसान हो जाते हैं, जो इस व्यंजन को दोनो बच्चे और वृद्धों के लिए लाभदायक बनाते हैं। बहुत सी खुशबुदार सामग्री के साथ, यह लौहतत्व भरपुर स्प्राउटड वाल की उसल आपके लिए तोहफे के समान है। इसके साथ ही, कोकम और गुड़ ना केवल खट्टा स्वाद प्रदान करते हैं, लेकिन साथ लौहतत्व की मात्रा को बढ़ाने में मदद करते हैं। विटामीन सी भरपुर हरे धनिया को मिलाने से यह लौह को सोखने में मदद करता है।
भारत के पश्चिमी तट में श्रेत्र में भरपुर मात्रा में पाये जाने वाला काजू, यह अकसर विभिन्न करी में सब्ज़ीयों के साथ जजता है। इसे अकसर सहजन फल्ली, फण्सी आदि के साथ मिलाया जाता है। काजू के सादे स्वाद को संतुलित बनाने के लिए अकसर बहुत से मसालों का प्रयोग किया जाता है।
वेजिटेबल कोरमा एक ऐसा व्यंजन है जो भारत में साल भर मिलता है, लेकिन यह देखकर आपको मज़ा आएगा कि कैसे श्रेत्र से श्रेत्र में इसके मसाले और इसका स्वाद अलग होता है। पेश है कोरमा का एक दक्षिण भारतीय विकल्प जो चावल, पुरी, अप्पम आदि के लिए एक मसालेदार व्यंजन बनाता है।
अवियल एक ऐसा व्यंजन है जिसका उत्पादन केरेला में हुआ था, लेकिन यह तमिल नाडू में भी उतना ही मशहुर हो गया है। बहुत ही कम होता है कि शादि या त्यौहारों में अवियल ना बना हो! बेहतरीन अवियल बनाने का राज़ यह है कि इन दोनों बात पर ध्यान दिया जाए कि गाजर, फण्सी, कद्दू आदि जैसी सब्ज़ीयों के चटकीले रंग पर ध्यान देते हुए, इन्हें पतले 1" के लंबे टुकड़ों मे काटा जाये और साथ ही इन्हें करारा होने तक अच्छी तरह पकाया जाए। अगर आपने ऐसा किया है, आपका आधा कार्य अच्छी तरह हो गया है!
दाल मखनी रेसिपी | पंजाबी दाल मखनी | ढाबा स्टाइल दाल मखनी | dal makhani recipe in hindi language | with 31 amazing images. दाल मखनी रेसिपी तो पंजाब में माँ दी दाल के नाम से लोकप्रिय है। इसकी रेशमी मखमली बनावट और सुंदर स्वाद उसे सचमुच पंजाब का एक प्रसिध्द पंजाबी व्यंजन बनाते हैं। कोई भी पंजाबी रेस्टोरंट हो या सडक के किनारे वाला ढ़ाबा या स्टॅाल हो, सभी यह दावा करते हैं कि वे दाल मखनी बनाने मे परिपूर्ण हैं और उचित रूप से उसे बना सकते हैं। और मेरा यह दावा है कि मेरा यह आजमाया और परखा हुआ नुस्खा भी सर्वोत्तम है। दाल मखनी पर नोट्स | 1. उरद के कटोरे को ढककर रात भर रख दें। उन्हें रात भर भिगोना महत्वपूर्ण है ताकि वे पकाने के लिए कम समय लें। 2. ७ सीटी के लिए या जब तक दाल पक न जाए तब तक प्रेशर कुक करें। उड़द की दाल और राजमा दोनों को चबा कर नहीं खाना चाहिए और न ही खाने पर प्रतिरोध करना चाहिए, इसलिए सुनिश्चित करें कि वे बहुत अच्छी तरह से पके हुए हैं। प्रेशर कुकर को पूरी तरह से ठंडा करें यानी डिप्रेस करें और ढक्कन खोलें। आप देखेंगे कि उड़द और राजमा अब नरम हो गए हैं। 3. दाल मखनी को मध्यम आंच पर १० से १५ मिनट तक उबलने दें। यह वास्तव में मलाईदार और पौष्टिक दाल पाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम है। यदि आप महसूस करते हैं कि दाल मखनी अभी भी गाढ़ी है, तो अधिक पानी डालें। परंपरागत रूप से, इस दाल को लकड़ीयो में कम आंच पर रात भर के लिए उबाला जाता है, इसलिए इसे लंबे समय तक पकाने से सबसे अच्छा स्वाद निकलके आता है। पंरपरागत रूप से पंजाबी दाल मखनी को रात भर धिमी आँच पर गाढ़ी होने तक पकाया जाता है। पर प्रेशर कुकर का उपयोग दाल को झटपट पकाने में मदद रूप होता है। इसे नान के साथ गरमा गरम परोसें। नीचे दिया गया है दाल मखनी रेसिपी | पंजाबी दाल मखनी | ढाबा स्टाइल दाल मखनी | dal makhani recipe in hindi language | स्टेप बाय स्टेप फोटो और वीडियो के साथ।
वेल्लरी का मतलब होता है "ककड़ी", और जैसा इसका नाम बताता है, यह एक लाल रंग की करी है। लेकिन इसका लाल रंग विभिन्न मसालों के मेल की वजह से मिलता है और ना ही केवल भरपुर मात्रा में लाल मिर्च के कारण। इसलिए, इस व्यंजन के नाम से घबराये नहीं, और अपनी पसंद अनुसार इसके तीखेपन को कम-ज़्यादा करें।
जहाँ आपने पनीर और मटर का आम मेल ज़रुर चखकर देखा होगा, पेश है मीठी मकई के साथ पनीर से बना बेहतरीन व्यंजन, जिसमें करारी शिमला मिर्च, हरी मिर्च, अदरक और मसाले डाले गये हैं। पनीर मकई की एक खास बात यह है कि मकई का प्रयोग को दोनो साबूत और पीसकर किया गया है, इसलिए इसका स्वाद उभर कर आता है, जो इसे मज़ेदार अनुभव बनाता है।
पालक कॉर्न सब्ज़ी पौष्टिकता से भरपूर पालक और मीठी मकई के दानों से बनी एक सुहाना व्यंजनहै।यही दो अहम सामग्रियाँ है जो न सिर्फ स्वाद और बनावट में एक दुसरे की पूरक हैं, बल्कि दिखने में भी। इस पर डाले गए मकई के दाने ऐसे लगते हैं, जैसे हरे रेशम पर मोती चमक रहे हों, ये अपने आकर्षित रूप और खुशबू से किसी की भी भूख को जगा सकते हैं।
काजू, नारीयल, खस-खस और दही जैसे बेहतरीन सामग्री से बनाया गया पेस्ट, फूलगोभौ और मटर की करी को एक शानदार रुप प्रदान करता है, वहीं टमाटर से मिला खट्टापन इस मलाईदार करी को संतुलित बनाता है और ज़्यादा बेहतरीन बनाता है। इसे जब रोटी के साथ परोसा जाये, यह एक शानदार और संपूर्ण आहार बनाता है।

Categories

  • विभिन्न व्यंजन



  • कोर्स

  • बच्चों का आहार



  • संपूर्ण स्वास्थ्य व्यंजन

  • झट - पट व्यंजन